Search

राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड: इतिहास, कार्य और जरूरी तथ्य

देश को आतंकी गतिविधियों से बचाने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) का गठन 22 सितंबर 1986 को किया गया था. NSG का गठन जर्मनी के GSG-9 और यूनाइटेड किंगडम के SAS के पैटर्न पर किया गया था. राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG); भारत सरकार के गृह मंत्रालय के नियंत्रण में आता है.
Nov 2, 2019 15:57 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
NSG Commandos
NSG Commandos

राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य (Important facts about NSG)

NSG के प्रमुख: महानिदेशक

मुख्यालय: नई दिल्ली

मंत्रालय: गृह मंत्रालय

कर्मचारी: 7,350 सक्रिय कर्मी

वार्षिक बजट: 816 करोड़ रुपये (2017-18)

मुख्य ऑपरेशन किए गए

i. ब्लैक थंडर 

ii. अश्वमेध 

iii.जम्मू और कश्मीर में कॉम्बैट मिशन

iv. वज्र शक्ति

v. ब्लैक टारनेड़ो

राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड का इतिहास History of The National Security Guard (NSG)
भारत को NSG जैसे सशख्त बल की जरूरत 1984 के ऑपरेशन ब्लू स्टार के दौरान पड़ी थी. इस ऑपरेशन के दौरान, केंद्र सरकार को लगा था कि यदि उसके पास एक स्पेशल फ़ोर्स होता तो वह इस मामले को आसानी से सुलझा लेती.

वर्ष 1984 में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारतीय जमीन पर आतंकी गतिविधियों से निपटने के लिए एक संघीय आकस्मिक बल (Federal Contingency Force) बनाने का निर्णय लिया था.  इसलिए अगस्त 1986 में भारतीय संसद में एक विधेयक पेश किया गया और भारत के राष्ट्रपति ने 22 सितंबर 1986 को इस विधेयक को मंजूरी दे दी और राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) औपचारिक रूप से इसी तारीख से अस्तित्व में आया था.

राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) क्या है What is National Security Guard (NSG)?

राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) देश के किसी भी हिस्से में आतंकी गतिविधियों से निपटने के लिए एक विशेषज्ञ बल है. यह विश्व स्तरीय "शून्य त्रुटि बल" है. अर्थात यह अपनी गतिविधियों में गलतियाँ नहीं करता है. NSG का गठन; केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों, भारतीय सेना और राज्य पुलिस बलों के अधिकारियों / कर्मियों की मदद से किया जाता है.

NSG, अपने प्रशिक्षण और परिचालन उपलब्धियों और समर्पण के  एक कारण खतरनाक बल (formidable Force) बन गया है. NSG के जवानों को काले कपड़े पहनने के कारण ‘ब्लैक कैट’ भी कहा जाता है जो कि ‘ब्लैक पैंथर’ जैसी चपलता को दर्शाने के लिए सटीक है. इनकी ड्रेस के ऊपर ब्लैक कैट के चिन्ह भी होता है.

NSG का मोटो "सर्वत्र सर्वोत्तम सुरक्षा" है. यही कारण है कि यह बल "नेवर गिव अप" के उद्देश्य से ऑपरेशन को पूरा करता है. यह कहने में गर्व महसूस होता है कि जब भी, जहाँ भी  एनएसजी को कोई काम सौंपा जाता है तो यह फ़ोर्स अपनी सटीकता और साहस के साथ अपने काम को अंजाम देता है.

राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड का गठन क्यों किया गया (Why was the National Security Guard formed)
NSG की स्थापना के पीछे मूल उद्येश्य एक ऐसा समर्पित, जिम्मेदार और फुर्तीले टास्क फोर्स का गठन करना था, जो कि देश के किसी भी हिस्से में आतंकवाद की सभी गतिविधियों पर तेजी से प्रहार कर सके.

NSG एक कार्य उन्मुख बल (Task Oriented Force) है इसकी सहायता के लिए 2 अन्य ग्रुप  विशेष रेंजर समूह (SRG) और विशेष क्रिया समूह (SAG) होते हैं.

विशेष रेंजर समूह (SRG) में केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों और राज्य पुलिस बलों से लाये गए कर्मी होते हैं जबकि विशेष कार्रवाई समूह (SAG); सेना के कर्मियों से बनाया जाता है.

आपको याद होगा कि मुंबई हमलों के समय एसपीजी के मेजर संदीप उन्नीकृष्णन शहीद हो गये थे. संदीप उन्नीकृष्णन; SAG के ही जवान थे.
राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी); राष्ट्र की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी चुनौतियों का सामना करने के लिए 24x7 तैयार रहता है.

राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) के कार्य (Functions of National Security Guard (NSG)

1. भूमि, समुद्र और वायु पर हवाई और पोत अपहरण को रोकना 

2. बम निपटान करना (IEDs की खोज, पता लगाना और बम निष्क्रिय करना)

3. पोस्ट ब्लास्ट इन्वेस्टिगेशन (PBI) अर्थात किसी भी बम धमाके की घटना के बाद जांच का कार्य करना.

4. आतंकियों द्वारा बंधक बनाये गये लोगों को सुरक्षित छुड़ाना. जैसे 26/11 के मुंबई हमलों के दौरान ताज होटल में बंधक बचाव मिशन NSG द्वारा ही किया गया था. 

5. वीआईपी सुरक्षा (जैसे कैबिनेट मंत्रियों और अन्य प्रतिष्ठित व्यक्तियों को सुरक्षा) देना.

इस प्रकार ऊपर लिखे गये लेख से यह स्पष्ट है कि NSG का गठन देश को आतंकी गतिविधियों से मुक्त रखने के लिए ही किया गया है. हम सब भारतीयों के लिए यह गर्व की बात है कि NSG अपने उत्तरदायित्वों का ठीक से पालन कर रहा है.

भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों (NSA) की सूची

भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के क्या-क्या कार्य होते हैं?