MBA डिग्री होल्डर्स के लिए ये हैं टॉप गवर्नमेंट और पीएसयू जॉब्स

आज भी भारत में अधिकतर ग्रेजुएट्स अपने लिए एक सूटेबल गवर्नमेंट जॉब हासिल करना चाहते हैं. किसी भी गवर्नमेंट जॉब में आपको स्टेबिलिटी और इकनोमिक सिक्यूरिटी के साथ सोशल रिस्पेक्ट भी काफी मिलती है. यहां MBA ग्रेजुएट्स के लिए ऐसी ही कुछ टॉप गवर्नमेंट जॉब्स की चर्चा कर रहे हैं.

Created On: Sep 11, 2019 18:05 IST
Top Government Jobs/PSU Jobs after doing your MBA
Top Government Jobs/PSU Jobs after doing your MBA

आजकल भी भारत में अधिकतर स्टूडेंट्स अपनी पोस्टग्रेजुएशन या MBA की डिग्री हासिल करने के बाद किसी सरकारी विभाग या पब्लिक सेक्टर यूनिट या इंडस्ट्री में काम करना चाहते हैं. आजकल भी अगर आपने कोई टॉप रैंक की सरकारी नौकरी ज्वाइन की है तो अपनी फैमिली और सोसाइटी में आपको काफी रिस्पेक्ट मिलने लगती है. इसके साथ ही, हमारे देश में किसी PSU या सरकारी नौकरी में जॉब सिक्यूरिटी, जॉब सेटिसफेक्शन के साथ काफी बढ़िया सैलरी पैकेज, प्रोमोशन और इंक्रीमेंट में पारदर्शिता, सुविधाजनक कामकाजी घंटे, चिकित्सा सुविधायें, फील्ड में विजिट करने के अवसर, हाउस रेंट, यात्रा और महंगाई भत्ते आदि कई ऐसे कारण हैं, जिनकी वजह से अक्सर अधिकतर स्टूडेंट्स और जॉब सीकर्स कोई भी छोटी या बड़ी सरकारी नौकरी ज्वाइन करना चाहते हैं. हमारे देश में आज भी अधिकतर MBA डिग्री होल्डर्स का रुझान गवर्नमेंट जॉब्स की तरफ ही है.    

इस आर्टिकल में हम MBA डिग्री होल्डर्स के लिए सरकारी नौकरी हासिल करने के विषय में विस्तार से चर्चा कर रहे हैं:  

भारत के गवर्नमेंट या PSU सेक्टर्स में MBA डिग्री होल्डर्स के लिए टॉप जॉब्स की लिस्ट  

भारत के विभिन्न बैंकों में बनें पर्सनल ऑफिसर

बैंको के पर्सनल ऑफिसर आमतौर पर ह्यूमन रिसोर्स से जुड़े सभी काम करते हैं. इनका मुख्य काम कर्मचारियों की पोस्टिंग, ट्रेनिंग प्रोग्राम की व्यवस्था, पर्क्स डिजाइनिंग, रिटायरमेंट बेनिफिट और कर्मचारियों की परफॉर्मेन्स की निगरानी के साथ ऑफिस में कामकाज के माहौल की व्यवस्था करना होता है. उन्हें ह्यूमन रिसोर्स डिपार्टमेंट के कार्यों को सुचारू रूप से चलाना होता है.

पर्सनल ऑफिसर की भर्ती राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित प्रतियोगी परीक्षा के माध्यम से की जाती है. कुछ बैंक्स IBPS स्कोर को स्वीकार करते हैं जबकि SBI जैसे कुछ बैंक अपने एग्जाम्स लेते हैं और वे इन एग्जाम्स के माध्यम से कर्मचारियों की नियुक्ति करते हैं. पर्सनल मैनेजमेंट, एचआर इंडस्ट्रियल रिलेशन, सोशल वर्क तथा लेबर लॉ आदि में पोस्ट ग्रेजुएट कैंडिडेट्स पर्सनल ऑफिसर बन सकते हैं.

IBPS द्वारा लगभग 4000 वेकेंसी तथा SBI द्वारा लगभग 20 वेकेंसियां हर वर्ष निकाली जाती हैं. ये वेकेंसियां हर साल कम या अधिक हो सकती हैं. इन बैंक एग्जाम्स में सफल होना थोड़ा कठिन है.

भारत के विभिन्न बैंकों में बन सकते हैं मार्केटिंग ऑफिसर

बैंकिंग क्षेत्र में जबरदस्त विकास और प्रतिस्पर्धा देखने को मिल रही है. इस प्रतिस्पर्धा को बनाये रखने में मार्केटिंग ऑफिसर की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है. मार्केटिंग ऑफिसर बैंक प्रोडक्ट्स की मार्केटिंग के लिए सही स्ट्रेटेजी बनाते हैं. मार्केटिंग ऑफिसर के मुख्य कार्य विज्ञापन एजेंसियों के साथ कोर्डिनेशन, बैंक प्रोडक्ट्स का प्रोमोशन करना, सोशल मीडिया को मैनेज करना, मार्केटिंग कैंपेन की देखभाल जैसे सभी काम करना होता है. मार्केटिंग ऑफिसर की रिक्रूटमेंट प्रोसेस पर्सनल ऑफिसर की तरह होती है. मार्केटिंग ऑफिसर बनने के लिए मार्केटिंग में MBA, PGDBA और PGDBM की डिग्री आवश्यक है.

