Search

जयललिता के बारे में 15 रोचक तथ्य

अपने समर्थकों के बीच अम्मा (मां) और पुरातची तलाईवी('क्रांतिकारी नेता') के नाम से मशहूर जयललिता जयराम ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (अन्ना द्रमुक) की वर्तमान महासचिव तथा तमिलनाडु की मुख्यमंत्री हैं। उन्होंने तमिल, तेलुगू, कन्नड, हिंदी तथा अँग्रेजी फिल्म में काम किया था| फिल्मी करियर के बाद उन्होने एम॰जी॰ रामचंद्रन के साथ 1982 में राजनीतिक करियर की शुरूआत की थी। जयललिता का 5 दिसंबर 2016 को चेन्नई के अपोलो अस्पताल में 68 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है| इस लेख में हम जयललिता से जुड़े 15 रोचक तथ्यों का विवरण दे रहे हैं|
Sep 13, 2018 16:49 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

अपने समर्थकों के बीच "अम्मा" (मां) और "पुरातची तलाईवी"('क्रांतिकारी नेता') के नाम से मशहूर जयललिता जयराम "ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम" (अन्ना द्रमुक) की वर्तमान महासचिव तथा तमिलनाडु की मुख्यमंत्री हैं। उन्होंने तमिल, तेलुगू, कन्नड, हिंदी तथा अँग्रेजी फिल्म में काम किया था| फिल्मी करियर के बाद उन्होने एम॰जी॰ रामचंद्रन के साथ 1982 में राजनीतिक करियर की शुरूआत की थी। जयललिता का 5 दिसंबर 2016 को चेन्नई के अपोलो अस्पताल में 68 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है| इस लेख में हम जयललिता से जुड़े 15 रोचक तथ्यों का विवरण दे रहे हैं|

1. जयललिता का जन्म 24 फ़रवरी 1948 को एक 'अय्यर' परिवार में, मैसूर राज्य (जो कि अब कर्नाटक का हिस्सा है) के मांडया जिले के पांडवपुरा तालुक के मेलुरकोट गांव में हुआ था।

Jagranjosh

Image source:Eegai.com

जानिये भारत के सबसे शातिर ठग नटवरलाल के बारे में

2. विद्यालय शिक्षा के दौरान ही उन्होंने 1961 में 'एपिसल' नाम की एक अंग्रेजी फिल्म में काम किया।

3. मात्र 15 वर्ष की आयु में वे कन्नड फिल्मों में मुख्य6 अभिनेत्री की भूमिकाएं करने लगी। कन्नड भाषा में उनकी पहली फिल्म 'चिन्नाडा गोम्बे' है जो 1964 में प्रदर्शित हुई।

4. तमिल सिनेमा में उन्होंने जाने माने निर्देशक श्रीधर की फिल्म 'वेन्नीरादई' से अपना करियर शुरू किया और लगभग 300 फिल्मों में काम किया था|

5. उन्होंने अपना फ़िल्मी नाम "संध्या" रखा था |

6. उन्होंने अधिकत्तर फ़िल्में एम॰जी॰ रामचंद्रन के साथ की और अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत भी एम॰जी॰ रामचंद्रन के साथ 1982 में ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (अन्ना द्रमुक) का सदस्य बनकर की थी |

