जानिये ये हैं कॉलेज स्टूडेंट्स ये बेसिक रिज्यूम राइटिंग टिप्स

कॉलेज स्टूडेंट्स जब पहली बार अपना रिज्यूम तैयार करें तो इस आर्टिकल में प्रस्तुत बेसिक रिज्यूम राइटिंग टिप्स को जरुर फ़ॉलो करें.

 

Created On: Jun 9, 2020 16:20 IST
Resume Writing: Some basic rules to always keep in mind
Resume Writing: Some basic rules to always keep in mind

जब भी आप किसी जॉब के लिए अप्लाई करते हैं तो सबसे पहले आपके भावी एम्पलॉयर को आपका परिचय देने वाला सिर्फ आपका रिज्यूम ही तो होता है. आपके रिज्यूम के आधार पर आपके भावी एम्पलॉयर्स निर्धारित करते हैं कि उनके जॉब प्रोफाइल के लिए आप एक सूटेबल कैंडिडेट हैं या नहीं. हालांकि, कॉलेज के फ्रेश ग्रेजुएट्स के रिज्यूम्स में उनकी एकेडमिक परफॉरमेंस, एक्स्ट्रा करीकुलर एक्टिविटीज, स्किल-सेट और संबंधित इंडस्ट्री के वर्क एक्सपीरियंस का ही अक्सर जिक्र होता है. इसलिए, यह बहुत जरुरी है कि आपका रिज्यूम बहुत ही इम्प्रेसिव हो. अक्सर यह देखा जाता है कि, योग्य जॉब कैंडिडेट्स को अच्छे जॉब ऑफर्स नहीं मिल पाते हैं क्योंकि उनके रिज्यूम्स इम्प्रेसिव तरीके से नहीं लिखे होते हैं.

इसी तरह, कॉलेज में इंटर्नशिप के लिए अप्लाई करते समय कई स्टूडेंट्स क्योंकि पहली बार अपना रिज्यूम तैयार करते हैं, इसलिये वे कई किस्म की गलतियां कर सकते हैं. कॉलेज स्टूडेंट्स को अपना रिज्यूम लिखते समय कुछ साधारण गलतियां करने से रोकने में उनकी मदद करने के लिए हम कुछ बेसिक रिज्यूम राइटिंग टिप्स पेश कर रहे हैं जिन्हें अपना रिज्यूम लिखते समय स्टूडेंट्स अवश्य फ़ॉलो करें जैसेकि:

'टाइपो' गलतियां रिमूव करें

आपको आश्चर्य हो सकता है लेकिन एम्पलॉयर्स/ रिक्रूटर्स को अक्सर ऐसे बहुत सारे एप्लिकेशन्स प्राप्त होते हैं जो साधारण ‘टाइपो’ गलतियों से भरे होते हैं. ‘टाइपो’ गलतियां ऐसी कोई गलती नहीं होती हैं जो अनुभवहीनता या पहली बार रिज्यूम लिखने के कारण हों क्योंकि यह वास्तविकता नहीं है. उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि आप लिखना चाहते हैं, 'मैं एक करियर उन्मुख व्यक्ति हूं', लेकिन आप इसके बजाय लिखते हैं, 'मैं एक कैरियर (वाहन) उन्मुख व्यक्ति हूँ'. ऐसे में कोई भी रिक्रूटर आपके रिज्यूम को दोबारा नहीं देखेगा. बल्कि फिर, आपका रिज्यूम रिजेक्टेड एप्लीकेशन्स के ढेर में तुरंत फैंक दिया जाएगा. यदि आप अपने रिज्यूम में टाइपो गलतियां करते हैं तो रिक्रूटर इसे आपकी चूक और आपके लापरवाह रवैये के रूप में देखते हैं. कौन अपने संगठन में किसी लापरवाह व्यक्ति को काम पर रखना चाहेगा? विशेष रूप से, यदि आप किसी कंटेंट राइटर के रूप में नौकरी प्राप्त करने के लिए अपना आवेदन भेज रहे हैं तो आपके रिज्यूम में एक भी टाइपो गलती से आप उस संगठन में नौकरी करने का अवसर गंवा सकते हैं.

