Jagran Josh Logo
  1. Home
  2. |  
  3. Board Exams|  

CBSE Class 12 Hindi (Elective) Question Paper 2016: All India

Apr 21, 2017 16:00 IST

    CBSE Class 12 Hindi (Elective) Question Paper 2016: All India

    CBSE Class 12th Hindi Elective 2016 board exam question paper (All India, Set 1) is available for download in PDF format. You can download the complete CBSE Class 12th Hindi Elective 2016 board exam question paper from the download link given at the end of this article.

    Format of CBSE Class 12th Hindi Elective 2016 Board Exam Question Paper

    This paper contains 14 questions. There is no overall choice in this question paper; however, internal choices are present in some questions. This paper is helpful for the students who are going to appear in CBSE 12 Hindi Elective board exam 2017. With this paper, they can easily get acquainted with the level of questions which are asked in CBSE 12th Hindi Elective board exam.

    Some randomly selected question from the question paper

    प्रश्न:निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर लिखिए:

    प्राचीन काल से ही भारत में संयुक्त परिवारों का प्रचलन रहा है। एकल परिवार कभी भारतीय सोच में नहीं रहे। संयुक्त परिवार में प्रत्येक सदस्य अपनी सुरक्षा के प्रति आश्वस्त रहता था और परिवार के प्रति सम्मिलित उत्तरदायित्व और एक प्रकार से सामाजिकता का बोध जागृत रहता था। संतान के लालन-पालन, शिक्षा-दीक्षा, विवाह आदि सुख-दुख की चिंता सभी को रहती और संतान भी माँ-बाप के अतिरिक्त घर-परिवार के बड़े-बूढ़ों के हाथों पलकर बड़ी होती, उनके संस्कारों से पल्लवित होती, आजीवन निश्चिंत रहने का सुख भोगती हुई बड़ों के प्रति अपने उत्तरदायित्व को महसूस करती। इस प्रकार संयुक्त परिवारों में बचपन, यौवन और बुढ़ापा सभी आनन्द में बीतते।

    अब संयुक्त परिवार प्रथा के टूटने से परिवारों में बिखराव आ गया है। चूँकि व्यक्ति परिवार की और परिवार समाज की इकाई है, इसलिए परिवारों के टूटने से समाज में भी बिखराव और अलगाव दिखाई पड़ रहा है। उसकी कल्पना शायद किसी ने भी नहीं की होगी। समाज के मूल्य बदल रहे हैं। मान्यताएँ बदल रही हैं और यह बदलाव की प्रक्रिया व्यक्ति से परिवार और परिवार से समाज में परस्पर हो रही है। लगता है जैसे नई पीढ़ी अनुशासन को बंधनों का नाम देती हुई धीरे-धीरे उच्छंखलता की ओर बढ़ रही है।

    CBSE Class 12 Hindi (Core) Question Paper 2016: All India

    परिवारों में बिखराव के पीछे पुरानी पीढ़ी और नई पीढ़ी का वैचारिक संघर्ष भी है। पुरानी पीढ़ी अपनी रूढ़ियों, परंपराओं को त्याग नहीं पाती और अपनी सोच को ज़बरदस्ती लादना अपना कर्तव्य समझती है। नई पीढ़ी का आकाश बहुत विस्तृत है। उसे पाने के लिए उसे पुरातनता सहायक नहीं लगती। विचारों का संघर्ष तो है ही, नई पीढ़ी पर नए आकर्षणों का दबाव भी है। उनकी धनलिप्सा, स्वार्थ-भावना, सुख-चैन की ज़िंदगी जीने की ललक आदि का प्रभाव भी है। उनमें 'स्व' और 'अहं" प्रधान होता जा रहा है। पुरानी पीढ़ी अपने संस्कारों और मर्यादाओं में बँधी और नई पीढ़ी उन पर कुठाराघात करने को उतारू, जब तक इन दोनों में सामंजस्य न हो, परिवारों का विघटन होता रहेगा। देश के लिए यह शुभ लक्षण नहीं है। दोनों पीढ़ियों को समय और परिस्थिति के अनुकूल अपने-अपने दृष्टिकोण में परिवर्तन लाना होगा। जब परिवारों में परस्पर सद्भावना, सहयोग, प्रेम, त्याग आदि की भावनाएँ प्रबल होंगी तो हर व्यक्ति सुखी होगा। परिवारों में खुशहाली होगी।

    (क) 'संयुक्त परिवार' और 'एकल परिवार' से क्या तात्पर्य है?

