UP Board Class 10th Exam Pattern 2016

U.P. Board Class 10 Examination forms a sound basis for future Classes. Find here the Pattern of Examination followed in U.P. Board Class 10.

Created On: Jan 7, 2016 17:00 IST
Modified On: Jan 13, 2016 18:32 IST

 माध्यमिक शिक्षा परिषद  (उत्तर प्रदेश) द्वारा निर्धारित मुल्यांकन पैटर्न:2016

(Secondary Education Council (Uttar Pradesh), Marking Pattern: 2016)     

कक्षा – 10th ( Class – 10th)

यहाँ हमने हाई स्कूल के नए पाठ्यक्रम में अंक-वितरण पैटर्न का उल्लेख किया है:

क्रम संख्या

सवालों के प्रकार

प्रतिशत मात्रा

1.

बहु-विकल्पीय प्रश्न (MCQ)

09 %

2.

अति लघु उत्तरीय प्रश्न प्रकार – 1 (VSA)

29 %

3.

अति लघु उत्तरीय प्रश्न प्रकार- 2 (VSA)

4.

लघु उत्तरीय प्रश्न (SA)

45 %

5.

विस्तृत उत्तरीय प्रश्न (LSA)

17 %

अनिवार्य विषय (Compulsory Subjects) :

  1. विज्ञान
  2. गणित
  3. सामाजिक विज्ञान
  4. हिन्दी
  5. अंग्रेज़ी

माध्यमिक शिक्षा परिषद, उत्तर प्रदेश ने सत्र 2011-12 से सतत एवं व्यापक मुल्यांकन प्रणाली को हाईस्कूल स्तर पर लागू करने का निर्णय लिया है | जिसके तहत 70 अंको की लिखित परीक्षा तथा 30 अंको का प्रयोगिक एवं आंतरिक मुल्यांकन होगा जो वर्तमान सत्र से लागू है | आंतरिक मुल्यांकन हेतु विद्यालय स्तर पर शैक्षणिक सत्र मे प्रत्येक दो माह में (प्रथम मासिक परीक्षा अगस्त माह के अंति सप्ताह में , द्वतीय मासिक परीक्षा अक्टूबर माह के अंतिम सप्ताह में और तृतीय मासिक परीक्षा दिसंबर माह के अंतिम सप्ताह में) तीन मासिक परीक्षण किये जायेंगे |

प्रयोगात्मक विषय (Practical Subjects)  – गृह विज्ञान , विज्ञान , संगीत गायन संगीत वादन, कृषि, सिलाई , कंप्यूटर में आंतरिक  मुल्यांकन निम्नवत होगा |

  • प्रयोगात्मक परीक्षा (Practical Exam) - 15 अंक (3 प्रयोग प्रत्येक 05 अंक )
  • प्रोजेक्ट कार्य (Project Work) 15 अंक (3 प्रोजेक्ट प्रत्येक 05 अंक )

प्रत्येक मासिक परीक्षा में एक प्रयोग और एक प्रोजेक्ट का मुल्यांकन किया जायेगा |

शेष अन्य विषय (Other Subjects) गणित , सामाजिक विज्ञान , प्रारम्भिक गणित , वाणिज्य , चित्रकला , रंजनकला तथा मानव विज्ञान  में आंतरिक मुल्यांकन निम्नवत होगा |

  • प्रोजेक्ट कार्य (Project Work) - 15 अंक (3 प्रोजेक्ट प्रत्येक 05 अंक )
  • मासिक परीक्षा (Monthly Exam) 15 अंक (3 मासिक परीक्षा प्रत्येक 05 अंक )

इन विषयों के अतिरिक्त खेल एवं शारीरिक शिक्षा विषय विद्यालय स्तर पर करायी जाएगी जिसमे 50 अंको का केवल एक प्रश्न-पत्र होगा | इसके अतिरिक्त 50 अंको की प्रयोगात्मक परीक्षा भी संस्था के प्रधान द्वारा ली जाएगी | प्रत्येक परीक्षार्थी को खेल एवं शारीरिक शिक्षा विषय की परीक्षा में न्यूनतम उत्तीर्णांक 33 प्रतिशत पाना अनिवार्य होगा |

व्यक्तिगत परीक्षार्थी की खेल एवं शारीरिक शिक्षा विषय की परीक्षा अग्रसारण/पंजीकरण अधिकारी द्वारा ली जाएगी | पूर्णरूप से नेत्रहीन एवं विकलांग परीक्षार्थी को खेल एवं शारीरिक शिक्षा विषय की परीक्षा से मुक्ति रहेगी |

Comment ()

Post Comment

2 + 3 =
Post

Comments