कॉलेज स्टूडेंट्स की वो पांच आदतें जो उन्हें जीवन में सफल बनाती हैं

यदि हम किसी कॉलेज स्टूडेंट से मिले और पूछे कि क्या आप अपने कॉलेज में टॉप करना चाहते हैं,तो लगभग सभी का यही जवाब होगा कि हाँ क्यों नहीं.

Updated: Oct 20, 2017 14:55 IST
Top 5 morning habits of straight-a students
Top 5 morning habits of straight-a students

यदि हम किसी कॉलेज स्टूडेंट से मिले और पूछे कि क्या आप अपने कॉलेज में टॉप करना चाहते हैं,तो लगभग सभी का यही जवाब होगा कि हाँ क्यों नहीं. लेकिन कॉलेज में टॉप करना कोई साधारण बात नहीं होती. इसके लिए कठिन मेहनत तथा नियमित दिनचर्या का पालन करना पड़ता है. कॉलेज में एडमिशन के बाद अक्सर छात्र नई स्वतंत्रता की चकाचौंध में अपने दायित्वों को नजरअंदाज करते हुए नहीं चाहते हुए भी सही रस्ते से भटक जाते हैं. कभी कभी ऐसा भी देखने को मिलता है कि देखने में अधिक परीश्रम करने वाले छात्र कम मार्क्स तथा ज्यादातर मौज मस्ती करने वाले छात्र बहुत अच्छे मार्क्स लाते हैं. दरअसल मौज मस्ती करने वाले छात्र अपने सही रूटीन की जानकारी आपको नहीं देते जिससे  सामान्यतः लोगों को ऐसा लगता है कि ये दिन भर पढ़ाई लिखाई छोड़कर मौज मस्ती करते रहते हैं. लेकिन ऐसी बात नहीं है उनकी सफलता के पीछे का राज उनका कठिन मेहनत करना तथा उनके द्वारा एक नियमित दिनचर्या का पालन किया जाना है. इसलिए यह जानना जरुरी है कि आखिर ये छात्र ऐसा क्या करते हैं कि पर्याप्त मौज मस्ती के बाद भी उन्हें बहुत अच्छे मार्क्स मिलते हैं तथा वे अपने जीवन में भी सफल होते हैं-

प्रातः सही समय पर उठना

अंग्रेजी में एक कहावत है जिसका अर्थ है कि प्रातः जल्दी उठने से व्यक्ति, सुखी, सम्पन्न और दीर्घायु होता है. सुबह का समय बहुत शांतिपूर्ण समय होता है तथा शान्ति के उस माहौल में किसी भी चीज को याद करना या समझना बहुत आसान होता है. हममे से अधिकांश लोग बचपन में स्कूल जाने के लिए सुबह जल्दी उठा करते थे लेकिन जब कॉलेज में आते हैं तो आलसीपन के कारण बहुत लोग अपनी इस आदत को छोड़कर देर रात तक जागने तथा सुबह लेट से उठने की आदत बना लेते हैं. लेकिन टॉपर या फिर सफल स्टूडेंट अपने जीवन में इस आदत को कभी नहीं छोड़ते तथा इसका निरंतर पालन करते हैं. ये हो सकता है कि इस दौरान वे पढ़ाई नहीं करते हों लेकिन इस समय उठकर वे व्यायाम  करते हैं या फिर किसी तरह के खेल का आनंद उठाते हुए फीजिकल वर्क कर अपने शरीर और मन दोनों को स्वस्थ्य रखते हैं. इनकी ये विशेषता होती है कि घड़ी का अलार्म बजते ही बिना उसे स्नूज किये आराम से उठ जाते हैं एवं अपने दैनिक कार्यों को संपन्न करते हैं.

अपने आप को स्फूर्ति युक्त रखने के साथ साथ अपने कमरे को स्वच्छ रखना

सुबह जल्दी उठ जाना ही पर्याप्त नहीं है. अगर आप सुबह उठ गए तथा आपको बार बार यह इच्छा हो रही हो की चलकर फिर से सो जायें या फिर गहरी नींद आ रही हो तो ऐसे उठने से कोई फायदा नहीं क्योंकि ऐसी स्थिति में कुछ भी प्रोडक्टिव नहीं कर पाएंगे. सुबह जल्दी उठने का मतलब होता है कि आप उस समय फ्रेश होकर कुछ ऐसा प्रोडक्टिव करें जो आपके लिए लाभदायक हो तथा आपकी सफलता का मार्ग प्रशस्त करे.  इसके अतिरिक्त जिस स्थान या कमरे विशेष में आप रहते हैं उसको स्वच्छ रखें ताकि आपको अपने कमरे में या किसी निश्चित स्थान विशेष पर कोई भी काम करने अथवा पढ़ाई करने में अच्छा लगे. आप एक नई स्फूर्ति तथा संचार के साथ अपना काम नित्य प्रति कर सके.