7. जयललिता 1984 से 1989 तक तमिलनाडु से राज्यसभा की सदस्य रहीं थीं|

8. जानें आखिर लोग अम्मा के इतने दीवाने क्यों थे? : तमिलों के बीच अम्मा के नाम से लोकप्रिय जयललिता ने अपने कार्यकाल में जनता को लुभाने वाले खूब काम किये थे। छह बार तमिलनाडु की मुख्यमंत्री रहीं जयललिता ने राज्य के लिए कई सामाजिक क्षेत्र की योजनाएं शुरू की थीं। इसमें कन्या भ्रूण हत्या की समस्या से निपटने के लिए ‘क्रैडल टू बेबी स्कीम’, बच्चियों को जन्म देने वाली महिलाओं को मुफ्त सोने का सिक्का देने जैसी योजनाएं प्रमुख हैं। उन्होंने ‘अम्मा ब्रांड’ के तहत लगभग 18 लोक कल्याणकारी योजनाएं भी शुरू की। “अम्मा” के नाम की सभी योजनाएं या तो पूरी तरह मुफ्त थीं, या फिर उसपर भारी सब्सिडी दी जाती थी। इन योजनाओं में शहरी गरीबों के लिए मात्र 1 रुपए में भोजन उपलब्ध कराने के लिए ‘अम्मा कैंटीन’ प्रमुख थी। इसी तरह गरीबों के लिए उन्होंने ‘अम्मा साल्ट’, ‘अम्मा वाटर’ और ‘अम्मा मेडिसीन’ योजनाएं भी शुरू की थीं।

जयललिता द्वारा शुरू की गई मुख्य योजनाएं:

i. क्रैडल टू बेबी स्कीम: भ्रूण हत्या की समस्या से निपटने के लिए। इसके तहत महिलाएं बिना पहचान जाहिर किए अपने नवजात शिशु को सरकार को सौंप सकती थी। जिसकी पूरी जिम्मेदारी फिर सरकार उठाती थी।

ii. गोल्ड फॉर मैरिज स्कीम: इस स्कीम के तहत आर्थिक रूप से पिछड़ी महिलाओं को डिग्री या डिप्लोमा पूरा करने पर सरकार की ओर से चार ग्राम सोना और 50 हजार रुपए तक का कैश दिया जाता था।

iii. अम्मा कैंटीन: यह अम्मा ब्रांड की पहली स्कीम थी। इसके तहत मात्र 1 रुपए की कीमत में खाना दिया जाता था।

iv. अम्मा वॉटर: इसके तहत पैक्ड ड्रिंकिंग वॉटर 10 रुपए कीमत में दिया जाता था।

v. अम्मा साल्ट: सरकारी आउटलेट्स पर कम कीमत में नमक बेची जाती थी।

vi. अम्मा मेडिसिन और अम्मा सीमेंट: इन दोनों ही चीजों को गरीबों के बीच कम दामों पर उपलब्ध कराया गया था |

vii. अम्मा लेपटॉप: राज्य सरकार के कॉलेज में पढ़ रहे छात्रों को फ्री लेपटॉप दिए जाते थे।

viii. अम्मा बेबी केयर किट: सरकारी अस्पताल में जन्में बच्चों को 16 तरीकों के बेबी प्रोड्क्ट दिए जाते थे।

ix. अम्मा ग्राइन्डर, मिक्सी, टेबल फैन: 2011 में सरकार ने गरीबों को मुफ्त में ग्राइन्डर, मिक्सी और टेबल फैन बांटे थे।

x. अम्मा बीज: किसानों को बढ़ावा देने के लिए AIADMK सरकार ने इसी वर्ष इस योजना को शुरू किया। मुफ्त में किसानों को बीज दिए गए।

9. वर्ष 1987 में रामचंद्रन का निधन हो गया और इसके बाद अन्ना द्रमुक दो धड़ों में बंट गई। जयललिता ने इस मौके का फायदा उठाया और अपने आप को रामचंद्रन का उत्तराधिकारी घोषित कर दिया |

10. वर्ष 1991 में उन्होंने कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनायी और वे 24 जून 1991में राज्य की पहली निर्वाचित मुख्‍यमंत्री और राज्य की सबसे कम उम्र की मुख्यमंत्री बनी।

जानिये डोनाल्ड ट्रम्प के बारे में 10 रोचक तथ्य

Jagranjosh

Image source:Firstpost

11. जयललिता को पहली बार मद्रास विश्वविद्यालय से 1991 में डॉक्टरेट की मानद उपाधि मिली |

