महिलाओं के लिए टॉप 5 सरकारी नौकरी के क्षेत्र जहां है ग्लैमर के साथ-साथ सुरक्षा भी

एक बार फिर से 8 मार्च अर्थात अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2017 (International Women Day  IWD) मनाने का अवसर हमारे सामने है. हालांकि यह और बात है कि हम महिला सशक्तिकरण और उनके अधिकारों के लिए बात करके फिर भूल जाते हैं. कहने की आवश्यकता नहीं कि महिलाएँ समाज का मुख्य हिस्सा होने के साथ ही वे हमारे आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक विकास का एक पारामीटर  भी होती है.

Created On: Mar 8, 2017 09:02 IST
Modified On: Mar 8, 2017 12:47 IST

Obama Guard of Honourएक बार फिर से 8 मार्च अर्थात अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2017 (International Women Day  IWD) मनाने का अवसर हमारे सामने है. हालांकि यह और बात है कि हम महिला सशक्तिकरण और उनके अधिकारों के लिए बात करके फिर भूल जाते हैं. कहने की आवश्यकता नहीं कि महिलाएँ समाज का मुख्य हिस्सा होने के साथ ही वे हमारे आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक विकास का एक पारामीटर  भी होती है.

आज जबकि महिलाएं भी पुरुषों के साथ कन्धा-कन्धा से मिलकर जीवन के हर क्षेत्रों में चुनौती पेश कर रही है, हम यहां महिलाओं के लिए सरकारी नौकरी के टॉप 5 उन क्षेत्रों की चर्चा कर रहे हैं जिसके माध्यम से महिलायें न केवल अपना, अपने परिवार का बल्कि देश और समाज को भी नई दिशा दे सकती है.

1. नर्सिंग में सरकारी नौकरी

हेल्थकेयर सेक्टर की बात करें तो नर्सिंग एक ऐसा पेशा है जो महिलाओं के लिए सबसे उपयुक्त माना जाता है. सेवा, त्याग और निष्ठा इस पेशे के लिए प्राथमिक शर्ते होती है जो खासतौर पर महिलाओं का सामान्य गुण होती है. सच तो यह है कि नर्सिंग एक ऐसा पेशा है जिसके माध्यम से असहाय व्यक्तियों, परिवारों की देखभाल के साथ ही उन्हें सर्वोतम स्वास्थ्य मुहैया कराने का सौभाग्य मिलता  है. जाहिर है, ये महिलायें ही हैं जो इस पेशे की बारीकियों के साथ न्याय कर सकती हैं इसलिए आप इस पेशे का चुनाव अपने करियर के लिए कर सकती हैं.

किसी भी मेडिकल अस्पताल में नर्स एक ऐसा पद है जिसे सबसे अधिक मान-सम्मान  प्राप्त हैं. सच तो यह है कि ग्लोबलाइजेशन के इस दौर में हजारों हमारे देश में सरकारी और प्राइवेट हजारों ऐसे हॉस्पिटल हैं जहाँ नर्स के लिए काफी डिमांड है. इसके लिए आपको बहुत ज्यादा अध्ययन करने की आवश्यकता भी नहीं है. अगर आप नर्स को अपना करियर बनाना चाहती हैं तो आपके लिए डिप्लोमा इन नर्सिंग, बीएससी इन नर्सिंग आदि न्यूनतम मेडिकल कोर्स हैं जो किसी भी मान्यताप्राप्त संस्थान से प्राप्त की जा सकती है. सरकारी हॉस्पिटल्स में स्टाफ नर्स सहित अन्य पदों के लिए रिक्तियां हमेशा निकलती हैं. हालाँकि आपको जानकार आश्चर्य होगा कि आज प्राइवेट हॉस्पिटल/नर्सिंग होम  देश के हर छोटे-बड़े शहरों में खुल चुके हैं जो यह साबित करते हैं कि नर्स के पदों के लिए डिमांड पहले से कही ज्यादा हो चुकी है.

अगर आप एक नर्स के रूप में अपना करियर आरंभ करती हैं तो आपके लिए यहां जीवन में आगे बढ़ने के और भी आकर्षक रास्ता खुले हैं. किसी भी हॉस्पिटल में एक जनरल वार्ड से लेकर ऑपरेशन थिएटर तक नर्स की भूमिका काफी महत्वपूर्ण होती है. नि:संदेह यह ऐसा फील्ड है जहाँ सिर्फ महिलाओं का ही वर्चस्व है.

