ग्रीन अकाउंटिंग सिस्टम क्या होता है और इसका क्या महत्व है?

पर्यावरण परिवर्तन एक वैश्विक समस्या है जिसके लिए वैश्विक समाधान की आवश्यकता है। इसमें हमारी आर्थिक वृद्धि को धीमा करने की क्षमता है। विश्व बैंक के एक अध्ययन से पता चला है कि जलवायु परिवर्तन किसी भी अर्थव्यस्था और आबादी के जीवन स्तर को परेशान करने वाला है। इस लेख में हमने ग्रीन अकाउंटिंग सिस्टम क्या होता है और इसके महत्व के बारे में बताया है जो UPSC, SSC, State Services, NDA, CDS और Railways जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।
Dec 27, 2018 13:10 IST
    Green Accounting System Objectives and Importance HN

    पर्यावरण परिवर्तन एक वैश्विक समस्या है जिसके लिए वैश्विक समाधान की आवश्यकता है। इसमें हमारी आर्थिक वृद्धि को धीमा करने की क्षमता है। विश्व बैंक के एक अध्ययन से पता चला है कि जलवायु परिवर्तन किसी भी अर्थव्यस्था और आबादी के जीवन स्तर को परेशान करने वाला है। ग्लोबल वार्मिंग के कारण देश के विभिन्न हिस्सों में बढ़ते तापमान और बारिश में बदलाव से आर्थिक प्रभावों पर ये पहला प्रभाव होने वाला है। इसलिए ग्रीन अकाउंटिंग सिस्टम को एक व्यावसायिक फर्म के आर्थिक और पर्यावरणीय प्रदर्शन में सुधार के लिए महत्वपूर्ण प्रबंधन प्रणालियों में से एक माना जाता है।

    ग्रीन अकाउंटिंग सिस्टम क्या होता है?

    ग्रीन अकाउंटिंग सिस्टम एक प्रकार का लेखा-जोखा है जो परिचालन के वित्तीय परिणामों में पर्यावरणीय लागतों को हल करने का प्रयास करता है। यह तर्क दिया गया है कि सकल घरेलू उत्पाद पर्यावरण की उपेक्षा करता है और इसलिए नीति निर्माताओं को एक संशोधित मॉडल की आवश्यकता होती है जिसमें हरित लेखांकन या ग्रीन अकाउंटिंग सिस्टम का महत्वपूर्ण योगदान है। इस शब्द को पहली बार अर्थशास्त्री और प्रोफेसर पीटर वुड ने 1980 के दशक में लाया था। भारत के पूर्व पर्यावरण मंत्री श्री जयराम रमेश ने पहली बार भारत में लेखांकन के मामले में हरित लेखांकन प्रणाली या ग्रीन अकाउंटिंग सिस्टम प्रथाओं को लाने की आवश्यकता और महत्व पर बल दिया था।

    जैव विविधता से संबंधित अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और सम्मेलनों की सूची

    ग्रीन अकाउंटिंग सिस्टम का लक्ष्य क्या है?

    हरित लेखा प्रणाली या ग्रीन अकाउंटिंग सिस्टम के उद्देश्यों की चर्चा नीचे दी गई है:

    1. सकल घरेलू उत्पाद के उस हिस्से की पहचान करना जो आर्थिक विकास के नकारात्मक प्रभावों की क्षतिपूर्ति के लिए आवश्यक लागतों को दर्शाता है, यानी रक्षात्मक व्यय।

    2. मौद्रिक पर्यावरण खातों के साथ भौतिक संसाधन खातों की कड़ी स्थापित करना।

    3. पर्यावरणीय लागतों और लाभों का मूल्यांकन करना।

    4. मूर्त संसाधनों के रखरखाव के लिए लेखांकन करना।

    5. पर्यावरणीय रूप से समायोजित उत्पाद और आय के संकेतक का विस्तृत और मापन करना।

    जाने पहाड़ी क्षेत्रों में हिमस्खलन होने के 9 कारण कौन से हैं?

    ग्रीन अकाउंटिंग सिस्टम का उद्देश्य क्या है?

    पर्यावरण में परिवर्तन का न केवल पर्यावरण पर बल्कि अर्थव्यवस्था पर भी बुरा असर डालता है और यह एक सर्वविदित तथ्य है कि अर्थव्यवस्था में बदलाव का किसी भी व्यवसाय में होने वाले परिवर्तनों पर सीधा असर पड़ता है। यह भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि किसी देश का सकल घरेलू उत्पाद पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन से प्रभावित हो सकता है।

    इसलिए, यह व्यवसायों के लिए पारंपरिक आर्थिक लक्ष्यों और पर्यावरणीय लक्ष्यों के बीच संभावित क्विड प्रो क्वो को समझने और प्रबंधित करने का सबसे अच्छा साधन है। यह नीतिगत मुद्दों के विश्लेषण के लिए उपलब्ध महत्वपूर्ण जानकारी को भी बढ़ाता है, खासकर जब जानकारी के महत्वपूर्ण टुकड़ों को अक्सर अनदेखा कर दिया जाता है। इसलिए पर्यावरणीय लागतों को ध्यान में रखे बिना अपने लेखांकन प्रणाली संगठनों को डिजाइन करने वाले उद्यमों को इस आवश्यकता को जल्द से जल्द पूरा करना चाहिए।

    क्या आप हरित जीडीपी और पारिस्थितिकीय ऋण के बारे में जानते हैं

    Loading...

    Register to get FREE updates

      All Fields Mandatory
    • (Ex:9123456789)
    • Please Select Your Interest
    • Please specify

    • ajax-loader
    • A verifcation code has been sent to
      your mobile number

      Please enter the verification code below

    Loading...
    Loading...