Search

यूपीएससी की तैयारी में खर्चे

यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी में होने वाले खर्चे लगातार बढ़ रहे हैं फिर भी सिविल सर्विसेज की तैयारी के प्रति लोगों का जुनून कम नहीं हो रहा। इसलिए हम सिविल सेवा की तैयारी का कॉस्ट बेनिफिट एनालिसिस यानि लागत लाभ विश्लेषण प्रस्तुत कर रहे हैं।

Jan 4, 2017 13:15 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon

expenses in Ias preparationयूपीएससी की परीक्षा की तैयारी में होने वाले खर्चे लगातार बढ़ रहे हैं फिर भी सिविल सर्विसेज की तैयारी के प्रति लोगों का जुनून कम नहीं हो रहा। यह आईएएस कोचिंग की मोटी फीस और मेट्रो शहरों में रहने का खर्चा भी आईएएस बनने की इच्छा रखने वालों को परीक्षा की तैयारी के लिए यहां आने से नहीं रोक पाता, यह आश्चर्यजनक है।

आईएएस की तैयारी के लिए प्रभावशाली समय सारिणी कैसे बनाएं ?

सभी आईएएस शैक्षणिक हबों की सफलता के पीछे मुख्य कारण सिविल सेवा परीक्षा के साथ जुड़ी दीर्घ–कालिक आकर्षक लाभ है। यदि प्रमुख शहरों में सिविल सर्विसेज  की तैयारी पर लागत-लाभ विश्लेषण किया जाए तो यह खर्चों का वर्गीकरण अध्ययन स्थान (शहर), मार्गदर्शन का प्रकार (कोचिंग या बिना कोचिंग के) और प्रयासों की संख्या के आधार पर किया जाएगा।

आईए देश के सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा की तैयारी की शुरुआत के लिए सबसे न्यूनतम लागत या उसके बेसिक का विश्लेषण करते हैं।  

आईएएस बनने की प्रेरक कहानियाँ

तैयारी के स्थान के अनुसार खर्च में भिन्नता:living expenses

आप अपने आईएएस तैयारी की शुरुआत के लिए किस स्थान या शहर का चुनाव करते हैं, इसके आधार पर लागत अलग– अलग होगी।उदाहरण के लिए, आम जरूरत की चीजों जैसे कमरे का किराया, तीन बार का खाना, बिजली, पानी और परिवहन का खर्च, इंदौर, जयपुर या चंडीगढ़ जैसे शहरों की तुलना में नई द्ल्ली  और लखनउ जैसे मेट्रो शहरों में अधिक होगा।

नई दिल्ली में आईएएस की तैयारी के लिए प्रमुख क्षेत्र अधिकांशतः पॉश कॉलोनियों में हैं और इसलिए यहां रहने का खर्च बहुत अधिक आता है। यदि हम औसत लें तो न्यू राजेन्द्र नगर (यदि आप परीक्षा अंग्रेजी माध्यम से देने जा रहे हैं) में सारी अनिवार्य सुविधाओं के साथ कोचिंग केंद्र के पास (परिवहन खर्च को कम करने के लिए) एक कमरे का खर्च 15 हजार रुपये होगा। लाइब्रेरी और इंटरनेट कनेक्शन का खर्च अलग आएगा।

दूसरी तरफ, मुखर्जी नगर (यहां ज्यादातर हिन्दी भाषा को अपना माध्यम चुनने वाले प्रत्याशी रहते हैं) और अन्य स्थानों में सभी सुविधाओँ (किराया, बिजली, पानी, खाना) के साथ एक कमरे का खर्च करीब 10 हजार रुपये आएगा।  
इस बीच यदि आप राजधानी के अलावा अन्य शहरों जैसे इलाहाबाद, जयपुर, अहमदाबाद और इंदौर में तैयारी करने का फैसला करते हैं तो संभव है आप कुछ पैसे बचा लें। एक नए शहर में रहने में इन खर्चों के अलावा, अच्छी कोचिंग, परिवहन और पाठ्येत्तर गतिविधियों जैसे अन्य खर्चे भी करने होते हैं।

एक और आकर्षक विकल्प है कि आप घर बैठ कर तैयारी करें। बीते कुछ वर्षों में कई उम्मीदवारों ने यह विकल्प अपनाया है। यदि सभी मूल सुविधाएं जैसे भोजन और अन्य चीजों के बारे में चिंता न करनी पड़े तो एक छात्र के लिए पढ़ाई पर ध्यान लगाना अधिक सुविधाजनक हो जाता है। घर पर रह कर आईएएस की तैयारी करने के लिए सभी उम्मीदवारों को अच्छे कनेक्शन के साथ इंटरनेट और कड़ी मेहनत करने की इच्छाशक्ति की जरूरत होगी।   
इसके अलावा आप ऑनलाइन कोचिंग का विकल्प भी चुन सकते हैं। यह किसी नए शहर में जाकर कोचिंग करने के मुकाबले सस्ता विकल्प भी है। एक अच्छा पोस्टल कोर्स, अध्ययन सामग्री और कंप्रिहेन्सिव टेस्ट सीरिज यह सभी कुछ तैयारी और समय के अनुसार किया जा सकता है। संक्षेप में कहें तो, एक प्रत्याशी अपने आईएएस तैयारी का निर्माता खुद होता/ होती है।

