Search

ये हैं फ़्लूएंट इंग्लिश बोलने के कारगर टिप्स, अपनाकर बनें स्मार्ट

हमारे देश में अधिकतर लोग इंग्लिश लिखने में तो माहिर होते हैं लेकिन इंग्लिश बोलने में उन्हें थोड़ी दिक्कत होती है. इन कारगर टिप्स को फ़ॉलो करके आप जल्दी ही सीख जायेंगे फ़्लूएंट इंग्लिश बोलना.

Feb 28, 2020 16:36 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Simple tips to improve your English speaking skills
Simple tips to improve your English speaking skills

अगर हम दुनिया-भर में इंग्लिश बोलने वाले लोगों का जिक्र करें तो यह संख्या एवरेज 850 मिलियन या इससे कुछ अधिक ही होगी. जब हम अपने देश में इंग्लिश बोलने वाले लोगों की संख्य के बारे में बात करें तो एवरेज 125 मिलियन लोग भारत में इंग्लिश बोलते हैं. देश-दुनिया में इतनी बड़ी संख्या में इंग्लिश बोलने वाले लोगों की वजह से आप नेशनल और इंटरनेशनल लेवल पर इंग्लिश बोलने के महत्त्व का सहज ही अनुमान लगा सकते हैं. हमारे देश के संविधान में भी इंग्लिश को हिंदी के बाद दूसरी ऑफिशियल लैंग्वेज का दर्जा हासिल है. इसलिए, आपके लिए भारत में इंग्लिश बोलना, और वह भी धाराप्रवाह अर्थात फ़्लूएंट इंग्लिश बोलना बेहतरीन कम्युनिकेशन की महत्त्वपूर्ण जरूरतों में से एक है. हमारे देश में शिक्षा के माध्यम के तौर पर भी लाखों बच्चे इंग्लिश मीडियम को ही चुनते हैं. अगर हम देश की हायर एजुकेशन की चर्चा करें तो भारत के लगभग सभी कॉलेज और यूनिवर्सिटीज़ के साथ अधिकतर टेक्निकल, मैनेजमेंट और एजुकेशनल इंस्टीट्यूशन्स भी इंग्लिश मीडियम में ही अपने डिग्री कोर्सेज करवाते हैं. दक्षिण भारत में तो अधिकतर लोग अच्छी हिंदी बोलना और लिखना जानते ही नहीं है इन लोगों के लिए इंग्लिश ही एजुकेशन और ऑफिशियल कामकाज में इस्तेमाल होने वाली प्रमुख लैंग्वेज  है. ऐसे में. अगर आपमें इंग्लिश लिखने की बेहतरीन क्षमता है लेकिन आप फ़्लूएंट इंग्लिश नहीं बोल पाते हैं तो आपको सूटेबल एजुकेशन और जॉब हासिल करने में काफी दिक्कत हो सकती है क्योंकि हमारे देश में अधिकतर इंटर्नशिप और जॉब इंटरव्यूज़ इंग्लिश में ही होते हैं. इस आर्टिकल में हम आपके लिए कुछ खास कारगर टिप्स पेश कर रहे हैं जिन्हें फ़ॉलो करके आप भी फ़्लूएंट इंग्लिश बोलने में माहिर हो जायेंगे. आइये आगे पढ़ें यह आर्टिकल:

फ़्लूएंट इंग्लिश के लिए जरुरी हैं लगातार प्रैक्टिस और एक्सपीरियंस

इसका मतलब यह है कि अच्छी इंग्लिश सीखने के लिए इंग्लिश पुस्तकें पढ़ना और इंग्लिश फिल्में देखना किसी भी गाइड से ज्यादा प्रभावी साबित हो सकता है. इस लैंग्वेज  के नियम हमेशा बदलते रहते हैं और केवल गाइड्स पढ़ने से आप ज्यादा कंफ्यूज हो जाते हैं. पढ़ना और देखना आपको इस लैंग्वेज  को बेहतर तरीके से समझने में काफी मदद करेगा. इंग्लिश लैंग्वेज के लगातार प्रैक्टिस और एक्सपीरियंस से आप इस लैंग्वेज  में माहिर होने लगते हैं.

इंग्लिश न्यूज़पेपर रोज़ पढ़ना है जरुरी

अगर आपको यह समझ नहीं आ रहा है कि इंग्लिश पढ़ने के लिए कहां और कैसे शुरुआत करें? ... तो आप आज ही से इंग्लिश न्यूज़पेपर पढ़ना शुरू कर दें. अधिकतर न्यूज़पेपर्स ऐसी अंग्रेज़ी लिखते हैं जो रीडर्स को बड़ी आसानी से समझ में आ जाती है. ये न्यूज़पेपर्स देश-विदेश और दुनिया की वर्तमान स्थिति के बारे में भी आपको काफी जानकारी प्रदान करते हैं जो आपके लिए एक बोनस के समान है.

