Search

महत्वपूर्ण मिश्रधातु और उनके उपयोग की सूची

एक मिश्रधातु धातुओं या किसी अन्य तत्व का मिश्रण होता है। यह दो या दो से अधिक तत्वों का ठोस मिश्रण हो सकता है जिसमें से कम से कम एक तत्व मिश्रण होना चाहिए| इसके अलावा, द्रव अवस्था में मिश्रधातु समांगी होते हैं, लेकिन ठोस अवस्था में वे समांगी या विषमांगी दोनों हो सकते हैं| इस लेख में विभिन्न मिश्रधातु, उसके घटक एवं उपयोग की सूची दी गई है जो विभिन्न परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्र-छात्राओं के लिए काफी उपयोगी है|
Dec 22, 2016 16:20 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

एक मिश्रधातु धातुओं या किसी अन्य तत्व का मिश्रण होता है। यह दो या दो से अधिक तत्वों का ठोस मिश्रण हो सकता है जिसमें से कम से कम एक तत्व मिश्रण होना चाहिए| इसके अलावा, द्रव अवस्था में मिश्रधातु समांगी होते हैं, लेकिन ठोस अवस्था में वे समांगी या विषमांगी दोनों हो सकते हैं| क्या आपको पता है कि मिश्रधातु में तत्वों के रासायनिक गुण बरकरार रहते हैं, लेकिन इसके कुछ भौतिक गुणों में बदलाव किया जा सकता है? विभिन्न मिश्रधातुओं का उपयोग विभिन्न प्रयोजनों के लिए किया जाता है। “अमलगम” एक मिश्रधातु है जो पारा से बनता है। इस लेख में विभिन्न मिश्रधातु, उसके घटक एवं उपयोग की सूची दी गई है जो विभिन्न परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए काफी उपयोगी है|

धातु निष्कर्षण, पेट्रोलियम, स्टील, जंग व सीमेंट ग्लास की मूलभूत जानकारी

वर्तमान समय में सबसे महत्वपूर्ण मिश्रधातु इस्पात (steel) है| इस्पात (steel) में कई उपयोगी गुण पाए जाते हैं| जैसे- जंग प्रतिरोधकता, लचीलापन एवं कठोरता आदि|                                            

Jagranjosh

Source: www.images.slideplayer.com

मिश्रधातु इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि इनमें संघटक तत्वों (जिन तत्वों से मिलकर बनते हैं) से बेहतर गुण पाए जाते हैं| उदाहरण के लिए “स्टेनलेस स्टील” अपनी जंग प्रतिरोधकता के कारण एक महत्वपूर्ण मिश्रधातु है|

महत्वपूर्ण मिश्रधातु और उनके उपयोग की सूची

मिश्रधातु

संघटन

उपयोग

 पीतल

 Cu (70%), Zn (30%)

 बर्तन बनाने में

 कांसा

 Cu (90%), Sn (10%)

 सिक्के, घंटी और बर्तन बनाने में

 जर्मन सिल्वर

 Cu (60%), Zn (20%), Ni (20%)

 बर्तन बनाने में

 रोल्ड गोल्ड

 Cu (90%), Al (10%)

 सस्ते आभूषण बनाने में

 गन मेटल

 Cu (88%), Sn (10%), Zn (1%), Pb (1%)

 बंदूक, बैरल, गियर और बायरिंग बनाने में

 डेल्टा मेटल

 Cu (60%), Zn (38%), Fe (2%)

 हवाई जहाज के डैने (पंख) बनाने में

 मुंज मेटल

 Cu (60%), Zn (40%)

 सिक्के बनाने में

 डच मेटल

 Cu (80%), Zn (20%)

 कृत्रिम आभूषण बनाने में

 मोनल मेटल

 Cu (70%), Ni (30%)

 आधार वाले कंटेनर बनाने के लिए

 रोज मेटल

 Bi (50%), Pb (28%), Sn (22%)

 स्वचालित फ्यूज बनाने में

 सोल्डर

 Pb (50%), Sn (50%)

 सोल्डिंग करने में

 मैग्नेलियम

 Al (95%), Mg (5%)

 हवाई जहाज की बॉडी बनाने में

 ड्यूरेलुमिन

 Al (94%), Cu (3%), Mg (2%), Mn (1%)

 बर्तन बनाने में

 टाइप मेटल

 Sn (5%), Pb (80%), Sb (15%)

 प्रिंटिंग उद्योग में

 बेल मेटल

 Cu (80%), Sn (20%)

 घंटी और मूर्ति बनाने में

 स्टेनलेस स्टील

 Fe (75%), Cr (15%), Ni (9.5%), C (.05%)

 बर्तन एवं सर्जिकल औजार बनाने में

 निकेल स्टील

 Fe (95%), Ni (5%)

 बिजली के तार एवं वाहनों के पुर्जे बनाने में

उपरोक्त सारणी में कुछ महत्वपूर्ण मिश्रधातु और उनके उपयोग का वर्णन किया गया है| लेकिन सवाल यह है कि कैसे मिश्रधातु बनता है और धातुओं को कैसे आपस में मिलाया जाता है| परंपरागत रूप से मिश्रधातु के निर्माण के लिए धातु को गर्म करके पिघलाया जाता है| फिर उस तरल पदार्थ को अच्छी तरह से मिलाकर ठंढा किया जाता है जिससे वह ठोस रूप ले लेता है| लेकिन मिश्रधातु के निर्माण में कुछ और तरीकों जैसे “पाउडर धातुकर्म” का भी उपयोग किया जाता है| इस विधि में, मिश्रधातु के घटकों को सर्वप्रथम पाउडर (चूर्ण) में बदल दिया जाता है| इसके बाद पूरे मिश्रण को अच्छी तरह से मिलाया जाता है| तत्पश्चात सम्पूर्ण मिश्रण को उच्च ताप एवं दाब पर पिघलाया जाता है| इसके अलावा मिश्रधातु बनाने के लिए एक अन्य विधि “आयन आरोपण” (Ion implantation) है, जिसमें इलेक्ट्रॉनिक सर्किट और कंप्यूटर चिप्स में अर्धचालकों का इस्तेमाल करके मिश्रधातु बनाया जाता है|

अयस्क में पायी जाने वाली अशुद्धियों को कैसे अलग किया जाता है?