Search

हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन में एमबीए : एक शानदार करियर ऑप्शन

अगर स्टूडेंट्स हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन में अपनी एमबीए की डिग्री हासिल करें तो वे एक ट्रेंड हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेटर और प्रोफेशनल बन जायेंगे. कैसे?.....आइये इस आर्टिकल में पढ़ें.

Jan 25, 2019 13:29 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
MBA in Hospital Administration: A Good Career Option
MBA in Hospital Administration: A Good Career Option

एक प्रसिद्ध कहावत है कि, “मनुष्य का सबसे बड़ा धन उसका स्वस्थ शरीर है.” कई अन्य स्कॉलर्स और साधारण इंसान भी अक्सर कहते हैं कि स्वास्थ्य हजार नियामत है. इन फैक्ट्स से हम अपने जीवन में स्वस्थ शरीर और मन का महत्व अच्छी तरह समझ जाते हैं. एक अनुमान के मुताबिक भारत में पिछले कुछ वर्षों में हेल्थ केयर इंडस्ट्री में निरंतर 25% की विकास दर देखी गई है और वर्ष 2020 तक हमारे देश की हेल्थ केयर इंडस्ट्री का कारोबार लगभग 280 बिलियन $ तक पहुंच जायेगा. जाहिर-सी बात है कि हमारे देश में हेल्थ केयर सेक्टर में जॉब्स की भी भरमार हो जायेगी. इसलिए अगर आप एमबीए की डिग्री हासिल करके अपना करियर शुरू करना चाहते हैं और आपको हेल्थ और हॉस्पिटल लाइन के कामकाज में दिलचस्पी भी है तो आप हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन में एमबीए की डिग्री हासिल करके इस फील्ड में अपनी ड्रीम जॉब प्राप्त कर सकते हैं.

क्या है यह एमबीए – हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन का कोर्स?

हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर ऑफ़ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन अर्थात एमबीए की डिग्री एक पोस्टग्रेजुएशन कोर्स है. यह प्रोग्राम फ्रेश मैनेजमेंट स्टूडेंट्स के साथ-साथ मेडिकल लाइन से संबद्ध विभिन्न प्रोफेशनल्स भी कर सकते हैं क्योंकि हमारे देश में विभिन्न हॉस्पिटल्स में एडमिनिस्ट्रेशन के लिए ट्रेंड प्रोफेशनल्स की काफी ज्यादा मांग है जो लगातार बढ़ रही है. असल में, हेल्थकेयर फील्ड में एमबीए की डिग्री से कैंडिडेट्स हेल्थकेयर इंडस्ट्री की सभी एक्टिविटीज को सपोर्ट करने के काबिल बन जाते हैं क्योंकि इस कोर्स के तहत स्टूडेंट्स को केस स्टडी और ग्रुप असाइनमेंट्स के मेथड से पढ़ाया जाता है. आमतौर पर हमारे देश में फुल टाइम एमबीए प्रोग्राम कोर्सेज की अवधि 2 वर्ष है लेकिन पार्ट टाइम प्रोग्राम्स में ये कोर्सेज 3 वर्ष की अवधि में भी पूरे किये जा सकते हैं क्योंकि इन कोर्सेज में अक्सर वर्किंग स्टूडेंट्स ही एडमिशन लेते हैं. इसी तरह INSEAD विभिन्न प्रोफेशनल्स के लिए 1 वर्ष की अवधि का एमबीए प्रोग्राम ऑफर करता है. 

हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन में एमबीए करने के बाद स्टूडेंट्स को एथिकल इश्यूज, इकनोमिक एंड पॉलिसीज के साथ ही डिसिजन मेकिंग के बारे में जानकारी और समझ मिल जाती है. हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन में एमबीए करने के दौरान स्टूडेंट्स निम्नलिखित टॉपिक्स के बारे में अच्छी जानकारी और काबिलियत प्राप्त करते हैं:

  • हॉस्पिटल ऑर्गेनाइजेशन
  • मार्केटिंग
  • एकाउंटिंग
  • बजटिंग
  • हेल्थ इकोनॉमिक्स
  • हेल्थ इनफॉर्मेशन सिस्टम्स

हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेटर का जॉब प्रोफाइल

एक हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेटर का प्रमुख काम यह सुनिश्चित करना होता है कि जिस हॉस्पिटल में वह जॉब कर रहा है, उस हॉस्पिटल का सारा कामकाज सुचारू रूप से चलता रहे. हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेटर अपने हॉस्पिटल के फाइनेंशियल आस्पेक्ट्स की देख-रेख करता है. हम किसी हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेटर के रोजाना के काम को निम्नलिखित प्वाइंट्स में रेखांकित कर सकते हैं:

