Search

चेनानी-नाशरी सुरंग: एशिया की सबसे लम्बी सड़क सुरंग की विशेषताएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अप्रैल को जम्मू-कश्मीर में “चेनानी-नाशरी” सुरंग का अनावरण किया था, जो दक्षिण एशिया की सबसे लंबी सड़क सुरंग हैl चेनानी से नाशरी को जोड़ने वाले इस सुरंग को देश में “सबसे सुरक्षित” सुरंग माना जा रहा है क्योंकि इस सुरंग के भीतर आग की घटनाओं से यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए तथा गाड़ियों के टकराव को रोकने के लिए विशेष प्रावधान किए गए हैंl इस लेख में हम “चेनानी-नाशरी” सुरंग की विशेषताओं का विवरण दे रहे हैं जो जो विभिन्न परीक्षाओं में पूछे जाने वाले समसामयिक सामान्य ज्ञान (current GK) से संबंधित प्रश्नों की तैयारी के लिए काफी उपयोगी हैl
Apr 4, 2017 17:55 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अप्रैल को जम्मू-कश्मीर में “चेनानी-नाशरी” सुरंग का अनावरण किया था, जो दक्षिण एशिया की सबसे लंबी सड़क सुरंग हैl चेनानी से नाशरी को जोड़ने वाले इस सुरंग को देश में “सबसे सुरक्षित” सुरंग माना जा रहा है क्योंकि इस सुरंग के भीतर आग की घटनाओं से यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए तथा गाड़ियों के टकराव को रोकने के लिए विशेष प्रावधान किए गए हैंl
10.89 किमी लम्बा यह सुरंग जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग के चार लेन परियोजना का एक हिस्सा है जो उधमपुर जिले के चेनानी और रामवन जिले के नाशरी के बीच की दूरी को 41 किमी से घटा कर 10.89 किमी तक कर दिया है तथा इस दूरी को ढ़ाई घंटे के बजाय सिर्फ 10 मिनट में तय किया जा सकता हैl इस लेख में हम “चेनानी-नाशरी” सुरंग की विशेषताओं का विवरण दे रहे हैं जो जो विभिन्न परीक्षाओं में पूछे जाने वाले समसामयिक सामान्य ज्ञान (current GK) से संबंधित प्रश्नों की तैयारी के लिए काफी उपयोगी हैl

“चेनानी-नाशरी” सुरंग की प्रमुख विशेषताएं

 chenani nashri tunnel
Image source: Times of India

1. दो लेन वाला यह सुरंग एशिया का सबसे लम्बा सड़क सुरंग है जिसके कारण अब जम्मू और श्रीनगर के बीच की दूरी 350 किमी से घटकर 250 किमी रह गई हैl
2. यह सुरंग 1200 मीटर की ऊंचाई पर स्थित हैl यह ऊंचाई “अम्पायर स्टेट बिल्डिंग” की ऊंचाई से तीन गुनी अधिक हैl  
3. 10.9 किमी लम्बे इस सुरंग को बनाने में 5.5 वर्ष लगे हैं और इसकी कुल लागत 3,720 करोड़ रूपए थीl

डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के 9 प्रमुख स्तंभ

4. लगभग 1500 इंजीनियरों, भूवैज्ञानिकों, कुशल श्रमिकों और मजदूरों ने मिलकर इस सुरंग का निर्माण किया हैl
5. इस सुरंग के बन जाने से प्रतिदिन लगभग 30 लाख रूपए मूल्य के बराबर पेट्रोल की बचत होगीl
6. चूंकि इस सुरंग के माध्यम से हर मौसम में आवागमन किया जा सकता है, अतः इससे व्यापार में वृद्धि होगी और पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा, जिसके कारण राज्य के राजस्व में वृद्धि होगीl
7. इस सुरंग के भीतर 2 ट्यूब आतंरिक रूप से 29 क्रॉस मार्गों के जरिए राहगीरों के लिए हर 300 मीटर पर और आपात वाहनों के लिए 1200 मीटर पर जुड़े रहेंगेl
feature of chenani nashri tunnel
Image source: News 24

8. इस सुरंग की आन्तरिक चौड़ाई 14 मीटर और आन्तरिक ऊंचाई 10 मीटर हैl
9. इस सुरंग के अंदर निगरानी के लिए 75 मीटर के अन्तराल पर कुल 124 क्लोज सर्किट टीवी कैमरे लगे हुए हैं। किसी भी वाहन द्वारा सुरंग के भीतर यातायात के नियम का उल्लंघन करने पर नियंत्रण कक्ष द्वारा सुरंग के बाहर तैनात यातायात पुलिस को सूचित किया जाएगा, जो मौके पर ही उल्लंघनकर्ताओं को रोककर उनसे जुर्माने की राशि वसूलेंगेl
10. इस तरह के लम्बे सुरंग में ऑक्सीजन की कमी से समस्या उत्पन्न हो सकती हैl अतः यह सुनिश्चित करने के लिए कि सुरंग के भीतर अत्यधिक कार्बन-डाइऑक्साइड निर्माण न हो, कई निकास मीटर लगे हुए हैं जो पूरे सुरंग में हवा की जांच करेंगेl
11. इस सुरंग में सफर के लिए हल्केे वाहनों को एक तरफ के लिए 55 रूपए और दोनों तरफ के लिए 85 रूपए देने पड़ेंगे, जबकि एक माह के लिए हल्केो वाहनों को 1,870 रूपए बतौर शुल्कल अदा करने होंगेl वहीं भारी वाहनों जैसे मिनी बस के लिए फीस के रूप में एक तरफ के लिए 90 रूपए और दोनों तरफ के लिए 135 रूपए अदा करने होंगेl साथ ही बस और ट्रकों को एक तरफ के लिए 190 रूपए और दोनों तरफ के 285 रूपए अदा करने होंगेl

आखिर भारतीय अर्थव्यवस्था को प्लास्टिक के नोटों से क्या फायदा होगा?