Search

लघु और सीमान्त किसान कौन हैं और भारत में उनकी संख्या कितनी है?

उत्तर प्रदेश में 2.33 करोड़ किसान हैं। इनमें 1.85 करोड़ सीमांत और लगभग तीस लाख लघु किसान हैं। इस हिसाब से सूबे में लघु व सीमांत किसानों की संख्या 2.15 करोड़ है। सीमांत किसान वे होते हैं जिनकी अधिकतम जोत एक हेक्टेयर तक होती है। वहीं लघु श्रेणी के किसान वे होते हैं जिनकी जोत एक से दो हेक्टेयर तक होती है।
Apr 4, 2017 19:13 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

उत्तर प्रदेश की नवगठित योगी सरकार ने अपनी पहली कैबिनेट मीटिंग में किसानों के लिये बड़ा फैसला किया है। उन्होंने किसानों के एक लाख तक के कर्ज को माफ कर दिया हैl इस फैसले से सर्वाधिक लाभ उत्तर प्रदेश के लघु और सीमान्त किसानों को होगीl वर्तमान में उत्तर प्रदेश में कुल 2.33 करोड़ किसान हैं। इनमें 1.85 करोड़ सीमांत और लगभग तीस लाख लघु किसान हैं। इस हिसाब से उत्तर प्रदेश में लघु व सीमांत किसानों की संख्या 2.15 करोड़ है। इस लेख में हम वर्तमान में देश में लघु और सीमान्त किसानों की संख्या और उन मापदंडों का विवरण दे रहे हैं जिसके आधार पर किसानों को लघु और सीमान्त किसानों की श्रेणी में बांटा जाता हैl

land holding of small farmers

दुनिया के 5 सबसे अधिक ऋणग्रस्त देशों की सूची

लघु एवं सीमान्त किसान

लघु किसान: लघु किसान से हमारा तात्पर्य देश के उन किसानों से है जिनकी कृषि जोत का आकार अर्थात कृषियोग्य भूमि “एक हेक्टेयर” से “दो हेक्टेयर” के बीच होता हैl वर्ष 2010-11 की कृषि जनगणना के अनुसार भारत में किसानों की कुल जनसंख्या में 17.93 प्रतिशत लघु किसान परिवार है जिनके पास “एक हेक्टेयर से दो हेक्टेयर” के बीच कृषियोग्य भूमि हैl

Marginal and small farmers

Image Source:google.com

सीमान्त किसान: सीमान्त किसान से हमारा तात्पर्य देश के उन किसानों से है जिनकी कृषि जोत का आकार अर्थात कृषियोग्य भूमि “एक हेक्टेयर” से कम होता हैl वर्ष 2010-11 की कृषि जनगणना के अनुसार भारत में किसानों की कुल जनसंख्या में 67.04 प्रतिशत सीमान्त किसान परिवार है जिनके पास “एक हेक्टेयर” से कम कृषियोग्य भूमि हैl इनमें भी सबसे ज़्यादा प्रतिशत उन किसानों का है जिनके पास आधा हेक्टेयर से भी कम कृषियोग्य भूमि हैl वर्ष 2000-01 की कृषि जनगणना के अनुसार सीमान्त किसानों के पास औसत कृषियोग्य भूमि 0.40 हेक्टेयर थी जो 2010-11 में घटकर 0.38 हक्टेयर हो गई हैl

debt-on-farmers-in-india

Image Source:google.com

आपकी जानकारी के लिए हम बताना चाहते हैं कि वर्ष 2010-11 की कृषि जनगणना के अनुसार भारत में 10.05 प्रतिशत किसानों के पास “दो हेक्टेयर से चार हेक्टेयर” के बीच कृषियोग्य भूमि हैं, जिन्हें “अर्द्ध-मध्यम किसान” कहा जाता हैl जबकि हमारे देश में मध्यम किसान (चार हेक्टेयर से दस हेक्टेयर कृषियोग्य भूमि वाले) और बड़े किसान (10 हेक्टेयर से अधिक कृषियोग्य भूमि वाले) का प्रतिशत केवल 4.98 हैl इस आंकड़े के आधार पर कहा जा सकता है कि हमारा देश लघु एवं सीमान्त किसानों का देश है जिनकी कृषियोग्य भूमि दिन-प्रतिदिन घटती जा रही हैl

भारत में कृषि से सम्बंधित क्रांतियाँ