विभिन्न एजेंसियों में बन सकते हैं एडिशनल प्रोग्राम ऑफिसर

एडिशनल प्रोग्राम ऑफिसर मुख्य रूप से विभिन्न प्रोग्राम्स को इम्प्लीमेंट करने का कार्य करते हैं. इनका मुख्य कार्य, प्रोजेक्ट या प्रोग्राम के लिए कार्य करना, कुछ विशेष प्रोग्राम्स में कर्मचारियों की गतिविधियों की निगरानी करना, विभिन्न प्रोग्रामों की प्रोग्रेस की निगरानी करना और इन प्रोग्रामों को सही तरीके से संपन्न करने के लिए आवश्यक गाइडेंस और कंट्रोल रखने जैसे काम करना है. इस पोस्ट के लिए नियुक्ति की प्रक्रिया मेरिट पर आधारित है. कुछ PSUs अपने रिक्रूटमेंट एग्जाम्स भी लेते हैं. इस पोस्ट  के लिए आवश्यक योग्यता MBA की डिग्री है. वैसे अन्य PG कोर्सेज के स्टूडेंट्स भी इसके लिए पात्र हो सकते हैं. इस पोस्ट के लिए सभी PSUs द्वारा जारी वेकेंसियों की संख्या बहुत कम है. इस पोस्ट के लिए हर साल 50 से कम वेकेंसियां ही निकलती हैं.

भारत के विभिन्न PSUs में ज्वाइन कर सकते हैं मैनेजमेंट ट्रेनी की पोस्ट

हमारे देश में फ्रेशर MBA ग्रेजुएट्स के लिए मैनेजमेंट ट्रेनी एक और बढ़िया करियर ऑप्शन है. PSU के विभिन्न विभागों जैसे फाइनेंस, ऑपरेशन, ह्यूमन रिसोर्स में वेकेंसियां निकलती हैं. हरेक मैनेजमेंट ट्रेनी को सुपरवाइजरी और मैनेजीरियल पोस्ट के लिए ट्रेनिंग दी जाती है. इनकी नियुक्ति का मुख्य क्राइटेरिया मेरिट के आधार पर जॉब जॉइनिंग या PSUs द्वारा आयोजित एंट्रेंस एग्जाम क्वालीफाई करना है.

कुछ PSUs, जो मैनेजमेंट ट्रेनीज़ को नौकरियों की पेशकश करते हैं, उनमें से प्रमुख हैं – नेशनल प्रोजेक्ट्स कंस्ट्रक्शन कॉर्पोरेशन लिमिटेड, फ़र्टिलाइज़र्स एंड केमिकल्स त्रावणकोर लिमिटेड, मिश्र धातू निगम लिमिटेड, ड्रेजिंग कॉर्पोरेशन ऑफ़ इंडिया लिमिटेड आदि. इनमें से कुछ PSUs 1 - 2 साल के अनुभव की डिमांड भी करते हैं. इस जॉब के लिए कुल मिलाकर समुचित वेकेंसियां निकलती हैं. कुछ मामलों में ये वेकेंसियां एक साल में 01 हजार तक भी हो सकती है.

देश के विभिन्न PSUs और बैंकों में ज्वाइन कर सकते हैं जनरल मेनेजर की पोस्ट्स

जैसाकि नाम से पता चलता है, एक जनरल मैनेजर ऐसा व्यक्ति होता है जिसका प्रमुख काम प्रॉफिट और लॉस को देखते हुए रेवेन्यू और कॉस्ट (लागत) एलिमेंट्स की देखभाल करना है. हमारे देश में जनरल मैनेजर की पोस्ट की पेशकश करने वाले PSUs हैं – नेशनल डेयरी डेवलपमेंट बोर्ड (NDDB), ओडिशा माइनिंग कॉर्पोरेशन (OMC), स्टेट ट्रेड कॉर्पोरेशन ऑफ़ इंडिया, नेशनल स्मॉल इंडस्ट्रीज़ कॉर्पोरेशन लिमिटेड, BSNL, IFCI लिमिटेड, भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड (BEML). इस पोस्ट के लिए वेकेंसी - संख्या हरेक साल भिन्न होती है.

इस आर्टिकल में MBA करने के बाद उपलब्ध कुछ टॉप गवर्नमेंट जॉब्स की चर्चा की गयी है. उम्मीद है MBA की डिग्री हासिल करके सरकारी नौकरी करने की इच्छा रखने वाले स्टूडेंट्स के लिए यह जानकारी बहुत मददगार साबित होगी.

MBA से जुड़े विभिन्न विषयों के बारे में अधिक जानकारी और लेटेस्ट अपडेट्स प्राप्त करने के लिए आप www.jagranjosh.com पर रेगुलरली विजिट करते रहें.

Cat Percentile Predictor 2021
Comment (0)

Post Comment

7 + 4 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.