Search

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक क्या है और इससे आम आदमी को क्या सुविधाएँ मिलेगीं?

पेमेंट बैंक भारत में मौजूद कमर्शियल बैंकों से अलग प्रकार के बैंक है. पेमेंट बैंकों की स्थापना के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक ने 24 नवम्बर 2014 को दिशा निर्देश जारी कर दिए थे.  इस समय देश में 11 पेमेंट बैंक काम कर रहे हैं. सितम्बर 1, 2018 को मोदी जी ने ‘इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक’ का उद्घाटन किया है. इस लेख में बताया गया है कि किस प्रकार इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक आम आदमी के लिए फायदेमंद होगा.
Sep 4, 2018 15:03 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
India Post Payment Bank
India Post Payment Bank

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) के आंकड़ों के अनुसार देश के लगभग 60% लोग अभी भी बैंकिंग क्षेत्र से नही जुड़े हैं. इसमें बहुत से वे लोग शामिल हैं जो कि भारत के ग्रामीण इलाकों में रहते हैं, जिनकी आमदनी बहुत कम है और असंगठित क्षेत्र में काम करते हैं. ऐसे लोगों को वित्तीय सुविधा उपलब्ध कराने के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक ने वित्तीय समायोजन की नीति के तहत देश के विभिन्न हिस्सों में पेमेंट बैंकों को स्थापित करना शुरू कर दिया है.

पेमेंट बैंक का अर्थ;

पेमेंट बैंक भारत में मौजूद कमर्शियल बैंकों से अलग प्रकार के बैंक है. पेमेंट बैंकों की स्थापना के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक ने 24 नवम्बर 2014 को दिशा निर्देश जारी कर दिए थे.

पेमेंट बैंक; जनता की सामान्य बैंकिंग की जरूरतों को तो पूरा करेंगे लेकिन कुछ प्रतिबंधों के साथ; जैसे पेमेंट बैंक लोगों के चालू और बचत खाते खोल सकेंगे लेकिन लोगों को क्रेडिट कार्ड और लोन नहीं दे सकेंगे. ये बैंक प्रवासी कर्मचारियों के रुपयों को जमा कर सकेंगे और प्रवासी श्रमिक द्वारा भेजी गई रक़म को उसको परिवार वालों को देने का काम भी करेंगे.

यदि आपका बैंक दिवालिया हो जाता है तो आपके जमा पैसे पर क्या प्रभाव पड़ेगा?

मोदी सरकार ने वित्तीय समायोजन की नीति के तहत गरीबों को बैंकिंग व्यवस्था से जोड़ने के लिए 1 सितम्बर 2018 को ‘इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक’ की शुरुआत की है. इस बैंक का गठन डाक विभाग के अधीन सार्वजनिक कंपनी के रूप में किया जाएगा.  इस बैंक में 100 प्रतिशत हिस्सेदारी सरकार की होगी. डाक विभाग का पेमेंट्स बैंक डाकघरों के एक नेटवर्क के जरिये काम करेगा. इसमें 3 लाख डाकिये और ग्रामीण डाक सेवक शामिल होंगे.

अभी फ़िलहाल पेमेंट्स बैंक की सुविधा देशभर में 650 शाखाओं और 3250 सेवा केंद्रों पर उपलब्ध रहेगी. 31 दिसंबर 2018 तक यह बैंक पूरी तरह से डाक विभाग के नेटवर्क को इस्तेमाल करने लगेगा.

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक क्या सुविधाएँ देगा?

इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक स्कीम दूसरे बैंकों की तुलना में छोटे स्तर की होगी. इस पेमेंट बैंक के माध्यम से लोन और क्रेडिट कार्ड को छोड़कर बैंकिंग से सम्बंधित सभी काम जैसे; बैंक में पैसा जमा कर सकते हैं, पैसे भेजे सकते हैं, किसी और के द्वारा भेजे पैसे लिए जा सकते हैं और आप किसी सम्बन्धी को पैसे भेज भी सकते हैं.

