Search

जाने भारतीय सेना की संरचना कैसी है?

भारतीय सेना की स्थापना 1895 में हुई थी लेकिन इसे इसकी वर्तमान संरचना आजादी के बाद प्राप्त हुई| यह विश्व की तीसरी सबसे बड़ी सेना है, जिसे 7 कमानों में बांटा गया है| इस लेख में हम आपको भारतीय सेना की संरचना और विभिन्न कमानों की जानकारी दे रहे हैं जो विभिन्न परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्र-छात्राओं के लिए काफी उपयोगी है|
Dec 22, 2016 10:43 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

भारतीय सेना की स्थापना 1895 में हुई थी लेकिन इसे इसकी वर्तमान संरचना आजादी के बाद प्राप्त हुई| हाल ही में 58 वर्षीय लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत को भारतीय सेना का अगला सेनाध्यक्ष नियुक्त किया गया है, जो विश्व की तीसरी सबसे बड़ी सेना है| वर्तमान सेना प्रमुख दलबीर सिंह सुहाग तीन साल के कार्यकाल के बाद 31 दिसंबर को रिटायर हो रहें हैं| लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत भारतीय सेना के 30वें सेनाध्यक्ष होंगे| इस लेख में हम आपको भारतीय सेना की संरचना और विभिन्न कमानों की जानकारी दे रहे हैं जो विभिन्न परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्र-छात्राओं के लिए काफी उपयोगी है|

भारतीय सेना की संरचना

भारत में तीनों सेना के सर्वोच्च सेनापति राष्ट्रपति हैं| थल सेना का सर्वोच्च अधिकारी थल सेना प्रमुख होते हैं जिन्हें सेनाध्यक्ष भी कहा जाता है| भारतीय सेना को 7 कमानों में बांटा गया है जिसका विवरण निम्न है:

1. पूर्वी कमान (मुख्यालय कोलकाता): वर्तमान में इस कमान के 10 डिविजन और 3 कोर कार्यरत हैं|

23वीं इन्फेंट्री डिविजन (राँची)   
2 माउन्टेन डिविजन (डिब्रूगढ़)
5वीं माउन्टेन डिविजन (बोमडिला)
17वीं माउन्टेन डिविजन (गंगटोक)
56वीं माउन्टेन डिविजन (ज़खमा)
21वीं माउन्टेन डिविजन (रंगिया)
20वीं माउन्टेन डिविजन (बिन्नागुरी)
57वीं माउन्टेन डिविजन (लीमाखोंग)
71वीं माउन्टेन डिविजन (मिस्सामारी)
27वीं माउन्टेन डिविजन (कलिम्पोंग)
3 कोर (दीमापुर)
4 कोर (तेजपुर)
33वीं कोर (सिलीगुड़ी)

2. मध्य कमान (मुख्यालय लखनऊ): वर्तमान में इस कमान की कोई इकाई कार्यरत नहीं हैं|

3. उत्तरी कमान (मुख्यालय ऊधमपुर): वर्तमान में इस कमान के 7 डिविजन, 3 कोर और 1 ब्रिगेड कार्यरत हैं|

3 इन्फेंट्री डिविजन (लेह)
19वीं इन्फेंट्री डिविजन (बारामुला)
10वीं इन्फेंट्री डिविजन (अखनूर)
8वीं माउन्टेन डिविजन (द्रास)
28वीं माउन्टेन डिविजन (गुरेज)
25वीं इन्फेंट्री डिविजन (राजौरी)
39वीं इन्फेंट्री डिविजन (योल)
14वीं कोर (लेह)
15वीं कोर (श्रीनगर)
16वीं कोर (नगरोटा)
10वीं तोपखाना ब्रिगेड

भारतीय सेना का वार्षिक खर्च 2016: एक विश्लेषण

4. दक्षिणी कमान (मुख्यालय पुणे): वर्तमान में इस कमान के 6 डिविजन, 2 कोर और 3 ब्रिगेड कार्यरत हैं|

41वीं तोपखाना डिविजन (पुणे)
11वीं इन्फेंट्री डिविजन (अहमदाबाद)
31वीं बख्तरबंद डिविजन (झाँसी)
12वीं रैपिड डिविजन (जोधपुर)
36वीं रैपिड डिविजन (सागर)
54वीं इन्फेंट्री डिविजन (हैदराबाद)
4 बख्तरबंद ब्रिगेड
340वीं मशीनगन ब्रिगेड
475वीं इंजीनियरिंग ब्रिगेड
12वीं कोर (जोधपुर)
21वीं कोर (भोपाल)

5. दक्षिण-पश्चिमी कमान (मुख्यालय जयपुर): वर्तमान में इस कमान के 7 डिविजन, 2 कोर और 3 ब्रिगेड कार्यरत हैं|

