भारत के कागज उद्योग का भौगोलिक वितरण

भारत में कागज उद्योग कृषि आधारित है और वैश्विक स्तर पर भारत के कागज उद्योग को विश्व के 15 सर्वोच्च पेपर उद्योगों में स्थान है। भारत सरकार ने कागज उद्योग को कोर इंडस्ट्री के रूप में परिभाषित करती है। कागज उद्योग, कच्चे माल के रूप में लकड़ी का उपयोग करते हुए लुगदी, कागज, गत्ते एवं अन्य सेलुलोज-आधारित उत्पाद निर्मित करता है। इस लेख में हमने भारत के कागज उद्योग के भौगोलिक वितरण के बारे में बताया है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।
Feb 13, 2019 17:11 IST
    Geographical Distribution of Paper Industry in India HN

    भारत में कागज उद्योग कृषि आधारित है और वैश्विक स्तर पर भारत के कागज उद्योग को विश्व के 15 सर्वोच्च पेपर उद्योगों में स्थान है। देश में पहली पेपर मिल 1812 में सेरामपुर (बंगाल) में स्थापित की गई थी, लेकिन कागज की मांग में कमी के कारण विफल रही। 1870 में, कोलकाता के पास बल्लीगंज में फिर से उद्यम शुरू किया गया था। भारत सरकार ने कागज उद्योग को "कोर इंडस्ट्री" के रूप में परिभाषित करती है। कागज उद्योग, कच्चे माल के रूप में लकड़ी का उपयोग करते हुए लुगदी, कागज, गत्ते एवं अन्य सेलुलोज-आधारित उत्पाद निर्मित करता है।

    भारत के कागज उद्योग का भौगोलिक वितरण

    1.  महाराष्ट्र

    यह भारत में प्रमुख कागज उत्पादक राज्य है। यहाँ 63 मिलें हैं, जो स्थापित क्षमता का 16.52 प्रतिशत है और भारत में उत्पादित कागज का 18 प्रतिशत उत्पादन करती है।

    प्रमुख केंद्र: सांगली, कल्याण, मुंबई, पुणे, बल्लारशाह, पिंपन, नागपुर, भिवंडी, नंदुरबार, तुमूर, खोपोली, कैम्पटी, विक्रोली, चिंचवाड़

    2. आंध्र प्रदेश

    इस राज्य में 19 मिलें हैं, जो स्थापित क्षमता का 11.3 प्रतिशत और भारत के कागज के कुल उत्पादन का 13 प्रतिशत है।

    प्रमुख केंद्र: राजमुंदरी, सिरपुर (कागजनगर), तिरुपति, कुरनूल, खम्मम, श्रीकाकुलम, पल्लनचेरु, नेल्लोर भद्राचलम, काकीनाडा, एपिडिक, बोधन

    3. मध्य प्रदेश

    यह सेलुलोज-आधारित उत्पाद निर्मित करता है। बांस, सबाई घास, नीलगिरी, आदि और कागज उद्योग को ठोस आधार प्रदान करता है। यहाँ 18 मिलें हैं, जो भारत की कुल स्थापित क्षमता का 6.62 प्रतिशत हिस्सा हैं।

    प्रमुख केंद्र: भोपाल, अमलपी, (शहडोल), रतलाम, राजगढ़, विदिशा, अब्दुल्लागंज, रीवा और इंदौर

    4. कर्नाटक

    भारत की कुल क्षमता का 5.48 प्रतिशत हिस्सा इसकी 17 मिलों का है। इस राज्य का पेपर उद्योग चीनी मिलों से प्राप्त स्थानीय रूप से उगाए गए बांस और बगास का उपयोग करता है।

    प्रमुख केंद्र: भद्रावती, डंडोली, नंदनगुड, बेलागोला, मुनिराबाद, हरिहर, मुंडुड, बैंगलोर, मंड्या, रामनगरम और कृष्णराजसागर

