Search

बौद्ध के युग में प्रशासनिक ढाँचा व सामाजिक जीवन (563- 483 B C )

बौद्ध धर्म ने गैर- वैदिक क्षेत्र के लोगों से विशेष अपील की जहाँ की अछूती धरती परिवर्तन के लिए तैयार थी | बौद्ध धर्म ने वर्ण प्रथा पर वार किया ताकि उन्हें निम्न जाति का समर्थन मिल सके | लोगों को बिना उनकी जाति को महत्व देते हुए बौद्ध क्रम  में लिया गया | महिलाओं को भी संघ में सम्मलित किया गया तथा उन्हें पुरुषों के बराबर लाया गया | ब्राह्मणवाद के तुलना में बौद्ध धर्म उदार तथा प्रजातांत्रिक था |
Aug 19, 2015 18:52 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

प्रशासनिक ढांचा

राजा अपने सबसे ऊंचे पद का आनंद लेता था और  सारे अधिकारी चाहे वह उच्च श्रेणी के हो या निम्न श्रेणी के राजा की मदद करते थे | राजा सेनापति हुआ करता था जिसका प्रमुख कर्तव्य अपने राज्य का हर जीत में नेत्रत्व करना था | केंद्र में उच्च अधिकारियों को महामंत्री के रूप में जाना जाता था | इन्हे शाही स्त्रीग्रह में कमांडर, मंत्री, मुख्य मुनीम, न्यायधीश तथा मुखिया के रूप में नियुक्त किया जाता था |

राज्य स्तर के उच्च अधिकारियों को अIयुक्त के नाम से जाना जाता था

ज़्यादातर राजा क्षत्रिय वर्ण से संबंध रखते थे जबकि मंत्री ब्राह्मण वर्ण से संबंध रखते थे | राजा का पद हमेशा वंशानुगत था |

ग्रामीणों पर उनके संबंधित मुखिया प्रशासन करते थे | मुखिया का कार्य ग्रामीणों से कर लेने के साथ कानून और व्यवस्था  भी बनाए रखना था | इन्हें ग्रामिणी, ग्रामभोजक या ग्रामिका के नाम से जाना जाता था |

जो अधिकारी पथ कर एकत्रित करते थे उन्हें शौल्कीक अथवा शुल्कध्यक्ष के नाम से जाना जाता था |

सामाजिक जीवन

समाज चार जातियों में विभाजित था – ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य तथा शूद्र

हर  एक जाति का कार्य समाज ने साफ़ निर्धारित किया हुआ था | क्षत्रिय जाति के लोग अपने देश के लिए लड़ते व बचाव करते थे  जबकि ब्राह्मण जाति के लोग राजा के पुजारी, गुरु व सलाहकार के रूप में

कार्य करते थे | वैश्य जाति में व्यापारी  व किसान आते थे जबकि शूद्र जाति में मज़दूर आते थे जो तीनों जातियों की सेवा करते थे |

शूद्र जाति वालों केओ समाज में सबसे निम्न स्थान होता था तथा इनके पास कोई भी क़ानूनी या धार्मिक अधिकार नहीं थे | समाज के उच्च जाति के लोग निम्न जाति के लोगों के साथ विवाह नहीं करते थे तथा उनसे दूरी बनाए रखते थे | यहाँ तक की नए धर्म जैसे बौद्ध और जैन धर्म भी समाज में कोई बदलाव नहीं ला पाये |

12वीं A D  के शुरुआत में बौद्ध धर्म भारत में समाप्त हो गया | यह बिहार व बंगाल में 11वीं सदी तक अपने बदले रूप में रहा परन्तु इसके बाद यह देश से पूरी तरह लुप्त हो गया |