भारतीय स्टेट बैंक पीओ 2017: तर्क शक्ति से जुड़े सवालों को हल करने की मास्टर रणनीति

आपको अभ्यास से ही तर्किक भाग में सफलता प्राप्त हो सकती है । इसके लिए कुछ विशेष बातों पर ध्यान देना चाहिए जिनका वर्णन आगे किया जा रहा है

Updated: Apr 14, 2017 18:57 IST
SBI PO Exam 2017 Reasoning Tips
SBI PO Exam 2017 Reasoning Tips

भारतीय स्टेट बैंक पीओ की अधिसूचना जारी हो गई है और आप सभी देश के सबसे बड़े बैंक में परिवीक्षाधीन अधिकारी के रूप में अपनी सपनों की नौकरी के लिए तैयारी कर रहे हैं। फ्रेशर से एक अधिकारी होने तक की इस यात्रा में हम आप के लिए विस्तृत रणनीति लेकर आए हैं, जो आपको इस परीक्षा के लिए तैयार करने में मदद करेगी।

तर्क क्षमता: हमें किस टॉपिक की तैयारी करनी चाहिए?

 यह लगभग सभी बैंकिंग परीक्षाओं में सबसे अधिक समय लेने वाला भाग है और सभी वर्गों में नियमों और विनियमों को पढ़ने की बजाय अधिक गुणवत्ता वाले सवालों के निरंतर अभ्यास के साथ इसमें अधिक अंक प्राप्त किये जा सकते हैं। तार्किक क्षमता के साथ साथ आपको सवाल की मूल बातें पता करने की जरूरत होती है l जैसे कि युक्ति वाक्य प्रश्न या रैंकिंग प्रश्न या कोडिंग-डिकोडिंग सवाल के लिए शॉर्टकट आदि। 

पहेलियाँ: तार्किक क्षमता के अंतर्गत आपको लॉजिक के कुछ नियमों के साथ साथ अपनी तर्क शक्ति का प्रयोग करना होता है l आपको सवाल में दी गई जानकारी के हर हिस्से को देखने की ज़रुरत होती है जिससे कि आपको अपने प्रश्नों के उत्तर प्राप्त हो जाएं।

 • इनपुट आउटपुट सवाल: यह बैंकिंग परीक्षा में तर्क करने की क्षमता वाले भाग के मामले में आम सवाल हैं। आपसे प्रश्न में प्रदान किये गए इनपुट से आउटपुट प्राप्त करने के लिए दिए गए उपाय को व्यवस्थित करने की अपेक्षा की जाती है।

कोडिंग डिकोडिंग सवाल: फिर से आम सवालों को आपको दिए गए कोड को डिकोड करने के लिए कहा जाता है। बस आप अपने तर्क से प्रश्न हल करते चलें आप स्वतः अपने प्रश्नों के उत्तर प्राप्त कर लेंगें। 

तथ्य पर्याप्तता: इन सवालों में आपको विकल्प पहचानना है जो दी हुई जानकारी के अनुसार सही हो और दिए गए सेट से अपेक्षित संदर्भ में हो । ये भी बैंकिंग परीक्षा तर्क खंड के आम सवाल हैं। 

युक्तिवाक्य प्रश्न: खैर, इस प्रकार के सवालों के बारे में और अधिक क्या कहा जाए? जब आप इस प्रकार के सवालों को देखें तो कागज पर वेन आरेख को बना लीजिए। आपको दी गई जानकारी में से सही निष्कर्ष को चुनना है जबकि,  इन दिनों सवाल अक्सर निष्कर्ष के रूप में आते हैं और आपको दिए गए विकल्पों में से सही बयानों को खोजना होता है। वास्तव में यह समय लेने वाला सेक्शन है, क्योंकि आपको इन सवालों में एक से अधिक आरेख बनाने की आवश्यकता पड़ती है। 

तर्कसंगत प्रश्न: इसके अंतर्गत बयान वाले तार्किक, बयान धारणा, कारण और परिणाम आदि के प्रश्न शामिल हैं। सवाल ज्यादातर तार्किक होते हैं और आपके पढ़ने और समझने की क्षमता के आधार पर इस खंड में आपके भाग्य का फैसला होता है ।

