Bank PO या Bank SO: आपको किसे चुनना चाहिए?

हाल के वर्षों में बैंकिंग नौकरियों में करियर बनाने वाले युवाओं के बीच प्रोबेशनरी ऑफिसर (पीओ) की नौकरी सर्वाधिक लोकप्रिय रही है, जिसका प्रमुख कारण है यह वेकेंसी नियमित रूप से आती है और इसकी भर्ती प्रक्रिया बहुत तेज है। उम्मीदवार इन नौकरियों के लिए उन्नत प्रौद्योगिकी और अन्य संबंधित मुद्दों के साथ तैयारी करते हैं।

Created On: Dec 12, 2017 13:23 IST
Modified On: Dec 12, 2017 14:50 IST
Bank PO Vs BAnk SO : Which is better?
Bank PO Vs BAnk SO : Which is better?

हाल के वर्षों में बैंकिंग नौकरियों में करियर बनाने वाले युवाओं के बीच प्रोबेशनरी ऑफिसर (पीओ) की नौकरी सर्वाधिक लोकप्रिय रही है, जिसका प्रमुख कारण है यह वेकेंसी नियमित रूप से आती है और इसकी भर्ती प्रक्रिया बहुत तेज है। उम्मीदवार इन नौकरियों के लिए उन्नत प्रौद्योगिकी और अन्य संबंधित मुद्दों के साथ तैयारी करते हैं। आजकल बैंकों में एक विशेषज्ञ कैडर की भी आवश्यकता रहती है। अपनी आवश्यकता पूरी करने के लिए बैंक विभिन्न सेक्शंन्स (वर्गों) में उम्मीदवारों की भर्ती कर रहे हैं

इनमें आईटी, कानून, मानव संसाधन, एग्रीकल्चर फील्ड ऑफिसर और आईबीपीएस एसओ आदि शामिल हैं। आजकल बैंकों में इंजीनियर भी बड़ी संख्या में आ रहे हैं। अक्सर यह देखा गया है कि एक उम्मीदवार आम तौर पर हर तरह की परीक्षा की तैयारी करता है। समय बीतने के साथ-साथ उसके लिए परीक्षा की तैयारी करना मुश्किल होता जाता है। इस आर्टिकल के माध्यम से यह जानने की कोशिश करेंगे कि इस प्रोफाइल के लिए आपको किन बिंदुओं पर ध्यान देने की जरूरत है जिससे आप आसानी से अपनी मंजिल को पा सकें।

क्या पीएसयू बैंकों में प्रोमोशन में एससी/ एसटी का कोई कोटा है?

बैंक पीओ: एक विविध भूमिका

दरअसल  किसी भी बैंक में एक सामान्य अधिकारी भी बैंक की रीढ़ होता है क्योंकि उसके पास इतने कार्य होते हैं कि उसे बैंक की पूरी प्रणाली से लेकर बैंक ब्रांच होते हुए कॉरपोरेट बैंकिंग, वित्त प्रबंधन, तीसरे पक्ष के उत्पादों, वैकल्पिक वितरण के स्त्रोतों, उधार, विेदशी संचालन जैसी कई भूमिकाओं में अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करना होता है। तो, आइए जानते हैं कि इस कार्य की विशेषताएं क्या हैं?

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में स्पेशलिस्ट ऑफिसर्स के लिए प्रमोशन पालिसी