रोज़ाना देखें वर्ड मीनिंग

अगर आपको किसी खास या नये शब्द का मतलब नहीं पता है तो आप तुरन्त डिक्शनरी या शब्दकोश में उस शब्द का अर्थ जरुर देख लें. आजकल आपको शब्दकोश या डिक्शनरी की किताब अपने साथ रखने की कोई जरुरत नहीं है. अब, आपके स्मार्टफ़ोन के लिए इतने सारे बढ़िया एप्स उपलब्ध हैं. यहां आपके स्मार्टफ़ोन के लिए कुछ शब्दकोश एप्स पेश हैं जो आप गूगल प्ले स्टोर से फ्री में डाउनलोड कर सकते हैं:


  • शब्दकोश.कॉम
    • इंग्लिश शब्दकोश - ऑफ़लाइन
    • मेरिएम वेबस्टर
    • गूगल ट्रांसलेट
    • अर्बन डिक्शनरी

टॉप फॉरेन लैंग्वेज कोर्सेज़ जिनमें वेतन है लाखों में

गूगल ट्रांसलेट का इस्तेमाल भी रहेगा फायदेमंद

गूगल की अनुवाद सुविधा इंग्लिश सीखने में वास्तव में उपयोगी हो सकती है क्योंकि यह न केवल शब्दों का अनुवाद करती है बल्कि यह भी बताती है कि उन शब्दों का उच्चारण कैसे करें? गूगल ट्रांसलेट आपको 100 से अधिक लैंग्वेज ओं को समझने और उन लैंग्वेज ओँ में संवाद करने में मदद करता है. आप अपने कीबोर्ड का उपयोग कर सकते हैं और दो लैंग्वेज ओँ में बातचीत कर सकते हैं और किसी दूसरी लैंग्वेज  के टेक्स्ट का अनुवाद भी कर सकते हैं. आप इस एप का उपयोग करके डाटा कनेक्शन के बिना भी ट्रांसलेशन की सुविधा हासिल कर सकते हैं.

इंग्लिश स्पीकिंग एंड राइटिंग

यह सोचने से बचें कि इंग्लिश में बातचीत करने के लिए आपको बहुत अच्छी इंग्लिश आनी चाहिए. शुरू में इंग्लिश बोलते समय थोड़ी-बहुत गलतियां कर जाने पर फ़िक्र न करें. इसलिए, इंग्लिश में अवश्य बातचीत करते रहें क्योंकि अगर आपका डर बढ़ जाएगा तो आप घबराहट की वजह से अधिक गलतियां करने लगेंगे. किसी भी लैंग्वेज में महारत हासिल करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप रोजाना उस लैंग्वेज  में ज्यादा से ज्यादा बातचीत करें और लिखते वक्त भी आप इंग्लिश लैंग्वेज का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें.

इंग्लिश म्यूजिक एंड सोंग्स

गीतों के बोल काफी संवादात्मक होते हैं. इसलिए, इंग्लिश गीतों का आनंद लेने के दौरान उनके बोल ध्यान से सुनने से आपकी इंग्लिश बेहतर हो जाएगी. हमारे दिमाग में संगीत के साथ शब्दों को ज्यादा अच्छी तरह याद रखने की जन्मजात क्षमता होती है. आप लोकप्रिय इंग्लिश गीतों को सुनना शुरू कर सकते हैं और इन गीतों के भाव समझने की भी कोशिश करें.

जरुर समझें सेंटेंस स्ट्रक्चर
कोई निश्चित सेंटेंस एक ऐसा सेंटेंस होता है जिसकी रचना किसी निश्चित क्रम में की जाती है. ऐसे सेंटेंस को अपनी जरूरत के मुताबिक बदला भी जा सकता है. इसका एक कारण यह है कि यह निर्धारित सेंटेंस एक स्वीकृत सेंटेंस होता है. यह जरूरी नहीं कि उस निर्धारित सेंटेंस का कोई निश्चित वर्ड मीनिंग  भी हो. नीचे कुछ उदाहरण पेश किये जा रहे हैं:
• ईमानदार रहें
• थोड़ी देर में
• दूसरी ओर/ इसके ठीक विपरीत
• जान से भी कीमती  
• असहमति पर सहमत

इंग्लिश विषय में मास्टर स्टूडेंट्स के लिए करियर ऑप्शंस

कुछ वर्ड्स को हम बोलते समय ज्यादा जोर या महत्व देते हैं. लिसनर को भ्रमित न करने के लिए इंग्लिश बोलते समय जिन वर्ड्स और सेंटेंसेस पर जोर देना ज़रूरी है, उनकी जानकारी होना आपके लिए बहुत जरूरी है. किसी भी सेंटेंस में दो प्रकार के शब्द होते हैं:

  • ओरिजनल वर्ड्स

मूल शब्द किसी वाक्य के प्रमुख शब्द होते हैं. ये वे महत्वपूर्ण शब्द होते हैं जो अपने वाक्य का अर्थ या भावना प्रकट करते हैं.

  • स्ट्रक्चरल वर्ड्स

स्ट्रक्चरल वर्ड्स बहुत महत्वपूर्ण शब्द नहीं होते हैं. ये वे छोटे और साधारण वर्ड्स हैं जो आपके सेंटेंस को ग्रामर के मुताबिक सही बनाते हैं. ये वर्ड्स सेंटेंस को इसका सही रूप देते हैं.
इंग्लिश बोलते समय ओरिजिनल वर्ड्स ऐसे शब्द होते हैं जिन पर किसी वाक्य को बोलते समय ज्यादा जोर दिया जाता है ताकि उस वाक्य का अर्थ अच्छी तरह स्पष्ट हो सके.

ये कुछ ऐसे विशेष टिप्स हैं जिन्हें अगर आप कुछ महीने तक लगातार ईमानदारी से फ़ॉलो करें तो किसी कोचिंग इंस्टीट्यूट में हजारों रूपये फीस दिए बिना ही और/ या इंग्लिश ट्यूशन लिए बिना भी आप कुछ ही समय में फ़्लूएंट इंग्लिश बोलने लगेंगे और फिर, आपके लिए हायर एजुकेशन हासिल करने के साथ-साथ मनचाहा करियर गोल हासिल करना भी आसान हो जाएगा.

हिंदी लैंग्वेज  में एक्सपर्ट्स को मिलते हैं देश-विदेश में ये खास करियर ऑप्शन्स

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

Related Categories

Related Stories