Jagran Josh Logo

जानिये शिक्षा एवं नौकरी के लिए उपयुक्त टॉप 7 शहर

Nov 9, 2016 16:43 IST

    ऐसी जगह जहाँ रहकर आप बेहतरीन शिक्षा प्रणाली से लेकर नौकरी के विशेष अवसरों तक की तलाश करते हैं, आम भाषा में उसे समाज या आपका परिवार घर कहता है। अतः बेहतर भविष्य की परिकल्पना के संदर्भ में अपने घर का चयन करते समय हमें कुछ विशेष प्रकार की बातों पर ध्यान देना चाहिए।

    प्रत्येक युवा छात्र भारत के सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में पढ़ने के बारे में कम– से– कम एक बार सपना तो जरूर देखता है। अपने सपने को साकार करने का सबसे आसान तरीका है कि आप सबसे पहले उन शहरों के विषय में जाने जहाँ आपके करियर और सपने सही उड़ान भर सकें । एक बार जब आप शहर से परिचित हो जाएंगे, अपने लक्ष्य के प्रति काम करना शुरु करें और विश्वविद्यालय के कैंपस में रहने के अपने सपने को पूरा करें। खेल टीमों, क्लबों और मंडलों में शामिल होने का प्रयास करें। आपने जिन चीजों के बारे में सपना देखा है उन सब का अनुभव करें।

    गौरतलब है कि भारत में प्रत्येक वर्ष आईआईटी और इंजीनियरिंग में प्रवेश लेने वाले छात्रों में से 60% छात्र केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) से संबद्ध स्कूलों के होते हैं। CBSE और UP Board से संबद्ध अधिकांश स्कूल इन शहरों में हैं। विकल्प चुनते समय– पाठ्यक्रम, शिक्षा के मानकों, स्कूल की बुनियादी सुविधाएं, फीस, स्थान, सुरक्षा ये सभी कारक महत्वपूर्ण हो जाते हैं।

    इसलिए इस प्रकार के महत्वपूर्ण फैसले लेने में आपकी मदद के लिए Jagranjosh.com 7 सर्वश्रेष्ठ शहरों की सूची आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहा है । इस लेख के जरिये आपको आपकी सर्वश्रेष्ठ शिक्षा और नौकरी के लिए अवसरों की जरूरतों के हिसाब से सही स्थान चुनने में मदद मिलेगी ।

    1. दिल्ली

    दिल्ली देश के बेहतरीन उच्च शिक्षण संस्थानों का केंद्र है। दिल्ली विश्वविद्यालय देश का एक प्रमुख विश्वविद्यालय है और देश के अलग– अलग हिस्सों से प्रत्येक वर्ष बड़ी संख्या में छात्र इस विश्वविद्यालय में पढ़ाई करने आते हैं। यहां के छात्रों ने राजनीति, कला एवं संस्कृति, प्रशासन, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी जैसे अलग– अलग क्षेत्रों में अपनी पहचान बनाई है। आईआईटी और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) बेहतरीन विश्वविद्यालयों में से एक हैं, सिर्फ इसलिए नहीं कि ये देश के सर्वश्रेष्ठ संस्थानों में से हैं बल्कि इसलिए भी क्योंकि इन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाई है। जेएनयू मानविकी के पाठ्यक्रम के लिए विशेष रूप से जाना जाता है। अकादमिक(एकेडमिक) उत्कृष्टता के लिए दो विश्वविद्यालय प्रसिद्ध हैं– जामिया मिलिया इस्लामिया और इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय।

    कुछ प्रमुख संस्थान हैं–

    आईआईटी दिल्ली, एम्स, मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज, लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज, नेताजी सुभाष इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, सेंट. स्टीफेंस कॉलेज, हिन्दू कॉलेज, श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स, लेडी श्री राम कॉलेज ।

