Search

भारत का जैव-भौगोलिक वर्गीकरण

भारत एक बहुत बडा विविधता वाला देश है जहां दुनिया की लगभग 10% प्रजातियां रहती हैं। लाखों वर्षों तक भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत रही थी। अधिकतर भारतीय जैव विविधता जटिल रूप से देश के सामाजिक-सांस्कृतिक प्रथाओं से संबंधित है। भारत के पूर्वी और उत्तर पूर्वी भागों में जैव विविधता के बडे़ स्रोत हैं। इससे भारत को दवा, जंगल, वनस्पति और जीव जैसे कई प्रकार की वस्तुएं प्राप्त होती हैं।
Dec 9, 2015 12:03 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

भारत एक बहुत बडा विविधता वाला देश है जहां दुनिया की लगभग 10% प्रजातियां रहती हैं। लाखों वर्षों तक भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत रही थी। अधिकतर भारतीय जैव विविधता जटिल रूप से देश के सामाजिक-सांस्कृतिक प्रथाओं से संबंधित है। भारत के पूर्वी और उत्तर पूर्वी भागों में जैव विविधता के बडे़ स्रोत हैं। इससे भारत को दवा, जंगल, वनस्पति और जीव जैसे कई प्रकार की वस्तुएं प्राप्त होती हैं।

 भारत के विभिन्न भागों में भिन्न जलवायु और स्थलाकृति है और इसीलिए इसे एक वृहद (मेगा) विविधता वाले देश के रूप में जाना जाता है। भारत दुनिया के वनस्पति से समृद्ध देशों की सूची में 10वें पायदान पर है। इसलिये वनस्पति और भारत के जीव वितरण तथा पर्यावरण अंतःक्रिया के बारे में ज्ञान प्राप्त करना आवश्यक है।

जैव-भूगोलविदों ने भारत को विशेषता, जलवायु, मिट्टी और जैव विविधता के साथ प्रत्येक क्षेत्र को दस जैव-भौगोलिक क्षेत्रों में वर्गीकृत किया है।भूगोल, जलवायु और वनस्पति के स्वरूप तथा उनमें रहने वाले स्तनधारी, पक्षी, सरीसृप, उभयचर, कीड़े और अन्य अकशेरुकी समुदायों के आधार पर हमारे देश को आसानी से दस प्रमुख क्षेत्रों में विभाजित किया जा सकता है:

  1. लद्दाख के ट्रांस हिमालयी क्षेत्र
  2. हिमालय पर्वतमाला
  3. तराई
  4. गंगा और ब्रह्मपुत्र के मैदान
  5. राजस्थान के थार रेगिस्तान
  6. दक्कन के पठार गुजरात, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और तमिलनाडु के अर्द्ध शुष्क चरागाह क्षेत्र
  7. भारत के पूर्वोत्तर राज्य
  8. पश्चिमी घाट
  9. अंडमान और निकोबार द्वीप
  10. पश्चिमी और पूर्वी तटीय बेल्ट

इन क्षेत्रों का विवरण नीचे दिया गया है:

ट्रांस-हिमालयी:

हिमालयी क्षेत्र तिब्बती पठार की ओर फैले हैं। ऊंचाई पर स्थित ठंडे रेगिस्तान लद्दाख (जम्मू और कश्मीर) और लाहौल स्पीति (हिमाचल प्रदेश) इस क्षेत्र के बंदरगाह हैं। यह देश के 5.7%  भूभाग पर फैला है।

हिमालय: हिमालय, भारत की उत्तरी सीमा हैं। पूरी पर्वत श्रृंखला उत्तर-पश्चिम में कश्मीर से उत्तर-पूर्व में असम तक फैली हुई है। हिमालय में जैविक प्रांत और बायोम की एक विविध श्रृखंला का समावेश है। हिमालय, देश की भूमि के 7.2% के भूभाग को पर फैला है।