  • संबद्ध हॉस्पिटल के रोजमर्रा के कामकाज को मैनेज करना.
  • हॉस्पिटल स्टाफ को सुपरवाइज़ करना.
  • हॉस्पिटल के बजट लक्ष्य निर्धारित करना और विशेष मामलों में फंड रेजिंग तथा फीस के इश्यूज में महत्वपूर्ण फैसले लेना.
  • अपने हॉस्पिटल के कामकाज के सिलसिले में अन्य सभी इंस्टीट्यूट्स और दफ्तरों जैसेकि, रेगुलेटरी बॉडीज, प्रेस, सोशल इंस्टीट्यूट्स और साइंटिस्ट्स आदि से बातचीत करना.
  • अपने हॉस्पिटल के लक्ष्यों को पाने के लिए हॉस्पिटल के विभिन्न डिपार्टमेंट्स से कोआर्डिनेट करना और उन्हें जरुरी गाइडेंस देना.

भारत के कुछ प्रमुख एमबीए कॉलेज और इंस्टीट्यूट्स

• ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज (एम्स), नई दिल्ली

• आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज, पुणे

• इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, अहमदाबाद.

• इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, कोलकाता.

• इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, बैंगलोर.

• इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस, हैदराबाद.

• फैकल्टी ऑफ़ मैनेजमेंट स्टडीज, नई दिल्ली.

• सिम्बायोसिस सेंटर ऑफ़ हेल्थ केयर, पुणे

• टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ़ सोशल साइंसेज, मुंबई

• निज़ाम इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंस, हैदराबाद.

• जेवियर लेबर रिसर्च इंस्टीट्यूट, जमशेदपुर.

• मैनेजमेंट डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट, गुड़गांव.

• SPJIMR, मुंबई.

• ग्रेट लेक इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, चेन्नई.

• टीए पाई मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट, मणिपाल.

• इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट टेक्नोलॉजी, गाजियाबाद.

• इंटरनेशनल मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट, दिल्ली.

• इंस्टीट्यूट ऑफ़ रूरल मैनेजमेंट, आनंद.

एमबीए – हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन डिग्री होल्डर्स के लिए प्रमुख रिक्रूटिंग इंडस्ट्रीज

  • हेल्थ इंश्योरंस ऑर्गेनाइजेशन्स
  • मेडिकल टूरिज्म कंपनीज
  • डायग्नोस्टिक लेबोरेटरी चेन्स
  • प्राइमरी हेल्थकेयर चेन्स
  • हेल्थ सेक्टर के सोशल एंटरप्राइसेज
  • हेल्थकेयर आईटी
  • हेल्थ से संबद्ध मार्केट रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन
  • वेलनेस सेंटर्स

भारत में हेल्थकेयर सेक्टर के टॉप रिक्रूटर्स

  • फोर्टिस
  • मैक्स
  • वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन
  • भारत सरकार
  • आईएमएस हेल्थ
  • AMGEN
  • ओमेगा हेल्थकेयर मैनेजमेंट
  • हेल्थ ट्रेल पोर्टल

भारत में एमबीए – हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन डिग्री होल्डर्स के लिए कुछ महत्वपूर्ण जॉब प्रोफाइल्स

  • हॉस्पिटल सीईओ
  • हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेटर
  • हॉस्पिटल सीएफओ
  • फार्मास्यूटिकल प्रोडक्ट मैनेजर
  • मेडिकल डिवाइस कंपनियों में प्रोडक्ट मैनेजर
  • मेडिकल प्रैक्टिस मैनेजर
  • हेल्थ सेक्टर में डाटा एनालिस्ट
  • हेल्थ इनफॉर्मेटिक्स मैनेजर
  • प्रोडक्ट मैनेजर – रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन्स, बायोटेक फर्म्स.

भारत में एमबीए – हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन डिग्री होल्डर्स के लिए सैलरी पैकेज

आमतौर पर हमारे देश में किसी हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेटर की एवरेज सैलरी रु. 414,536/- सालाना होती है. शुरू में इस फील्ड में किसी फ्रेशर को एवरेज सैलरी पैकेज रु. 1.5 लाख से रु. 3.5 लाख तक सालाना मिल सकता है. हरेक अन्य पेशे और करियर फील्ड की तरह ही इस फील्ड में भी गुजरते हुए समय और बढ़ते हुए कार्य अनुभव के साथ सैलरी पैकेज में इजाफ़ा होता रहता है.

जॉब, इंटरव्यू, करियर, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

Related Stories