  • आपको अनेक चुनौतियों का सामना करना होता है : यह इस नौकरी की प्राथमिक विशेषता है क्योंकि आपको एक अशिक्षित किसान से लेकर अंबानी, बिड़ला जैसे लोगों से मुखातिब होना पड़ता है। विभिन्न तरह की जिम्मेदारियां मिलने के कारण आपको अपने पूरे जीवनकाल में अपने देश के आर्थिक विकास की दिशा में सकारात्मक योगदान देने के लिए कई अवसर प्राप्त होते हैं।
  • ग्रामीण और अर्ध शहरी क्षेत्रों में तैनाती: जी हाँ, एक पीओ के रूप निश्चित रूप से आपकी पोस्टिंग आपके कैरियर के दौरान एक बार ग्रामीण और अर्ध्दशहरी क्षेत्रों में जरूर होगी। यह पूरी तरह से आपके प्रदर्शन और आपको मिलने वाली शाखा (ब्रांच) पर निर्भर करता है। जीवन में बुनियादी सुविधाओं के बिना एक एकांत जगह पर सर्विस करने के लिए तैयार रहें।
  • लगातार स्थानान्तरण (ट्रांसफर) : बैंक प्रबंधन आपसे एक मोबाइल की तरह कार्य करने की अपेक्षा रखता है जो हर परिस्थिति में कहीं भी फिट हो सके और बैंक को मिलने वाली हर चुनौतियों पर खरा उतर सके। ट्रांसफर बहुत कठिन होते हैं लेकिन यह इस जॉब की सच्चाई है। आपका ट्रांसफर तीन वर्षों में होगा और दुनिया में कोई भी नहीं जानता कि यह कहां होगा।
  • तेजी से मिलती है पदोन्नति : यदि आप उत्कृष्टता के साथ लगन से कार्य करने वाले एक महत्वाकांक्षी व्यक्ति हैं तो यह नौकरी आपके लिए है क्योंकि एक पीओ अपने कठिन परिश्रम और समर्पण की वजह से 20 से भी कम साल में एक बैंक का महाप्रबंधक (जनरल मैनेजर) बन सकता है।
  • सीखने का विकल्प : आपको अपने वर्क प्रोफ़ाइल की वजह से हर रोज नई चीजें सीखने का अवसर मिलता है। आप नहीं जानते कि कैसे आपका दिन वास्तविकता से परे होते हुए खत्म हो जाएगा। आप सोच रहे होंगे की आप ऑफिस जल्दी आ गएं हैं और समय से चले जाएंगे, लेकिन आपको पता ही नहीं चलता कि कब दिन समाप्त हो गया। इसलिए परेशानियों से निपटने के लिए प्रजेंन्स ऑफ माइंड और तेजी से निर्णय लेने की क्षमता होना जरूरी है।
  • अन्य अधिकारी कॉडर की तुलना में तनाव अधिक होता है : यह इसलिए है क्योंकि शाखा बैंकिंग और अधिकारीगण एक बैंक के कुल कारोबार की मुख्य और अनिवार्य जरूरतें हैं। यही कारण है कि ये अधिकारी बाजार में पहले से मौजूद भारी प्रतिस्पर्धा के बीच उन क्षेत्रों में अपने बैंक का बिजनेस बढ़ाते हैं जहां बैंक को पहले से ही कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

क्या देश में सिंगल बैंक भर्ती परीक्षा की आवश्यकता है?

बैंक एसओ : अपने क्षेत्र में कड़ी मेहनत करने का मौका

अपने व्यवसाय को सुचारू रूप से सुनिश्चत करने के लिए एक बैंक को कई मुद्दों पर पर कार्य करने की आवश्यकता है। इसके लिए बैंक एचआर (मानव संसाधन), लॉ (कानून), सूचना प्रौद्योगिकी, राजभाषा अधिकारी जैसे पदों पर नियुक्ति करेगा और इन पदों पर नियुक्त होने वाले उम्मीदवार अपने कार्यक्षेत्र से संबंधित मुद्दों का हल निकालेंगे। तो क्या आप इन जिम्मेदारियों से मिलने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार हैं?

