Search

UPSC सिविल सेवा 2019: AIR 19 श्रेष्ठ अनुपम ने शेयर किया अपना स्टडी प्लान और तैयारी की रणनीति

भागलपुर जिले की रहने वाले श्रेष्ठ अनुपम ने UPSC सिविल सेवा 2019 की परीक्षा में 19वीं रैंक हासिल की है। इस वर्ष परीक्षा में उपस्थित होने वाले छात्रों की मदद के लिए अनुपम ने अपनी परीक्षा रणनीति साझा की है। 

Sep 22, 2020 17:06 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
UPSC  सिविल सेवा 2019: AIR 19 श्रेष्ठ अनुपम ने शेयर किया अपना स्टडी प्लान और तैयारी की रणनीति
UPSC सिविल सेवा 2019: AIR 19 श्रेष्ठ अनुपम ने शेयर किया अपना स्टडी प्लान और तैयारी की रणनीति

हिंदू पौराणिक कथाओं के एक प्रसिद्ध सिद्धांत के अनुसार, एक व्यक्ति का जन्म माता-पिता, ईश्वर और प्रकृति के ऋण के साथ होता है। उसे कर्ज वापस करना है और उसकी यह अत्यंत नैतिक जिम्मेदारी है। श्रेष्ठा अनुपम की कहानी इस सिद्धांत में फिट बैठती है। श्रेष्ठ के पिता दिलीप कुमार अमर ने UPSC सिविल सर्विसेज एग्जाम क्रैक करने का सपना देखा था। दिल्ली विश्वविद्यालय के अनुकूल वातावरण से होने के कारण उन्होंने परीक्षा क्लियर करने का प्रयास किया लेकिन दुर्भाग्य से वे इसे पास नहीं कर सके। उनके बाद उनके बेटे श्रेष्ठ अनुपम ने UPSC की परीक्षा को उल्लेखनीय रैंक के साथ क्रैक कर उनका सपना पूरा किया है। .श्रेष्ठ कहते हैं की उन्होंने इस परीक्षा को पास करने के लिए कठिन परिश्रम किया क्योंकि वह अपने पिता का सपना पूरा करना चाहते थे। आइये जानते हैं क्या रही उनकी मेहनत की रणनीति जिससे उन्हें मिली यह शानदार सफलता। 

UPSC (IAS) Prelims 2020: परीक्षा की तैयारी के लिए Subject-wise Study Material & Resources

UPSC प्रीलिम्स परीक्षा के लिए किया सबसे अधिक परिश्रम 

श्रेष्ठ का कहना है कि प्रीलिम्स की तैयारी पर अधिक ध्यान देने से उन्हें प्रतिष्ठित परीक्षा को क्रैक करने में मदद मिली। हालांकि अंतिम परिणाम घोषित होने पर प्रीलिम्स में प्राप्त अंकों को नहीं जोड़ा जाता है पर अनुपम कहते हैं कि कड़ी मेहनत और निरंतरता यूपीएससी परीक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। श्रेष्ठ ने आज परीक्षा अपने दूसरे प्रयास में पास की है। वह कहते हैं “मैंने दूसरी बार में इस परीक्षा को अच्छे रैंक से पास किया है जिसका कारण यह है कि मैंने प्रीलिम्स राउंड पर बहुत ध्यान केंद्रित किया, ऐसा कुछ जो मैं पिछली बार हासिल नहीं कर पाया था। अपने पहले प्रयास के दौरान, मैं सही मानसिकता में नहीं था। इस बार मैंने परीक्षा के माहौल में प्रीलिम्स राउंड को अधिक गंभीरता से लिया और उसी के लिए कई मॉक टेस्ट दे कर बेहतर तैयारी की।" श्रेष्ठ का कहना है की प्रीलिम्स परीक्षा में एक अच्छा स्कोर हासिल करने के लिए ज़रूरी है की आप खूब सारे मॉक टेस्ट दें। यह आपको परीक्षा में काफी मदद करेंगे। 

परीक्षा की तैयारी के लिए बनाए लॉन्ग और शार्ट टर्म टाइम टेबल 

अनुपम का स्टडी प्लान उनकी दैनिक दिनचर्या के अनुसार था। वह बताते हैं “मैंने दो दिनचर्या का पालन किया। लॉन्ग टर्म स्टडी प्लान ने मुझे अपने स्टडी मटेरियल को सीमित करने में मदद की। मैंने प्रत्येक विषय के लिए एक निश्चित समय स्लॉट सेट किया, उदाहरण के लिए - मैंने मॉडर्न इतिहास का अध्ययन करने के लिए पांच दिन और राजनीति का अध्ययन करने के लिए सात दिन का समय सेट किया। मैंने इस टाइम टेबल को सख्ती से फॉलो किया। इसके अलावा मैंने एक माइक्रो रूटीन भी बनाया। इस रूटीन में मैंने पूरे दिन का टाइम टेबल सेट किया। जैसे की मैं सुबह का समय एक विषय को पढ़ने और दोहराने के लिए, शाम को उत्तर लिखने का अभ्यास करने और रात में कुछ सूचनात्मक वीडियो देखने के लिए निर्धारित किया।"

