Search

मोदी सरकार ने सिविल सेवा क्षमता निर्माण के लिए उठाया नया कदम: जानें क्या है मिशन कर्मयोगी

मोदी सरकार ने भारत में सिविल सेवा क्षमता निर्माण के लिए मिशन कर्मयोगी को मंजूरी देकर सिविल सेवा सुधारों की दिशा में एक बड़ा कदम उठाया है। इस लेख में जानें इस मिशन से जुड़ी हर महत्वपूर्ण जानकारी। 

Sep 4, 2020 10:13 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
क्या है मिशन कर्मयोगी?
क्या है मिशन कर्मयोगी?

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने देश के सभी केंद्रीय प्रशिक्षण संस्थानों में साझा क्षमता और संसाधन बनाने के लिए क्षमता निर्माण कार्यक्रम की शुरुआत कर सिविल सेवा रिफॉर्म्स को मंजूरी दी है।  यह कार्यक्रम प्रशिक्षण मानकों का सामंजस्य स्थापित करेगा। इसे मिशन कर्मयोगी का नाम दिया गया है जो सिविल सेवा क्षमता निर्माण के लिए एक राष्ट्रीय कार्यक्रम है। कार्यक्रम में विशेष रूप से सिविल सेवकों- IAS, IPS, IFS, IRS अधिकारियों को लाभ मिलेगा।

LBSNAA - जहां पहुंचने का ख्वाब हर UPSC Aspirant देखता है: जानें इस अकेडमी से जुड़े 7 रोमांचक तथ्य

क्या है मिशन कर्मयोगी?

मिशन कर्मयोगी का उद्देश्य व्यक्तिगत सिविल सेवकों की क्षमता निर्माण के साथ-साथ संस्थागत क्षमता निर्माण पर ध्यान देना है। भविष्य के तैयार सिविल सेवकों के निर्माण के लिए मिशन की स्थापना की जा रही है, जिनके पास सही रवैया, कौशल और ज्ञान होगा जो न्यू इंडिया के दृष्टिकोण के अनुरूप होगा।

मिशन को प्रधानमंत्री की मानव संसाधन परिषद द्वारा संचालित किया जाएगा जिसमें कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञ शामिल होंगे, जो स्वयं प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में बैठक करेंगे। यह कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग के सचिव सी चंद्रमौली द्वारा साझा किया गया था।

UPSC (IAS) Prelims 2020: परीक्षा की तैयारी के लिए Subject-wise Study Material & Resources

मिशन कर्मयोगी का प्रमुख उद्देश्य

मिशन कर्मयोगी का मुख्य उद्देश्य भविष्य के लिए भारतीय सिविल सेवकों को तैयार करना है ताकि वे अधिक रचनात्मक, अभिनव, पेशेवर, प्रगतिशील, रचनात्मक, कल्पनाशील, पारदर्शी, सक्रिय, ऊर्जावान और प्रौद्योगिकी-सक्षम बन सकें। यह भारत के दृष्टिकोण के अनुरूप है कि एक सिविल सेवक को कल कैसा होना चाहिए।

मुख्य क्रिया बिंदु

  • सभी विभागों और सेवाओं के लिए वार्षिक क्षमता निर्माण योजना निर्धारित करना।
  • क्षमता निर्माण योजना के कार्यान्वयन की निगरानी करना।
  • कुशल सेवा वितरण सुनिश्चित करेगा
  • प्रौद्योगिकी-प्रेरित शिक्षण शिक्षाशास्त्र को बढ़ावा देना
  • कॉमन फाउंडेशंस को मजबूत करें और डिपार्टमेंट साइलो को हटाना।
  • लोक सेवकों के लिए सीखने में बेंचमार्क सेट करना।
  • सभी श्रेणियों को कवर करने के लिए सीखने का प्रदर्शन करना।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को ट्वीट कर कहा, ‘‘सिविल सर्विस क्षमता निर्माण के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम- ‘मिशन कर्मयोगी' सरकार में मानव संसाधन प्रबंधन कार्य प्रणाली में मौलिक सुधार करेगा. यह सरकारी कर्मचारियों की क्षमता बढ़ाने के लिए पैमाने और आधुनिक बुनियादी ढांचे का उपयोग करेगा'

मिशन कर्मयोगी से आम आदमी को होगा फायदा 

मिशन कर्मयोगी सिविल सेवक को नागरिकों की आवश्यकताओं के लिए अधिक कुशल, उत्तरदायी और जवाबदेह बनाएगा। यह सुनिश्चित करेगा कि सही योग्यता वाला सही सिविल सेवक सही स्थिति में है।' डॉ। जितेंद्र सिंह के अनुसार, "मिशन कर्मयोगी एक सरकारी सेवक को एक आदर्श कर्म योगी के रूप में राष्ट्र की सेवा के लिए पुनर्जन्म देने का एक प्रयास है। यह निरंतर क्षमता निर्माण और प्रतिभा पूल के निरंतर अद्यतन के लिए एक तंत्र प्रदान करेगा।" उन्होंने यह भी कहा कि यह मिशन सभी के लिए प्रशिक्षण के अवसर प्रदान करने में मदद करेगा। 

UPSC (IAS) Prelims 2020 की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण NCERT पुस्तकें 

Related Categories

Related Stories