Search

RPSC में SDM का वेतन और प्रोन्नति

RPSC राज्य सरकार के विभिन्न विभागों में सरकार के कार्यों की देखभाल के लिए अधिकारियों की भर्ती करता है। SDM का पद भी RPSC के तहत आने वाला ऐसा ही एक पद है। SDM अपने क्षेत्राधिकार के प्रशासनिक मामलों का ख्याल रखता है। SDM का पद जिम्मेदारियों से भरा होता है और यह अधिकारी को समाज में सम्मान और रुतबा दिलाता है।

Dec 20, 2018 17:17 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
salary and promotion of sdm in rpsc
salary and promotion of sdm in rpsc

RPSC राज्य में SDM की भर्ती करता है जिन्हें आकर्षक वेतन के साथ अन्य सुविधाएं प्राप्त होती हैं। मेरिट लिस्ट में उच्च रैंक वाले उम्मीदवार SDM का पद प्राप्त करते हैं। SDM का पद राज्य प्रशासनिक सेवा में सर्वोच्च होता है। SDM को समाज में उचित सम्मान और प्रतिष्ठित जीवन का आनंद प्राप्त होता है।

SDM का पद जिम्मेदारी से भरा है। SDM के कार्य का कोई निश्चित समय नहीं होता है क्योंकि उन्हें हमेशा ही ड्यूटी पर रहना पड़ता है। SDM का पद इस प्रकार का होता है कि इसमें निर्णय लेने की क्षमता की जरुरत पड़ती है और SDM को कई महत्वपूर्ण मामलों में निर्णय लेना पड़ता है। उन्हें अपने क्षेत्र में प्रशासन के सभी मामलों की देखभाल करनी पड़ती है। यदि SDM की पोस्टिंग एक संवेदनशील क्षेत्र में होती है तो उसे और भी अधिक सतर्क रहना पड़ता है।

RPSC Mains Syllabus

SDM का वेतन और सुविधाएं

SDM के पद की ज़िम्मेदारी के साथ आकर्षक वेतन और अन्य सुविधाएं मिलती हैं। SDM को 5400 रूपए ग्रेड पे के साथ 15600-39100 के पे स्केल में वेतन मिलता है। SDM को वेतन के साथ अन्य सुविधाएं प्राप्त होती हैं। इन सुविधाओं में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • बिना किसी कीमत पर या मामूली किराए पर स्वयं के लिए और कर्मचारियों के लिए निवास
  • सुरक्षा गार्ड और घरेलू नौकर जैसे रसोईया और माली
  • आम तौर पर ड्राइवर के साथ आधिकारिक वाहन
  • टेलीफोन कनेक्शन जिसका बिल सरकार द्वारा भुगतान किया जाता है
  • बिजली बिल का सरकार द्वारा भुगतान
  • आधिकारिक यात्राओं के दौरान उच्च श्रेणी आवास
  • अध्ययन के लिए अवकाश
  • पति / पत्नी को पेंशन

RPSC Top Posts

SDM के लिए पदोन्नति के अवसर

RAS अधिकारी प्रशिक्षण अवधि में सहायक कलेक्टर और कार्यकारी मजिस्ट्रेट के रूप में अपनी सेवा शुरू करते हैं। प्रशिक्षण के बाद, उन्हें SDM के रूप में तैनात किया जाता है। राज्य सरकार द्वारा बनाए गए नियमों के अनुसार विभागीय संवर्धन समिति (DPC) के माध्यम से RAS अधिकारी को पदोन्नति दी जाती है, जिसका नेतृत्व आयोग के अध्यक्ष द्वारा किया जाता है। SDM को पहली पदोन्नति सेवा के 8-9 साल बाद मिलती है और आम तौर पर एक या दो प्रोन्नतियों के बाद SDM सेवानिवृत्त हो जाते हैं। UPSC की तुलना में RAS अधिकारी की पदोन्नति धीमी होती है।

RPSC Mains Tips and Strategy

RAS अधिकारी को या तो क्षेत्र की ज़िम्मेदारी दी जाती है या सचिवालय में नियुक्त किया जाता है। फील्ड ड्यूटी में RAS अधिकारी SDM होते हैं जो अपने क्षेत्र में प्रशासनिक मामलों की देखभाल करते हैं। यदि RAS  अधिकारी फील्ड ड्यूटी में हैं, तो उनके पास पदोन्नति का निम्नलिखित मैट्रिक्स होता है:

 

RPSC Prelims Cut-Off

कुछ RAS अधिकारी राज्य सचिवालय में नियुक्त होते हैं। सचिवालय में RAS अधिकारी सरकार की नीतियां तैयार करते हैं और इसे राज्य में लागू करने में मदद करते हैं। राज्य सचिवालय में नियुक्त होने वाले RAS अधिकारी निम्नलिखित पदोन्नति प्राप्त कर सकते हैं:

 

अब उम्मीदवारों को SDM के वेतन, सुविधाएं और पदोन्नति के तरीकों के बारे में जानकारी है। SDM को मिलने वाली सुविधाएँ वेतन से अलग होती हैं। ये सभी सुविधाएँ नौकरी को युवा उम्मीदवारों के लिए और अधिक आकर्षक बनाती हैं। SDM को उनके गृह राज्य में तैनात किया जाएगा जिससे अधिकारी अपने परिवार, दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ रह सकते हैं।

RPSC Prelims Exam Pattern and Syllabus

Related Stories