IAS उम्मीदवारों के लिए उपयोगी रुचियां

सिविल सेवा परीक्षा के उम्मीदवारों के लाभ को ध्यान में रखते हुए हमने ऐसी 6 रूचियों के बारे में विस्तार से विश्लेषण किया है जो कि एक IAS उम्मीदवार, IAS परीक्षा में सफलता हासिल करने में मदद करेंगी।

Jan 23, 2018 18:39 IST
IAS Preparation: Top 6 recommended hobbies for IAS aspirants
IAS Preparation: Top 6 recommended hobbies for IAS aspirants

रुचि शब्द का अर्थ है- "एक ऐसी गतिविधि जो नियमित रूप से खुशी के लिए ख़ाली समय में की जाती है"। दूसरे शब्दों में रुचि शब्द को हम इस प्रकार भी परिभाषित कर सकते है कि एक ऐसी गतिविधि जो आपको तनाव की मुद्रा से राहत महसूस करने में मदद करती हो। मुख्यतः रुचि का संबंध उन गतिविधियों से है जिसका किसी खास काम से कोई लेना-देना नहीं है।

IAS की तैयारी करने से पहले 5 बातें जिन पर गौर करना है बेहद जरूरी

रुचि शब्द को अगर परीभाषा के आधार पर देखा जाए तो IAS उम्मीदवार यह भी सोच सकते हैं कि रूचि का IAS परीक्षा में सफलता से कोई सम्बन्ध नहीं है । एक IAS उम्मीदवार के मन में अगर ऐसी धारणाएं है तो उसे बदलने का समय आ गया है, क्योंकि एक IAS उम्मीदवार के विस्तृत आवेदन पत्र जिसे अंग्रेजी में “डिटेल्ड एपलिकेशन फार्म” (DAF) भी कहते हैं, में उनकी रुचि से संबंधित जानकारियों को भरने के लिए एक विशेष स्थान निर्धारित होता है तथा व्यक्तित्व परीक्षण से समय UPSC बोर्ड सदस्य IAS उम्मीदवार की रुचि से संबंधित प्रश्नों को निश्चित रूप से पूछते हैं।

IAS उम्मीदवारों की प्राय: यह समस्या रहती है कि वह किन-किन रूचियों में अधिक ध्यान दे ताकि IAS परीक्षा की दृष्टि से उनकी रूचि सफलता में बाधक ना बनें या फिर शुरुआत से ही ऐसी रूचियां  विकसित करें जो IAS परीक्षा की दृष्टि से अधिक उपयोगी हो। इस लेख में हमनें कुल 6 रुचियों का सुझाव दिया है जो कि आपको IAS परीक्षा की तैयारी के दौरान IAS उम्मीदवारों में प्रसन्नता का प्रसार करती रहेंगी तथा IAS परीक्षा की अंतिम सूची में जगह बनाने में भी उपयोगी साबित होगा।

यात्रा करना

विभिन्न स्थानों का भ्रमण करने के पश्चात दैनिक जीवन में उत्पन्न नीरसता को समाप्त करने में उपयोगी साबित हो सकता है। इसके अलावा विभिन्न स्थानों का भ्रमण करने से IAS उम्मीदवारों को संसार की बहुत सारी वास्तविकताओं को जानने में तथा विभिन प्रकार की विस्तृत विविधताओं को सीखने का बेहतर अवसर भी मिलता है।

IAS उम्मीदवार विभिन्न स्थानों पर जाकर किसी विशिष्ट स्थान की भाषा, कपड़े, भोजन, जलवायु, कला रूपों, भूमि रूपों, वास्तुकला, उद्योगों, सामाजिक समस्याओं ईत्यदि के बारे में जानकारी इकट्ठा कर सकते हैं जो कि मनोरंजन के अलावा IAS परीक्षा की दृष्टि से भी बहुत उपयोगी साबित हो सकता है। यात्रा के दौरान संचित अनुभव के पश्चात पुस्तकों में उल्लिखित विभिन्न अवधारणाओं को समझने में भी बहुत मदद मिलती है ।