    नौकरी के अवसरः

    आईटी क्षेत्र में रोजगार के अवसरों, स्टार्टअप्स के लिए इको– सिस्टम के लिहाज से दिल्ली शीर्ष स्थान पर है। यह ऐसा शहर है जहां बीपीओ और एमएनसी (बहुराष्ट्रीय कंपनियां) बहुत लोकप्रिय हैं। सरल भाषा में कहें तो कोई भी आईटी शहर, इलाके में उपलब्ध प्रतिभा स्रोत पर निर्भर करता है इसलिए अच्छे शैक्षणिक संस्थानों और बड़ी आबादी वाले शहरों में उच्च आईटी या बीपीओ या सॉफ्टवेयर कौशल वाले आदर्श उम्मीदवार अधिक मिलते हैं। आम  तौर पर दिल्ली प्रतिभा से भरी हुई है।

    राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) जिसमें दिल्ली, गुड़गांव और नोएडा आते हैं, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के समूह हैं। इन जगहों पर कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों जैसे टीसीएस, महिन्द्रा कोमवीवा, हुवाई, सिंफनी टेलेका, इंफोसिस, कॉग्निजेंट, सिएना, ईवैल्यूसर्व, पिट्नी बोज, एमफोसिस, एक्सेंचर, एमडॉक्स, एचसीएल टेक्नोलॉजिज, नागार्रो, सेपिएंट, आईबीएम, ह्यूग्स सिस्टीक कोऑपरेशन, टफवर्क्स, एरिक्सेंट, ओरैकल, सैप, कोरिएंट, आरबीएस, के कार्यालय हैं।

    2. मुंबई

    मुंबई को सिटी ऑफ एक्सट्रीम्स कहा जाता है और हर मामले में यह शहर अवसरों से भरा है। कुछ लोगों के लिए मुंबई की तेज रफ्तार जिंदगी डरावनी हो सकती है लेकिन एक छात्र के लिए इस शहर में अवसरों की कोई कमी नहीं है। यदि आप कला, विज्ञान या वाणिज्य की पढ़ाई की योजना बना रहे हैं तो यह शहर आपको कई अच्छे विकल्प प्रदान करता है।

    मुंबई को फिल्म इंडस्ट्री का दिल कहा जाता है इसलिए मास मीडिया के पाठ्यक्रम में दाखिला लेना अच्छा विकल्प हो सकता है। शहर में कई मीडिया और एंटरटेनमेंट कंपनियां हैं जो कई प्रकार की नौकरियां देती हैं और इंटर्नशिप कराती हैं।

    मुंबई विश्वविद्यालय देश के प्रमुख विश्वविद्यालयों में से एक है। इस शहर में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान– आईआईटी भी है। यह पवई में स्थित है और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अकादमिक (एकेडमिक) उत्कृष्टता एवं अनुसंधान के लिए विश्वविख्यात है। मुंबई का ग्रांट मेडिकल कॉलेज लगातार कई वर्षों से देश के शीर्ष 10 मेडिकल कॉलेजों की सूची में बना हुआ है। यहां टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान (टीआईएसएस) भी है जो सामाजिक कल्याण के क्षेत्र में अपने उन्नत अनुसंधान कार्य के लिए जाना जाता है। प्रतिष्ठित सेंट. जेवियर्स कॉलेज को अब स्वायत्तता मिल चुकी है।

    सेंट. जेवियर्स मल्हार और आईआईटी पवई का मूड इंडिगो एवं सोफिया कॉलेज के केलाईडोस्कोप जैसे कार्यक्रमों में बड़ी संख्या में लोग शामिल होते हैं।

    प्रमुख संस्थान

    सेंट. जेवियर्स कॉलेज, आईआईटी बॉम्बे, केजी सोमैया कॉलेज, मिठीबाई कॉलेज, विल्सन कॉलेज, एल्फिंस्टन कॉलेज, सोफिया कॉलेज फॉर वुमेन आदि

