1. Home
  2. |  
  3. Board Exams |  

UP Board Class 12 Chemistry first practice paper set - 4

Jan 8, 2018 10:49 IST
     Chemistry First Practice Paper
    Chemistry First Practice Paper

    Get UP Board Class 12 Chemistry first practice paper set - 4. Learn about UP Board 12 Chemsitry solved practice paper (Paper First) for the coming chemsitry exam of the academic session 2017 – 18. This practice paper is specially prepared after the brief analysis of previous year UP Board 12 Chemsitry question papers.

    About UP Board Solved Chemistry practice paper (Paper First) 2017 – 18:

    After the analysis of UP Board Class 12 previous year question papers, it has been observed that questions based on certain concepts frequently are asked in board examination every year.

    Such questions are given in this solved practice papers. Students go through this paper in order to understand such concepts.

    After going through this paper you will:

    • Know important question likely to be asked in UP Board Class 12 Chemistry (Paper 1) exam 2017 – 18.

    • Learn to give proper explanations to the question in order to score maximum marks

    • Able to learn time management by practising questions

    Some solved questions from the solved practice paper are:

    प्रश्न : किसी तत्व A का इलेक्ट्रानिक विन्यास 1s2, 2s2,2p6,3s2,3p6, 3d8, 4s2 है। तत्व A, का समभारिक है।तत्व A के नाभिक में न्यूट्रानों की संख्या है।

    (i)       26

    (ii)      28

    (iii)      30

    (iv)      32

    उत्तर: (ii) 28

    प्रश्न : NO3 आयन के केन्द्रिय नाइट्रोजन परमाणु पर किस प्रकार का संकरण है?

    (i)       sp2

    (ii)      sp3

    (iii)      sp3d

    (iv)      dsp2

    उत्तर:  (i) sp2

    प्रश्न : CH2O में कार्बन की ऑक्सीकरण संख्या है।

    (i)       -2

    (ii)      +2

    (iii)     

    (iv)      +4

    उत्तर:  (iii) 0

    प्रश्न : दिए गए अम्लीयताका सही क्रम है-

    (i)       HCIO4<HCIO3 < HCIO2 < HCIO

    (ii)      HCIO < HCIO2< HCIO3 < HCIO4

    (iii)      HCIO<HCIO4< HCIO3< HCIO2

    (iv)      HCIO4<HCIO2< HCIO3< HCIO

     उत्तर:  HCIO<HCIO2< HCIO3<HCIO4

    प्रश्न : गैस के किसी निश्चित भार के लिए यदि दाब को आधा तथा ताप को दुगना कर दिया जाए तो गैस का आयतन होगा-

    (i)       V/4

    (ii)      2V2

    (iii)      6V

    (iv)      4V

     उत्तर:  4V

    प्रश्न : उपसहसंयोजी बन्ध समझाएं ?

    उत्तर: दो परमाणुओं के मध्य दो इलेक्ट्रॉनों की साझेदारी द्वारा जब एक रासायनिक बन्ध इस प्रकार बनता है कि साझे के दोनों इलेक्ट्रॉन उनमें से किसी एक परमाणु द्वारा दिये जायें तो इस प्रकार के बन्ध को उपसहसंयोजी बन्ध कहते हैं।

    प्रश्न : अभिक्रियाओं पर ताप का क्या प्रभाव होता है?

    उत्तर : बहुत सी अभिक्रियाएँ ताप में वृद्धि के साथ तवरित होती हैं| उदहारण- N    2O2 के वियोजन में पदार्थ का प्रारंभिक मात्रा में विजोजन 0C पर 10 दिनों में 25C पर 5 घंटे में तथा 50C पर 12 मिनट में होता है| जब KMnO4 को H2C2O4 के साथ मिलाया जाता है तो प्रतिक्रिया धीमी गति से होती है लेकिन जब इस मिश्रण को गर्म किया जाता है तो प्रतिक्रिया का डर बढ़ जाता है|            

    प्रश्न : कव्थ्नांक के उन्नयन से आप क्या समझते हैं?           

    उत्तर (क) : किसी द्रव्य का कव्थ्नांक वह ताप है जिस पर वाष्पदाब वायुमंडलिए दाब के बराबर होता है| किसी विलायक में कोई अवाष्प्शील पदार्थ घोलने पर उसका वाष्प दाब कम हो जाता है| जिसके परिणाम स्वरूप कव्थ्नांक बढ़ जाता है अर्थात वाष्पदाब अवनमन के कारण शुद्ध विलायक के कव्थ्नांक से ऊँचा होता है| विलयन तथा विलायक के कव्थ्नांको का अंतर कव्थ्नांक का उन्नयन कहलाता है| इसे द्वारा सूचित किया जाता है|

    = विलयन का कव्थ्नांक – विलायक का कव्थ्नांक

    प्रश्न : अन्तर - हेलोजन यौगिकों पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए ।

    उत्तर:   अन्तर - हेलोजन यौगिक:हेलोजन परस्पर क्रिया करके सामान्य सूत्र XYn प्रकार के अनेक महत्वपूर्ण योगिकों का निर्माण करते है जिन्हें अन्तर – हेलोजन यौगिक कहते है | जहाँ X तथा Y दोनों ही H–-Cl हेलोजन परमाणु है तथा n एक धन पूर्णांक है | जैसे CIF, ICI, BrF3, IF7 आदि |

    प्रश्न : कार्बन में श्रृंखलन को समझाएं ?

    उत्तर:  कार्बन में श्रृंखलन - कार्बन वर्ग IV का तत्व है । इसके अन्तिम कोश में केवल चार इलेक्ट्रॉन होने के कारण यह प्राय: अन्य तत्वों एवं कार्बन के परमाणुओं के साथ  को साझा करने की प्रवृति रखता है । यह अन्य कार्बन परमाणुओं के साथ लम्बी - लम्बी श्रृंखलाओं और उपश्रृंखलाओं में जुड़ने का गुण रखते हैं । इसका कारण यह है कि कार्बन-कार्बन बन्ध की आबन्ध ऊर्जा बहुत अधिक होती है ।

    Download the Completley Solved Practice Paper

    UP Board Class 12 Chemistry Long Answer Solved Practice Paper Second: Set –I

    Latest Videos

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
    X

    Register to view Complete PDF