सुबह पौष्टिक नाश्ता करना

कहते हैं स्वस्थ्य शरीर में ही स्वस्थ दिमाग होता है. साथ ही यह बात तो सभी जानते हैं कि अगर स्वस्थ्य अच्छा न हो,तो हम कोई भी कार्य इस दुनिया में नहीं कर सकते. अतः किसी भी क्षेत्र में कार्य करने, सफल होने यहां तह की सही तरीके से सुख पूर्वक जीवन जीने के लिए भी स्वस्थ्य रहना अनिवार्य है. सुबह का नाश्ता दिन भर के भोजन का पहला चरण होता है.इसलिए इसको लेकर बहुत सजग रहना चाहिए. कभी भी सुबह का नाश्ता नहीं छोड़ना चाहिए. एक पुरानी कहावत है कि स्वस्थ्य रहने के लिए नाश्ता एक राजा की तरह, दोपहर का खाना राजकुमार की तरह तथा रात का खाना भिखारी की तरह करना चाहिए. ध्यान रखें सुबह का नाश्ता हमेशा पौष्टिक होना चाहिए. जितना अधिक हो सके जंक फ़ूड के इस्तेमाल से बंचें.

पर्याप्त नींद लेना तथा नियमित व्यायाम करना  

कॉलेज स्टूडेंट्स ज्यादतर अपने साथी मित्रों के साथ बातचीत करते करते समय व्यय करते हैं और इसी शीलशीले में रात को देर तक जागते हैं और सुबह जल्दी उठकर कॉलेज जाते हैं. ऐसी स्थिति में वे पर्याप्त नींद नहीं ले पाते. ध्यान रखिये स्वस्थ्य रहने तथा सही शारीरिक और मानसिक विकास के लिए पर्याप्त नींद लेना बहुत जरुरी है. कॉलेज स्टूडेंट को पर्याप्त नींद लेने की  कोशिश करनी चाहिए ताकि वे सुबह अच्छे मूड में अपना कॉलेज अटेंड कर पायें. इसके अतिरिक्त नियमित रूप से थोड़ा बहुत व्यायाम अवश्य करना चाहिए ताकि वे बिना किसी व्यवधान के शारीरिक तथा मानसिक रूप से स्वस्थ्य रह सकें.

समय की पाबंदी तथा अपनी ग्रोथ के विषय में चिंतन करना

टेक्नोलॉजी तथा आधुनिकता के इस युग में स्टूडेंट्स सुबह जल्दी उठकर भी अपने सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर बीजी हो जाते हैं.  उन्हें टिवी और मोबाइल की इस कदर आदत लग चुकी है कि वे सबसे पहले सुबह उठते इसी पर अपनी नजर दौड़ाते हैं. लेकिन कॉलेज स्टूडेंट्स के रूप में आपको इन सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर अपना समय व्यतीत करने की बजाय अपनी ग्रोथ के विषय में सोचना चाहिए तथा उसके अनुरूप मेहनत एवं  कार्य करना चाहिए. तभी आप कॉलेज में अच्छे मार्क्स लाने के साथ साथ भविष्य में एक सफल तथा कामयाब आदमी बन सकते हैं.

जीवन में सफलता के लिए बातों को जानना या सुनना जरुरी नहीं होता बल्कि जरुरी होता है किसी भी अच्छी या आपनाने योग्य बात को जानकर उस पर अमल करना. दुनिया में आपको कई ऐसे लोग मिलेंगे जो जानकारियों के भंडार होते हैं अर्थात किसी भी विषय पर उनकी जबर्दस्त पकड़ होती है लेकिन वे अपने जीवन में सफल नहीं होते. उनकी असफलता के पीछे मुख्य कारण विषयों पर अमल न करना होता है. अतः एक स्टूडेंट के रूप में यदि आप भी जीवन में कामयाब होना चाहते हैं तो ऊपर दिए गए बातों पर अमल कीजिये और फर्क देखिये.

Jagran Play
रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैश
ludo_expresssnakes_ladderLudo miniCricket smash
ludo_expresssnakes_ladderLudo miniCricket smash

Related Categories

Related Stories

Comment (0)

Post Comment

7 + 6 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.