यात्रा करने में इच्छुक IAS उम्मीदवारों को यह भी सलाह दी जाती है कि वह एक ट्रैवल जर्नल बनाने का प्रयास करें तथा रास्ते में आने वाली उन सभी अनुभवों को विस्तार से लिखें ताकि उन्हें लम्बे अरसे तक याद रखा जा सके। भूगोल और इतिहास जैसे वैकल्पिक विषयों का चयन करने वाले IAS उम्मीदवारों के लिए यात्रा में रूचि रखना उपयुक्त समझा जाता है। इसके अलावा सभी IAS उम्मीदवारों के लिए यह भी कहा जाता है कि वह अपने मूल निवास के आस-पास के सभी स्थानों की जानकारी इकट्ठा करें या फिर यह भी बेहतर होगा कि उन सभी स्थानों खुद एक बार भ्रमण कर लें। इससे उन्हें अपने DAF के बारे में ज्यादा जानकारी मिलेगी।

IAS Exam में हर वर्ष पूछे जाने वाले 10 सर्वाधिक महत्वपूर्ण टॉपिक्स

फिल्में देखना
कुछ लोगों को यह सुनकर आश्चर्य होगा कि IAS परीक्षा की तैयारी के दौरान फिल्में देखना भी उपयोगी साबित हो सकता है और कुछ लोग यह भी मानते हैं कि फिल्में देखना IAS परीक्षा की तैयारी को प्रभावित करती है जो कि सच नहीं है। फिल्में देखना IAS परीक्षा की तैयारी के लिए प्रभावी साबित हो सकता है पर यह इस बात पर निर्भर करता है कि एक IAS उम्मीदवार द्वारा देखे जाने वाली फिल्मों के चयन में कितना नियंत्रण है। अगर ऐसी चयनात्मक प्रवृत्ति एक IAS उम्मीदवार में है तो यकीनन फिल्में देखना किसी अन्य रूचि की तुलना में बेहतर साबित हो सकता है।

फिल्मों को समाज का दर्पण माना जाता है तथा उसमें दिखाई जाने वाली चरित्र एवं घटनाएं किसी ना किसी रूप में हमारे समाज से जुड़ी होती हैं। आज के दौर में हम संसार कि विभिन्न भाषाओं में तथा देश की क्षेत्रीय भाषाओं में उपलब्ध फिल्मों को उपशीर्षक की सहायता से देख सकते हैं। इसलिए IAS उम्मीदवारों के लिए यह जरूरी है कि वह अच्छी फिल्मों का हीं चयन करें जो IAS परीक्षा के पाठ्यक्रम की दृष्टि से महत्वपूर्ण हो। उदाहरण के लिए विभिन्न विषयों पर आधारित फिल्में जैसे विश्व युद्ध (शिंडलर्स लिस्ट), भारतीय स्वतंत्रता संग्राम (गांधी, शतरंज के खिलाड़ी), विज्ञान और प्रौद्योगिकी (ग्रेविटी और द मारशियन), आपदा (ज्वालामुखी) और सामाजिक-आर्थिक और राजनीतिक मुद्दों (सलाम बॉम्बे, चक्रव्युह, गंगाजल, हजारों ख्वाहिशें ऐसी, हैदर, रोजा, रंग दे बसंती) आपको मदद कर सकती हैं।

इंटरनेट सर्फिंग
आज के दौर में एक लोकप्रिय धारणा है कि जीने के लिए "हवा, पानी, भोजन और इंटरनेट कनेक्शन होना चाहिए।" वास्तव में एक मनुष्य एक दिन में हवा, पानी और भोजन की तुलना में अधिक इंटरनेट डेटा की खपत करता है और यह सिविल सेवा परीक्षा के उम्मीदवारों के लिए भी उतना ही सत्य है क्योंकि इंटरनेट IAS परीक्षा की तैयारी के लिए एक प्रमुख घटक के रूप में उभरा है। एक IAS उम्मीदवार को सिविल सेवा परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए इंटरनेट का भरपूर सहायता लेना चाहिए तथा उन्हें इंटरनेट सर्फिंग को अपने अहम रूची में शामिल कर लेना चाहिए।

