कैसे बने एक सफल इंजीनियर?

आर्थिक मंदी और अर्थव्यवस्था की धीमी गति के बावजूद, इंजीनियरिंग को अभी भी दुनिया भर में सबसे आकर्षक पेशा माना जाता है।

Created On: Sep 21, 2016 15:16 IST
Modified On: Sep 22, 2016 13:25 IST

आर्थिक मंदी और अर्थव्यवस्था की धीमी गति के बावजूद, इंजीनियरिंग को अभी भी दुनिया भर में सबसे आकर्षक पेशा माना जाता है। यही वजह है कि बचपन से ही हमारे माता– पिता हमारे इंजीनियर बनने का सपना देखने लगते हैं। लेकिन चिंता की बात यह है कि ज्यादातर युवाओं को यह नहीं पता होता कि अपने सपनों को साकार करने की लिए तैयारी का सही समय और तरीका क्या है।

इसलिए अगर आप एक इंजीनियर बनना चाहते हैं तो आपको पास कक्षा 10 से ही राष्ट्रीय स्तर पर होने वाली सभी प्रतियोगी परिक्षाओं ( आईआईटी जेईई मेन्स और आईआईटी जेईई एडवांस्ड) के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए।

आमतौर पर एक इंजीनियर 40,000 – 50,000/– रुपये मासिक वेतन के साथ अपने करिअर की शुरुआत करता है और अब 7 वें वेतन आयोग के लागू हो जाने के बाद एक इंजीनियर का शुरुआती वेतन 60,000 – 70,000/– रुपये मासिक हो गया है। यह भी माना जाता है कि इंजीनियर उत्कृष्ट प्रबंधक होते हैं। उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार कैट 2015 की परीक्षा में 17 छात्रों ने 100 पर्सेंटाइल प्राप्त किया और ये सभी 17 छात्र इंजीनियरिंग के थे।

महत्वपूर्ण प्रवेश परीक्षाएं

राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षाएं:

  • जेईई मेन
  • जेईई एडवांस
  • बिटसैट (BITSAT)
  • वीआईटीट्रिपल ई (VITEEE)

राज्य स्तर की इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाएं:

  • उत्तर प्रदेश राज्य प्रवेश परीक्षा (UPSEE)
  • पश्चिम बंगाल संयुक्त प्रवेश परीक्षा (WBJEE)
  • केरला इंजीनियरिंग आर्किटेक्चर मेडिकल एग्जामिनेशन (KEAM)
  • कन्सोर्टियम ऑफ मेडिकल, इंजीनियरिंग एंड डेंटल कॉलेजेज ऑफ कर्नाटका (COMEDK)
  • कर्नाटक कॉमन इंट्रेंस टेस्ट (KCET)

विश्वविद्यालय स्तर की इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाएं:

  • एसआरएम इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा (SRMEE)
  • अलिगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी प्रवेश परीक्षा (AMUEE)
  • अन्नामलई यूनिवर्सिटी इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा (AUEEE)
  • कोचीन यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी कॉमन एडमिशन टेस्ट (CUSAT CAT)
  • जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा (JNU EEE)

एक अच्छा इंजीनियर बनने के लिए निम्नलिखित बातों का पालन किया जाना चाहिए

1.  स्कूल के दिनों में पालन की जाने वाली बातें

2.  कॉलेज के दिनों में पालन की जाने वाली बातें

3.  करिअर के मध्य में पालन की जाने वाली बातें

1. स्कूल के दिनों में पालन की जाने वाली बातें

http://img04.deviantart.net

1.1. महत्वपूर्ण कक्षाएं न छोड़ें: इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षाओं के लिए भौतिकी, रसायनशास्त्र और गणित महत्वपूर्ण विषय हैं। इन विषयों की कक्षाओं को कभी न छोड़ें। इन विषयों के मूल सिद्धांतों को स्पष्ट रूप से समझें और अन्य विषयों के मुकाबले इन विषयों पर अधिक समय दें।

1.2. पाठ्येतर गतिविधियां:  खुद को पढ़ाई के अलावा अन्य गतिविधियों में शामिल करें। इंजीनियरिंग से संबंधित शौक पूरे करें। जैसे – आप कंप्यूटर की गड़बड़ियों को दूर कर सकते हैं, वेबसाइट बना सकते हैं आदि।

1.3. अपनी पसंदीदा इंजीनियरिंग शाखा के बारे में सोचें: आप अपनी पसंद और नापंद के बारे में सोचें और फिर इंजीनियरिंग की कौन सी शाखा चुननी है का फैसला करें। आपको एक दिन या एक महीने में फैसला करने की जरूरत नहीं है। सोचना जारी रखें और एक दिन इसका जवाब आपको जरूर मिल जाएगा।

