Jagran Josh Logo

SSC CHSL Reasoning तैयारी सुझाव: कोडिंग-डिकोडिंग

Feb 6, 2018 17:32 IST
  • Read in English
ssc reasoning preparation tips
ssc reasoning preparation tips

जैसा की सब जानते है कि SSC किसी उम्मीदवार की योग्यता क्वांटिटेटिव एपटीट्युड,  जनरल इंटेलिजेंस और रीजनिंग, सामान्य अंग्रेजी और सामान्य ज्ञान में प्रदर्शन के आधार पर मापती है|  यह सब विषय SSC CHSL परीक्षा के सभी चरणों में अधिकतम अंक और नकारात्मक अंक  के संदर्भ में एक ही नियम के द्वारा डाले गए है| हालांकि, कुछ वर्ग काफी आसान है, जबकि दूसरों बोझिल और समय लेने वाले  हैं। ठीक इसी प्रकार से, Reasoning अनुभाग इस तरह के सवालों का एक मिश्रण है, जिसमे सबसे कठिन प्रश्नों से लेकर आसान प्रश्न तक सम्मिलित है। Reasoning अनुभाग कुल मिलाकर उम्मीदवार की क्षमता का परीक्षण और तार्किक सोच के परीक्षण के बारे में है।

 Banking & SSC eBook

कोडिंग-डिकोडिंग, रीजनिंग अनुभाग के तेहत एक महत्वपूर्ण टॉपिक है। आप इसे शानदार ढंग से भी हल कर सकते है या अपना काफी समय किसी उपयुक्त जवाब के बिना व्यर्थ भी कर सकते हैं। इस समस्या को दूर करने और उच्च स्कोर पाने के लिए, उम्मीदवारों को कठिन अभ्यास करने की आवश्यकता है।

निम्नलिखित लेख में, हम विभिन्न टिप्स और पूछी गयी विभिन्न प्रकार की समस्याओं को हल करने ट्रिक्स सहित कोडिंग-डिकोडिंग अवधारणा के बारे में चर्चा करेंगे।

Take Online Quiz

SSC CHSL तैयारी ट्रिक्स: कोडिंग-डिकोडिंग

कोडिंग-डिकोडिंग युक्तियां और सुझाव को समझने से पहले, हम इस विषय के बारे में एक संक्षिप्त परिचय लेंगे कि कोडिंग-डिकोडिंग क्या है और यह कितने प्रकार की होती हैं?

कोडिंग-डिकोडिंग किसी की जानकारी के बिना प्रेषक और प्राप्तकर्ता के बीच एन्क्रिप्टेड रूप में डेटा / जानकारी प्रसारित करने का एक तरीका है। प्रसारण करने से पहले, डेटा पहले एनकोड किया जाता है और किसी माध्यम के द्वारा प्रसारित किया जाता है और अंत में ग्राहक की साइड पर इस डाटा/सुचना को पुन: डिकोड करके मूल डेटा/ सूचना  में परिवर्तित कर लिया जाता है। इस प्रकार से , डेटा / जानकारी का विरूपण और रिसाव को रोका जाता है।

इसके अलावा, कोडिंग-डिकोडिंग SSC CHSL सहित विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में एक महत्वपूर्ण स्थान रखती है। अवधारणा और दृष्टिकोण को छोड़कर, परीक्षा में प्रश्नों की कठिनाई स्तर टीयर -1 & 2 में बदल जाता है। इस विषय  से उम्मीदवार को SSC CHSL टीयर -1 परीक्षा में न्यूनतम एक सवाल अवश्य मिलेगा। कोडिंग-डिकोडिंग सवाल  प्राय: चार प्रकार के होते है जिनमें से SSC CHSL परीक्षा के Reasoning खंड के लिए प्रश्न तैयार किये जाते है|

  1. पत्र कोडिंग (Letter Coding)
  2. प्रतिस्थापन (Substitution)
  3. मिश्रित पत्र कोडिंग (Mixed Letter Coding)
  4. मिश्रित संख्या कोडिंग (Mixed Number Coding)

अब, हम ऐसे सवाल को हल करने के तरीकों  के बारे में चर्चा करेंगे-

  1. दिए गए प्रश्न में अक्षरों या संख्याओं या शब्द को पढ़ें।
  2. पैटर्न या अनुक्रम या वैकल्पिक पैटर्न का आरोही या अवरोही क्रम में पता लगाएं-
    1. वर्णमाला की स्थिति (A = 1, B = 2, C = 3, ......, Y = 25, Z = 26)
    2. वर्णमाला के विपरीत स्थिति (A = 26, B = 25, ............, Y = 2, Z = 1)

पत्र कोडिंग

इस श्रेणी के तहत, दिए गए शब्द में अक्षर एक विशेष नियम के पालन करते हुएअन्य यादृच्छिक अक्षर से बदल दिया जाता है।

उदाहरण के लिए एक खास कोड में, ‘TEACHING’ को ‘UFBDIJOH’ से निरुपित किया गया है। तो ‘BOOKS’ को इस कोड में कैसे इनकोड किया जाएगा?