    नौकरी के अवसरः

    भारत की वाणिज्यिक राजधानी के रूप में मशहूर मुंबई टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस का मुख्यालय है। यह भारत की सबसे बड़ी आईटी कंपनी है। शहर में स्थित अन्य प्रमुख आईटी कंपनियां हैं– डाटामैटिक्स, पाटनी, एलएंडटी इंफोटेक, 3i इंफोटेक, मास्टेक और ओरैकल फिनसर्व।

    3. कोलकाता

    कोलकाता को सिटी ऑफ ज्वाय के नाम से जाना जाता है। यह शहर पांडित्य (विशिष्ट ज्ञान,प्रज्ञता)और ज्ञान के शहर के रूप में भी विख्यात है। उच्च गुणवत्ता वाली शिक्षा की तलाश में बड़ी संख्या में छात्र पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता आते हैं। यहां 17 संस्थान हैं। इसमें सरकारी विश्वविद्यालय और स्वायत्त निकाय दोनों शामिल हैं। यहाँ कुछ ऐसे स्वायत्त निकाय भी हैं जो स्वयं की डिग्री और डिप्लोमा देते हैं। बीते कुछ वर्षों में कोलकाता  विश्वविद्यालय में कुछ नए कॉलेजों को शामिल किया गया है। उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए कई छात्रों को कोलकाता से बाहर जाना पड़ता था। अब ट्रेंड बदल गया है। हालांकि, कई लोग अब भी मानते हैं कि देश में अग्रणी शिक्षण केंद्र के तौर पर कोलकाता अब अपना स्थान गंवा चुका है। यहाँ शिक्षा पर राजनीति का प्रभाव अभी भी चिंता का विषय है। कोलकाता का जाधवपुर विश्वविद्यालय देश के प्रमुख विश्वविद्यालयों में से एक है। प्रतिष्ठित आईआईएम कलकत्ता कोलकाता शहर में ही है।

    प्रमुख संस्थान

    आईआईएम– सी, सेंट. जेवियर्स कॉलेज, स्कॉटिश चर्च कॉलेज, लेडी ब्रेबॉर्न कॉलेज, प्रेसीडेंसी कॉलेज, गोयनका कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन, जाधवपुर विश्वविद्यालय आदि

    नौकरी के अवसरः

    कोलकाता पूर्वी भारत का प्रमुख व्यापारिक, वाणिज्यिक एवं वित्तीय और भारत के उत्तर– पूर्वी राज्यों के लिए संचार हेतु प्रमुख बंदरगाह है। यहाँ भारत का सबसे पुराना और दूसरा सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज कंपनी (सराफा) – कलकत्ता स्टॉक एक्सचेंज भी है।

    यह शहर तेजी से आईटी/ बीपीओ का पसंदीदा स्थान बनता जा रहा है। ज्यादा से ज्यादा उद्योगपति कोलकाता में अपना कार्यालय बनाने पहुंच रहे हैं। इनमें आईबीएम, एरिक्सन, एक्सेंचर, कॉग्निजेंट, टेक्सास इंस्ट्रूमेंट्स, सिस्को सिस्टम्स, इंटेल एशिया इलेक्ट्रॉनिक्स इंक., डेलॉयट, सन माइक्रोसिस्टम्स, हनीवेल, पीडब्ल्यूसी, एचएसबीसी ग्लोबल रिसोर्सिंग, कैपजेमिनी, एटॉस ऑरिजिन, फोस्टर ह्वीलर, सिमेंट और नेवेल जैसी बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियां शामिल हैं।

