मुगल सम्राट अकबर के महत्वपूर्ण कार्यों की सूची

जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर तैमूरी वंशावली के मुगल वंश का तीसरा शासक था। वह मुगल साम्राज्य के संस्थापक जहीरुद्दीन मुहम्मद बाबर का पौत्र और नासिरुद्दीन हुमायूं एवं हमीदा बानो का पुत्र था। इस लेख में हम मुगल सम्राट अकबर के महत्वपूर्ण कार्यों की सूची दे रहे हैं जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।
Feb 28, 2018 16:12 IST
    List of Important works of Mughal Emperor Akbar in Hindi

    अकबर एक साहसी सैनिक, महान् सेनानायक तथा बुद्धिमान मुग़ल शासक था। उन्होंने अपनी साम्राज्य में एकता बनाये रखने के लिए धार्मिक सहिष्णुता की नीति को अपनाया था। उन्होंने इस्लाम को कभी नहीं छोड़ा, बल्कि विभिन्न धार्मिक सिद्धांतों के संश्लेषण पर ज़ोर दिया था, शायद इसलिए लोग उन्हें अकबर-ऐ-आज़म (अर्थात अकबर महान), शहंशाह अकबर, महाबली शहंशाह के नाम से पुकारा करते थे।

    मुगल सम्राट अकबर के महत्वपूर्ण कार्यों की सूची

    कार्य

    वर्ष (AD)

    युद्ध के कैदियों को गुलाम बनाने, उनकी पत्नियों और बच्चों को बेचने, आदि की पुरानी प्रथा को प्रतिबंधित किया।

    1562

    अपने पालक माँ महामंगा की अगुवाई में हरेम पार्टी के नियंत्रण से मुक्त

    1562

    तीर्थयात्रा कर को रद्द कर दिया

    1563

    जिज़िया कर समाप्त कर दिया

    1564

    फतेहपुर सीकरी की स्थापना की और इसे अपनी राजधानी के रूप में विकसित किया

    1571

    इबादत खाना की स्थापना  (आराधना घर)

    1575

    इबादत खाने में सभी धर्मों के लोगों के प्रवेश की अनुमति

    1578

    मजहर की घोषणा

    1579

    दीन-ए-इलाही की स्‍थापना

    1582

    इलाही संवत की शुरुआत

    1583

    राजधानी लाहौर स्‍थानांतरित

    1585

    अकबर द्वारा जीते गए प्रदेशो की सूची

    अकबर के काल में साहित्यिक कार्य

    1. अकबर ने अनुवाद विभाग की शुरुवात की थी। इसलिए महाभारत, रामायण, अथर्व वेद, भगवत गीता और पंचतंत्र का अनुवाद संस्कृत से फारसी भाषा में संभव हो पाया था।

    2. मुल्ला अब्दुल कादिर बदायुनी ने रामायण और सिंघासन बत्तीसी को फारसी भाषा में अनुवाद किया था।

    3. फैजी ने पंचतंत्र को फारसी भाषा में अनुवाद किया था।

    4. अथर्व वेद का अनुवाद इब्राहीम सिर्हिंद ने किया था।

    5. राजतरंगिणी का अनुवाद मौलाना शाह मोहम्मद शाहाबादी ने किया था।

    6. अबुल फ़जल ने आईन-ए-अकबरी और अकबर नामा की रचना की थी।

    अकबर ने अपने शासनकाल में, भारतीय उपमहाद्वीप के लगभग सभी हिस्सों पर अपना आधिपत्य स्थापित कर लिया था। अपने शासनकाल के दौरान, बहुत से प्रशासनिक तथा सैन्य सुधार किये थे जैसे मंसबदारी प्रणाली, सेना में तोप और हाथियों का व्यापक रूप से इस्तेमाल, किलाबंदी के तरीके इत्यादी। उन्होंने ने फसल उपज पर आधारित कर पर एक नई निष्पक्ष प्रणाली की शुरुवाती की थी। वह वास्तुकला, कला और साहित्य का एक महान संरक्षक था। इसलिए, अकबर काल लोकप्रिय रूप से 'फारसी साहित्य का पुनर्जागरण' के रूप में जाना जाता है।

    मध्यकालीन भारत का इतिहास: एक समग्र अध्ययन सामग्री

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...