भारतीय शास्त्रीय संगीत के प्रसिद्ध ग्रंथों की सूची

भारतीय शास्त्रीय संगीत की जड़ों को ईसा से पहले सहस्राब्दी तक खोजा जा सकता है। इसे दो स्कूलों में वर्गीकृत किया गया है- हिंदुस्तानी या उत्तर भारतीय स्कूल और कर्नाटक या दक्षिण भारतीय स्कूल। लेकिन दोनों विद्यालयों का आधार भारत मुनि की नाट्यशास्त्री (भारतीय शास्त्रीय संगीत पर महत्वपूर्ण ग्रंथ) है, जिसे 200 ईसा पूर्व- 400 ईस्वी के बीच संकलित किया गया था। इस लेख में हमने भारतीय शास्त्रीय संगीत के प्रसिद्ध ग्रंथों को सूचीबद्ध किया है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।
Feb 8, 2019 12:56 IST
    List of Famous Treatises of Indian Classic Music HN

    भारतीय शास्त्रीय संगीत की जड़ों को ईसा से पहले सहस्राब्दी तक खोजा जा सकता है। इसे दो स्कूलों में वर्गीकृत किया गया है- हिंदुस्तानी या उत्तर भारतीय स्कूल और कर्नाटक या दक्षिण भारतीय स्कूल। लेकिन दोनों विद्यालयों का आधार भारत मुनि की नाट्यशास्त्री (भारतीय शास्त्रीय संगीत पर महत्वपूर्ण ग्रंथ) है, जिसे 200 ईसा पूर्व- 400 ईस्वी के बीच संकलित किया गया था।

    प्राचीन काल से आज तक, भारतीय संगीत मोटे तौर पर मार्गी और देसी में विभाजित है। मार्गी संगीत का शाब्दिक अर्थ है 'मार्ग का संगीत' जबकि देसी संगीत का अर्थ है 'पुरुषों के दिलों को खुश करने वाली संगीत'।

    वेद प्रमाणित करता है की प्राचीन भारत में संगीत का अभ्यास किया जाता था। ऋग्वेद संगीत को आर्यन के मनोरंजन का साधन बताता है। यजुर्वेद में उन लोगों का उल्लेख है जिन्होंने पेशे के रूप में संगीत का अभ्यास किया था। सामवेद में गायन और मंत्रों के उच्चारण की विधि बताई गयी है।

    भारतीय राज्यों के प्रमुख कठपुतली परंपराओं की सूची

    भारतीय शास्त्रीय संगीत के प्रसिद्ध ग्रंथ

    1. संगीत तरंग

    रचयिता: राधामोहन सेन

    2. राग बोध

    रचयिता: सोमनाथ

    3. श्रृंगार प्रकाश

    रचयिता: राजा भोज

    4. नारी शिक्षा

    रचयिता: नरद

    5. संगीत समय सार

    रचयिता: पार्श्व देव

    6. लोचन टीका

    रचयिता: अभिनव गुप्ता

    7. संगीत मकरंद

    रचयिता: नरद

    भारत के प्रसिद्ध पारंपरिक नाटक या लोकनाट्य की सूची

     8. श्रुति भास्कर

    रचयिता: भाव भट्टा

    9. अभिलाषीर्थ चिंतामणि

    रचयिता: चालुक्य राजा सोमेश्वर

    10. संगीत रत्नाकर

    रचयिता: शारंग देव

    11. रसिक प्रिय

    रचयिता: राणा कुंभा

    12. मंकुतुह

    रचयिता: ग्वालियर रियासत के महाराजा मानसिंह तोमर

    13. राग दरपन का फारसी अनुवाद

    रचयिता: फ़क़ीर उल्लाह

    14. संगीत रत्नाकर टिका

    रचयिता: कल्लीनाथ

    भारतीय स्वर्ण युग के प्रसिद्ध नाटककारों की सूची

    15. संगीत दर्पण

    रचयिता: दामोदर मिश्रा

    16. अभिनव भारती

    रचयिता: अभिनव गुप्ता

    17. नरोत्तम विलास

    रचयिता: नरहरी चक्रवर्ती

    18. स्वरमील कलानिधि

    रचयिता: नरद

    19. गीत गोविन्द

    रचयिता: जयदेव

    20. श्रींगार ह़ार

    रचयिता: शमन राजा हम्मीर देव

    21. संगीत राज

    रचयिता: महाराणा कुम्भा

    भारतीय शास्त्रीय संगीत में दो मूलभूत तत्व हैं, राग और ताल। राग एक मधुर संरचना का निर्माण करता है, जबकि ताल समय चक्र को मापता है।

    क्या आप जानते हैं हिंदुस्तानी संगीत और कर्नाटक संगीत में क्या अंतर हैं?

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...