भारत में नौसेना दिवस कब और क्यों मनाया जाता है?

भारतीय नौसेना दिवस हर साल 4 दिसंबर को मनाया जाता है परन्तु क्या आप जानते हैं कि इसे 4 दिसंबर को ही क्यों मनाया जाता है, किस प्रकार से मनाया जाता है, ऑपरेशन ट्राईडेंट क्या है, ये दिवस किस प्रकार भारत और पाकिस्तान 1971 के युद्ध से जुड़ा हुआ है इत्यादि. आइये इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते हैं.
Dec 4, 2018 14:59 IST

    भारतीय नौसेना दुनिया की शीर्ष दस नौसेना बलों में से एक है और विश्व में इसका 7वा स्थान है. क्या आप जानते हैं कि भारतीय नौसेना के पास 67,000 कर्मचारी और 295 नौसेना संपत्तियां हैं. यह दक्षिण एशिया में सबसे शक्तिशाली फोर्स मानी जाती है.

    भारतीय शस्त्र सेना में तीन प्रभाग होते हैं: भारतीय थल सेना, नौसेना और वायु सेना. भारतीय थल सेना हमारी धरती पर रक्षा करती है, नौसेना पानी में और उसी प्रकार वायु सेना आकाश में हमारी रक्षा करती है.

    आइये इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते हैं कि भारतीय नौसेना दिवस कब, क्यों और कैसे मनाया जाता है?

    भारत में नौसेना दिवस हर साल 4 दिसंबर को देश में नौसैनिक बल की शान एवं उपलब्धियों को दर्शाने के लिए मनाया जाता है. इसका नेतृत्व भारत के राष्ट्रपति द्वारा भारतीय नौसेना के कमांडर-इन-चीफ के रूप में किया जाता है.

    भारतीय नौसेना दिवस क्यों मनाया जाता है?

    Indian Navy Day

    3 दिसंबर, 1971 को भारतीय सेना पूर्वी पाकिस्तान जो कि अब बांग्लादेश है में पाक सेना के खिलाफ जंग की शुरुआत कर चुकी थी क्योंकि इस दिन पाकिस्तानी सेना ने भारत के हवाई क्षेत्र और सीमावर्ती क्षेत्र में हमला किया था. 4 दिसंबर 1971 को 'ऑपरेशन ट्राईडेंट' के तहत भारतीय नौसेना ने करांची नौसेना पर हमला बोल दिया था. इस युद्ध में पहली बार जहाज पर मार करने वाली एंटी शिप मिसाइल से हमला किया गया था.

    इस दौरान नौसेना ने पाकिस्तान के कई जहाज और कराची तेल डिपो को नष्ट कर दिया था जो कि सात दिन तक जलता रहा. इसकी लपटों को 60 किलोमीटर की दूरी से भी देखा जा सकता था. इस ऑपरेशन में तीन भारतीय नौसेना पनडुब्बी मिसाइल - आईएनएस निरघाट, आईएनएस वीर और आईएनएस निपत ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

    ऑपरेशन ट्राईडेंट का प्लान नौसेना के प्रमुख एडमिरल एस. एम. नंदा के नेतृत्व में बनाया गया था. 25वें स्क्वॉर्डन कमांडर बबरू भान यादव को इस टास्क की जिम्मेदारी दी गई थी. ये ऑपरेशन 90 मिनट तक चला था. जब ऑपरेशन खत्म हुआ तब भारतीय नौसेनिक अधिकारी विजय जेरथ ने सन्देश भेजा, 'फॉर पीजन्स हैप्पी इन द नेस्ट, रीज्वाइनिंग'. आपकी जानकारी के लिए बतादें कि कराची में तेल डिपो में लगी आग को सात दिनों और सात रातों तक बुझाया नहीं जा सका था.

    इसलिए भारतीय नौसेना दिवस 4 दिसम्बर को मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध की शुरुआत के साथ भारत की नौसेना ने विजय हासिल की थी.

    कारगिल विजय दिवस के बारे में 7 महत्वपूर्ण तथ्य

    भारत में नौसेना दिवस कैसे मनाया जाता है?

    नौसेना दिवस भव्य तरीके से कई दिनों तक मनाया जाता है. इस दिवस को मनाने की योजना नौसेना कमांड द्वारा विशाखापत्तनम में मुख्य रूप से की जाती है.  भारतीय नौसेना के पश्चिमी नौसेना कमांड, जिसका मुंबई में हेड ऑफिस है, अपने जहाजों और नाविकों को बहुत ही प्रभावशाली दल के माध्यम से अपने बहादुरी और गर्व को प्रदर्शित करते हैं.

