1. Home
  2. Hindi
  3. Mengtian: चीन ने अपने स्पेस स्टेशन का तीसरा और अंतिम मॉड्यूल 'मेंगटियन' किया लांच, जानें इसके बारें में

Mengtian: चीन ने अपने स्पेस स्टेशन का तीसरा और अंतिम मॉड्यूल 'मेंगटियन' किया लांच, जानें इसके बारें में

Tiangong space station: चीन ने अपने परमानेंट स्पेस स्टेशन के लिए तीसरा और अंतिम मॉड्यूल लॉन्च कर दिया है. चीन के इस स्पेस स्टेशन के लास्ट मॉड्यूल का नाम मेंगटियन (Mengtian) है. मेंगटियन को लॉन्ग मार्च-5बी Y4 रॉकेट से लांच किया गया, जानें इसके बारें में

चीन ने अपने स्पेस स्टेशन का तीसरा और अंतिम मॉड्यूल 'मेंगटियन' किया लांच
चीन ने अपने स्पेस स्टेशन का तीसरा और अंतिम मॉड्यूल 'मेंगटियन' किया लांच

Tiangong space station: चीन ने अपने परमानेंट स्पेस स्टेशन के लिए तीसरा और अंतिम मॉड्यूल लॉन्च कर दिया है. चीन के इस स्पेस स्टेशन के  लास्ट मॉड्यूल का नाम मेंगटियन (Mengtian) है. इसके साथ ही चीन स्पेस में अपना एक अलग स्पेस स्टेशन स्थापित कर लिया है. अब चीन के अन्तरिक्ष यात्री अपने बने स्पेस स्टेशन में समय बिता सकते है. चीन पिछले साल अप्रैल में तियानहे कोर मॉड्यूल को स्पेस में भेजा था.  

मेंगटियन को सोमवार दोपहर चीन के दक्षिणी द्वीप स्थित प्रांत हैनान के वेनचांग सैटेलाइट लॉन्च सेंटर से लांच किया गया था. यह चीन के स्पेस प्रोग्राम की एक बहुत बड़ी उपलब्धि है. मेंगटियन को लॉन्ग मार्च-5बी Y4 रॉकेट से लांच किया गया था जो चीन का एक पॉवरफुल रॉकेट इंजन है.

मेंगटियन मॉड्यूल के बारें में:

  • मेंगटियन जिसे सेलेस्टियल ड्रीम (Celestial Dream) भी कहा जाता है. मेंगटियन स्पेस स्टेशन के लिए दूसरा प्रयोगशाला मॉड्यूल है. जिसे सामूहिक रूप से तियांगोंग (Tiangong), या सेलेस्टियल पैलेस (Celestial Palace) से जुड़ेगा. 
  • यह मॉड्यूल  58.7 फुट लंबा (17.9 मीटर) और लगभग 48,500 पाउंड (22 मीट्रिक टन) का अंतरिक्ष यान है जिसे मुख्य रूप से साइंटिफिक प्रयोगों के लिए डिज़ाइन किया गया है.
  • चाइना मैंड स्पेस एजेंसी के अनुसार मेंगटियन 13 घंटे की उड़ान के बाद स्पेस स्टेशन तियांगोंग से जाकर जुड़ा. जिसमे दो पुरुष और एक महिला अंतरिक्ष यात्रियों का दल गया है.     

तियांगोंग स्पेस स्टेशन:

  • तियांगोंग का आकार T शेप में है जिसमे तियानहे, मेंगटियन और वेंटियन नामक मॉड्यूल जुड़े हुए है. जिसमें छः महीने के लिए तीन अन्तरिक्ष यात्री रह सकते है. तियांगोंग में पहले क्रू को साल के अंत तक भेजने की उम्मीद है. जिन्हें गोबी डेजर्ट से  2F रॉकेट पर लांच किया जायेगा.
  • तियांगोंग स्पेस स्टेशन के लिए अब तक तीन चालक दल के मिशनों को भेजा गया है जो जून से सितंबर 2021 के मध्य शेनझोउ (Shenzhou) 12 से शुरू किया गया था.  शेनझोउ 13 को अक्टूबर 2021 में लांच किया गया था जो 16 अप्रैल को पृथ्वी पर लौट आया था.
  • चीन के स्पेस स्टेशन का पहला मॉड्यूल तियानहे (Tianhe) था जो सबसे पहले 29 अप्रैल 2021 को स्पेस में भेजा गया था. तियांगोंग में छह अंतरिक्ष यात्रियों के रहने के लिए पर्याप्त जगह है.
  • तियांगोंग स्पेस स्टेशन का भार लगभग 66 टन होगा जो इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन की तुलना में काफी कम है. इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन का पहला मॉड्यूल वर्ष 1998 में लांच किया गया था. 

चीन का मानवयुक्त अंतरिक्ष कार्यक्रम:

चीन का मानवयुक्त अंतरिक्ष कार्यक्रम वर्ष 2003 में शुरू किया गया था. जिसकी मदद से आज चीन मानव को अंतरिक्ष में भेजने में सक्षम बन गया है. चीन अमेरिका और रूस के बाद अपने संसाधनों की मदद से मानव को अंतरिक्ष में भेजने वाला तीसरा देश बन गया है जो चीन के लिए एक बड़ी उपलब्धि है.

इसे भी पढ़े

ट्विटर ब्लू टिक एकाउंट्स के लिए अब देना होगा चार्ज, एलन मस्क ने की घोषणा