Search

सातवाहन शासकों की सूची और उनके योगदान

सातवाहन राजवंश ने मौर्य के पतन और गुप्त साम्राज्य के उदय के बीच की अवधि में भारतीय इतिहास में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उन्हें दक्कन में आंध्र भी कहा जाता था और उनकी राजधानी पैथान या प्रतिष्ठान थी। आंध्र प्राचीन लोग थे और उनका उल्लेख ऐतरेय ब्राह्मण में किया गया है। यहां हम आम जागरूकता के लिए सातवाहन शासकों की सूची और उनके योगदान का विवरण दे रहे हैं।
Oct 26, 2017 12:58 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

सातवाहन राजवंश ने मौर्य के पतन और गुप्त साम्राज्य के उदय के बीच की अवधि में भारतीय इतिहास में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उन्हें दक्कन में आंध्र भी कहा जाता था और उनकी राजधानी पैथान या प्रतिष्ठान थी। आंध्र प्राचीन लोग थे और उनका उल्लेख ऐतरेय ब्राह्मण में किया गया है। यहां हम आम जागरूकता के लिए सातवाहन शासकों की सूची और उनके योगदान का विवरण दे रहे हैं।

Satvahanas Dynasty and Rulers

Source: cdn.slidesharecdn.com

सातवाहन शासकों की सूची और उनके योगदान

सातवाहन शासकों के नाम

योगदान

सिमुका

1. राजवंश के संस्थापक

कान्हा

1. उन्हें "कथक राजा" (राजा कान्हा) के साथ "सातवाहन-कुला" (सतवहन परिवार) के नाम से जाना जाता है जो कि नाशिक गुफा शिलालेख में वर्णित है

2. इसने साम्राज्य को आगे दक्षिण में बढ़ाया और इसके बाद सिमुका के बेटे सतकर्णी -I ने  इसका उत्तराधिकारी रूप में चुना।

सतकार्नी

1. यह सातवाहन साम्राज्य का तीसरा और पहला शक्तिशाली शासक था।

2. इसकी उपलब्धियां नानाघाट शिलालेख में वर्णित हैं।

3. 'दक्षिणपंथ का स्वामी' के रूप में दर्शाया गया

4. सांची स्तूप के द्वारों में से एक पर इसका नाम अंकित किया गया है।

शिवस्वाती

1. अपने शासनकाल के दौरान पश्चिमी सतरापों ने उत्तरी महाराष्ट्र और विदर्भ पर आक्रमण किया और पुणे और नासिक के जिलों पर कब्जा कर लिया, और सातवाहनों को अपनी राजधानी जुन्नर छोड़ने और औरंगाबाद के आसपास के क्षेत्र में प्रस्तस्ताना (आधुनिक पैठान) पर जाने के लिए मजबूर किया।

2. उनकी रानी संभवत: गौतमी बालश्री (गौतमपुत्र साताकर्ण की मां) जो कि गुफा संख्या तीन के दानकर्ता के रूप में नाशिक गुफाओं में एक शिलालेख में अंकित है।

गौतमपुत्र सतकार्नी

1. इनके बारे में जानकारी उनके सिक्के, सातवाहन शिलालेख और विभिन्न पुराणों के शाही वंशावली में मिलती है।

2. सबसे प्रसिद्ध शिलालेख उनकी माता गौतमी बालश्री के नासिक प्रशस्ति शिलालेख है, जो उन्हें व्यापक सैन्य विजय का श्रेय देता है

3. गौतमिपुत्र की मां के नासिक प्रशस्ति का शिला उसे "राजाओं का राजा" वर्णित करता है, और कहता है कि उनके आदेशों का पालन सभी राजाओं के मंडली ने किया था।

4. वह पहला राजा था जिसने अपने माता का नाम अपने नाम के साथ जोड़ा था।

वशिष्ठिपुत्र पलुमवी

1. वशिष्ठिपुत्र श्री पलुमवी के रूप में भी वर्णन किया जाता है।

2. गोदावरी नदी के तट पर पैठान या परिस्थान में अपनी राजधानी स्थापित किया था।

3. इसने अपनी सीमाओं को पूर्वी डेक्कन तक बढ़ाया तथा जावा और सुमात्रा के साथ व्यापार शुरू किया था।

वाशिष्ठिपुत्र सतकार्नी

1. पश्चिम में सिथिअन पश्चिमी क्षत्रपों के साथ उनका बड़ा संघर्ष था, लेकिन उन्होंने अंततः पश्चिमी क्षत्रप वंश के रुद्रद्रमैन I की बेटी से शादी की, ताकि गठबंधन का निर्माण किया जा सके।

2. कान्हेरी की गुफा में शिलालेख रूद्रममान की बेटी और वशिष्ठिपुत्र सातकर्णी के बीच विवाह का साक्षी है।

3. युद्ध में उनके ससुर ने उन्हें पराजित किया था जिसकी वजह से सातववाहन की सत्ता और प्रतिष्ठा पर गहरा आघात पंहुचा था।

शिवसंगन्द सतकारनी

 

1. वे 145 ई. में वशिष्ठपुत्र सातकर्णी के बाद राजगद्धी में विद्यमान हुए।

2.  पश्चिमी सतपतन  रुद्रद्रमान से युद्ध में दो बार पराजित हुआ था।

यजना श्री सतकार्नी

1. वह व्यापार और नेविगेशन का प्रेमी था।

2. उसने सिक्के जारी किए जिसमें जहाजों को चित्रित किया गया था।

विजया

1. ये सातवाहन साम्राज्य का आखिरी शासक था।

अभिराज द्वारा महाराष्ट्र और इक्ष्वाकुओं तथा पल्लवों द्वारा पूर्वी प्रांत पर कब्जा करने के साथ ही सातवाहन साम्राज्य का पतन आरंभ हो गया था। सातवाहनों के सबसे बड़े प्रतिद्वंदी शाक थे जिन्होंने ऊपरी दक्कन और पश्चिमी भारत में अपनी शक्ति स्थापित कर लिया था। सातवाहन शासकों और उनके योगदान की उपरोक्त सूची से पाठकों के सामान्य ज्ञान में वृद्धि होगी।

मध्यकालीन भारत का इतिहास: एक समग्र अध्ययन सामग्री