    भारत के चीनी उद्योग का भौगोलिक वितरण

    5. गुजरात

    यहाँ 55 मिलें हैं जो कच्चे माल की आपूर्ति के लिए बड़े पैमाने पर बकास और युकलिप्टुस पर निर्भर करती हैं।

    प्रमुख केंद्र: राजकोट, वडोदरा, सूरत, बारजोद, बिलमोरिया, नवसारी, सोनगढ़, अहमदाबाद, वापी, भरूच, दिजानद्रनगर, लिंबडी, गोंडल, उदवाडा और बावला।

    6. उत्तर प्रदेश

    यहाँ 68 मिलें हैं, लेकिन मिलों का आकार छोटा है, स्थापित क्षमता 9 प्रतिशत से अधिक नहीं है।

    प्रमुख केंद्र: सहारनपुर, लालकुआं, मेरठ, मोदीनगर, गाजियाबाद, लखनऊ, गोरखपुर, पिपराइच, मुजफ्फरनगर, इलाहाबाद (नैनी), वाराणसी, कालपी, बदायूँ और मैनपुरी

    7. पश्चिम बंगाल

    यह प्रारंभिक अवस्था में पेपर उद्योग में अग्रणी राज्य था और 1980 के दशक के मध्य तक देश का नेतृत्व किया। यहाँ का उद्योग बांस पर आधारित है जो स्थानीय रूप से उपलब्ध है तथा असम, ओडिशा और झारखंड से प्राप्त करता है।

    प्रमुख केंद्र: टीटागढ़, कांकिनारा, रानीगंज, बाँसबेरिया, श्योराफुली, चंद्रबती, त्रिवेणी, नैहाटी, कोलकाता और बारनागोर

    8. ओडिशा

    इस राज्य के कागज उद्योग ने कच्चे माल के रूप में बांस का उपयोग करती है। यहाँ 8 मिलें हैं, लेकिन इनका आकार राज्य की कुल क्षमता का छह प्रतिशत से अधिक होने के लिए पर्याप्त रूप से सक्षम है।

    प्रमुख केंद्र: बृजराजनगर, चंदवार, रायगढ़

    भारत के सीमेंट उद्योग का भौगोलिक वितरण

     9. तमिलनाडु

    यहाँ 24 छोटे आकार की मिलें हैं और ये मिलें स्थानीय रूप से उगाए गए बांस का उपयोग करती हैं।

    प्रमुख केंद्र: चेरनमहादेवी, पल्लिप्पालयम, उडमलपेट, चेन्नई, सलेम, अमरावथीनगर, पहानम, मदुरई

    10. पंजाब

    इस राज्य में 23 मिलें हैं और सभी आकार में छोटी हैं लेकिन उनका उत्पादन सुसंगत है।

    प्रमुख केंद्र: होशियारपुर, संगरूर, सेलखुर्द और राजपुरा

    11. हरियाणा

    इस राज्य में 18 मिलें हैं, लेकिन कागज उत्पादन के लिए आयातित लुगदी और युकलिप्टुस पर निर्भर हैं। यमुनानगर में राज्य की सबसे बड़ी मिल है।

    प्रमुख केंद्र: फरीदाबाद, धारूहेड़ा और जगाधरी

    12. असम

    यह उन केंद्रों में से एक है जो कागज उद्योग के लिए बांस की आवश्यकता को पूरा करते हैं। नोव्गाँव भारत की सबसे बड़ी पेपर मिलों में से एक है।

    प्रमुख केंद्र: गुवाहाटी, कछार और लुमडिंग

    उपरोक्त डेटा एसोसिएटेड चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया (ASSOCHAM) के हालिया पेपर से लिए गए हैं, जिससे यह भी पता चलता है कि भारत सबसे तेजी से बढ़ते बाजार के रूप में उभरा है। यह कई प्रकार के कागजात, अर्थात् मुद्रण और लेखन कागज, पैकेजिंग पेपर, लेपित कागज और कुछ विशेष कागज का उत्पादन करता है।

    भारत के रेशम उद्योग का भौगोलिक वितरण

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...