    4. चेन्नई

    दक्षिण भारत का चेन्नई शहर तकनीकी शिक्षा के लिए प्रसिद्ध है लेकिन यहां छात्र अन्य  विषयों की पढ़ाई के लिए भी आते हैं। आईआईटी को छोड़कर कई कॉलेजों में महाराष्ट्र,दिल्ली और पश्चिम बंगाल से आए छात्र देखने को मिलते हैं। 165 वर्ष पुराना मद्रास विश्वविद्यालय अपने कुछ विशेष पाठ्यक्रमों के लिए जाना जाता है। इसी विश्वविद्यालय के दो छात्रों– सी. वी. रमण और एस. चंद्रशेखर ने नोबल पुरस्कार जीता था। विश्वविद्यालय में 300 करोड़ रुपए मूल्य के उपकरण और सुविधाएं मौजूद हैं। शहर के शिक्षाविदों का कहना है कि पुस्तकालय  और अनुसंधान कार्य के लिए छात्रों को कहीं और जाने की जरूरत नहीं है। दाखिले की प्रक्रिया पारदर्शी है और पाठ्यक्रम का शिक्षण शुल्क बेहद किफायती है । इस शहर की एक और बड़ी खासियत है– आईआईटी मद्रास। यह विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में उच्च गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए प्रख्यात संस्थान है।

    गैर–दक्षिण भारतीय छात्रों की आम समस्या भाषा संबंधी है। हालांकि थोड़ी सी मेहनत कर कोई भी इस शहर में जीवन यापन के लिए जरूरी तमिल भाषा आसानी से सीख सकता है। यहां की संस्कृति दिल्ली या मुंबई की तरह तेज– रफ्तार वाली नहीं है। कुछ कॉलेजों में तो ड्रेस कोड – (महिलाओं/ लड़कियों के लिए सलवार– कमीज और पुरुषों/ लड़कों के लिए औपचारिक पोशाक) भी है।

    प्रमुख संस्थान

    लोएला कॉलेज, प्रेसीडेंसी कॉलेज, स्टेला मॉरिस कॉलेज फॉर वुमेन, एशियन कॉलेज ऑफ जर्नलिज्म, इतिराज कॉलेज, आईआईटी मद्रास, मद्रास मेडिकल कॉलेज आदि

    नौकरी के अवसरः

    वर्तमान में चेन्नई भारत में चौथी– सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला शहर है और प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद में इसका स्थान तीसरा है।

    चेन्नई के आर्थिक आधार में ऑटोमोबाईल, सॉफ्टवेयर सर्विसेस, मेडिकल टूरिज्म, हार्डवेयर मैन्युफैक्चरिंग और वित्तीय सेवाओं का बड़ा योगदान है। शहर में पूर्ण कंप्यूटरीकृत स्टॉक एक्सचेंज– मद्रास स्टॉक एक्सचेंज है। भारत के सकल मेट्रोपोलिटन उत्पाद में चेन्नई चौथे स्थान पर आता है।

    चेन्नई में कुछ प्रमुख कंपनियों जैसे–एक्सेंचर, कॉग्निजेंट, टीसीएस, स्टेनली, विप्रो, इंफोसिस, वेरिजन, एचसीएल, अमेजन डॉट कॉम, ईबे, पेपाल, पोलारिस, पाटनी, कैपजेमिनी के कार्यालय हैं। यहां कई प्रमुख ग्लोबल प्रोवाइडर्स भी काम करते हैं। सरकार एवं निजी निकायों द्वारा सहायता प्राप्त समर्पित एक्सप्रेसवे के अतिरिक्त शहर में विश्वस्तरीय आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर और कई अन्य आईटी पार्क भी हैं।

    ईसीए इंटरनेशनल द्वारा किए गए "लोकेशन रैंकिंग सर्वे" में भारतीय शहरों में सर्वश्रेष्ठ जीवन गुणवत्ता के मामले में चेन्नई ने तीन मेट्रो शहरों और बैंगलोर को पीछे छोड़ते हुए पहला स्थान प्राप्त किया।

    5. हैदराबाद

    ग्लोबल सर्वे के अनुसार मुंबई और बैंगलोर जैसे भारत के परंपरागत व्यापारिक केंद्रों को पीछे छोड़ते हुए मोतियों का शहर हैदराबाद देश में जीने लायक सर्वश्रेष्ठ शहर है। कंसल्टेंसी कंपनी मर्सर की "क्वालिटी ऑफ लिविंग रिपोर्ट– 2015" के अनुसार, भारतीय शहरों में शीर्ष स्थान पर होने के बावजूद हैदराबाद जीवन मानकों के मामले में विश्व के करीब 230 शहरों की सूची में 138वें पायदान पर है।