मरूस्थल: अरावली पहाड़ी श्रृंखला के पश्चिम के अत्यंत शुष्क क्षेत्र में गुजरात का नमकीन रेगिस्तान और राजस्थान के रेतीले रेगिस्तान दोनों शामिल हैं। मरूस्थल का देश के लगभग 6.9% पर भूभाग पर कब्जा है। भारत में पाये जाने वाले रेगिस्तानों के प्रकार इस प्रकार हैं:

(I) पश्चिमी राजस्थान के रेगिस्तान

(II) गुजरात के रेगिस्तान

(III) जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले ठंडे रेगिस्तान। भारतीय रेगिस्तान में अधिक विविधता वाले जीव रहते हैं।

गंगा के मैदान: यह मैदान दक्षिण हिमालय से कर्क रेखा के बीच के क्षेत्र पर फैला है। ये मैदान गंगा नदी प्रणाली द्वारा गठित हुए हैं और अपेक्षाकृत समरूप हैं। इस क्षेत्र में प्रतिवर्ष अनुमानित 600 मिमी बारिश होती है। इस क्षेत्र में सुंदरबन के जंगल स्थित हैं और यह देश की भूमि के 11% भूभाग पर फैला है।

दक्कन के पठार: यह क्षेत्र रेगिस्तान और दक्कन के पठार के बीच स्थित है। इसमें अरावली पहाड़ी श्रृंखला शामिल है। यह देश के लगभग 15.6% भूभाग को कवर करता है। यह दक्षिणी नर्मदा घाटी का एक बड़ा त्रिकोणीय पठार है। पूर्व की ओर पठार के तीन किनारे पर्वतों के ढलानों से ढके हुए हैं। सतपुड़ा पर्वत उत्तर को पर फैला है जबकि पश्चिमी घाट पश्चिम किनारे को कवर करते हैं और पूर्वी घाट के पठार, पूर्वी हिस्से को पर फैला हैं। अधिकतर पर्णपाती वृक्षों के साथ दक्षिणी और दक्षिण-मध्य पठार को कवर करते हुए यह सबसे बड़े क्षेत्रों में से एक है। यह देश के 4.3% भूभाग पर फैला है।

उत्तर-पूर्व भारत: ये दंड और पूर्वोत्तर भारत के गैर-हिमालयी पर्वतमालाएं हैं जहां वनस्पतियों की एक विस्तृत विविधता है। यह देश के लगभग 5.2% भूभाग पर फैला है।

पश्चिमी घाट: पश्चिमी घाट एक पर्वत श्रृखंला है जो भारत के पश्चिमी घाट के साथ लगी हुई है। यह उत्तर में गुजरात के दक्षिणी सिरे से उत्तर-दक्षिण से दक्षिण में कन्याकुमारी तक फैली एक सीमा है। पर्वत लगभग 160.000 वर्ग किमी. के एक क्षेत्र पर फैला हैं। इस घाट खंड में जैविक प्रांत और बायोम की एक अत्यंत विविध श्रृखंला शामिल है। यह देश के लगभग 5.8% भूभाग पर फैला है।

द्वीप: बंगाल की खाड़ी में अंडमान और निकोबार द्वीप समूहों में लगभग 300 बड़े और छोटे द्वीप हैं। इन के अलावा, केवल पांच द्वीपों पर लोग रहते हैं। निकोबार द्वीप में केवल जनजातियां पाईं जाती हैं। इन द्वीपों में बायोम के विविध जोडे़ हैं जो देश के बायोमास के 0.03% जगह को घेरे हुए हैं।

तटीय भारत में पूर्व और पश्चिम दोनों के बीच स्पष्ट मतभेद होने के साथ दोनों को एक बड़ा समुद्री तट वितरित है। इसमें लक्षद्वीप द्वीप समूह को शामिल किया गया है, लेकिन इन द्वीपों के क्षेत्र नाममात्र के हैं।