    यह समारोह RK Beach में स्थित युद्ध स्मारक में पुष्पांजलि देने के साथ शुरू होता है. युद्ध में हुए शहीदों का सम्मान करने के बाद, नौसेना के पनडुब्बियों, विमानों और जहाजों का एक परिचालन प्रदर्शन सैनिकों द्वारा किया जाता है. इस तरह वे न केवल अपने उपकरण और इसकी क्षमताओं को प्रदर्शित करते हैं बल्कि उनकी संसाधनशीलता और तीव्रता को भी प्रदर्शित करते हैं. नेवी बॉल, नेवी फेस्ट और नेवी क्वीन जैसे प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया जाता है और इस विशेष दिन को भारतीय शस्त्र सेना में सबसे मनोरंजक तरीके से मनाया जाता है.

    क्या आप जानते हैं कि भारतीय नौसेना कब अस्तित्व में आई थी?

    17वीं शताब्दी में आधुनिक भारतीय नौसेना की नींव रखी गई थी. ईस्ट इंडिया कंपनी ने एक समुद्री सेना के रूप में ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना की और इस प्रकार 1934 में रॉयल इंडियन नेवी की भी स्थापना हुई. भारतीय नौसेना का मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है और मुख्य नौसेना अधिकारी-एडमिरल के नियंत्रण में होता है.

    भारत में नौसेना की क्या भूमिका है?

    भारत की नौसेना देश की समुद्री सीमाओं को सुरक्षित करने और साथ ही साथ बंदरगाह यात्राओं, संयुक्त अभ्यास, मानवीय मिशन, आपदा राहत आदि जैसे कई तरीकों से भारत के अंतर्राष्ट्रीय संबंधों को बढ़ाने में एक बड़ी भूमिका निभाती है. नौसेना विश्लेषकों (Naval Analyses) की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में परमाणु-संचालित पनडुब्बी मिसाइलें (SSBNs) और एक परमाणु संचालित पनडुब्बी (SSN) INS चक्र के साथ 15 पारंपरिक पनडुब्बियां (SSKs), दो परमाणु संचालित पनडुब्बियां (SSBs) हैं.

    किस देश का पासपोर्ट सबसे ताकतवर है और क्यों?

    भारतीय नौसेना के बारे में कुछ और रोचक तथ्य

    1. भारतीय नौसेना 3 क्षेत्रों की कमांडों के तहत तैनात की गई है, जिसमें से प्रत्येक का नियंत्रण एक फ्लैग अधिकारी द्वारा किया जाता है.
    • पश्चिमी नौसेना कमांड (मुंबई में मुख्यालय)
    • पूर्वी नौसेना कमांड (विशाखापत्तनम में मुख्यालय)
    • दक्षिणी नौसेना कमांड (कोच्चि में मुख्यालय)

    2. पश्चिमी और पूर्वी नौसेना कमांड 'ऑपरेशनल कमांड' हैं और अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में क्रमशः संचालन पर नियंत्रण करते हैं. वहीं दक्षिणी कमांड प्रशिक्षण कमांड है.

    3. 17वीं शताब्दी के मराठा सम्राट, छत्रपति शिवाजी भोसले को भारतीय नौसेना के पिता के रूप में माना जाता है.

    4. भारतीय नौसेना के युद्धपोत और पनडुब्बी के डिजाइन बड़े पैमाने पर रूस से प्रभावित हैं.

    5. केरल में Ezhimala नौसेना अकादमी एशिया में सबसे बड़ी नौसेना अकादमी है.

    6. INS (भारतीय नौसेना जहाज) विराट नौसेना का पहला विमान वाहक और दुनिया का सबसे पुराना विमान वाहक था.

    7. पहले भारतीय नौसेना को रॉयल इंडियन नेवी कहा जाता था लेकिन, 26 जनवरी, 1950 के बाद इसका नाम भारतीय नौसेना रख दिया गया था.

    8. द्वितीय विश्व युद्ध में भारत की नौसैनिक बलों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

    9. भारतीय नौसेना दुनिया की शीर्ष दस नौसेना बलों में से एक है.

    10. मार्कोस या समुद्री कमांडो, भारतीय नौसेना के विशेष संचालन इकाई है.

    तो अब आपको ज्ञात हो गया होगा कि 4 दिसंबर को ही क्यों भारतीय नौसेना दिवस मनाया जाता है, कैसे मनाया जाता है और भारतीय नौसेना का गठन कब हुआ था.

    विश्व की सबसे लंबी समुंद्री तटरेखा वाले देशों की सूची

    सिंधु जल संधि (आईडब्ल्यूटी): जल बंटवारे से संबंधित समझौता


    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...