इंटरव्यू में इन शब्दों से बताएं अपने बारे में

कॉलेज स्टूडेंट्स के लिए इंटरव्यूज सबसे डरावनी बातों में से एक होते हैं.

Jan 5, 2018 12:57 IST
Words you must use to describe yourself during interviews
Words you must use to describe yourself during interviews

कॉलेज स्टूडेंट्स के लिए इंटरव्यूज सबसे डरावनी बातों में से एक होते हैं. भले ही आप अपने जीवन का पहला इंटरव्यू दे रहे हों या फिर आप अब तक कई इंटरव्यू दे चुके हों, इंटरव्यू रूम के बाहर बैठने पर हर कोई नर्वस हो ही जाता है. लेकिन समय बीतने पर आप अपने इंटरव्यूअर को इम्प्रेस करने के तरीके सीख जाते हैं. आपको पता चल जाता है कि क्या कहना है और क्या नहीं या फिर किस हद तक आप अपना पॉइंट मजाकिया अंदाज़ में रख सकते हैं. लेकिन पहली बार इंटरव्यू देने वाले के तौर पर या इंटरव्यू देने का काफी कम अनुभव रखने पर या फिर, कोई फ्रेश कॉलेज ग्रेजुएट होने पर, जॉब इंटरव्यूज आपके लिए काफी मुश्किल हो सकते हैं और फिर कहीं आप यह न कहें कि... अंगूर खट्टे हैं. 

हालांकि, कुछ सरल इंटरव्यू ट्रिक्स और टिप्स की मदद से कोई भी उम्मीदवार इंटरव्यू में आसानी से सफल हो सकता है. असल में कुछ ऐसे शब्द हैं जिन्हें अगर आप अपने बारे में बताते समय इस्तेमाल करें तो इनका इंटरव्यूअर पर काफी अच्छा असर पड़ता है. जबकि कुछ ऐसे शब्द भी होते हैं जिनका इस्तेमाल भूलकर भी नहीं करना चाहिए. अब, छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखकर आप अपने भावी एम्प्लोयर के सामने खुद को बहुत अच्छी तरह पेश कर सकते हैं. इसलिये, यहां कुछ ऐसे शब्दों की लिस्ट दी जा रही है जिनका इस्तेमाल आपको अपने अगले इंटरव्यू में जरुर करना चाहिए ताकि आपके इंटरव्यूअर पर आपकी अमिट छाप पड़े.

जिम्मेदारी

यह एक बहुत ज्यादा वांछित क्वालिटी है जो इंटरव्यूअर या मैनेजर्स अपने भावी कर्मचारियों में तलाशते हैं. अगर आप खुद को अपने रिज्यूम और स्किल्स के माध्यम से एक जिम्मेदार व्यक्ति की तरह पेश कर सकने के काबिल हैं तो आपको वह नौकरी मिलने के अवसर काफी बढ़ जाते हैं. यह भी याद रखें कि मैनेजर्स केवल उन कर्मचारियों की  ही तलाश नहीं करते हैं जो अपने काम की जिम्मेदारी लेते हैं बल्कि वे ऐसे लोगों की तलाश करते हैं जो विशेष काम की पूरी जिम्मेदारी लेते हैं फिर भले ही वह काम उन्हें अकेले पूरा करना हो या पूरी टीम के साथ. अपने इंटरव्यूअर को ऐसे कामों के बारे में बतायें जहां आपने किसी काम की जिम्मेदारी लेकर उसे नियत समय में पूरा कर दिया हो और उसके वांछित नतीजे निकले हों. इससे यह भी पता चलता है कि आप अपने काम के प्रति कितने समर्पित और भरोसेमंद इंसान हैं.

रिजल्ट ओरिएंटेड या परिणामोंन्मुख बनें

एक और विशेषता जो मैनेजर्स अपने एम्प्लाइज में देखना पसंद करते हैं, वह है वांछित परिणाम प्राप्त करना या काम को बेहतर तरीके से पूरा करना. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आपने किस जॉब के लिए अप्लाई किया है, अगर आप अपने काम के बढ़िया नतीजे नहीं देते तो आज नहीं तो कल आपकी कंपनी आपको जाने के लिए कह देगी. अपने भावी एम्प्लोयर को अपने उन कार्य प्रोजेक्ट्स के बारे में बतायें जहां आपने अच्छे और आशातीत परिणाम प्राप्त किये थे. उन्हें टारगेट्स और सामने आई मुश्किलों के बारे में बताएं और यह भी बताएं कि आपने किन तरीकों या नीतियों को अपनाकर उन मुश्किलों का हल निकाला और वांछित नतीजे प्राप्त किये. इससे आपके एम्प्लोयर के मन में आपकी सकारात्कम छवि बनने में मदद मिलेगी और वे आप पर भरोसा भी कर सकेंगे.