फ़ाल्स ऑब्जेक्टिव्स न करें अपने रिज्यूम में शामिल

छात्र अक्सर अपने रिज्यूम्स लिखने के लिए ऑनलाइन रिज्यूम फ़ॉर्मेट्स और टेम्पलेट देखते हैं. यद्यपि, इसमें कुछ भी गलत नहीं है. लेकिन, आपको यह निर्धारित करने के लिए अपने दिमाग का उपयोग करना चाहिए कि आपको अपने रिज्यूम में क्या शामिल करना है और क्या नहीं ? उदाहरण के लिए, कई ऑनलाइन रिज्यूम टेम्पलेट्स में जो उद्देश्य सेक्शन होता है, वह कुछ साल पहले काफी आकर्षक था, लेकिन आजकल वही उद्देश्य गैर-जरुरी बन चुके हैं. इन टेम्पलेट्स के सैंपल उद्देश्य सेक्शन में अक्सर ऐसे वाक्य होते हैं जैसेकि, 'एक चुनौतीपूर्ण नौकरी की तलाश में' और 'विषय विशेषज्ञों के अधीन काम करने और अपने पेशेवर कौशल को बढ़ाने की तलाश में’. हालांकि, ये वाक्य आपको बहुत अच्छे लग सकते हैं, लेकिन आपके भावी रिक्रूटर के लिए ये वाक्य अब महत्वहीन हो गये हैं. इसके अलावा, रिज्यूम लिखते समय 'दबाव में बेहतर काम करने की काबिलियत', 'परिणाम-उन्मुख', 'बहुत बढ़िया संचार कौशल' आदि जैसे घिसे-पिटे वाक्यांशों से भी बचें.

अपने बारे में सटीक विवरण ही शामिल करें

बहुत से कॉलेज छात्र अक्सर अपने रिज्यूम्स में अपने बारे में काफी बढ़ा-चढ़ा कर वर्णन करने की गलती कर देते हैं. भले ही ऐसा करने से आपके रिज्यूम पर रिक्रूटर्स का ध्यान आसानी से चला जाता है और आपको इंटरव्यू के लिए भी बुला लिया जाता है. लेकिन, यह अच्छा तरीका नहीं है क्योंकि रिक्रूटर्स हमेशा अपने उन सभी नए कर्मचारियों और कभी-कभी इंटर्न्स की बैकग्राउंड की भी जांच करते हैं, जिन्हें वे हायर करते हैं. फ्रेशर्स के मामले में बहुत से रिक्रूटर्स अक्सर पिछले कार्यालयों या कॉलेज के प्रोफेसरों से संदर्भ मांगते हैं. वे सोशल मीडिया पर भी अपने कैंडिडेट्स को ट्रैक करते हैं और अगर कैंडिडेट के रिज्यूम में किये गए दावों की तुलना में उनके प्रोफ़ाइल में कोई भी असमानता मिलती है तो ऐसे कैंडिडेट की उम्मीदवारी अक्सर खतरे में पड़ जाती है. इसलिए, सुरक्षित चाल चलें और अपने रिज्यूम्स में अपने बारे में कोई झूठ न लिखें या अपने बारे में बढ़ा-चढ़ा कर वर्णन न करें.

छोटा हो आपका रिज्यूम

एक फ्रेशर कॉलेज ग्रेजुएट के रूप में आपके पास अपने इंटर्नशिप अनुभवों के अलावा अपने रिज्यूम में उल्लिखित करने के लिए बहुत अधिक पेशेवर अनुभव नहीं होता है. यदि आप अभी भी कॉलेज में पढ़ रहे हैं और इंटर्नशिप की तलाश में हैं तो आपके पास अपनी शैक्षणिक योग्यता और एक्स्ट्रा करीकुलर एक्टिविटीज का विवरण देने के अलावा और कुछ नहीं होता है. इसलिये, एक संक्षिप्त रिज्यूम तैयार करें. हालांकि रिज्यूम लिखने की कोई आदर्श लेंथ नहीं है. केवल एक बात महत्वपूर्ण है कि आपके रिज्यूम में  आपकी योग्यता और पिछले अनुभवों का प्रभावी विवरण दिया गया हो. हालांकि, अभी-अभी अपने पेशेवर करियर की शुरुआत करने वाले लोग जैसे, कॉलेज के छात्रों के लिए यह बहुत जरुरी है कि उनका रिज्यूम एक से दो पृष्ठों में ही लिखा जाये क्योंकि अगर आप अपने रिज्यूम में लिखे गए किसी विवरण को सही न ठहरा पायें तो यह अतिशयोक्ति हो जायेगी. हालांकि, आप यह अवश्य सुनिश्चित कर लें कि एक छोटा रिज्यूम तैयार करने के फेर में कहीं आपकी कोई महत्वपूर्ण जानकारी न छूट जाये.

