Search

विश्व क्षयरोग (TB) दिवस की महत्ता और क्षय रोग (TB) से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

वर्ष 1882 में डॉ. रॉबर्ट कोच द्वारा पहली बार ट्यूबरकुलोसिस की खोज की गई थीl डॉ. रॉबर्ट कोच ने बर्लिन के “यूनिवर्सिटी ऑफ हाइजीन में वैज्ञानिकों के एक समूह को संबोधित करते हुए कहा था कि क्षय रोग (ट्यूबरकुलोसिस) का कारण टीबी बैसिलस हैl जिस समय रॉबर्ट कोच बर्लिन में अपना संबोधन प्रस्तुत कर रहे थे, उस समय यह रोग यूरोप और अमेरिका में बहुत तेजी से फैल रहा था और प्रत्येक सात में से एक व्यक्ति की मौत हो रही थीl लेकिन रॉबर्ट कोच द्वारा की गई खोज ने लोगों के सामने एक बड़ा विकल्प प्रस्तुत किया है और लोग धीरे-धीरे क्षय रोग (TB) से निदान पाने लगे हैंl इस लेख में हम विश्व क्षय दिवस की महत्ता, क्षय रोग (TB) के संक्रमण और निदान के बारे में जानकारी दे रहे हैंl
Mar 23, 2017 19:09 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

वर्ष 1882 में डॉ. रॉबर्ट कोच द्वारा पहली बार ट्यूबरकुलोसिस की खोज की गई थीl डॉ. रॉबर्ट कोच ने बर्लिन के “यूनिवर्सिटी ऑफ हाइजीन" में वैज्ञानिकों के एक समूह को संबोधित करते हुए कहा था कि क्षय रोग (ट्यूबरकुलोसिस) का कारण टीबी बैसिलस हैl उन्होंने इस खतरनाक मानव संक्रामक रोग के बारे में सार्वजनिक रूप से घोषणा की और कई सूक्ष्मदर्शी स्लाइड की प्रस्तुति के माध्यम से क्षय रोग (TB) के संक्रमण के बारे में विस्तार से बताया।
जिस समय रॉबर्ट कोच बर्लिन में अपना संबोधन प्रस्तुत कर रहे थे, उस समय यह रोग यूरोप और अमेरिका में बहुत तेजी से फैल रहा था और प्रत्येक सात में से एक व्यक्ति की मौत हो रही थीl लेकिन रॉबर्ट कोच द्वारा की गई खोज ने लोगों के सामने एक बड़ा विकल्प प्रस्तुत किया है और लोग धीरे-धीरे क्षय रोग (TB) से निदान पाने लगे हैंl इस लेख में हम विश्व क्षय दिवस की महत्ता, क्षय रोग (TB) के संक्रमण और निदान के बारे में जानकारी दे रहे हैंl
 World TB Day March 24
Image source: Askideas.com

विश्व क्षय रोग दिवस (World TB Day)
हर वर्ष पूरी दुनिया में 24 मार्च को विश्व क्षय रोग दिवस (World TB Day/World Tuberculosis Day) मनाया जाता हैl
विश्व एड्स दिवस

विश्व क्षय रोग दिवस (World TB Day) का इतिहास
डॉ. रॉबर्ट कोच द्वारा क्षय रोग (TB) के बारे में दिए गए व्याख्यान की 100वीं वर्षगांठ के अवसर पर, "टीबी और फेफड़े के रोग से संबंधित अंतर्राष्ट्रीय संगठन" (IUATLD) ने 24 मार्च को एक वार्षिक आधिकारिक कार्यक्रम के रूप में विश्व क्षय रोग (TB) दिवस को मनाये जाने की योजना बनाई थीl “टीबी और फेफड़े के रोग से संबंधित अंतर्राष्ट्रीय संगठन" (IUATLD) और “विश्व स्वास्थ्य संगठन” (WHO) के संयुक्त प्रयास से “क्षय रोग (TB) की हार: अब और हमेशा के लिए” नामक विषय के तहत पहली बार “विश्व क्षय रोग (TB) दिवस” का आयोजन किया गया थाl
विश्व जल दिवस की महत्ता और जल के उपयोग से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

क्षय रोग (TB) क्या है?
 lungs with tb
Image source: Dreamstime.com
क्षय रोग (TB) अर्थात ट्यूबरक्लोसिस एक संक्रामक रोग होता है, जो जीवाणु की वजह से पनपता है। यह जीवाणु शरीर के सभी अंगों में प्रवेश कर जाता है। हालांकि यह ज्यादातर फेफड़ों में ही पाया जाता है। मगर इसके अलावा आंत, मस्तिष्क, हड्डियां, जोड़ें, गुर्दे, त्वचा तथा हृदय भी क्षय रोग (TB) से ग्रसित हो सकते हैं।