इसके अलावा निम्न सुविधाएँ भी मिलेगीं;

1. इस योजना के तहत ई-कॉमर्स साइटों से खरीदी गई चीजें भी आपके पास पहुंचाई जाएंगी. लोग ई-कॉमर्स वेबसाइट जैसे फ्लिप्कार्ट/अमेजॉन से खरीदारी कर सकेंगे. इसके लिए डाक विभाग ने अमेजन से करार किया है.

2. खाताधारक को निःशुल्क एटीएम या डेबिट कार्ड मिलेगा

3. खाताधारक को निःशुल्क नेट बैंकिंग की सुविधा उपलब्ध होगी

4. खाताधारक को निःशुल्क मोबाइल अलर्ट सेवा मिलेगी

5. इंश्योरेंस सेवा, म्युचअल फंड, करंट अकाउंट और अन्य वित्तीय सेवाएँ भी इसके माध्यम से हासिल की जा सकेगीं.

6. बैंक के माध्यम से बेसिक बैंकिंग, प्रत्यक्ष लाभ अंतरण भुगतान (Direct Benefit Transfer), विभिन्न प्रकार के बिलों का भुगतान और टैक्स जमा करने जैसी सुविधाएं प्राप्त की जा सकेंगी.

benefits post payment bank

इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक की सेवाएँ कैसे हासिल होंगी;

इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक अकाउंट खोलने के लिए आपके आधार कार्ड का इस्तेमाल करेगा. बैंकिंग सेवाएं आपको डाकघर के काउंटर पर भी मिलंगी और माइक्रो एटीएम के जरिये भी. इसके अलावा घर तक सर्विस देने के लिए डाकिये के पास स्मार्टफोन और बायोमैट्रिक डिवाइस होंगे. पोस्टल पेमेंट बैंक हर ट्रांस्जेक्शन चार्ज के तौर पर 1 पैसा लेगा. हालाँकि घर पर सेवाएँ लेने के लिए आपको ज्यादा पैसे देने पड़ेंगे. दिसंबर, 2018 तक इन सेवाओं के लिए 1.55 लाख एक्सेस प्वाइंट बनाए जाएंगे. इनमें से 1.30 लाख ग्रामीण इलाके में होंगे.

डाक घर बचत खाता (Post Office Saving Account):

इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक में बचत खाता खोलने के लिए न्यूनतम 20 रुपये की आवश्यकता होगी और यदि कोई चेक की सुविधा के साथ बचत खाता खोलता है तो उसे न्यूनतम 500 रुपये जमा करने होंगे.  बचत खाता धारकों (चेक सुविधा के बिना) के लिए 50 रुपये प्रति माह और चेक सुविधा के साथ 500 रुपये की न्यूनतम राशि बनाए रखनी होगी.

पेमेंट बैंक में पैसे जमा करने की सीमा एक लाख लाख रुपये होगी. इससे ज्यादा पैसा जमा होने पर यह अपने आप पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट में चला जाएगा. लेकिन सामान्य बचत खाता धारकों को खाते में कोई भी मिनिमम बैलेंस रखना जरूरी नहीं है. लेकिन इस प्रकार के खाता धारक को सेवाओं की होम डिलीवरी नहीं मिलेगी.

जमा राशि पर कितना ब्याज मिलेगा;

पेमेंट बैंक के तहत एक लाख रुपये तक का सेविंग अकाउंट खुलवाया जा सकेगा. पेमेंट बैंक 25 हजार रुपए की जमा राशि पर 4.5% का ब्याज, 25 हजार से 50 हजार रुपए की जमा राशि पर 5% ब्याज और 50 हजार से 1 लाख रुपए की जमा राशि पर 5.5% की दर से ब्याज देगा.

इस प्रकार ऊपर दिए गए तथ्यों के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि सरकार द्वारा खोला गया इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक भारत के ग्रामीण इलाकों में मौजूद हर व्यक्ति को बैंकिंग सुविधाओं से जोड़ने में मील का पत्थर साबित होगा.

पेमेंट बैंक किसे कहते हैं और इसकी क्या विशेषताएं है?

पेमेंट बैंक और कमर्शियल बैंक में क्या अंतर होता है?