भारत में आपके लिए फायर इंजीनियरिंग के कोर्सेज और करियर स्कोप

फायर इंजीनियर में आग लगने के कारणों और आग लगने से बचाव के बारे में गहन अध्ययन किया  जाता है.फायर इंजीनियरिंग का सिविल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, एन्वायरनमेंटल इंजीनियरिंग से सीधा संबंध होता है.

Created On: Aug 16, 2021 21:54 IST
Career Scope in Fire Engineering in India
Career Scope in Fire Engineering in India

इंजीनियरिंग में भी कुछ ऐसे सब्जेक्ट्स या इंजीनियरिंग टाइप्स हैं जिसमें साहसी तथा लीक से हटकर काम करने की इच्छा रखने वाले उम्मीदवार अपना करियर शुरु कर सकते हैं. ऐसी ही एक फील्ड है फायर इंजीनियरिंग जिसमें साहसी और दूसरों की मदद करने को उत्सुक प्रोफेशनल्स अपना करियर बना सकते हैं. यह इंजीनियरिंग की एक ऐसी फील्ड है जिसमें यंग प्रोफेशनल्स अपनी जान पर खेलकर लोगों की जान बचाने का काम करते हैं. कुछ समय पहले तक इस फील्ड में यंग इंजीनियर्स की ज्यादा रूचि नहीं थी लेकिन अब इस फील्ड में भी साहसी और जोशीले इंडियन्स अपना भविष्य आजमा रहे हैं. 

फायर इंजीनियर में आग लगने के कारणों एवं उनसे बचाव करने के लिए सभी सुरक्षित तरीकों का अध्ययन किया जाता है. फायर इंजीनियरिंग का सीधा संबंध सिविल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, एन्वायरनमेंटल इंजीनियरिंग से होता है. एक अच्छा फायर इंजीनियर कम से कम समय में पास उपलब्ध संसाधनों से अधिक से अधिक नुकसान या जान-माल को बचाने का निरंतर प्रयास करता है. इस आर्टिकल में हम आपके लिए भारत में फीयर इंजीनियरिंग के कोर्सेज और करियर स्कोप के बारे में जानकारी दे रहे हैं. आइये आगे पढ़ें:

भारत में फायर इंजीनियर्स का प्रोफेशन है काफी सम्मान जनक

जब आग बेकाबू हो जाती है तो वह धन और जन दोनों को बहुत नुकसान पहुंचा है.विश्व में कई ऐसे हादसे आग लगने के कारण हो चुके हैं, जिनके चलते न केवल हजारों लोगों की जानें गई हैं, बल्कि अरबों-खरबों की संपत्ति भी पलभर में स्वाहा हो गई है. इस तरह के हादसों से बचाव फायर इंजीनियरों की मदद से ही संभव है. इसलिए इस काम को सम्मानित नजरिए से देखा जाता है.

भारत में फायर इंजीनियरिंग की आवश्यकता

हमारे देश की आबादी के विस्तार से शहरी बस्तियां घनी होती जा रही हैं. ऐसे में अब पुराने उपकरणों से आग पर काबू पाना मुश्किल है. फायर इंजीनियर इन सब चीजों को ध्यान में रखते हुए ही नए-नए उपकरणों एवं इसमें प्रयोग होने वाली चीजों का निर्माण कर रहे हैं. उनके इस काम को देखते हुए आज सभी देशों में इस प्रोफेशन के जानकारों की मांग में बहुत इजाफा हो रहा है.

भारत में फायर इंजीनियरिंग के कोर्सेज

फायर इंजीनियरिंग में बीटेक(सेफ्टी ऐंड फायर इंजीनियरिंग), बीई(फायर इंजीनियरिंग) और बीएससी(फायर)का कोर्स प्रमुख है. अधिकतर लोग इसमें बैचलर डिग्री लेना पसंद करते हैं. इस डिग्री के बाद इस विषय में आगे की पढ़ाई की जा सकती है. कई ऐसे प्राइवेट संस्थान भी हैं जो इस विषय में डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स कराते हैं. इन कोर्सों की अवधि भिन्न-भिन्न हो सकती है.

भारत में फायर इंजीनियरिंग कोर्सेज के लिए जरुरी एजुकेशनल क्वालिफिकेशन

यदि आप फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स के साथ बारहवीं या समकक्ष उत्तीण हैं तो आप फायर इंजीनियरिंग में डिप्लोमा के लिए आवेदन कर सकते हैं. फायर इंजीनियरिंग में प्रवेश देने के लिए अधिकतर संस्थान ग्रेजुएट (बीएससी-केमिस्ट्री और फिजिक्स अथवा मैथ्स) होने वाले छात्रों को ही प्रवेश हेतु योग्य मानते हैं.

फायर इंजीनियर्स के लिए अत्यावश्यक स्किल सेट

यह काम जोश और जज्बे का है, लेकिन इसमें सावधानी भी महत्वपूर्ण है. एक फायर इंजीनियर के पास अच्छी कम्युनिकेशन स्किल, हर परिस्थिति में धैर्य रखने की काबिलियत और हालात के अनुसार कार्य करने की क्षमता होना अनिवार्य है.

भारत में फायर इंजीनियर्स के लिए रोजगार के अवसर 

इसकी ट्रेनिंग लेने के बाद सरकारी क्षेत्र जैसे गवर्नमेंट फायर सर्विस के साथ भी जुड़ सकते हैं और चाहें तो बिल्डिंग डिजाइन रिफायनरीज, एलपीजी बोटलिंग युनिट, टेक्सटाइल ऐंड केमिकल प्लांट्स, प्लास्टिक, एयर क्राफ्ट इंडस्ट्री आदि में भी काम कर सकते हैं.

सलाहकार के रूप में यह जॉब बड़ी इमारतों को आग से बचाने के लिए सरकार ने कई नियम बनाए हैं. इन नियमों में आग से बचाव के नियम भी शामिल हैं. इसके अंतर्गत इमारतों का निर्माण किस तरह से किया जाए, यह सलाह फायर इंजीनियरिंग में प्रशिक्षित व्यक्ति दे सकते हैं. इस कोर्स को करने के बाद कंसल्टेंट के रूप में काम करके भी अच्छी खासी कमाई की जा सकती है. सरकारी क्षेत्र में इसके जानकारों को वेतन स्केल के आधार पर तय किया जाता है, वहीं प्राइवेट सेक्टर में वेतन कंपनी के प्रकार और आपके अनुभव के आधार पर निर्धारित होता है.

भारत में इन टॉप इंस्टीट्यूट्स से करें फायर इंजीनियरिंग के कोर्सेज

  1. आईआईटी, खड्गपुर
  2. दिल्ली इंस्टीट्यूट ऑफ फायर इंजीनियरिंग, नई दिल्ली
  3. कॉलेज ऑफ फॉयर टेक्नोलॉजी, अहमदाबाद
  4. इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ फायर इंजीनियरिंग, नागपुर

 जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

अन्य महत्त्वपूर्ण लिंक

इंडियन इंजीनियर्स के लिए रिन्यूएबल एनर्जी इंजीनियरिंग में उपलब्ध हैं ये विशेष करियर्स

कंप्यूटर इंजीनियरिंग के बाद आपके लिए टॉप करियर ऑप्शन्स

भारत में एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग: कोर्सेज और करियर स्कोप

 

Comment (0)

Post Comment

5 + 0 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.