नर्सिंग करियर के लिए यह आवश्यक है कि आप 10+2 विज्ञान में बायोलोजी, फिजिक्स और केमिस्ट्री के साथ होना चाहिए. नर्सिंग में करियर के लिए बैचलर डिग्री कोर्स (बी एससी नर्सिंग) और मास्टर डिग्री कोर्स (एम एससी नर्सिंग) कोर्स किया जा सकता है. हालाँकि इसके अतिरिक्त नर्सिंग में डिप्लोमा भी महत्वपूर्ण कोर्स है जो देश में मौजूद कई हेल्थ केयर संगठन प्रदान करते हैं जैसे जेनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफ्री (जीएनएम) डिप्लोमा कोर्स.

नर्स बनने की इच्छा रखने वाली लड़कियां इसके अतिरिक्त भी अन्य कोर्स की मदद ले सकती हैं जैसे आप औक्सिलिअरी नर्स मिडवाइफ/हेल्थ वर्कर(ए एन एम) कोर्स से भी अपने करियर का आरंभ कर सकती है. आप जानती है कि अध्ययन के लिए कोई उम्र की सीमा नहीं होती है इसलिए आप जॉब में रहकर भी आगे के कोर्स के बारे में सोच सकती है क्योंकि इस स्थिति में आपके काम का अनुभव भी आपके प्रोफाइल का हिस्सा होगा.

2. टीचिंग में सरकारी नौकरी

आपने एक प्राचीन कहावत  तो जरुर सुना होगा जिसमें कहा गया है कि-“यदि आप एक पुरुष को शिक्षित करते हैं तो सिर्फ एक व्यक्ति को शिक्षित करते हैं किन्तु यदि आप एक महिला को शिक्षित करते हैं तो आप पूरे राष्ट्र को शिक्षित करते हैं.”
कहने की जरुरत नहीं कि टीचर का पद को हमेशा से समाज में इज्जत और सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है. ऐसे स्थिति में अगर आप टीचिंग को अपना करियर के रूप में चुनना चाहती हैं तो इससे अच्छा भला और क्या हो सकता है.  एक माँ के रूप में जहाँ महिलायें अपने बच्चों के सर्वांगीन विकास और उनके भविष्य को लेकर सजग रहती हैं, अगर वो स्कूल में अन्य बच्चों को भी शिक्षित करें तो निश्चित ही या आज के समाज और देश में व्याप्त कुरीतियों को काफी हद तक कम किया जा सकता हैं. खासकर नैतिक शिक्षा की कमी जो आजके बच्चों में देखने को मिलती है, उसे तो कम किया ही जा सकता है. ऐसे में यह जरुरी है कि महिलायें टीचिंग को अपना करियर के रूप में चुने जो उनके लिए सुरक्षित होने के साथ ही आज के समय और परिस्थितियों के मांग भी है.

टीचर बनने के लिए शैक्षिक योग्यता का जहाँ तक सवाल है, पीजीटी बनने के लिए आवश्यक है कि आप ग्रेजुएशन के बाद बीएड (बैचलर ऑफ एजूकेशन) पास हों. यह एक वर्षीय कोर्स है जो कि किसी भी मान्यता प्राप्त प्राइवेट/सरकारी विश्वविद्यालय/कॉलेज/सेंटर से किया जा सकता है. इस कोर्स में आपको टीचिंग प्रोफेशन से जुड़ी बेसिक जानकारियां, आवश्यक स्किल एवं टेकनीक, आदि बताई जाती हैं.इस कोर्स में दाखिले के लिए न्यूनतम प्रतिशत / मानदंड ग्रेजुएशन में 50% है.
बीएड कोर्स के सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद आप टीचिंग में अपना कैरियर शुरू कर सकती है.

3. डिफेन्स में सरकारी नौकरी

वर्ष 2015 का वह पल आज भी आपकी जेहन में होगा जब अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा हमारे देश के गणतंत्र दिवस परेड के मुख्य अतिथि थे. राष्ट्रपति भवन में उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर और 21 तोपों की सलामी दी गयी थी. लेकिन इन सबसे अलग इस पूरे घटनाक्रम के दौरान एक और नई इतिहास इस दौरान रची गई...आप उस पूजा ठाकुर को तो नहीं भूले होंगे जिसने राष्ट्रपति भवन में बराक ओबामा को गार्ड ऑफ ऑनर दिया था.

राष्ट्रपति भवन में किसी राजकीय मेहमान को दिये गये गार्ड ऑफ ऑनर का नेतृत्व करने वाली विंग कमांडर पूजा ठाकुर पहली महिला अधिकारी थी. जी हाँ. भारतीय एयर फोर्स की विंग कमांडर पूजा ठाकुर के रूप में पहली बार किसी महिला अधिकारी ने इंटर सर्विस गार्ड ऑफ ऑनर का नेतृत्व किया था वह भी अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा जैसे शक्तिशाली पर्सनालिटी के सामने.