42वीं तोपखाना डिविजन (जयपुर)
4 इन्फेंट्री डिविजन (इलाहबाद)
16वीं इन्फेंट्री डिविजन (श्रीगंगानगर)
6ठी माउन्टेन डिविजन (बरेली)
18वीं रैपिड डिविजन (कोटा)
33वीं बख्तरबंद डिविजन (हिसार)
24वीं रैपिड डिविजन (बीकानेर)
6ठी बख्तरबंद ब्रिगेड
615वीं वायु रक्षा ब्रिगेड
471वीं इंजीनियरिंग ब्रिगेड
1 कोर (मथुरा)
10वीं कोर (भटिंडा)

6. पश्चिमी कमान (मुख्यालय चण्डीगढ़): वर्तमान में इस कमान के 9 डिविजन, 3 कोर और 6 ब्रिगेड कार्यरत हैं|

40वीं तोपखाना डिविजन (अम्बाला)
1 बख्तरबंद डिविजन (पटियाला)
26वीं इन्फेंट्री डिविजन (जम्मू)
7वीं इन्फेंट्री डिविजन (फिरोजपुर)
14वीं रैपिड डिविजन (देहरादून)
29वीं इन्फेंट्री डिविजन (पठानकोट)
9वीं इन्फेंट्री डिविजन (मेरठ)
22वीं इन्फेंट्री डिविजन (मेरठ)
15वीं इन्फेंट्री डिविजन (अमृतसर)
2 बख्तरबंद ब्रिगेड
3 बख्तरबंद ब्रिगेड
23 बख्तरबंद ब्रिगेड
612वीं वायु रक्षा ब्रिगेड
474वीं इंजीनियरिंग ब्रिगेड
55वीं मशीनगन ब्रिगेड
2 कोर (अम्बाला)
9वीं कोर (योल)
11वीं कोर (जालन्धर)

7. ट्रेनिंग कमान (मुख्यालय शिमला): यह कमान सेना में सभी संस्थागत प्रशिक्षण के लिए नोडल एजेंसी है|

नोट: इसके अलावा भारतीय सेना की स्वतंत्र पैराशूट ब्रिगेड भी है जो आगरा में स्थित है एवं यह सीधे थल सेनाध्यक्ष के अधिकार क्षेत्र में आता है|

आइए अब जानते हैं कि कमान में सेना का संगठन किस प्रकार होता है?

1. सेक्शन: सेना की सबसे छोटी इकाई को “सेक्शन” कहते हैं, इसमें 10-12 सैनिक होते हैं|
2. प्लाटून/पलटन: इसमें 4 सेक्शन शामिल होते हैं|
3. कंपनी: इसमें 4 प्लाटून शामिल होते हैं| इसके प्रमुख को कंपनी कमांडर कहते हैं|
4. बटालियन: इसके प्रमुख को कर्नल कहते हैं|
5. ब्रिगेड: इसके प्रमुख को ब्रिगेडियर कहते हैं|
6. डिविजन: इसके प्रमुख को मेजर जनरल कहते हैं|
7. कोर: इसके प्रमुख को लेफ्टिनेंट जनरल कहते हैं|

भारतीय सेना के 15 सर्वश्रेष्ठ अनमोल कथन

भारतीय सेना का संगठन:

सेना को दो भागों में आयोजित किया जाता है – सशस्त्र दल और सेवा दल

सशस्त्र दल: सशस्त्र दल में उन सैनिकों को शामिल किया जाता है जो खोजी अभियान (search operation) में भाग लेते हैं|

सेवा दल: सशस्त्र दल के अलावा शेष पूरी सेना को सेवा दल के अंतर्गत रखा जाता है| इनका मुख्य कार्य सेना को रसद (खाद्य सामग्री) उपलब्ध करवाना और सेना में प्रशासनिक तंत्र को चलाना है|

सशस्त्र दल: सशस्त्र दल में निम्नलिखित विभाग शामिल होते हैं-

1. बख्तरबंद दल
2. इन्फेंट्री (पैदल सेना)
3. मशीनगन इन्फैंट्री

सहायक सशस्त्र दल: सहायक सशस्त्र दल में निम्नलिखित विभाग शामिल होते हैं-

1. तोपखाना
2. इंजीनियर्स
3. वायु रक्षा सेना
4. विमानन सेना दल
5. सिग्नल देने वाला दल

सेवा दल: सेवा दल में निम्नलिखित विभाग शामिल होते हैं-

1. सेना सेवा कोर- जो राशन, परिवहन और क्लर्क मुहैया करवाती है|
2. सेना चिकित्सा कोर
3. सेना आयुध कोरजो गोला बारूद, वाहन, कपड़े और सभी उपकरण मुहैया करवाती है|
4. इलेक्ट्रॉनिक्स और मैकेनिकल इंजीनियर्स कोर- जो हथियारों एवं वाहनों की मरम्मत करती है|
5. रीमाउंट वेटनरी कोर- जो सेना को नए हथियार और तकनीक मुहैया करवाती है|
6. गुप्तचर कोर- जो दुश्मन के बारे में गुप्त सूचनाएं मुहैया करवाती है|

जाति एवं क्षेत्र के आधार पर भारतीय सेना की प्रमुख रेजिमेंट