जवाब है: दिए गए शब्द में प्रत्येक वर्ण मानक अनुक्रम में 1 की वृद्धि से आगे है। इसलिए, इस सवाल का जवाब CPPLT होगा।

प्रतिस्थापन

इस श्रेणी के तहत, नाम / शब्द / स्ट्रिंग को किसी अलग शब्द / नाम / स्ट्रिंग के साथ प्रतिस्थापित किया जाता हैं। इसलिए, हम उचित जवाब पर पहुंचने के लिए ध्यान से प्रतिस्थापन का पता लगाते है। आइये इसे एक उदाहरण के साथ समझने की कोशिश करते है-

उदाहरण के लिए- नारंगी को केला कहा जाता है, केला को साबुन कहा जाता है, साबुन को स्याही कहा जाता है, स्याही को मोटरसाइकिल और मोटरसाइकिल को कागज कहा जाता है, तो इनमें से कपड़े धोने के लिए किसका प्रयोग किया जाता है?

उत्तर:  स्याही; क्योंकि साबुन को स्याही के रूप में जाना जाता है। इसलिए, स्याही सही जवाब है।

मिश्रित पत्र कोडिंग

इस प्रकार की कोडिंग और डिकोडिंग में, तीन-चार स्टेटमेंटको  एक समस्या के तहत एक कोडित भाषा में दिया जाता है और एक विशिष्ट शब्द के लिएअलग  कोड  होता है। इस तरह के सवालों से निपटने के लिए, दो या अधिक वाक्यांशों को एक यादृच्छिक संख्या में चुनें और इसमें कुछ समानतायें और विषमताये होंगी। समानता से शब्दएक दूसरे के बराबर माने जाएंगे। इस तरह से, आप प्रत्येक संबंधित स्ट्रिंग के लिए कोड पता कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए एक खास कोड में,

1. ‘pity dare name’ का अर्थ है- ‘you are good’
2. ‘dare token pawn’ का अर्थ है-  ‘good and bad’
3. ‘time name token ’ का अर्थ है-  'they are bad’
तो, इस भाषा में, ‘they’ शब्द  के लिए कौन-सा शब्द/स्ट्रिंग का इस्तेमाल उपयुक्त होगा?

आइये प्रत्येक कोड और स्ट्रिंग के लिए उचित शब्द का पता लगाते है-

बयान में (1) और (2): 'dare' और 'good’  दोनों में कॉमन है। इसलिए, ‘dare’== ‘good’;

इसी प्रकार शेष बयानों की तुलना करने पर: ‘token’ == ‘bad’; ‘name’ == ‘are’;

इसलिए, 'they' स्ट्रिंग के लिए सही जवाब 'time' होगा।

मिश्रित संख्या कोडिंग

एन्क्रिप्शन के इस प्रकार में, संख्या, अक्षर या वाक्यांश या स्ट्रिंग के प्रारूप में दी जाती है। इसी नियम, जिसे ऊपर बता गया है, का पालन करके, आप सही जवाब पता लगा सकते हैं। आइये, इसे एक उदाहरण के साथ समझें-

उदाहरण के लिए- एक खास कोड में,

'$ ^ &'का अर्थ है 'leaves are green';

'$ *%'का अर्थ है 'green is good' और

'^ #!'का अर्थ है 'they are playing'

कौन सा प्रतीक है कि इस कोड में 'leaves’ के लिए प्रयुक्त किया गया है?

ऊपर सवाल में, $ पहले दो बयानों में कॉमन है। इसलिए, $ - 'green' के सापेक्ष होगा। अत:, हम अन्य बयानों के बीच भी इसी प्रकार से संबंधों को स्थापित कर सकते हैं।

'^' के लिए 'are' स्ट्रिंग है,

इसलिए, पहले बयान से सही जवाब  '&' है।

अधिक सुझावों और SSC परीक्षा की तैयारी से संबंधित ट्रिक्स के लिए, आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर आते रहें|

शुभकामनाएं!

DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

Commented

    Latest Videos

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Newsletter Signup
    Follow us on
    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
    X

    Register to view Complete PDF