जानें UPPCS Prelims परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

Sep 11, 2018 13:26 IST
  • Read in English

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने UPPCS Prelims 2018 परीक्षा में Negative Marking लागू की है जिसके कारण परीक्षा का प्रारूप पूरी तरह से बदल गया है. इस लेख में हम बदले हुए परिदृश्य में UPPCS Prelims परीक्षा की तैयारी करने के लिए Tips और Strategies पर बात करेंगे। यह tips, आपका selection सुनिश्चित कर सकती हैं.

UPPCS Prelims परीक्षा में,  सामान्य अध्ययन I पेपर पारंपरिक विषयों जैसे इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, भारतीय राजव्यवस्था ,पर्यावरण और पारिस्थितिकीय अवधारणाओं, सामान्य विज्ञान और Current Affairs से संबंधित है। सामान्य अध्ययन II पेपर केवल क्वालीफाई करना होता है जिसके लिए 33% अंकों की आवश्यकता है।

प्रत्येक वर्ष UPPCS परीक्षा में लगभग 4 लाख उम्मीदवार भाग होते हैं और UPPCS Prelims परीक्षा में cutoff हमेंशा ही ज्यादा रहती है। लेकिन इस वर्ष किये गए बदलाव से यह अनुमान लगाया जा सकता है की, इस साल UPPCS Prelims परीक्षा में Negative Marking के कारण cutoff कुछ निचले स्तर पर रहेगी । 2017 के बाद से UPPCS Prelims परीक्षा के पैटर्न में बदलावों के साथ साथ इस बार Negative Marking के साथ उच्च अंक प्राप्त करना बहुत मुश्किल होगा। यह एक चुनौती तथा एक मौका दोनों ही है क्योंकि सभी के लिए यह नया अनुभव होगा और सभी एक समान धरातल पर होंगे.

नीचे दी गयीं कुछ tips आपके सिलेक्शन को सुनिश्चित कर सकती हैं.

1. विषय की मूल बातें ध्यान रखें

इस वर्ष UPPCS Prelims परीक्षा में Negative Marking सही उत्तर अंकित करने पर पूरे अंक मिलेंगे परन्तु गलत उत्तर देने पर 33 % अंक कट जायेंगे. इसलिए सभी विषयों के मूलभूत सिद्धांत आपको याद होने चाहिए । उम्मीदवारों को डेटा सही तरीके से याद रखना अति आवश्यक है ताकि तथ्यों पर आधारित प्रश्नों का सही उत्तर अंकित कर सकें ।
UPPCS Prelims परीक्षा में क्षेत्रीय इतिहास,भूगोल और राज्य की क्षेत्रीय लोक संस्कृति का ज्ञान भी आवश्यक है. यह ज्ञान अभ्यर्थी को एक कदम आगे रखेगा.

2. सर्वश्रेष्ठ किताबों का अध्ययन करें

अच्छी किताबें अच्छी तरह से structured होती हैं और इसलिए उम्मीदवारों को विषय से सम्बंधित अवधारणा और शॉर्टकट बनाने में मदद करती हैं। सटीक जानकारी से ही Negative Marking की हानि को कम किया जा सकता है . यह दिए गए विकल्पों में से गलत विकल्प को समाप्त करने में भी मदद करता है .

कुछ सर्वश्रेष्ठ पुस्तके हम यहाँ बता रहें हैं
भारतीय राजनीति के लिए लक्ष्मीकांत
इतिहास, भूगोल और अर्थव्यवस्था के लिए NCERT पुस्तकें
Environment and Ecology के लिए NIOS तथा IGNOU की अध्ययन सामग्री
General Science विषयों के लिए Lucent Book
कर्रेंट अफेयर्स के लिए jagranjosh की मासिक पत्रिका