12. 2011 के विधानसभा चुनाव जयललिता को 234 में से 217 सीटों पर जीत मिली। जिसके बाद वह तीसरी बार मुख्यमंत्री बनी थीं।

13. आजीवन अविवाहित रहने वाली जयललिता अपने प्रशंसकों के बीच में "अम्मा" और सख्त स्वभाव के कारण “पुरातची तलाईवी" (क्रांतिकारी नेता) के नाम से भी मशहूर थी |

14. जयललिता को सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के रूप में 5 बार "तमिलनाडु राज्य फिल्म अवार्ड", 8 बार "तमिलनाडु सिनेमा फैन अवार्ड", एवं 7 बार "मद्रास फिल्म एसोसिएशन अवार्ड" से सम्मानित किया गया था| इसके अलावा फिल्मफेयर द्वारा उन्हें 5 बार "तमिल फिल्मों की सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री" एवं 1 बार "तेलगू फिल्मों की सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री" के रूप में सम्मानित किया गया था| उन्हें 1 बार "रूसी फिल्म महोत्सव" में भी सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार दिया गया था|

15. जाने क्यों जयललिता महिला सशक्तिकरण के लिए इतनी सजग थीं?
यह घटना 25 मार्च 1989 की है जब तमिलनाडु विधानसभा में बजट पेश किया जा रहा था| जैसे ही मुख्यमंत्री करुणानिधि ने बजट भाषण पढ़ना शुरू किया कांग्रेस के सदस्य ने प्वाएंट ऑफ़ ऑर्डर उठाया कि पुलिस ने विपक्ष की नेता जयललिता के ख़िलाफ़ अप्रजातांत्रिक ढ़ंग से काम किया है| जयललिता ने भी उठ कर शिकायत की कि मुख्यमंत्री के उकसाने पर पुलिस ने उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई की है और उनके फ़ोन को टैप किया जा रहा है| स्पीकर ने कहा कि वो इस मुद्दे पर बहस की अनुमति नहीं दे सकते क्योंकि बजट पेश किया जा रहा है |

ये सुनना था कि विधानसभा सदस्य बेकाबू हो गए| एआईडीएमके के सदस्य चिल्लाते हुए सदन के वेल में पहुंच गए| एक सदस्य ने ग़ुस्से में करुणानिधि को धक्का देने की कोशिश की जिससे उनका संतुलन बिगड़ गया और उनका चश्मा ज़मीन पर गिर कर टूट गया| एक एआईडीएमके सदस्य ने बजट के पन्नों को फाड़ दिया| विधानसभा के अध्यक्ष ने सदन को स्थगित कर दिया|

जयललिता की जीवनी 'अम्मा जर्नी फ़्राम मूवी स्टार टु पॉलिटिकल क्वीन' लिखने वाली वासंती बताती हैं, "जैसे ही जयललिता सदन से निकलने के लिए तैयार हुईं, एक डीएमके सदस्य ने उन्हें रोकने की कोशिश की| उसने उनकी साड़ी इस तरह से खींची कि उनका पल्लू गिर गया. जयललिता भी ज़मीन पर गिर गईं." "एक बलिष्ट एआईडीएमके सदस्य ने डीएमके सदस्य की कलाई पर ज़ोर से वार कर जयललिता को उनके चंगुल से छुड़वाया| अपमानित जयललिता ने पांचाली की तरह प्रतिज्ञा ली की कि वो उस सदन में तभी फिर कदम रखेंगी जब वो महिलाओं के लिए सुरक्षित हो जाएगा| दूसरे शब्दों में वो अपने आप से कह रही थीं कि वो अब तमिलनाडु विधानसभा में मुख्यमंत्री के तौर पर ही वापस आएंगी."

भारत के प्रसिद्ध व्यक्ति

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के बारे में 10 रोचक तथ्य