  • आप अपने अकादमिक ज्ञान का उपयोग करने जा रहें हैं : यदि आप अपने अकादमिक विषय के बारे में बहुत रूचि रखते हैं तो यह नौकरी अपने कॉलेज और विश्वविद्यालय में सीखे हुए ज्ञान को अप्लाई करने का भरपूर मौका देगी। आपको उन मुद्दों के साथ हर रोज रूबरू होना होगा जिनका हल निकालने में आपको अपने शैक्षिक जीवन के दौरान महारत हासिल हुई है।
  • अरबन पोस्टिंग (शहरों में पोस्टिंग ): यदि आप शहरी जीवन के प्रशंसक रहें हैं तो फिर बैंक एसओ की जॉब आपके लिए है। पूरे कैरियर की नौकरी के दौरान आपकी पोस्टिंग या तो बैंक के क्षेत्रीय कार्यालय में होगी या फिर आंचलिक कार्यालय में होगी। इस बात की कोई संभावना नहीं है कि आपको जीवन व्यतीत करने के लिए बुनियादी सुविधाएं भी हासिल नहीं होगीं।
  • ट्रांसफर की संभावना कम : इसकी संभावना इसलिए कम है क्योंकि ऐसे स्थान बहुत कम हैं जहां विशेषज्ञ अधिकारी का ट्रांसफर होगा क्योंकि ऐसी 100 ही शाखाएं हो सकती हैं और इसका कोई एक क्षेत्रीय कार्यालय भी नहीं है। इसलिए पूरे कैरियर की नौकरी के दौरान इन अधिकारियों का बमुश्किल से केवल चार या पांच बार तबादला हो सकता है
  • पदोन्नति की संभावना कम : जी हाँ, आपने सही पढ़ा है। आप केवल एक निश्चित स्तर तक वृद्धि कर सकते हैं लेकिन उसके बाद यदि आपको ग्रोथ चाहिए तो आपको सामान्य बैंकिग की तरफ रूख करना होगा, जिससे आपके पास बैंक के जनरल मैनेजर या कार्यकारी निदेशक जैसे पदों तक पहुंचने का अवसर रहेगा, अन्यथा आपके पास मिडिल स्केल के साथ रिटायर होने के अलावा कोई चारा नहीं रहेगा l
  • बहुत कम तनाव: शायद ही आपको अपने रोजमर्रा के काम में किसी तरह के तनाव का सामना करना पड़े क्योंकि इन अधिकारियों के पास दैनिक आधार पर ज्यादा कुछ कार्य करने को नहीं होता है। लेकिन आपको किसी विशेष स्थिति में अपने क्षेत्र में होने वाली दिक्कतों से बेहतर तरीके से निपटने के लिए तैयार रहना होता है। इसलिए विशेष अवसरों के लिए अपने उस ज्ञान को आधार बनाए रखने के लिए तैयार रहें।
  • कोई पब्लिक डीलिंग का कार्य नहीं : आप एक बैंकर हैं लेकिन आपको सामान्य जनता के साथ डीलिंग नहीं करनी होती है, जैसा कि बैंक जॉब में होता है। आप अपने क्षेत्रीय कार्यालय में आराम से बैठ सकते हैं और आराम कर सकते हैं। आपको नहीं पता होता है कि आपके अपने क्षेत्र की कई शाखाओं की हालत दयनीय है, जहां अधिकारियों को नियमित आधार पर पानी भी नहीं मिल सकता है।
  • सामान्य अधिकारियों के बराबर वेतन : विशेषज्ञ अधिकारियों के बारे में यह बात सही है कि उनके पास कम जिम्मदारियां होती हैं। आपको वैसी वेतन, सुविधाएं मिलती हैं जैसा शहरी जीवन व्यतीत करने के लिए जरूरी हैं।

क्या सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक अपने कर्मचारियों के साथ लाभ का साझा करते हैं?

विभिन्न प्रयोजनों के लिए बैंक पीओ और बैंक एसओ एक अच्छा विकल्प है और ऐसा नहीं कह सकते हैं कि कोई एक अच्छा है तो दूसरा बेकार है। लेकिन अगर आप बैंकिंग क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो बैंक पीओ आपका उद्देश्य होना चाहिए क्योंकि लंबे समय के लिए यह अनुभव आपको और आपके करियर को बैंकिग क्षेत्र में नई ऊंचाइयों पर ले जाने में मदद करेगा। बैंक एसओ एक विकल्प है जहां आपको प्रयास करना चाहिए क्योकि इस दौरान आप दूसरी जॉब और परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं। यह आप पर निर्भर करता है कि आप क्या चाहते हैं और आपका क्या निर्णय है.

NABARD Assistant Manager Grade ‘A’ Exam: Previous Year Question Paper

 बैंक परीक्षा के लिये कैलकुलेशन स्पीड बढ़ाने के 7 प्रभावी तरीके

ऑल द बेस्ट!!

Related Categories

    Comment (0)

    Post Comment

    7 + 6 =
    Post
    Disclaimer: Comments will be moderated by Jagranjosh editorial team. Comments that are abusive, personal, incendiary or irrelevant will not be published. Please use a genuine email ID and provide your name, to avoid rejection.