स्मार्ट सिटी मिशन में शामिल उत्तर प्रदेश के स्मार्ट शहरों की सूची

स्मार्ट सिटीज मिशन (SCM) भारत में 100 शहरों के निर्माण के लिए एक शहरी विकास कार्यक्रम है. इसे 25 जून 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉन्च किया गया था. स्मार्ट सिटीज मिशन का उद्देश्य देश के 100 शहरों में आधारभूत सुविधाओं का विकास करना और नागरिकों को एक स्वच्छ और स्थायी वातावरण प्रदान करना है.
Feb 18, 2019 17:11 IST
    Smart City Project

    भारत की वर्तमान जनसंख्या का लगभग 31% शहरों में बसता है और इनका सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 63% का योगदान हैं. ऐसी उम्मीद है कि वर्ष 2030 तक शहरी क्षेत्रों में भारत की 40% आबादी रहेगी और भारत के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में इसका योगदान 75% का होगा.

    वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार भारत में स्लम आबादी, शहरी आबादी का 17.36% है. इसी बात को ध्यान में रखते हुए और देश में भौतिक, संस्थागत, सामाजिक और आर्थिक बुनियादी ढांचे के व्यापक विकास के लिए और लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार के लिए सरकार ने देश में 100 स्मार्ट सिटी विकसित करने के फैसला लिया है.

    शुरुआत होने की तारीख:
    स्मार्ट सिटीज मिशन (एससीएम); भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 25 जून, 2015 को शुरू किया गया था.

    डिजिटल इंडिया कार्यक्रम’भारत में क्या बदलाव लाएगा?

    स्मार्ट सिटीज मिशन का उद्येश्य

    स्मार्ट सिटीज मिशन (SCM) भारत में 100 शहरों के निर्माण के लिए एक शहरी विकास कार्यक्रम है.

    स्मार्ट सिटी मिशन का उद्देश्य ऐसे शहरों को बढ़ावा देने का है जो मूल बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराएँ, अपने नागरिकों को एक सभ्य गुणवत्तापूर्ण जीवन प्रदान करे और एक स्वच्छ और टिकाऊ पर्यावरण एवं 'स्मार्ट' तरीके से संसाधनों का प्रयोग करें. अर्थात स्मार्ट सिटी मिशन स्थानीय विकास को सक्षम करने और प्रौद्योगिकी की मदद से नागरिकों के जीवन स्तर में सुधार लाने के लिए बनाया गया है.

    स्मार्ट सिटी मिशन का खर्च:

    स्मार्ट सिटी मिशन एक केन्द्र प्रायोजित योजना के रूप में संचालित किया जा रहा है और केंद्र सरकार द्वारा मिशन को पांच साल में करीब प्रति वर्ष प्रति शहर 100 करोड़ रुपये औसत वित्तीय सहायता देने का प्रस्ताव है.

    स्मार्ट सिटी मिशन के तहत दिसम्बर 2018 तक; 2,05,018 करोड़ रुपए के 5000 से ज्यादा स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट की शुरुआत और कार्यान्वयन किया जा चुका है. केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा 2017-2022 के बीच शहरों को वित्तीय सहायता दी जाएगी, और उम्मीद है कि मिशन 2022 से परिणाम दिखाना शुरू कर देगा.

    स्मार्ट सिटी मिशन में तमिलनाडु के सबसे अधिक 12 शहर चुने जा चुके हैं इसके बाद उत्तर प्रदेश के 11 शहर हैं लेकिन आश्चर्यजनक है कि जम्मू और कश्मीर का कोई भी शहर आज तक इस परियोजना में नहीं चुना गया है.

    स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में शॉर्टलिस्ट किए गए उत्तर प्रदेश के शहरों की सूची इस प्रकार है;

    1. आगरा

    2. अलीगढ़

    3. इलाहाबाद

    4. बरेली

    5. झाँसी

    6. कानपुर

    7. लखनऊ

    8. मुरादाबाद

    9. रामपुर

    10. सहारनपुर

    11. वाराणसी

    यह पांच साल का कार्यक्रम है जिसमें सभी भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों का कम से कम एक शहर अवश्य भाग ले रहा है. हालाँकि इसमें पश्चिम बंगाल का एक भी शहर भाग नहीं ले रहा है.

    स्मार्ट सिटी मिशन के तहत अखिल भारतीय प्रतियोगिता के चार राउंड के जरिए 100 स्मार्ट शहरों का चयन किया गया है. सभी 100 शहरों को स्पेशल पर्पस व्हीकल (एसपीवी) में सम्मिलित किया गया है.

    मुझे उम्मीद है कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट भारत को एक अल्पविकसित देश की अपनी छवि बदलने में मदद करेगा.

    मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट से भारत को क्या फायदे होंगे?

    समाज के विभिन्न वर्गों के लिए प्रधानमंत्री द्वारा शुरू की गयी कल्याणकारी योजनायें

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...