जैसे:  यदि आपको वेबसाइट बनाना अच्छा लगता है तो आप कंप्यूटर साइंस शाखा चुन सकते हैं। इसी प्रकार यदि आपको कंप्यूटर की गड़बड़ियों को दूर करना पसंद है तो आप इलेक्ट्रॉनिक्स शाखा में जा सकते हैं। अपनी पसंद/ शौक को जानें।

1.4.  आईआईटी में दाखिला को लेकर परेशान न हों : निश्चित रूप से आईआईटी से स्नातक किए छात्रों को अच्छा वेतन मिलता है।  लेकिन आज कल एनआईटी, बीआईटी और अन्य निजी इंजीनियरिंग कॉलेज भी हैं जो बहुत अच्छी नौकरियां (प्लेसमेंट्स) दिलाती हैं। इसलिए हतोत्साहित न हों क्योंकि आपके लिए ढेरों विकल्प मौजूद हैं।

2. कॉलेज के दिनों में पालन की जाने वाली बातें

http://www.theyale.ca

2.1. घबराएं नहीं:  स्कूल से कॉलेज जाने की स्थिति को लेकर घबराएं नहीं। आपको कुछ ही दिनों में इसकी आदत पड़ जाएगी। वास्तव में आपको मजा आने लगेगा और ये आपके जीवन के सबसे अच्छे दिन हो सकते हैं।

2.2. अपने पास उपलब्ध विकल्पों पर गौर करें: भारत में इंजीनियरिंग प्रथम वर्ष के पाठ्यक्रम में भविष्य में छात्रों का इंतजार कर रहे कठिन अकादमिक पढ़ाई को अच्छी तरह से पूरा करने के लिए सभी मूल आवश्यकताओं को कवर किया जाता है।  संभव है आपने काउंसलिंग प्रक्रिया के दौरान इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग या सिविल इंजीनियरिंग जैसी प्रमुख शाखा को चुना, ये अभी भी बेहद कठिन विषय हैं और आगे की पढ़ाई के लिए आप अन्य उपलब्ध विकल्पों पर भी विचार कर सकते हैं।

2.3. नेटवर्क– दोस्त तलाशें: कॉलेज ऐसी जगह होती है जहां आप अन्य छात्रों से मिलते हैं और जीवन भर के लिए दोस्त बनाते हैं और यही बात इंजीनियरिंग कॉलेज के लिए भी लागू होती है। यह नेटवर्क भविष्य में जब आप नौकरी की तलाश कर रहे हों या खुद का व्यवसाय शुरु करना चाहते हों, आपकी मदद कर सकता है। इसलिए एक अच्छा सामाजिक, अकादमिक, पेशेवर रिश्ता बनाएं एवं अपने सहकर्मियों का नेटवर्क तैयार करें। भविष्य में यह आपके बहुत काम आएगा।  

2.4. अच्छे प्रोजेक्ट में शामिल हों: हमेशा अच्छे प्रोजेक्ट्स में शामिल हों। अच्छे ग्रेड्स के साथ यह आपके भीतर के अन्वेषक को प्रेरित करेगा और कक्षा में ली गई सैद्धांतिक शिक्षा को प्रायोगिक सेटअप में इस्तेमाल करने के नए तरीकों को तलाशने में मदद करेगा।

2.5 मस्ती करें और मजे लें: पढ़ाई और अकादमिक पाठ्यक्रम इंजीनियरिंग कॉलेज के जीवन का बेहद महत्वपूर्ण हिस्सा है लेकिन समय– समय पर पढ़ाई से थोड़ा अलग होना और अन्य काम करना भी उतना ही जरूरी है। इसे आसानी से करने और जीवन में संतुलन बनाने की कोशिश करें।

3. करिअर के मध्य में पालन की जाने वाली बातें 

https://revpart.com

3.1. अपने वर्तमान नौकरी में इंजीनियरिंग के बारे में सीखें: अपने पूरे कॉलेज जीवन  के दौरान आप ज्यादातर सैद्धांतिक ज्ञान ही प्राप्त कर पाए हैं। अब उसी ज्ञान का व्यवहारिक स्तर पर उपयोग करने का वक्त आ चुका है। अपने सहयोगियों से सीखना जारी रखें। स्चीव जॉब्स की प्रसिद्ध कहावत याद रखें– भूखे रहो, मूर्ख बने रहो।

3.2. शुरुआती दिनों में नाउम्मीद न हों:  यदि आप प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग कॉलेज से नहीं हैं तो संभवतः करिअर के शुरुआत में आपको संघर्ष करना पड़े। लेकिन आप नाउम्मीद न हों । आपको जल्द ही या कुछ दिनों बाद जरूर अच्छी नौकरी मिल जाएगी। अपने अवसरों को बढ़ाने के लिए आप उच्च शिक्षा का विकल्प भी चुन सकते हैं।

Read this article in English

Related Categories

    Related Stories