    हैदराबाद में दो केंद्रीय विश्वविद्यालय, दो डीम्ड यूनिवर्सिटीज और छह राजकीय विश्वविद्यालय हैं। यहां स्थित उस्मानिया विश्वविद्यालय देश के प्रमुख विश्वविद्यालों में से एक है।
    जवाहरलाल नेहरू टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी, इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी और कई अन्य प्रमुख संस्थानों के अलावा इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस और नेशनल एकेडमी ऑफ लीगल स्टडीज एंडरिसर्च (नालसर) हैदराबाद में हैं।

    हैदराबाद देश भर के छात्रों समेत कुछ अंतरराष्ट्रीय छात्रों को भी आकर्षित करता है। विदेशी छात्रों के लिए हैदराबाद का इंग्लिश एंड फॉरेन लैंग्वेज यूनिवर्सिटी सबसे पसंदीदा शिक्षण संस्थान हैं।

    प्रमुख संस्थान

    हैदराबाद विश्वविद्यालय, मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय, नालसर– यूनिवर्सिटी ऑफ लॉ, इंग्लिश एंड फॉरेन लैंग्वेज यूनिवर्सिटी (सीआईईएफएल), इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस (बिट्स), इकफाई बिजनेस स्कूल, इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस।

    नौकरी के अवसर

    हैदराबाद को मोतियों का शहर के नाम से जाना जाता है। 18वीं सदी तक मोतियों के कारोबार के कारण यह शहर बड़े हीरों का एक मात्र वैश्विक व्यापार केंद्र था। हैदराबाद सूचना प्रौद्योगिकी के वैश्विक केंद्रों में से एक है और इस वजह से इसे साइबराबाद (साइबर सिटी) के नाम से भी जाना जाता है। शहर के आईटी क्षेत्र में आईटी–समर्थित सेवाएं, बिजनेस प्रॉसेस आउटसोर्सिंग, मनोरंजन उद्योग और वित्तीय सेवा शामिल हैं।

    इस शहर को हाईटेक सिटी के नाम से जाना जाता है और यह प्रमुख वैश्विक सूचना प्रौद्योगिकी हब है। यह भारत का दूसरा सबसे बड़ा आईटी निर्यातक और सबसे बड़ा जैवसूचनाविज्ञान केंद्र का हब है। भारत में माइक्रोसॉफ्ट डेवलपमेंट सेंटर का यह पहला गंतव्य बना। माइक्रोसॉफ्ट, फेसबुक, एप्पल इंक, इंफोसिस, गूगल, कॉग्निजेंट, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस, कंप्यूटर साइंसेस कॉर्पोरेशन, एक्सेंचर, टेक महिन्द्रा, विप्रो, एचसीएल, साइंएंट, आईगेट, कैपजेमिनी, अमेजन डॉट कॉम, आईबीएम, डेल, डेलॉयट आदि एवं करीब 3000 कंपनियां इस शहर में काम कर रही हैं।

    6. बैंगलोरः

    बैंगलोर कई शैक्षणिक एवं अनुसंधान संस्थानों का केंद्र है और कौशल विकास की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान करता है। बैंगलोर को भारत के शैक्षणिक हब में से एक माना जाता है।

    बैंगलोर विश्वविद्यालय 500 से भी अधिक कॉलेजों को संबद्धता (Affiliation) प्रदान करता है और विश्वविद्यालय में 300,000 से भी अधिक छात्र दाखिला लेते हैं। बैंगलोर में विश्वविद्यालय के दो कैंपस हैं– जननभारती और सेंट्रल कॉलेज।

    बैंगलोर में विश्वश्वरैया टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से संबद्ध कई निजी इंजीनियरिंग कॉलेज हैं। स्नातक डिग्री के लिए उल्लेखनीय कॉलेज हैं– आर. वी. कॉलेज ऑफ इंजीनियिरंग, पीईएस इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, बीएमएस कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, एम.एस. रमैया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एवं बैंगलोर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी।