अब वो समय नहीं रहा जब हम पुरुष और महिला के हिसाब से करियर के क्षेत्रों का बंटवारा करें. डिफेन्स और पुलिस की नौकरी पर कभी पुरुषों का वर्चस्व हुआ करता था लेकिन अब महिलाओं ने भी अपने संकोच को छोड़कर अपने संघर्ष-क्षमता और जीवटता के बदौलत उन क्षेत्रों में भी नया मुकाम हासिल कर लिया है. जाहिर है कि अगर आपने भी वो ज़ज्बा और जुनून हैं तो आप भी डिफेन्स और आर्मी के जॉब को अपने करियर के लिए चुन सकती हैं.

1992 से ही भारतीय सेना ने अधिकारी संवर्ग में महिला उम्मीदवारों की भर्ती शुरू कर चुकी है और भारतीय सेना में शामिल होने की इच्छुक महिला उम्मीदवारों के लिए ढेरों अवसर उपलब्ध हैं. 

एसएससीडब्ल्यू–नॉन टेक - भारतीय सेना खुली भर्ती परीक्षा द्वारा 12 महिला उम्मीदवारों की अधिकारियों के रूप में भर्ती करती है, जिसे वर्ष में दो बार यूपीएससी द्वारा आयोजित किया जाता है.

एसएससीडब्ल्यू (एनसीसी) - एसएससीडब्ल्यू-एनसीसी की विशेष भर्ती योजना के अंतर्गत महिला एनसीसी कैडेट भी भारतीय सेना में शामिल हो सकती हैं. भारतीय सेना 8 अविवाहित कैडेट की भर्ती करती है.

इसके अतिरिक्त इंडियन आर्मी में इन पदों के लिए भी आप आवेदन कर सकती हैं जैसे  एसएससीडब्ल्यू-टेक्निकल एंट्री स्कीम/मिलिट्री नर्सिंग सर्विस आदि जिनके माध्यम से महिला उम्मीदवार भारतीय सेना में शामिल होकर देश की सेवा कर सकती हैं.
इसके अंतर्गत 21 से 35 वर्ष के बीच की महिला उम्मीदवार भारतीय सेना के साथ नर्सिंग कार्य करने के लिए आवेदन कर सकती हैं.

भारतीय नौसेना:  ऐसी महिला उम्मीदवार जिनके पास भारतीय नौ सेना में शामिल होकर अपने देश की सेवा करने का जुनून और साहस है उनके लिए यहां अच्छे अवसर उपलब्ध हैं.

एटीसी - भारतीय नौसेना में एयर ट्रैफिक कन्ट्रोलर के लिए शैक्षणिक योग्यता के अंतर्गत उम्मीदवार को विज्ञान संकाय अर्थात भौतिक शास्त्र/गणित/इलैकट्रोनिक्स में स्नातक या स्नातकोत्तर होना चाहिए.

ऐब्जर्बर - ऐब्जर्बर पद के लिए महिला उम्मीदवारों को 19 से 23 वर्ष के आयु समूह के साथ ही न्यूनतम 55 प्रतिशत अंकों के साथ किसी भी विषय में स्नातक उपाधि एवं 10+2 स्तर पर गणित एवं भौतिक शास्त्र का होना अनिवार्य है.

लॉजिस्टिक्स  - यदि लॉजिस्टिक्स में आपकी दिलचस्पी है तो यह आपके लिए उपयुक्त जॉब है. महिला उम्मीदवार जिनके पास वैध आर्कीटेक्चर,कम्प्यूटर इंजीनियरिंग,आईटी, सिविल, इलेक्ट्रिकल , मरीन, मैकेनिकल में इंजीनियरिंग स्नातक उपाधि (बी.टेक/बी.ई) है वे इसके लिए आवेदन कर सकती हैं.

भारतीय वायु सेना: यदि आपका सपना है कि आप भारत की सेवा एक लड़ाकू पायलट की तरह आसमान में ऊँचाई को छुएँ तो आपको फ्लाईंग ब्रांच में शामिल होने का विचार करना चाहिए. इन पदों के लिए शैक्षणिक योग्यता के रूप में महिला उम्मीदवारों को स्नातक होना चाहिए 60 प्रतिशत अंकों के साथ किसी भी विषय में, साथ ही 10+2 स्तर पर गणित एवं भौतिक शास्त्र उत्तीर्ण,   न्यूनतम 60 प्रतिशत अंकों के साथ बी.ई./बी.टेक. उपाधि.