सटीक और सरल हो आपके रिज्यूम का फ़ॉर्मेट

जैसी नौकरी या कंपनी के लिए आप अप्लाई कर रहे हैं, उसके अनुरूप ही आप अपने लिए किसी जॉब फॉर्मेट या टेम्पलेट का चयन करें. मान लीजिए, यदि आप एक ग्राफिक डिजाइनर हैं, तो आपके रिज्यूम  के लिए एक सिंपल स्टेंडर्ड टेम्पलेट बेकार साबित होगा. अपनी प्रतिभा दिखाने के लिए आपको एक रचनात्मक रिज्यूम तैयार करना चाहिए. लेकिन अगर आप एक इंजिनियर हैं तो एक रंगीन रिज्यूम आपके लिए उपयुक्त नहीं होगा. लेकिन आपका जॉब प्रोफ़ाइल चाहे जो भी हो,  यह अवश्य सुनिश्चित करें कि आपका फॉर्मेट सरल और साफ-सुथरा हो. आप यह भी सुनिश्चित करें कि आपका रिज्यूम अव्यवस्थित और अपठनीय न हो.

दोस्त के रिज्यूम से अलग हो आपका रिज्यूम

आजकल, कॉलेज के छात्रों में यह एक बहुत ही आम बात है कि वे अक्सर अपने दोस्तों या सहपाठियों  के रिज्यूम की नकल करके अपना रिज्यूम तैयार कर लेते हैं. कभी-कभी तो वे रिज्यूम में केवल अपना नाम ही बदलते हैं और बाकी सारी मूलभूत जानकारी अपने दोस्त के रिज्यूम के समान ही रखते हैं. लेकिन, यह एक सही तरीका नहीं है. आपका रिज्यूम आपकी व्यक्तिगत जानकारी देता है और इसमें आपकी ताकत और क्षमताओं का उल्लेख भी होता है. अपने रिज्यूम को किसी अन्य व्यक्ति के रिज्यूम की नकल करके तैयार करने और इसमें थोड़ा-बहुत बदलाव करने का क्या अर्थ है? इससे आपके एम्पलॉयर  को कोई फर्क नहीं पड़ेगा. लेकिन, अपने किसी दोस्त के रिज्यूम की नकल करना आपके लिए काफी हानिकारक साबित होगा. सबसे पहले तो आप एक बढ़िया रिज्यूम लिखना नहीं सीख सकेंगे और दूसरी बात यह है कि आप किसी ऐसे व्यक्ति के बारे में क्या सोच सकते हैं जो खुद अपना रिज्यूम नहीं लिख सकता है? यह आपके व्यक्तित्व की नकारात्मक छवि दिखाता है. इसलिये, अपने रिज्यूम में जो भी आप लिखें, चाहे कितना ही छोटा क्यों न हो?...यह अवश्य  सुनिश्चित करें कि यह आपने स्वयं लिखा है.

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

अन्य महत्त्वपूर्ण लिंक

जॉब सीकर्स जरुर करवाएं अपने रिज्यूम का प्रोफेशनल क्रिटिकल एग्जामिनेशन

यहां पढ़ें क्या है CV और रिज्यूम के बीच फर्क

जानिये रिज्यूम राइटिंग के लेटेस्ट ट्रेंड्स, मिल सकती है तुरंत सूटेबल जॉब

 

Related Categories