    प्रमुख संस्थान

    जैन विश्वविद्यालय, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस, नेशनल सेंटर फॉर बायोलॉजिकल साइंसेज (एनसीबीएस), जवाहर लाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस्ड साइंटिफिक रिसर्च (जेएनसीएएसआर) और रमन रिसर्च इंस्टीट्यूट)। ये संस्थान भारत में वैज्ञानिक अनुसंधान के प्रमुख संस्थान हैं।

    राष्ट्रीय स्तर पर पेशेवर संस्थान हैं– यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चरल साइंसेस, बैंगलोर (यूएएसबी), नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन (एनआईडी), नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी (निफ्ट), नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी (एनएलएसआईयू), इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, बैंगलोर (आईआईएम– बी), आईसीएआर– नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एनिमल न्यूट्रीशन एंड फिजियोलॉजी (एनआईएएनपी), इंडियन स्टैटिस्टिकल इंस्टीट्यूट और इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, बैंगलोर (आईआईआईटी–बी)।

    इस शहर में प्रमुख मानसिक स्वास्थ्य संस्थान भारतीय राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य एवं तंत्रिका विज्ञान संस्थान (एनआईएमएचएएनएस– निमहंस) भी है। बैंगलोर में देश के कुछ सर्वश्रेष्ठ मेडिकल कॉलेज भी हैं जैसे सेंट. जॉन्स मेडिकल कॉलेज (एसजेएमसी) और बैंगलोर मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट (बीएमसीआरआई) आदि ।

    नौकरी के अवसर  

    बैंगलोर को भारत का सिलिकन वैली कहा जाता है। यह नाम बैंगलोर को भारत में सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) का हब होने के कारण मिला है। गौरतलब है कि वैश्विक स्तर पर कैलिफोर्निया के पास स्थित सांटा क्लारा वैली को सिलिकन वैली के रूप में जाना जाता है। बैंगलोर का आईटी उद्योग मुख्य रूप से दो "समूहों" में बंटा है– इलेक्ट्रॉनिक्स सिटी औऱ ह्वाइटफील्ड। बाहरी और भीतरी रिंग रोड और ओल्ड मद्रास रोड के पास सी.वी. रमण नगर में बीते कुछ वर्षों से  बेलांदूर, हेब्बल और चल्लाघाट्टा में नया समूह उभरा है। इस शहर में 900 से अधिक आईटी कंपनियां काम करती हैं। बैंगलोर स्थित आईटी कंपनियां भारत के 2.5 मिलियन आईटी पेशेवरों में से करीब 35% पेशेवरों को रोजगार देती हैं। यह देश में आईटी संबंधित निर्यातों में सबसे अधिक योगदान करती हैं।

    इस शहर को भारत के विमानन एकाधिकार की राजधानी भी कहा जाता है। यहां भारत के एयरोस्पेस व्यापार का 65% से अधिक कामकाज होता है। विश्व के एयरोस्पेस दिग्गज जैसे बोइंग, एयरबस, गुडरिच, डायनेमैटिक्स, हनीवेल, जीईएविएशन, यूटीएल और अन्य कंपनियों के अनुसंधान एवं विकास और इंजीनियरिंग केंद्र बैंगलोर में हैं।

    बैंगलोर में कई भारी उद्योग भी हैं। इनमें भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड, भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल), इंडियन टेलिफोन इंडस्ट्री (आईटीआई), भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड (बीईएमएल), एचएमटी (पहले हिन्दुस्तान मशीन टूल्स), हिन्दुस्तान मोटर्स (एचएम) और एबीबी ग्रुप शामिल हैं।

