Search

कृष्ण देव राय: (1509-1529 ईसवी)

कृष्ण देव राय विजयनगर साम्राज्य का सबसे प्रभावशाली शासक था| इसका संबंध तुलुवा वंश से था|
Sep 22, 2014 18:02 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

कृष्ण देव राय विजयनगर साम्राज्य का सबसे प्रभावशाली शासक था| इसका संबंध तुलुवा वंश से था| जब इसने सत्ता संभाली तब साम्राज्य की हालत बहुत ही दयनीय स्थिति में थी|   साम्राज्य को बीजापुर के सुल्तान तथा उड़ीसा के शासकों से भय बना हुआ था|

सैनिक अभियान:

इसने दक्कन के सुल्तानों के मुसलमान शासकों के संयुक्त शक्ति को पराजित किया तथा 1542 में रयचूर दोआब को जीत लिया|

इन्होंने गुलबर्ग को भी जीता| शिवसमुद्रम जीतने के साथ ही उम्मत्तूर के शासकों को पराधीनता स्वीकार करने पर मजबूर कर दिया|

इसने उड़ीसा के विशाल सेना को पराजित कर उदयगिरी के किले पर कब्जा कर लिया| इसने अपने उड़ीसा के अभियान को आगे बढ़ते हुए उडिया लोगों को आत्मसमर्पण करने को मजबूर कर दिया| गोलकुंडा के रास्ते मे पड़ने वाले कोंदपल्लीी को भी इसने अपने विजय अभियान में शामिल किया|

पुर्तगाल के साथ संबंध:

कृष्ण देव राय ने पुर्तगाल के साथ अपने अच्छे संबंध बनाए रखे| इसने पुर्तगाल से अरब के घोड़े व बंदूकें मगवाई|

मृत्यु:

कृष्ण देव राय के पुत्र की मृत्यु उसके मंत्री के पुत्र द्वारा विष देने की वजह से हुई, इसके आरोप में पिता व पुत्र दोनों को सज़ा हुई|

कृष्ण देव राय की मृत्यु 1529 में हुई थी| अपने मृत्यु के पूर्व ही उसने अपने भाई को शासक घोषित कर दिया था|

उपलब्धियाँ:

एक योद्धा होने के साथ ही कृष्ण देव राय कला व साहित्य का भी एक बहुत बड़ा संरक्षक था|

उसके दरबार में अष्टदिगगज (आठ साहित्य के जानकार) विराजमान थे| मनु चरित्ररामू का लेखक इनमें से एक था| कृष्ण देव राय स्वयं एक कवि था तथा इसने अमुकतमलदया की रचना की थी|

कृष्ण देव राय एक महान निर्माण कर्ता भी था| इसने हज़ारा राम मंदिर व विट्ठल देव मंदिर की रचना की| इसने नागलपुरम नमक एक नवीन शहर की स्थापना की|