ये गलतियां आपको IAS बनने से रोक सकती हैं

आईएएस कोचिंग (या कोचिंग के बिना) के प्रकार के अनुसार व्यय अलग-अलग होता है:

coaching expensesआईएएस परीक्षा के लिए भारत में असंख्य कोचिंग संस्थान हैं लेकिन उनमें से बहुत कम ही हैं जो उचित मार्गदर्शन और सिविस सर्विसेज के पूरे पाठ्यक्रम की पढ़ाई कराते हैं। दूसरी तरफ उनमें से ज्यादातर समय काटते हैं और पैसा बनाते हैं। यदि आप अपने घर से दूसरे शहर सिर्फ पढ़ाई के लिए जाते हैं, ऐसा आमतौर पर बेहतर कोचिंग सुविधाओं के कारण होता है, तो आप शीर्ष रेटिंग वाले कोचिंग संस्थान में दाखिला लेना चाहेंगे।  
और यदि आप इन सभी कोचिंग संस्थानों के फीस संरचना का विश्लेषण करेंगे तो आपको एक भी ऐसा प्रमुख कोचिंग केंद्र नहीं मिलेगा जो पूरी अध्ययन सामग्री के लिए 50000 रु। से लेकर एक लाख रुपये तक की मांग न कर रहा हो। अन्य कोर्स जैसे लेख, टेस्ट सीरिज और करेंट अफेयर्स की पूरे अध्ययन के लिए फीस संरचना करीब 40000-50000 रु है।
कोचिंग में निम्नलिखिच प्वाइंटर्स भी शामिल हैं:

  • प्रीलिम्स और मुख्य परीक्षा दोनों के लिए पूरे कोर्स हेतु: 70 हजार - 1 लाख
  • वैकल्पिक विषय की कोचिंग: 30 हजार – 50 हजार
  • प्रीलिम्स और मुख्य परीक्षा की टेस्ट सीरीज: 10 हजार – 20 हजार
  • निबंध, सीसैट, अंग्रेजी का अनिवार्य पेपर और क्षेत्रीय भाषा जैसे कुछ कोर्स के लिए अलग कोचिंग: 10 हजार-20 हजार
  • करेंट अफेयर्स और पत्रिकाओं पर कुछ विशेष कोर्स: 5 हजार-10हजार

अलग– अलग जगह की फीस की संरचना में थोड़ा अंतर हो सकता है लेकिन यदि एक रेंज सेट करनी पड़ी तो उपर दिए गए सभी प्रासंगिक कोर्स के साथ यूपीएससी के लिए कोचिंग का पूरा खर्च करीब 1.5 से 2 लाख रुपये के बीच होना चाहिए।
उपर दिए गए खर्च सिर्फ कोचिंग संस्थानों द्वारा ली जाने वाली फीस है, इसके अलावा सभी मानक किताबें, मासिक और वार्षिक पत्रिकाएं, दैनिक अखबार, प्रिंटेड नोट्स और सभी विषयों के हल किए हुए पेपर जैसे अध्ययन सामग्री का खर्च भी वहन करना होगा।

IAS बनने के लिए उपयुक्त जीवनशैली

प्रयासों की संख्या के साथ खर्च में भिन्नता:overhead expenses in IAS

पहला प्रयास हमेशा सर्वश्रेष्ठ प्रयास होता है। हर अलगे प्रयास के साथ ऊर्जा और उत्साह कम होते जाते हैं और खर्च भी। जब आप नौसिखिए होते हैं तो आपको अधिक मार्गदर्शन की जरूरत होती है क्योंकि देश के सबसे कठिन परीक्षा की तैयारी आपके लिए बिल्कुल नई बात होती है। इसलिए घर से दूर रहने और सामान्य अध्ययन के साथ-साथ वैकल्पिक अध्ययन के लिए कोचिंग आम तौर पर पहले प्रयास में करने होते हैं।

जैसे ही आप अपने दूसरे या तीसरे प्रयास में पहुंचते हैं, ज्यादातर उम्मीदवार  घर वापस जाने और वहीं से अपनी पढ़ाई जारी रखने का विकल्प चुन लेते हैं। इस समय पैसा टेस्ट सीरीज, नवीनतम करेंट अफेयर्स सामग्री और कुछ छोटे कोर्स पर खर्च किए जाते हैं ताकि परीक्षा से पहले आप अपने कौशल को धार दे सकें। कुछ उम्मीदवार नए ट्रेंड के साथ आईएएस की तैयारी को सुव्यवस्थित रखने के लिए ऑनलाइन कोर्स के क्रैश कोर्स का विकल्प भी चुन सकते हैं। ऐसा चौथे या पांचवे प्रयास में देखा जाता है।

नौकरी के साथ IAS Exam की तैयारी कैसे करें ?

निष्कर्ष:

हालांकि, आईएएस की तैयारी में समय और कड़ी मेहनत के अलावा किसी भी दूसरे चीज को खर्च करने की कोई अनिवार्य जरूरत नहीं है लेकिन यह आप पर निर्भर करता है कि आप यूपीएससी की तैयारी के लिए कितने गंभीर हैं। यदि आपके पास अच्छे कनेक्टिविटी वाला इंटरनेट है तो आपको कोचिंग की भी जरूरत नहीं है।

प्रत्येक करिअर में कॉस्ट-बेनिफिट एनालिसिस होता है लेकिन उम्मीदवारों को इस बात का विश्लेषण करने की जरूरत है कि क्या वे उतनी मेहनत कर सकते हैं। यदि आप लोगों की सेवा करने का इरादा रखते हैं तो इससे बहुत अधिक व्यक्तिगत संतुष्टि और उपलब्धि मिलती है।

देश में सिविल सर्विस सभी पहलुओं से अद्वितीय करिअर है। इससे मिलने वाले लाभ सभी लागत को पीछे छोड़ देता है।

IAS की तैयारी के लिए सबसे बेहतर शहर

Related Stories