क्षय रोग (TB)के लक्षण
1. तीन हफ्ते से ज्यादा खांसी
2. बुखार (जो खासतौर पर शाम को बढ़ता है)
3. छाती में तेज दर्द
4. वजन का अचानक घटना
5. भूख में कमी आना
6. बलगम के साथ खून का आना
7. फेफड़ों में बहुत ज्यादा इंफेक्शन होना
8. सांस लेने में तकलीफ

क्षय रोग (TB) का संक्रमण कैसे फैलता है?
dots program
Image source: TessaWanders - WordPress.com

क्षय रोग (TB) से संक्रमित रोगियों के कफ, छींकने, खांसने, थूकने और उनके द्वारा छोड़ी गई सांस से वायु में जीवाणु फैल जाते हैं, जोकि कई घंटों तक वायु में रह सकते हैं। जिस कारण स्वस्थ व्यक्ति भी आसानी से क्षय रोग (TB) का शिकार बन सकता हैl हालांकि संक्रमित व्यक्ति के कपड़े छूने या उससे हाथ मिलाने से क्षय रोग (TB) नहीं फैलता हैl
मेसेन्टरी: मानव शरीर का 79वां अंग
जब क्षय रोग (TB) का जीवाणु सांस के माध्यम से फेफड़ों तक पहुंचता है तो वह कई गुना बढ़ जाता है और फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है। हालांकि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता इसे बढ़ने से रोकती है, लेकिन जैसे-जैसे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर पड़ती है, क्षय रोग (TB) के संक्रमण की आशंका बढ़ती जाती है।

क्षय रोग (TB) के जांच के तरीके
क्षय रोग (TB) की जांच करने के लिए कई माध्यम हैं, जैसे- छाती का एक्स रे, बलगम की जांच, स्किन टेस्ट आदि। इसके अलावा आधुनिक तकनीक के माध्यम से आईजीएम हीमोग्लोबिन जांच कर भी टीबी का पता लगाया जा सकता है। अच्छी बात तो यह है कि इससे संबंधित जांच सरकार द्वारा निशुल्क करवाई जाती हैं।

क्षय रोग (TB) से बचने के उपाय
•    दो हफ्तों से अधिक समय तक खांसी रहती है, तो चिकित्सक को दिखायें।
•    बीमार व्यक्ति से दूरी बनायें।
•    आपके आस-पास कोई बहुत देर तक खांस रहा है, तो उससे दूर रहें।
•    अगर आप किसी बीमार व्यक्ति से मिलने जा रहे हैं या मिलकर आ रहे हैं तो अपने हाथों को जरूर धोलें।
•    ऐसे पौष्टिक आहार लें जिसमें पर्याप्त मात्रा में विटामिन, खनिज लवण, कैल्शियम, प्रोटीन और फाइबर हों क्योंकि पौष्टिक आहार हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाते हैं।
•    अगर आपको अधिक समय से खांसी है, तो बलगम की जांच जरूर करा लें।

विश्व क्षय रोग (TB) दिवस का महत्व
 theam of world tb day
Image source: Stop TB Partnership
विश्व क्षय रोग दिवस के माध्यम से हमें क्षय रोग (TB) जैसी समस्या के विषय में और इससे बचने के उपायों के विषय में बात करने में मदद मिलती है। हर साल “विश्व क्षय रोग (TB) दिवस” (World TB Day) के अवसर पर स्वास्थ्य संगठनों, सरकारी और गैर सरकारी संगठनों एवं अन्य स्वास्थ्य एजेंसियों द्वारा दुनिया भर में आम जनता में क्षय रोग (TB) के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए विभिन्न गतिविधियों का आयोजन किया जाता है।
इन गतिविधियों में क्षय रोग (TB) की रोकथाम और इलाज पर संगोष्ठी, क्षय रोग (TB) की रोकथाम में शामिल संगठनों को पुरस्कृत करने के लिए पुरस्कार समारोह, क्षय रोग (TB) के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए फोटो प्रदर्शनी और वितचित्र का आयोजन किया जाता हैl डॉक्टरों के अनुसार आज क्षय रोग (TB) का पूरी तरह इलाज संभव है। इसके तहत देश भर में डॉट्स केन्द्र बने हैं, जहां क्षय रोग (TB) के इलाज की नि:शुल्क व्यवस्था होती है। इन केन्द्रों की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यहां मरीज को केन्द्र पर ही दवाई खिलाई जाती है, ताकि इलाज में किसी तरह की कोताही न बरती जाए।
हर वर्ष “विश्व क्षय रोग (TB) दिवस” का आयोजन एक थीम के तहत किया जाता हैl वर्ष 2017 के लिए विश्व क्षय रोग (TB) दिवस का थीम “क्षय रोग (TB) की समाप्ति के लिए एकजुट हों” हैl
जैव विज्ञान: आविष्कार और खोज की सूची