3. कर्रेंट अफेयर्स का महत्व

जैसा कि पिछले वर्ष के पेपर्स में देखा गया है की कर्रेंट अफेयर्स से सबसे ज्यादा प्रश्न पूछे जाते हैं. इसलिए भी यह सबसे महत्वपूर्ण विषय बन जाता है. कर्रेंट अफेयर्स के टॉपिक्स बहुत अधिक होते है तथा कम समय होने के कारण इसकी तैयारी बहुत कठिन हो जाती है. साथ ही साथ हर साल नयी घटनाएं होती हैं जो की नए सिरे से तैयार करनी चाहिए.UPPCS Prelims परीक्षा के लिए राज्य विशिष्ट कर्रेंट अफेयर्स बहुत महत्वपूर्ण हैं।

4. गत वर्षों के प्रश्न पत्र

पिछले वर्षों के प्रश्न पत्र,परीक्षा का वास्तविक अनुभव देते हैं । पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों के साथ अभ्यास करने से उम्मीदवारों का आत्मविश्वास भी बढ़ता है। पिछले वर्षोंके प्रश्न पत्र को हल करने से अभ्यर्थियों को Most Important Topics का अंदाज़ा भी हो जाता है.इस अभ्यास से तैयारी में उल्लेखनीय अंतर पड़ता है ।

5. Negative Marking के लिए सुझाव

Negative Marking से निपटने का एक निश्चित तरीका यह है की सभी डेटा याद कर लिया जाए। हालांकि, यह बहुत कठिन है और एक असंभव कार्य है । इसलिए Negative Marking के दुष्प्रभाव से बचने के लिए यही सुझाव है की अभ्यर्थी वही प्रश्न करें जिनका उन्हें पूर्ण ज्ञान हो या जिसके बारे में वह अंदाजा लगा सकें. ऐसे प्रश्न बिलकुल ना करें जिनके बारे में उन्हें कुछ नहीं पता.

एक और तरीके से भी Negative Marking के दुष्प्रभाव को कम किया जा सकता है वह तरीका है intelligent और calculated guess का.उम्मीदवारों के दिमाग में निष्क्रिय अवस्था में बहुत सारी जानकारी मौजूद होती है, जिसका उपयोग किसी दिए गए प्रश्न के उत्तर विकल्पों की तुलना करके उपयोग किया जा सकता है। अच्छी किताबें पढने से प्रश्न में दिए गए गलत विकल्पों को हटाने में सहायता करता है. उम्मीदवार के पास कम से कम दो विकल्प को खत्म करने का ज्ञान होना चाहिए तभी इस विधि को क्रियान्वित करना चाहिए.

दो में से सही उत्तर देने की Probability 50% है. इस विधि से यदि अभ्यर्थी 4 प्रश्नों में से तीन गलत और एक सही हो तो भी अभ्यर्थी को कोई भी हानि नहीं होगी. लेकिन यदि 4 प्रश्नों में से 2 सही हो जाते हैं तो अभ्यर्थी फायदे में ही रहेगा. परन्तु यह विधि अपनाने की शर्त यही है की अभ्यर्थी को कम से कम दो विकल्प के बारे में पता हो की वे गलत हैं.

6. पेपर में Time Management

UPPCS Prelims तैयारी में Time Management सबसे अनदेखा परन्तु बहुत ही महत्वपूर्ण घटक है।सही Time Management का मतलब है कि प्रश्न पत्र को कुशल और प्रभावी तरीके से पढ़ें तथा first reading में जो प्रश्न आते हो उनको उत्तर पुस्तिका पे अंकित कर दें तथा जो प्रश्न नहीं आते उन्हें Mark कर ले.
Second Reading में Mark किये गए प्रश्नों को हल करने का प्रयास करें. जिन प्रश्नों के बारे में पढ़ा हो उन्हें अनुमान लगाकर हल करने का प्रयास करें.

UPPCS Prelims परीक्षा के नए पैटर्न तथा Negative Marking ने सभी को एक ही level पर लाकर खड़ा कर दिया है.अब यह परीक्षा और ज्यादा निष्पक्ष और केवल ठोस ज्ञान पर आधारित हो गयी है ।

शुभकामनाएं!

DISCLAIMER: JPL and its affiliates shall have no liability for any views, thoughts and comments expressed on this article.

Latest Videos

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK
X

Register to view Complete PDF