इंटरनेट सर्फिंग के माध्यम से IAS उम्मीदवार, IAS परीक्षा से संबंधित अध्ययन सामग्री को आसानी से हासिल कर सकते हैं। एक IAS उम्मीदवार जागरण जोश, प्रेस इन्फोर्मेशन ब्यूरो, पी.आर.एस जैसी प्रमुख वेबसाइटों से IAS परीक्षा से संबंधित अध्ययन सामग्री तथा IAS परीक्षा से संबंधित विशेष गतिविधियों की जानकारी आसानी से हासिल कर सकते हैं। इसके अलावा, IAS परीक्षा से संबंधित अध्ययन सामग्री जो IAS परीक्षा के लिए उपयोगी हो उन्हें मुफ्त में हासिल भी कर सकते हैं।

आईएएस में सफलता हेतु याद्दाश्त बढ़ाने के शीर्ष 10 तरीके

पढ़ना

किसी बुद्धिमान व्यक्ति ने कहा है कि - "किताबें मनुष्य की सबसे अच्छी दोस्त होती हैं"। पुस्तकें मनुष्य को नए विचार एवं विचारधारा को विकसित करने में सहायता करती हैं तथा उनकी कल्पनाओं और उनकी सोच-समझ की प्रक्रिया को विस्तारित करने में भी सहायता करती हैं। पुस्तकों के अध्ययन से ना केवल ज्ञान की प्राप्ति होती है बल्कि प्रमुख लेखकों द्वारा लिखी गई पुस्तकों के अध्ययन से अपनी भाषा कौशल सुधारने में भी सहायता करते हैं। एक IAS उम्मीदवार के लिए अच्छे लेखकों की पुस्तकें पढ़ने का लाभ उन्हें IAS मुख्य परीक्षा के कई पेपरों में मिल सकता है जिसमें खास है IAS मुख्य परीक्षा निबंध पेपर। IAS मुख्य परीक्षा निबंध पेपर में, IAS उम्मीदवार को कल्पनाओं के आधार पर उत्तर लिखने की आवश्यकता होती है और किताबें पढ़ने का अनुभव खासकर इस पेपर में बहुत उपयोगी साबित होता है। IAS उम्मीदवार जितना विविध पढेंगे उतना ही उनका आत्मविश्वास बढेगा जो उन्हें पूरे IAS परीक्षा की प्रक्रिया में सहायक सिद्ध होगा परन्तु अच्छे साहित्य पड़ने से ही ऐसा हो सकता है इसलिए अपनी पथ्य सामग्री का चुनाव ध्यान पूर्वक करें ।

ब्लॉगिंग
अगर एक IAS उम्मीदवार में उपरोक्त चार रूचियों- यात्रा करना, फिल्में देखना, इंटरनेट सर्फिंग और किताबें पढ़ना का समावेश है तो फिर ब्लॉगिंग उनके लिए बहुत उपयोगी साबित हो सकती है। ब्लॉगिंग एक ऐसा प्लेटफार्म है, जिसके माध्यम से एक मनुष्य अपनी राय को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचा सकता है। एक IAS उम्मीदवार अपनी रूची के अनुसार विभिन्न मुद्दों पर जैसे- सामाजिक, आर्थिक विषयों में लेख लिख सकते हैं जो उनकी लेखन शैली को सुधारने में सहायता कर सकती है।

अध्यापन
अध्यापन एक अहम व्यवसाय के रूप में जाना जाता है। परन्तु IAS उम्मीदवार अध्यापन को एक गंभीर व्यवसाय ना मानकर इसे एक रूचि के रूप में भी विकसित कर सकते हैं। अध्यापन के कई लाभ हैं- पहला, अपने आस-पड़ोस या फिर किसी शिक्षा संस्थान में सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे जूनियर छात्रों को पढ़ा कर उनकी मदद कर सकते हैं। दूसरा लाभ यह है कि दूसरे छात्रों को पढ़ाने के क्रम में आपकी संपर्क कौशल में अत्यधिक सुधार तथा संबंधित विषयों में अपके ज्ञान में भी बढ़ोत्तरी होने की संभावनाएं रहती है।

आईएएस की तैयारी के लिए प्रभावशाली समय सारिणी कैसे बनाएं ?

Loading...

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Loading...