 • विविध प्रश्न: इसके अलावा आप रैंकिंग, दिशा, सशर्त बयान आदि के सवालों का सामना करते हैं। यह बैंकिंग परीक्षाओं में पूछे जाने वाले आम प्रश्न हैं। कतार में खड़े एक व्यक्ति की रैंकिंग निर्धारित करना, या परिवारिक सम्बन्ध के आधार पर एक व्यक्ति का खून का रिश्ता, या दिशाओं में कुछ बदलाव के बाद एक व्यक्ति की दिशा आदि सवाल पूछे जा सकते हैं। 

 तर्क शक्ति से जुड़े सवालों को हल करने की मास्टर रणनीति 

मूल बातों की सशक्त जानकारी: सभी विषयों में मूल बातों की सही जानकारी होनी चाहिए। इस प्रश्न पत्र के कुछ टॉपिक्स पर यदि आपके पास समुचित पाठ्य सामग्री उपलब्ध नहीं हो,तो आपको सभी टॉपिक्स के बेसिक्स की पूरी जानकारी रखनी चाहिए ताकि किसी भी टॉपिक पर पूछे गए कठिन से कठिन सवालों को आप सहजता से हल कर सकें l 

अभ्यास ही एक मात्र कुंजी है: इस भाग के बारे में यह सबसे महत्वपूर्ण बात है कि अधिक स्कोर करने के लिए इस भाग में सटीकता और गति में तीव्रता की जरूरत है। गणना और मान्यताएं अपने मन में बनाया जाना चाहिए। यही आपके अभ्यास का स्तर होना चाहिए। याद रखें कि आप पहेली को जल्द से जल्द हल करें क्योंकि समय कम होता है और ज़्यादातर एक सवाल को हल करने के चक्कर में दूसरा प्रश्न छूट जाता है। आपका अभ्यास आपके द्वारा सवालों का उत्त्तर शीघ्रता पूर्वक दिए जाने की प्रक्रिया को प्रभावित करता है l 

कैट की पुस्तकों का सहारा लेना चाहिए: अंग्रेजी की तरह ही कैट की किताबें तर्किक खंड में एसबीआई की परीक्षा में एक लंबा रास्ता तय करने में मदद करेंगी। लेकिन इसकी मदद से आप केवल पहेलियाँ और तार्किक सवाल ही कर पाएंगे । अन्य प्रश्नों के लिए, बैंकिंग परीक्षाओं के लिए बुनियादी तर्क पुस्तकें भी मदद करेंगी। पहेली में जितना ज़्यादा अभ्यास करेंगें उतने ही आप सही पैटर्न और अनूठे शॉर्टकट बना सकते हैं।

 • तैयारी के लिए समय सारणी: फरवरी महीना विषयों के संशोधन के साथ तर्क में विभिन्न अध्यायों के थियरी को समझने के लिए होना चाहिए। उसके बाद पूरा मार्च का महीना विशेष रूप से पहेली के लिए, गहन अभ्यास करने की दिशा में समर्पित होना चाहिए। अप्रैल में आपका ध्यान एकमात्र वास्तविक परीक्षा के लिए बैठने से पहले मॉक टेस्ट को हल करने में होना चाहिए। 

रीजनिंग भाग एक स्कोरिंग विषय है, बस आपको सही और गलत जवाब की समझ होनी चाहिए। तुरन्त सवालों को हल करना चाहिए हालांकि अधिकांश तार्किक सवाल जल्दी हल नहीं होते। बचे हुए समय में सावधानीपूर्वक अभ्यास के साथ इस खंड में अंक बनाए जा सकते हैं। ध्यान रखिये रीजनिंग सेक्शन में सर्वाधिक सवाल पहेली से ही पूछे जाते हैं l इसलिए पहेली को अतिशीघ्र हल करने का प्रयास करना चाहिए । आप पहेली को सॉल्व करने में जितना कम समय लेंगे आपके लिए वो उतना ही लाभदायक तथा सफलता प्राप्ति में सहायक होगा । अगले दो महीनों के लिए पहेली में रहना शुरू कर दीजिए और भारतीय स्टेट बैंक में पीओ की नौकरी पाईये।

शुभकामनाएं!! 

Jagran Play
रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैश
ludo_expresssnakes_ladderLudo miniCricket smash
ludo_expresssnakes_ladderLudo miniCricket smash

Related Stories

Comment (0)

Post Comment

7 + 9 =
Post
Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.