    7. पुणे

    जवाहरलाल नेहरू ने इस शहर को पूर्व का ऑक्सफोर्ड नाम दिया था l इस शहर में पूरे विश्व से छात्र पढ़ाई तथा नौकरी के तलाश में आते हैं।l भारत में जापानी भाषा सीखने का सबसे बड़ा केंद्र है, पुणे। यहां जापानी भाषा प्रवीणता परीक्षा देने वाले छात्रों की संख्या देश में सबसे अधिक है। l जापानी भाषा के शिक्षकों के प्रशिक्षण एवं भर्ती का भी यह प्रमुख केंद्र है। पुणे विश्वविद्यालय देश का दूसरा सबसे बड़ा विश्वविद्यालय (कॉलेजों की कुलसंख्या के आधार पर) है और इस विश्वविद्यालय में पढ़ने के लिए दुनिया भर से छात्र आते हैं।

    प्रमुख संस्थान

    पुणे में कई अनुसंधान संस्थान हैं। वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर), यहाँ स्थित राष्ट्रीय रसायन प्रयोगशाला(एनसीएल), अंतरविषयक अनुसंधान केंद्र है जिसमें अनुसंधान की व्यापक गुंजाइश है और यह पॉलिमर विज्ञान, जैविक रसायनशास्त्र, उत्प्रेरण एवं सामग्री रसायनशास्त्र में उपाधि प्रदान करता है। भारत का सबसे प्रमुख फिल्म स्कूल–  भारतीय फिल्म एवं टेलिविजन संस्थान (एफटीआईआई) पुणे में ही है और लॉ कॉलेज रोड पर स्थित है।

    अन्य प्रमुख संस्थान हैं– इंटर– यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स, इंडियन इंस्टीट्यूट फॉर साइंस एजुकेशन एंड रिसर्च, नेशनल एड्स रिसर्च इंस्टीट्यूट, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वीरोलॉजी, नेशनल सेंटर फॉर सेल साइंस– ये कुछ अनुसंधान संस्थान हैं जो जीव विज्ञान के क्षेत्र में काम करते हैं।

    सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ एडवांस्ड कंप्यूटिंग (सी– डैक) भारत के सबसे शक्तिशाली सुपरकंप्यूटरों– परम और पद्म का संचालन करता है।
    सिंबायोसिस इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी शहर में 33 कॉलेजों और संस्थानों का संचालन करती है। इसमें अन्य संस्थानों के अलावा सिंबायोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट (एसआईबीएम, पुणे), सिंबायोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज (एसआईएमएस), सिंबायोसिस सेंटर फॉर मैनेजमेंट एंड ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट (एससीएमएचआरडी), सिंबायोसिस लॉ स्कूल शामिल हैं ।

    पुणे में विशेष रूप से रक्षा बलों के लिए समर्पित कई उत्कृष्ट शिक्षण संस्थान भी हैं–

    राष्ट्रीय रक्षा अकादमी– एनडीए,
    डिफेंस इंस्टीट्यूट ऑफ आर्मामेंट टेक्नोलॉजी (डीआईएटी)
    आर्म्ड फोर्सेस मेडिकल कॉलेज (एएफएमसी)
    कॉलेज ऑफ मिलिट्री इंजीनियरिंग (सीएमई), दापोली।
    आर्मी इंस्टीट्यूट ऑफ फिजिकल ट्रेनिंग (एआईपीटी), हदपसार
    आर्मी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एआईटी), दिघी।

    नौकरी के अवसर

    पुणे उभरते  हुए व्यापारिक केंद्र के रूप में विख्यात है। इस शहर को "आईटी एवं ऑटोमोटिव कंपनियों के मेजबान" शहर का खिताब मिल चुका है।l यह दुनिया के उभरते 9 शहरों में से एक है। यह शहर अपने विनिर्माण एवं ऑटोमोबाइल उद्योग के लिए जाना जाता है। सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी), शिक्षा, प्रबंधन के क्षेत्र में अनुसंधान संस्थानों और प्रशिक्षण के लिए भी यह शहर प्रसिद्ध है। एशिया– प्रशांत क्षेत्र में पुणे सबसे तेजी से विकास करने वाले शहरों में से एक है।