पहल या इनिशिएटिव

जहां जिम्मेदारी आपके सीनियर्स द्वारा आपको सौंपी जाती है, वहीँ किसी काम को करने की पहल आपको अपनी मर्जी से करनी पड़ती है. जब आपको कोई जिम्मेदारी सौंपी जाती है तो आपके पास कोई विकल्प नहीं होता है, आपको वह काम करना ही पड़ता है, भले ही आप उस काम को करना पसंद करें या नहीं. इसके ठीक विपरीत, पहल या इनिशिएटिव एक ऐसी जिम्मेदारी होती है जिसे आप स्वयं अपने ऊपर लेते हैं. इसलिये, इसमें पसंद और नापसंद का तो सवाल ही नहीं पैदा होता है. अगर आप खुद को एक ऐसा व्यक्ति दिखाते हैं जो पहल करने के लिए हमेशा तैयार रहता है तो इससे आप एक जोशीले और स्व-प्रेरित कर्मचारी साबित होते हैं जिस पर हर कोई भरोसा कर सकता है.

उदाहरण पेश करें

आजकल सभी स्टूडेंट्स के लिए अपने रिज्यूम में स्किल सेक्शन शामिल करना एक आम बात है. तकरीबन हरेक स्टूडेंट अपने स्किल सेट्स के बारे में बढ़-चढ़कर शेखी बधारता है. अब, चाहे यह अच्छा है लेकिन अगर आप अपने पिछले कार्य अनुभव से इसमें कुछ वास्तविक उदाहरण शामिल कर दें तो इससे आपकी बात कई गुना प्रभावी बन जाती है. मान लीजिये कि कोई इंटरव्यूअर आपकी क़ाबलियत के बारे में आपसे सवाल पूछता है तो आप अपने पिछले काम के अनुभव से उदाहरण देते हुए अपनी प्रत्येक क़ाबलियत के बारे में उन्हें बता सकते हैं.

कंपनी के बारे में करें बातचीत

यह कहना यहां बेमकसद-सा है कि कोई भी इंटरव्यूअर अपने ऑफिस में आपसे आमने-सामने इंटरव्यू लेने से पहले यह उम्मीद रखता है कि आपको कंपनी के बारे में कुछ जानकारी तो जरुर हो. आप कंपनी के नाम इस्तेमाल करें या कुछ ऐसे प्रोजेक्ट्स पर बात करें जिन पर वे काम कर रहे हैं या फिर, आप इंटरव्यूअर को बतायें कि कंपनी क्यों ज्वाइन करना चाहते हैं; इन बातों से इंटरव्यूअर पर आपका हमेशा के लिए अच्छा इम्प्रैशन पड़ेगा. इंटरव्यूअर को ऐसा लगेगा कि आप वास्तव में काम करना चाहते हैं क्योंकि आपने कंपनी की बैकग्राउंड के बारे में रिसर्च करने की कोशिश जो की है.

अपने अगले इंटरव्यू के लिए उक्त टिप्स का पालन करें और आप खुद इंटरव्यूअर की बॉडी लैंग्वेज में बदलाव का अनुभव करेंगे. क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया है? इसे अपने दोस्तों और पीअर्स के साथ शेयर करें. ऐसे और अधिक आर्टिकल पढ़ने के लिए www.jagranjosh.com/college पर विजिट करें. इसके अलावा, आप नीचे दिए गए बॉक्स में अपना ईमेल-आईडी सबमिट करके अपने इनबॉक्स में भी सीधे ऐसे आर्टिकल प्राप्त कर सकते हैं.

Loading...

Register to get FREE updates

    All Fields Mandatory
  • (Ex:9123456789)
  • Please Select Your Interest
  • Please specify

  • ajax-loader
  • A verifcation code has been sent to
    your mobile number

    Please enter the verification code below

Loading...