Search

पदार्थ: परिभाषा एवं उनकी अवस्थाएं

ऐसा कुछ भी जिसमें घनत्व होता है, जो स्थान घेरता है और जिसे हम एक या एक से अधिक इंद्रियों द्वारा महसूस कर पाते हैं, वह पदार्थ (Matter) कहलाता है। ये विभिन्न प्रकार के पदार्थ है जिनके पास मास, आयतन है और जो स्थान घेरते हैं। वे ठोस, तरल, गैस और प्लाज्मा के रूप में मौजूद है। इसमें हम पदार्थों के विषय मे अध्ययन करेंगे और वे कितने प्रकार के होते है, कैसे कार्य करते है आदि के बारे मे भी जानेंगे |
May 12, 2017 13:34 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon

ऐसा कुछ भी जिसमें घनत्व होता है, जो स्थान घेरती है और जिसे हम एक या एक से अधिक इंद्रियों द्वारा महसूस कर पाते हैं, वह पदार्थ (Matter) कहलाता है। उदाहरण के लिए -हवा और पानी ; हाइड्रोजन और ऑक्सीजन; चीनी और रेत; चांदी और स्टील; लोहे और लकड़ी; बर्फ और शराब; दूध और तेल; कार्बन डाइऑक्साइड और भाप; कार्बन और सल्फर; चट्टानों और खनिज आदि। ये विभिन्न प्रकार के पदार्थ है जिनके पास मास, आयतन है और जो स्थान घेरते हैं। वे ठोस, तरल, गैस और प्लाज्मा के रूप में मौजूद होते है।

दूसरे शब्दों में हम कह सकते है कि यह वो पदार्थ है जो स्थान घेरते है, जिनका निश्चित मास है, जो दबाव लगा सकते हैं;  भौतिक प्रतिरोध का उत्पादन कर सकते हैं, और जिसका अस्तित्व हमारी इंद्रियों द्वारा महसूस किया जा सकता हैं।

states-of-matter

पदार्थ (Matter) के प्रकार:

पदार्थ को संरचना के आधार पर दो श्रेणियों में विभाजित किया जाता है: 

(i) भौतिक संरचना

(ii) रासायनिक संरचना 

भौतिक संरचना:

इस संरचना में पदार्थ पूरी तरह से उनके अणुओं के बीच मौजूदा आणविक (intermolecular)  बलों पर निर्भर करता है  । भौतिक संरचना के आधार पर पदार्थ को तीन समूह में विभाजित किया गया है –ठोस (solid), तरल (liquid) और गैस (gas)

महत्वपूर्ण मिश्रधातु और उनके उपयोग की सूची

ठोस (solid):

Solidइस प्रकार में, पदार्थ का निश्चित आकार और निश्चित आयतन होता है क्योंकि उनके पदार्थ के अणुओं के बीच का आकर्षण के आणविक (intermolecular) बलों  उनके पृथक्करण के बलों से ज्यादा मजबूत होते हैं और इसलिए पदार्थ के अणु सघन रूप में संकुचित रहते है। उदाहरण के लिए - टेबल, किताब, पत्थर के टुकड़े आदि।

तरल (liquid):

Liquidइस प्रकार में, पदार्थ कि निश्चित आयतन लेकिन अनिश्चित आकार होता है जैसे - पानी, दूध, तेल, शराब आदि क्योंकि उनके अणुओं के बीच का आकर्षण आणविक (intermolecular)  बल  उनके corresponding (ततस्थानी) पृथक्करण बल से केवल थोड़ा ही अधिक होते हैं और इसलिए तरल के अणुओं कम घनी संकुचित होते है और पदार्थ के अंदर स्वतंत्र रूप से घूमते है।

गैस (gas) :

Gasइस प्रकार में, चीज या पदार्थ का अनिश्चित आकार और माप होता हैं जैसे - हवा, H2, N2 और O2 आदि क्योंकि उनके आकर्षण का आणविक (intermolecular) बल उनके corresponding (ततस्थानी) आकर्षण के बल से कमजोर होता है। गैस कणों के जगहों के बीच एक बड़ा स्पेस होता है और उनकी उच्च गतिज ऊर्जा (kinetic energy) होती है। जब एक गैस को दबाव के तहत बरतन का आद्यतन क्षेत्र को कम करके रखा जाता है, तब कणों के बीच की जगह कम हो जाती है, और उनके टकराव के द्वारा दबाव बढ़ जाता है । अगर बरतन के आद्यतन को स्थिर रखे और गैस के तापमान को बढ़ा दे, तब दबाव ( pressure) में वृद्धि होजाती है।

पदार्थ और उसकी अवस्थाएं पर आधारित सामान्य ज्ञान प्रश्नोतरी

रासायनिक संरचना:

पदार्थ (Matter) को तीन समूहों में विभाजित किया गया है- तत्व (elements), यौगिक (compound) और मिश्रण (mixture) |

तत्व (elements) : यह वह मौलिक चीज या पदार्थ है जो दो या दो से अधिक अलग अलग घटकों में विघटित या पृथक नहीं हो सकता है, जिनके किसी भी भौतिक या रासायनिक प्रक्रिया के द्वारा अलग अलग गुण या विशेषताएँ है । इलेक्ट्रॉनिक विन्यास (electronic configuration) के आधार पर, एक तत्व वैसा पदार्थ है जिसका परमाणु प्रभार एक जैसा है अर्थार्थ बराबर है। यह दो प्रकार के होते है -धातु (Metal)  और गैर धातु (Non-metal)। आमतौर पर धातु, बिजली और ताप के सुचालक होते है और ज्यादातर ठोस अवस्था में पाये जाते है जो नरम और तार में खींचने योग्य (ductile) होते है जबकि गैर धातु बिजली और ताप के कुचालक होते है और ये नाजुक (टूटने योग्य ) होते है।

यौगिक (compound) : यह वह चीज या पदार्थ है जो रासायनिक संयोजन द्वारा दो अधिक तत्वों को एक निश्चित अनुपात में बनाया गया है और गठित यौगिक का भौतिक और रासायनिक गुण उसके घटक या घटक तत्वों से अलग हैं।  उदाहरण – पानी, हाइड्रोजन और ऑक्सीजन (Oxygen) से गठित होता है।

मिश्रण (mixture) : यह वह चीज या पदार्थ है जो केवल एक अनिश्चित अनुपात के दो या दो से अधिक शुद्ध तत्वों के भौतिक संयोजन द्वारा बनाई जाती है। उदाहरण - वायु, पीतल (कॉपर+ जस्ता) आदि।

धातुः गुण और प्रतिक्रिया श्रृंखला