    "मर्सर 2015 क्वालिटी ऑफ लिविंग रैंकिंग्स" के अनुसार, दुनिया भर के 440 से भी अधिक शहरों में स्थानीय जीवन परिस्थितियों का मूल्यांकन करने पर पुणे 145 वें स्थान पर आया। भारत के हैदराबाद (138) के बाद यह दूसरे स्थान पर है।

    जर्मन कंपनियों के लिए भारत में सबसे बड़ा हब है पुणे शहर। इंडो–जर्मन चैंबर ऑफ कॉमर्स के अनुसार, बीते 60 वर्षों से पुणे जर्मनी की कंपनियों के लिए अकेला सबसे बड़ा हब बना हुआ है। 225 से अधिक जर्मन कंपनियों ने अपना कारोबार इस शहर में स्थापित किया है।

    निष्कर्ष:

    इन 7 शहरों में पढ़ने और रहने के फायदों का संक्षिप्त सारांश :

    सर्वोच्च शहरों के नामचीन विश्वविद्यालय से पढ़ना आपको सामान्य विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त किए छात्रों की तुलना में निम्नलिखित पेशेवर लाभ प्रदान करेगा -

    प्रतिष्ठित बड़ी कंपनियों में साक्षात्कार और नौकरी के अवसर प्राप्त करना आपके लिए आसान होगा।
    बड़ी कंपनियां आपको शुरुआती दौर में अधिक अनुकूल पद और उच्च वेतन की पेशकश करेंगीं।
    आपके कार्य को देखे बगैर भी प्रतिष्ठित संस्थान की डिग्री के कारण बड़ी कंपनियों के लोग आपसे प्रभावित होंगे।
    स्टार्ट–अप कंपनियों में काम करने का अवसर आसानी से उपलब्ध होगा।
    आपके लिए नामचीन (नामी,प्रतिष्ठित) ग्रैजुएट स्कूल में दाखिला लेना आसान होगा।

    देश के सर्वश्रेष्ठ शैक्षणिक संस्थानों में पढ़ाई करने से आपमें उन चीजों को देखने का नजरिया बदलेगा जिन्हें आप पहले कोई खास महत्व नहीं देते थे।
    उपर उल्लिखित शहरों में रहने का लाभ सिर्फ शिक्षा और नौकरी के बेहतरीन अवसरों तक ही सीमित नहीं है l ये शहर आपको पानी, स्वच्छता, विश्वनीय उपयोगी सेवाएं, स्वास्थ्य सेवाएं आदि जैसी बेहतर और अनुकूल बुनियादी ढांचा भी उपलब्ध कराने में सक्षम होते हैं। इन शहरों की पारदर्शी प्रक्रियाओं के कारण यहाँ व्यावसायिक गतिविधियों को चलाना आसान होता है l यही वजह है कि ये शहर निवेश के लिए आकर्षित करते हैं l भिन्न भिन्न प्रकार की नागरिक– उन्मुख सेवाएं और सरल तथा एकसमान अनुमोदन की प्रक्रिया यहाँ के नागरिकों में सुरक्षित और सौभाग्यशाली होने का बोध कराती हैं l

    "हमारी सबसे बड़ी कमजोरी हार मान लेने में है। सफल होने का सबसे निश्चित तरीका है कि हमेशा एक प्रयास और करें।" इस कथन के साथ  उम्मीद करते हैं कि यह लेख आपको बेहतर उच्च शिक्षा एवं जीवनयापन की तलाश में मददगार साबित होगा।l

    इसलिए, पढ़ना जारी रखें, कड़ी मेहनत करें और खुद के लिए एक बेहतर स्थान तलाशें।

    Commented

      Latest Videos

      Register to get FREE updates

        All Fields Mandatory
      • (Ex:9123456789)
      • Please Select Your Interest
      • Please specify

      • By clicking on Submit button, you agree to our terms of use
        ajax-loader
      • A verifcation code has been sent to
        your mobile number

        Please enter the verification code below

      Newsletter Signup
      Follow us on
      X

      Register to view Complete PDF