अनुपम कहते हैं, एक बहुत ही विशिष्ट दिनचर्या ने मुझे संतुलन पाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। “मेरी दिनचर्या ने मुझे इस बात के बारे में स्पष्ट दृष्टिकोण दिया कि प्रत्येक विषय के लिए कितना समय आवश्यक था और मैं परीक्षा से पहले अपने कार्यक्रम की अच्छी तरह से योजना बनाने में सक्षम था। मैंने यह भी समझा कि मैं एक बार में कितना समय निकाल सकता हूं”

UPSC परीक्षा की हर स्टेज के लिए थी अलग रणनीति 

अपने तीनो स्टेज की स्ट्रेटेजी शेयर करते हुए श्रेष्ठ बताते हैं:प्रीलिम्स के लिए, मैंने पहले सिलेबस में सभी मानक पुस्तकों को पूरा करने पर ध्यान केंद्रित किया और फिर कई मॉक टेस्ट दिए। मैंने मॉक टेस्ट को वास्तविक परीक्षा के माहौल में लेना सुनिश्चित किया। 

अपनी मेंस की तैयारी के बारे में श्रेष्ठ बताते हैं 'मेन्स के लिए मैंने यह समझा कि उत्तर लेखन का अभ्यास एक महत्वपूर्ण आवश्यकता है  और मैंने इसे धार्मिक रूप से अभ्यास किया। जैसे ही मैंने एक विषय का अध्ययन किया मैंने उस विषय से सम्बंधित प्रश्नों को लिखने का अभ्यास किया। इसके अतिरिक्त मैंने पिछले वर्षों के प्रश्नों का अभ्यास किया और विश्लेषण किया कि यूपीएससी कैसे प्रश्न पूछता है और उनका मुख्य कारण क्या है।"

साक्षात्कार के दौर के लिए मैंने मॉक इंटरव्यू सत्र में भाग लिया। वे बहुत जानकारीपूर्ण और आकर्षक थे। इंटरएक्टिव सत्र विशेष रूप से उपयोगी थे क्योंकि इसमें  मेरे आवेदन फॉर्म का विस्तृत विश्लेषण किया गया था, जिसके बाद मुझसे विश्लेषण के आधार पर संभावित प्रश्न पूछे गए थे। इससे मुझे इंटरव्यू राउंड के दौरान आने वाले किसी भी प्रश्न के लिए तैयार रहने में मदद मिली।”

UPSC की तैयारी के लिए इन किताबों को पढ़ने की सलाह देते हैं श्रेष्ठ 

UPSC परीक्षा का सिलेबस काफी विस्तारित है ऐसी में छात्र अक्सर सही किताबों को चुनने में उलझ जाते हैं। अपनी तैयारी के दौरान श्रेष्ठ ने निम्नलिखित दी गई किताबों का विशेष रूप से अध्ययन किया। 

  • राजनीति - लक्ष्मीकांत भारतीय राजनीति,
  • आधुनिक इतिहास - बिपिन चंद्र द्वारा स्पेक्ट्रम और NCERT पुस्तक
  • अर्थव्यवस्था - अर्थव्यवस्था पर मृणाल के वीडियो
  • भूगोल - कक्षा 11 वीं और 12 वीं की एनसीईआरटी की किताबें और मानचित्र
  • करंट अफेयर्स - दैनिक समाचार विश्लेषण अपडेट

UPSC 2020 की परीक्षा देने वाले उम्मीदवारों के लिए सलाह 

अनुपम कहते हैं कि यूपीएससी में सफलता कड़ी मेहनत और स्मार्ट वर्क दोनों का संयोजन है। “स्मार्ट काम करना और विभिन्न रणनीतियों का उपयोग करना महत्वपूर्ण है। उदाहरण के लिए, मुख्य परीक्षा का प्रयास करते समय मुझे पता था कि आरेख मेरे मजबूत बिंदु नहीं थे और इस प्रकार मैंने उत्तर को अच्छा लिखने पर अधिक ध्यान केंद्रित किया। यह भी महत्वपूर्ण है कि उम्मीदवार लगातार मेहनत करते रहे और ध्यान लक्ष्य पर केंद्रित रखें। हालांकि, सिविल सेवा परीक्षाओं में बहुत अनिश्चितता है, यदि आप अपने प्रयासों में निरंतर और सुसंगत हैं, तो आप बहुत अच्छा कर पाएंगे।”

LBSNAA - जहां पहुंचने का ख्वाब हर UPSC Aspirant देखता है: जानें इस अकेडमी से जुड़े 7 रोमांचक तथ्य

Related Stories