    (ख) संयुक्त परिवार के लाभों का वर्णन कीजिए।

    (ग) संयुक्त परिवारों के टूटने से नैतिक मूल्यों का विघटन कैसे हो रहा है?

    (घ) नई पीढ़ी संयुक्त परिवार में क्यों नहीं रहना चाहती?

    (ङ) व्यक्ति, परिवार और समाज के अन्त: संबंधों पर टिप्पणी कीजिए।

    (च) आशय स्पष्ट कीजिए - 'नई पीढ़ी का आकाश बहुत विस्तृत है।'

    (छ) आपके विचार से दोनों पीढ़ियों में सामंजस्य कैसे संभव है?

     (ज) प्रस्तुत गद्यांश के लिए एक उपयुक्त शीर्षक दीजिए।

    प्रश्न:निम्नलिखित काव्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

    किस भाँति जीना चाहिये किस भाँति मरना चाहिए,

    सो सब, हमें निज पूर्वजों से याद करना चाहिए।

    पद- चिह्न उनके यत्नपूर्वक खोज लेना चाहिए,

    निज पूर्व-गौरव दीप को बुझने न देना चाहिए।

    आओ, मिली सब देश-बांधव हार बनकर देश के

    साधक बनें सब प्रेम से सुख शांतिमय उद्देश्य के।

    क्या साम्प्रदायिक भेद से है ऐक्य मिट सकता अहो,

    बनती नहीं क्या एक माला विविध सुमनों की कहो।

    प्राचीन हो कि नवीन, छोड़ो रूढ़ियाँ जो हों बुरी,

    बनकर विवेकी तुम दिखाओ हंस जैसी चातुरी।

    प्राचीन बातें ही भली हैं - यह विचार अलीक है,

    जैसी अवस्था हो जहाँ वैसी व्यवस्था ठीक है।

    मुख से न होकर चित्त से देशानुरागी हो सदा,

    हैं सब स्वदेशी बंधु, उनके दुख भागी हो सदा।

    देकर उन्हें साहाय्य भरसक सब विपत्ति व्यथा हरो,

    निज दुख से ही दूसरों के दुख को अनुभव करो ||

    (क) हमें अपने पूर्वजों का अनुसरण क्यों करना चाहिए?

    (ख) कवि देश के सभी बंधुओं का आहवान क्यों कर रहा है?

    (ग) माला के उदाहरण से कवि ने क्या प्रतिपादित करना चाहा है?

    (घ) हमें अंधविश्वासों और रूढ़ियों को छोड़कर क्या करने की प्रेरणा दी गई है?

    (ङ) आशय स्पष्ट कीजिए - 'मुख से न होकर चित्त से देशानुरागी हो सदा"।

    प्रश्न:निम्नलिखित में से किसी एक विषय पर निबंध लिखिए।

    (क) आतंकवाद और विश्वशांति

    (ख) महिला-सुरक्षा का ज्वलंत प्रश्न

    (ग) स्वच्छ भारत : सुंदर भारत

    (घ) किसान जीवन के सुख-दुख

    प्रश्न:बढ़ती महँगाई पर चिंता व्यक्त करते हुए किसी दैनिक समाचार-पत्र के सम्पादक को पत्र लिखिए। महँगाई की रोक-थाम के दो उपाय भी सुझाइए।

    प्रश्न:विद्यालयी पढ़ाई के साथ-साथ आपने कंप्यूटर पर काम करने में भी दक्षता प्राप्त कर ली है। आप के शहर के सरकारी विद्यालयों में कंप्यूटर सिखाने वाले अध्यापकों के कुछ स्थान रिक्त हैं। अपनी रुचि और शैक्षणिक योग्यताओं का उल्लेख करते हुए राज्य के शिक्षा निदेशक को आवेदन पत्र लिखिए।

    Download CBSE Class 12 Hindi (Elective) Question Paper 2016: Delhi

    Latest Videos

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • By clicking on Submit button, you agree to our terms of use
      ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Newsletter Signup
    Follow us on
    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
    X

    Register to view Complete PDF