Search

छत्रपति शिवाजी महाराज द्वारा लड़े गये विभिन्न लड़ाइयों की सूची

17वीं सदी के शुरुआत में मराठों के एक नए सैन्य वर्ग का उत्थान हुआ, जब पुणे के भोसले परिवार ने अहमदनगर साम्राज्य से सैन्य और राजनीतिक लाभ प्राप्त किया। भोसले परिवार ने स्थानीय होने का लाभ उठाते हुए कई विशेषाधिकार प्राप्त किए और अपनी सेना में बड़ी संख्या में मराठा सरदार और सैनिकों की भर्ती की। शिवाजी एक निपुण सैनिक और कुशल प्रशासक थे। यहां, हम सामान्य जागरूकता के लिए छत्रपति शिवाजी महाराज द्वारा लड़े गए विभिन्न लड़ाइयों की सूची दे रहे हैं।
Oct 18, 2017 12:59 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

17वीं सदी के शुरुआत में मराठों के एक नए सैन्य वर्ग का उत्थान हुआ, जब पुणे के भोसले परिवार ने अहमदनगर साम्राज्य से सैन्य और राजनीतिक लाभ प्राप्त किया। भोसले परिवार ने स्थानीय होने का लाभ उठाते हुए कई विशेषाधिकार प्राप्त किए और अपनी सेना में बड़ी संख्या में मराठा सरदार और सैनिकों की भर्ती की। शिवाजी एक निपुण सैनिक और कुशल प्रशासक थे। यहां, हम सामान्य जागरूकता के लिए छत्रपति शिवाजी महाराज द्वारा लड़े हुए विभिन्न लड़ाइयों की सूची दे रहे हैं।

Chhatrapati Shivaji Maharaj

Source: www.whoa.in

छत्रपति शिवाजी महाराज द्वारा लड़े गये विभिन्न लड़ाइयों की सूची

युद्ध का नाम

विवरण

प्रतापगढ़ की लड़ाई

10 नवंबर, 1695 को छत्रपति शिवाजी महाराज और आदिलशाही जनरल अफजल खान की सेनाओं के बीच सतारा, महाराष्ट्र के निकट प्रतापगढ़ के किले में के पास हुयी थी।

कोल्हापुर की लड़ाई

28 दिसंबर, 1696 को कोल्हापुर शहर के मराठा छत्रपति शिवाजी और आदिलशाही सैनिको के बीच हुआ था।

पवन खंद की लड़ाई

13 जुलाई 1660 को किला विशालगड़ के पास मराठा सरदार बाजी प्रभु देशपांडे और आदिलशाह के सिद्दी मसूद के बीच हुआ था।

चकन की लड़ाई

1660 में मराठा साम्राज्य और मुगल साम्राज्य के बीच में हुआ था।

अम्बरखिंड का युद्ध

2 फरवरी 1661 को छत्रपति शिवाजी के अधीन मराठा और मुगलों के कार्तलब खान के बीच हुआ।

सूरत की बर्खास्तगी

5 जनवरी 1664 को छत्रपति शिवाजी महाराज और मुगल कप्तान इनायत खान के बीच सूरत शहर के पास हुआ था।

पुरंदर की लड़ाई

1665 में मुगल साम्राज्य और मराठा साम्राज्य के बीच में हुआ था।

सिंहगढ़ की लड़ाई

4 फरवरी, 1670 को पुणे शहर, महाराष्ट्र के निकट सिंहगढ़ के किले के पास, मराठा शासक शिवाजी महाराज और उदयभान राठोड़ के बीच में हुआ था।

कल्याण की लड़ाई

1682 से 1683 तक युद्ध चला, जिसमें मुगल साम्राज्य के बहादुर खान ने मराठा सेना को हराया।

भूपलगढ़ की लड़ाई

1697 में मुगल और मराठा साम्राज्यों के बीच हुआ था, जिसमें मुगल ने मराठों को हराया था।

संगमनेर की लड़ाई

1698 में मुगल साम्राज्य और मराठा साम्राज्य के बीच हुआ था और शिवाजी महाराज की यह आखिरी लड़ाई थी।

शिवाजी महाराज के उत्तराधिकारी

शिवाजी ने 18 साल की उम्र में अपनी ताकत दिखानी शुरू कर दी थी और उन्होंने पूना, रायगढ़, कोंडाणा और तोरना के पास कई पहाड़ी किलों पर कब्जा कर लिया था। उन्होंने 1656 में मराठा प्रमुख चंद्र राव के विरूद्ध विजय प्राप्त कर जाबली के किले को अपने कब्जे में कर लिया था। जाबली के किले पर विजय प्राप्त करने के कारण मावल क्षेत्र में उनका एकछत्र साम्राज्य स्थापित हो गया था, जिसके बाद उन्होंने सातारा और कोंकण के तटीय क्षेत्र में अपने साम्राज्य के विस्तार के लिए अपने कदम बढ़ाए. छत्रपति शिवाजी महाराज द्वारा लड़े लड़ाइयों की उपरोक्त सूची से पाठकों के सामान्य ज्ञान में वृद्धि होगी।

आधुनिक भारत का इतिहास: सम्पूर्ण अध्ययन सामग्री