IRCTC Ramayana Yatra 2021: अयोध्या से रामेश्वरम तक कर सकेंगे दर्शन, जानें कितने रुपये का है टिकट

IRCTC Ramayana Yatra 2021: आइए इस लेख के माध्यम से जानते हैं कि ट्रेन कब और कहां से चलेगी, कितने दिनों का होगा सफर, टिकट कहां से और कितने रुपये में मिलेगा, किन लोगों को यात्रा करने की अनुमति है, आदि।
Created On: Sep 6, 2021 19:17 IST
Modified On: Sep 6, 2021 19:17 IST
IRCTC Ramayana Yatra 2021: अयोध्या से रामेश्वरम तक कर सकेंगे दर्शन, जानें कितने रुपये का है टिकट
IRCTC Ramayana Yatra 2021: अयोध्या से रामेश्वरम तक कर सकेंगे दर्शन, जानें कितने रुपये का है टिकट

IRCTC Ramayana Yatra 2021:  भारतीय रेलवे ने धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए "श्री रामायण यात्रा" की घोषणा की है जिसके तहत डीलक्स एसी टूरिस्ट ट्रेनें चलाई जाएंगी। इस यात्रा का विवरण भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) के द्वारा साझा किया है। 

आइए इस लेख के माध्यम से जानते हैं कि ट्रेन कब और कहां से चलेगी, कितने दिनों का होगा सफर, टिकट कहां से और कितने रुपये में मिलेगा, किन लोगों को यात्रा करने की अनुमति है, आदि। 

कब और कहां से चलेगी ये विशेष ट्रेन?

ये विशेष ट्रेन दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से 7 नवंबर 2021 को चलेगी और यात्रियों को भगवान राम से जुड़े सभी प्रमुख स्थानों का दर्शन कराएगी। ‘देखो अपना देश’ डीलक्स एसी पर्यटक ट्रेन से यात्रा के लिए आरक्षण की सुविधा शुरू हो चुकी है। इस डीलक्स एसी टूरिस्ट ट्रेन से केवल 156 यात्री यात्रा कर सकेंगे। बता दें कि पूर्व में भी इस तरह की यात्रा आयोजित की गई थी जिसमें केवल स्लीपर क्लास से ही यात्रा सुविधा उपलब्ध थी।

किन-किन स्थलों का दर्शन कराया जाएगा?

ये विशेष ट्रेन 7500  किलोमीटर का सफर कुल 17 दिनों में तय करेगी और भगवान राम से जुड़े सभी प्रमुख स्थानों का दर्शन कराएगी।

अयोध्या पहला पड़ाव: अयोध्या में पर्यटक निर्माणाधीन श्री राम जन्मभूमि मंदिर, हनुमान मंदिर और नंदीग्राम के भरत मंदिर का दर्शन करेंगे। 

दूसरा पड़ाव बिहार: अगले पढ़ाव में ट्रेन बिहार में माता सीता की जन्मस्थली सीतामढ़ी तक जाएगी।

नेपाल होगा तीसरा पढ़ाव: बिहार से ट्रेन नेपाल के जनकपुर में राम-जानकी मंदिर का दर्शन कराते हुए वाराणसी के लिए रवाना होगी।

चौथा पड़ाव काशी: काशी में यात्री सड़क मार्ग से काशी विश्वनाथ मंदिर, सीता समाहित स्थल, प्रयाग, चित्रकूट, श्रृंगवेरपुर के दर्शन करेंगे। काशी प्रयाग व चित्रकूट में रात्रि विश्राम होगा।

पांचवा पड़ाव नासिक: चित्रकूट से ट्रेन चलकर नासिक पहुंचेगी, जहां पंचवटी और त्रयंबकेश्वर मंदिर का भ्रमण किया जा सकेगा।

छठा पड़ाव: प्राचीन किष्किंधा नगरी हंपी इस ट्रेन का अगला पड़ाव होगा, जहां अंजनी पर्वत स्थित श्री हनुमान जन्म स्थल और अन्य महत्वपूर्ण मंदिरों का दर्शन कराया जाएगा। 

अंतिम पड़ाव रामेश्वरम: इस ट्रेन का अंतिम पड़ाव रामेश्वरम होगा जहां पर्यटक प्राचीन शिव मंदिर और धनुषकोडी के दर्शन कर सकेंगे। रामेश्वरम से ये ट्रेन वापस दिल्ली के लिए रवाना होगी। 

यात्रा करने के लिए टिकट कहां से मिलेगा?

इस यात्रा का लुत्फ 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोग जिन्होंने कोविड-19 वैक्सीन की दोनों डोज लगवा ली हैं वही उठा सकेंगे। ट्रेन का टिकट आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन बुक किया जा सकता है (https://www.irctctourism.com )। आपको बता दें कि बुकिंग की सुविधा पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर उपलब्ध है।

अधिक जानकारी के लिए 8287930202, 8287930299 और 8287930157 मोबाइल नंबरों पर संपर्क भी किया जा सकता है। 

कितने रुपये का होगा पैकेज?

आईआरसीटीसी ने एसी प्रथम श्रेणी की यात्रा के लिए 1,02,095 रुपये का टिकट रखा है। वहीं, 2 टीयर एसी कोच के लिए 82,950 रुपये का टिकट है। इस टूर पैकेज की कीमत में रेल यात्रा के अतिरिक्त स्वादिष्ट शाकाहारी भोजन, वातानुकूलित बसों के जरिए पर्यटक स्थलों का भ्रमण, एसी होटलों में ठहरने की व्यवस्था, गाइड और इंश्योरेंस जैसी सुविधाएं शामिल हैं। 

इन सुविधाओं से लैस होगी ट्रेन

अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस इस पूर्णतया वातानुकूलित ट्रेन में यात्री कोच के अतिरिक्त दो डाइनिंग रेस्तरां, एक आधुनिक किचन, फुट मसाजर मशीन, मिनी लाइब्रेरी, सेंसर-आधारित शौचालय और शॉवर क्यूबिकल आदि की सुविधा उपलब्ध होगी। सुरक्षा के लिए सुरक्षा गार्ड, इलेक्ट्रॉनिक लॉकर और सीसीटीवी कैमरे उपलब्ध रहेंगे।

कोविड-19 प्रोटोकॉल का किया जाएगा पालन

रेलवे द्वारा सभी पर्यटकों को फेस मास्क, हैंड ग्लव्स और सैनिटाइज़र रखने के लिए एक सुरक्षा किट प्रदान की जाएगी। सभी पर्यटकों और कर्मचारियों का तापमान जांचा जाएगा एवं हॉल्ट स्टेशनों पर बार-बार ट्रेन को सेनिटाइज किया जाएगा। प्रत्येक भोजन सेवा के बाद रसोई और रेस्तरां को साफ व सेनिटाइज किया जाएगा।  

पढ़ें: भारतीय रेलवे ICF कोच को LHB कोच में क्यों बदल रहा है?

जानें ICF और LHB कोच में क्या अंतर है?

Comment ()

Post Comment

7 + 8 =
Post

Comments