Jagran Josh Logo

क्या आप भी JEE 2018 में अच्छी रैंक लाने को लेकर चिंतित हैं? तो ज़रूर अपनाएँ ये 5 टिप्स

Feb 14, 2018 18:34 IST
  • Read in English
JEE Examination 2018
JEE Examination 2018

JEE Main 2018 की परीक्षा में लगभग 2 महीने शेष रह गए हैं. JEE Main की ऑफलाइन परीक्षा 8 अप्रैल और ऑनलाइन परीक्षा 15 एवं 16 अप्रैल 2018 को होगी. सभी विद्यार्थी JEE Main 2018 की परीक्षा में अच्छी रैंक हासिल कर JEE Advanced की परीक्षा में बैठना चाहते हैं जो 20 मई 2018 को होगी. सभी इंजीनियरिंग उम्मीदवारों को सपना होता है कि उनका दाखिला देश के टॉप इंजीनियरिंग कॉलेज में हो, किंतु दिन-रात कड़ी मेहनत करने के बाद भी उनका सपना पूरा नहीं होता.

आज इस लेख में हम कुछ ऐसे टिप्स के बारे में बताएँगे जिनको अपना कर विद्यार्थी आने वाली JEE (JEE Main और JEE Advanced) की परीक्षा में अच्छी रैंक ला सकेंगे और उनका दाखिला देश के प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग कॉलेज में आसानी से हो जाएगा.

अगर विद्यार्थी परीक्षा की तैयारी के दौरान और परीक्षा देते समय इन टिप्स को अपनाएंगे तो न केवल IIT में उनका सिलेक्शन होगा बल्कि विद्यार्थी अपनी रैंक को बढ़ाने में भी कामयाब होंगे.

इन टिप्स को अपना कर लाएँ किसी भी कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट में अच्छे मार्क्स

आइए विस्तार से पढ़ते हैं उन टिप्स के बारे में:

1. टाइम टेबल बनाएं:

विद्यार्थी JEE 2018 की परीक्षा को बिना योजना बनाए क्रैक नहीं कर सकते. इसलिए विद्यार्थियों को एक टाइम टेबल बनाना चाहिए और उसका सख्ती से पालन भी करना चाहिए. अंतिम के ये कुछ महीने JEE उम्मीदवारों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हैं. विद्यार्थी अपना टाइम टेबल बनाने के लिए JEE Toppers द्वारा इस्तिमाल किये गए टाइम टेबल की भी सहायता ले सकते हैं. विद्यार्थियों को अपना टाइम टेबल इस प्रकार बनाना चाहिए जिससे सभी विषयों को बराबर का समय मिल सके. विद्यार्थियों को अपनी सुविधा के अनुसार ही टाइम टेबल बनाना चाहिए. हम सभी यह जानते हैं कि कुछ विद्यार्थियों को प्रातःकाल उठ कर पढ़ना पसंद होता है तो कुछ को देर रात तक पढ़ना अच्छा लगता है.

  Related Video: श्री आनंद कुमार द्वारा जानिए IIT JEE के लिए बेस्ट स्टडी मटेरियल

2. स्टैण्डर्ड किताबों पर ज़्यादा फोकस करें:

कक्षा 11वीं और 12वीं की NCERT की किताबें JEE 2018 की परीक्षा के लिए सबसे महत्वपूर्ण हैं. विद्यार्थी इन किताबों से बहुत ही आसानी से पढ़ाई कर सकते हैं क्योंकि इन किताबें में विद्यार्थियों की मानसिक क्षमता के अनुसार ही कॉन्सेप्ट्स (concepts) दिये गए होते हैं. ये किताबें विद्यार्थियों को उनकी परीक्षा की तैयारी में तो सहायता करती ही हैं. इसके साथ-साथ उनको मुश्किल से मुश्किल प्रश्न को भी आसानी से हल करने में भी सहायता करती हैं. इन किताबों में कोई त्रुटी मिलने की संभावना भी न के बराबर ही है क्योंकि इन किताबों का कंटेंट (content) लिखने के लिए टॉप कॉलेज के प्रोफेसरों की सहायता ली जाती है.

3. हर विषय पर फोकस करें:

अगर विद्यार्थी आने वाली JEE Main और JEE Advanced की परीक्षा में अच्छे मार्क्स लाना चाहते हैं, तो किसी भी विषय को छोड़ नहीं सकते. विद्यार्थियों को प्रत्येक विषय के किसी भी अध्याय को पढ़ते समय ही उसके नोट्स बना लेने चाहिए क्योंकि परीक्षा से केवल कुछ दिन पहले किताबों से पढ़ना असंभव होता है. इन नोट्स में विद्यार्थियों को महत्वपूर्ण कॉन्सेप्ट्स, फोर्मुले और पिछले वर्षों के प्रश्नों को शामिल करना चाहिए. अगर विद्यार्थी परीक्षा से पहले किताबों से पढ़ाई करते हैं, तो यक़ीनन उनका सिलेबस पूरा नहीं हो पायेगा. विद्यार्थियों को समय-समय पर हर टॉपिक को दोहराना चाहिए. जिससे परीक्षा में किसी भी प्रश्न को करने में  उनको ज़्यादा समय नहीं लगे.

4. पिछले वर्षों के पेपर्स और प्रैक्टिस पेपर्स को हल करें:

JEE Main और JEE Advanced की परीक्षा में उपस्थित होने से पहले सभी विद्यार्थी परीक्षा के पैटर्न और कठिनाई के स्तर को जानना चाहते हैं. इसके लिए विद्यार्थी पिछले 5 वर्षों के पेपर्स को हल कर सकते हैं. ऐसा करने से विद्यार्थियों को आने वाली परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण टॉपिक्स के बारे में पता चल जाएगा और प्रश्नों के कठिनाई के स्तर के बारे में भी. विद्यार्थियों को अपनी स्पीड और accuracy बढ़ाने के लिए अधिक से अधिक प्रैक्टिस पेपर्स को हल करना चाहिए.

5. 3–C रूल का पालन करें:

विद्यार्थियों को परीक्षा के तैयारी के दौरान और परीक्षा हॉल में परीक्षा देते समय 3–C रूल का मतलब शांत(Calm), कंपोज्ड(Composed) और आत्मविश्वासपूर्ण (Confident) का पालन करना चाहिए. विद्यार्थियों को परीक्षा देते समय रिलैक्स्ड और तनाव मुक्त रहना चाहिए, वरना उनकी पूरे वर्ष की मेहनत पर पानी फिर सकता है. कंपोज्ड(Composed) का अर्थ होता है आत्म – संयम इसका मतलब विद्यार्थियों को परीक्षा की तैयारी के दौरान और परीक्षा में प्रश्न करते समय आस-पास की गतिविधियों से अपना ध्यान भंग नहीं करना चाहिए. कॉंफिडेंट (confident) का अर्थ होता है कि परीक्षा में अगर विद्यार्थी किसी भी प्रश्न को हल करते हैं, तो विद्यार्थियों को अपने उत्तर के सही होने पर 100 प्रतिशत भरोसा होना चाहिए.

निष्कर्ष:

विद्यार्थी परीक्षा की तैयारी के दौरान और परीक्षा हॉल में परीक्षा देते समय ऊपर दिये गए टिप्स को अपना कर आने वाली JEE Main और JEE Advanced की परीक्षा में अच्छे मार्क्स ला सकते हैं.

Offline Exam में OMR Sheet भरने के सूपर मंत्र

Commented

    Latest Videos

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Newsletter Signup
    Follow us on
    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
    X

    Register to view Complete PDF