इसके अतिरिक्त आप एयर फ़ोर्स के टेक्निकल ब्रांच (तकनीकी शाखा)/ग्राउंड ड्यूटी/एडमिनिस्ट्रेशन विंग आदि विभागों के लिए भी आवेदन कर सकती है.

4. बैंक में सरकारी नौकरी

वैसे तो बैंक हमेशा से विकास की दौर में एक मेजर फैक्टर रहा है, लेकिन आज के ग्लोबलाइजेशन के इस दौर में बैंक की भूमिका और भी काफी महत्वपूर्ण हो चुकी है. अगर करियर के दृष्टिकोण से देखी  जाए तो बैंक की जॉब महिलाओं के लिए काफी आकर्षक और सुरक्षित भी है.

बैंक पीओ सहित बैंक के अन्य जॉब भले ही चुनौतीपूर्ण होते हैं, लेकिन यह आपके लिए विकास के लिए अच्छा अवसर भी प्रदान करते हैं.

बैंक में क्लर्क/पी ओ सहित अन्य प्रकार के जॉब उपलब्ध है जिनके लिए आज सबसे अधिक रिक्तियों की घोषणा की जा रही है. आपके लिए बैंक की नौकरी इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि अलग-अलग व्यक्तित्व और क्षमता के अनुसार आप आवेदन कर सकते हैं और जॉब प्राप्त कर सकती हैं.

बैंक पी ओ के लिए याद आप आवेदन कर रहे हैं तो इसके लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता स्नातक निर्धारित है.

हालाँकि अलग-अलग बैंकों ने इसके लिए अलग-अलग डिवीज़न निर्धारित कर रखा है लेकिन अधिकारी स्तर की परीक्षा के लिए ग्रेजुएशन अनिवार्य है.

वही क्लर्क श्रेणी के पदों के लिए 10+2 उत्तीर्ण भी आवेदन कर सकती हैं. अगर आप सामान्य ज्ञान/गणित/तर्कशक्ति पर पकड़ रखती हैं तो हल्की तैयारी से ही बैंक का जॉब पाकर अपने करियर को सुरक्षित कर सकती हैं. बैंक पीओ बैंकिंग प्रणाली में प्रवेश करने का उच्चतम स्तर है, जहाँ से आप  बैंक सीईओ, अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक जैसे शीर्ष स्तर के पदों तक भी पहुँच सकते हैं.

5. पुलिस सेवा में सरकारी नौकरी

आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि महिला सशक्तिकरण और उनके सुरक्षा के लिए हम भले ही कितना शोर मचा लें, आंकड़े बताते हैं कि आज भी देश के कई राज्यों में महिला पुलिस कर्मियों की संख्या 15 प्रतिशत को पार नहीं कर पायी है, और यह तब है जब हम महिला सशक्तिकरण और उनके उत्थान के लिए लम्बे-चौड़े घोषणाएं और दावे करते नहीं थकते हैं.

अगर हमारी सुरक्षा के लिए जिम्मेदार पुलिस में यदि महिलायें शामिल नहीं होना चाहती तो फिर सहज ही यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि हालात कितने बदतर होंगे. आखिर हो भी क्यों नहीं...जहाँ बलात्कार की रिपोर्ट दर्ज कराने गई महिला के साथ पुलिस थाने में बलात्कार की घटना होती है, उस व्यवस्था से भला और उम्मीद भी क्या की जा सकती है.

लेकिन सवाल उठता है कि सिस्टम को वैसे ही छोड़ देने और हाथ पर हाथ पर हाथ रखे रहने से क्या वह खुद बदल जायेगा. इसके लिए आवश्यक है कि महिलाओं को पुलिस में शामिल होना होगा और उसे “वीमेन फ्रेंडली” बनाने के लिए प्रयास करना होगा.
आज पुलिस में शामिल कई महिलाओं ने अपने कामों के बदौलत मीडिया मे सुर्खिया बटोरी है. पुलिस में आज भारी संख्या में रिक्तियां निकल रही है. इंस्पेक्टर/सब-इंस्पेक्टर जैसे पद हैं जिसके लिए आप आवेदन कर सकती हैं और इसके लिए शैक्षिक योग्यता के लिए स्नातक पास होना चाहिए.

---

महिला दिवस 2017 विशेष: 32000  जॉब्स महिलाओं के लिए; एयर फोर्स, केंद्रीय विद्यालय, SSC, UPSC भर्ती

महिलाओं के लिए एयर फोर्स, आर्मी और नेवी में सरकारी नौकरी के अवसर; कौन-कौन से होते हैं पद और क्या हैं योग्यता मानदंड

Comment (0)

Post Comment

4 + 9 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.