आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल की वेतन वृद्धि, जानिए क्या है नया वेतन

आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल को भारत के प्रमुख बैंक डिप्टी गवर्नर्स के साथ वेतन में बहुत अधिक बढ़ोतरी का पुरस्कार मिला है l नए वेतन संरचना के अनुसार, आरबीआई के गवर्नर को अब बतौर मूल वेतन (बेसिक सैलरी) 2.5 लाख रुपये मिलेगें जबकि आरबीआई के डिप्टी गवर्नरों का मूल वेतन 2.25 लाख रुपये होगा l

 

अप्रैल का महीना वेतन वृद्धि और अप्रेजल को समर्पित होता है और बैंकिंग की नौकरियां भी इससे अछूती नहीं हैं l यदि आप सोच रहे हैं कि बैंक की नौकरियों जैसी सरकारी नौकरियों में वेतन एक सीमा तक ही बढ़ता है और वह बहुत आकर्षक नहीं होता, तो आप कुछ हद तक गलत नहीं हो सकते हैं l भारत के टॉप बैंकर और आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल का ही उदाहरण लीजिए l  

आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल को भारत के प्रमुख बैंक डिप्टी गवर्नर्स के साथ वेतन में बहुत अधिक बढ़ोतरी का पुरस्कार मिला है l हाल की मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सरकार ने आरबीआई के गवर्नर और डिप्टी गवर्नरों के वेतन में लगभग दोगुना बढ़ोतरी कर दी है l नए वेतन संरचना के अनुसार, आरबीआई के गवर्नर को अब बतौर मूल वेतन (बेसिक सैलरी) 2.5 लाख रुपये मिलेगें जबकि आरबीआई के डिप्टी गवर्नरों का मूल वेतन 2.25 लाख रुपये होगा l संशोधन के बाद आरबीआई के गवर्नर के एक महीने का वेतन कुल करीब 3.70 लाख रुपये होगा l  

इससे आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल को अब तक मिलने वाले मूल वेतन 90,000 रु. और डिप्ट गवर्नरों को मिलने वाले 80,000 रु.  के मूल वेतन में काफी बढ़ोतरी हो गई है l  इसके बारे में एक और दिलचस्प पहलू यह है कि वेतन में की गई यह बढ़ोतरी 1 जनवरी 2016 से प्रभावी होगी l

आरबीआई की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार, वेतन वृद्धि से पहले, आरबीआई के उच्चाधिकारियों को कुल 2,09,500 रु. का वेतन पैकेज मिलता था जिसमें मूल वेतन, महंगाई भत्ता और अन्य भुगतान शामिल होते थे l  यह वेतन उनके पूर्ववर्ती रघुराम राजन के वेतन जैसा ही था l  

वृद्धि से पहले आरबीआई गवर्नर के वेतन का विवरण

घटक

वेतन वृद्धि  से पहले

वृद्धि के बाद

मूल वेतन

90,000/– रु.  

2.5 लाख रु.  

महंगाई भत्ता

1,12,500/– रु.

1,12,500/– रु.  

अन्य

7,000/– रु.  

7,000/– रु.  

कुल

2,09,500/–रु.  

3.70/– लाख रु. l

 यदि हम बाकी के सभी घटकों को पहले जैसा रखें तो मूल वेतन में वृद्धि के आधार पर आरबीआई के गवर्नर का संशोधित वेतन 3.70 लाख रु. तक पहुंच जाएगा l  

आरबीआई के गवर्नर के साथ उनके उप– सहयोगियों (डिप्टी गवर्नर) के वेतन में भी इस समय वृद्धि की गई है l  फिलहाल, आरबीआई में चार डिप्टी गवर्नर हैं, जिसमें आर गांधी, एस एस मुंद्रा, एन एस विश्वनाथन और विरल वी आचार्य शामिल हैं l इन सभी चारों अधिकारियों को पूर्व में मिल रहे 80,000 रु. के मासिक  मूल वेतन के स्थान पर 2.25 लाख रु.  का संशोधित मूल वेतन मिलेगा l  

रघुराम राजन के वेतन में वृद्धि

हालांकि, पटेल ही एक मात्र ऐसे गवर्नर नहीं हैं जो वेतन में होने वाली वृद्धि का लाभ उठाएंगे l उर्जित पटेल के पूर्ववर्ती राजन ने भी आरबीआई में अपने कार्यकाल के दौरान वेतन में कई बार वृद्धि का लाभ उठाया है l सितंबर 2013 में आरबीआई के गवर्नर बनने के बाद राजन का वेतन पैकेज 1.69 लाख रु.  का था l  राजन ने पहला वेतन वृद्धि 2014 में पाया और उनका संशोधित वेतन था 1.78 लाख रु l  इसके बाद मई 2015 में उनके वेतन में फिर से वृद्धि की गई और वह 1.87 लाख रुपये हो गया l  आरबीआई गवर्नर के तौर पर अपने अंतिम वर्ष में राजन ने वेतन में दो बार बढ़ोतरी प्राप्त की l  2.04 लाख रु. और 2.09 लाख रुपये l  इसी वेतन पर उन्होंने अपना पद छोड़ा था l  

बैंकिंग के क्षेत्र में हाल ही में आई तेजी और बैंक में नौकरियों की संख्या बढ़ने के कारण यह स्पष्ट है कि बैंक के पीओ की नौकरियों का वेतन पैकेज काफी बढ़ जाएगा l आरबीआई के टॉप एग्जिक्यूटिव्स के वेतन में हाल में हुई बढ़ोतरी से देश के आर्थिक विकास में भारत के बैंकिंग क्षेत्र की भूमिका और सरकार का इस क्षेत्र पर भरोसे का पता चलता है l  इसलिए, यदि आप बैंकिंग को करिअर विकल्प के तौर पर लेने की योजना बना रहे हैं, तो आपके लिए यह बिल्कुल सही समय है l  

 भारतीय बैंकिंग क्षेत्र में अगला बड़ा नाम हो सकते हैं विरल आचार्य

Jagran Play
रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैश
ludo_expresssnakes_ladderLudo miniCricket smash
ludo_expresssnakes_ladderLudo miniCricket smash

Related Stories