Search

भारत में होमियोपैथी की फील्ड में है करियर का शानदार स्कोप

होमियोपैथी आज दुनिया-भर में जानी-पहचानी चिकित्सा पद्धित है और भारत में भी अब लाखों लोग होमियोपैथी के माध्यम से अपनी कई असाध्य बीमारियों का ईलाज करवा रहे हैं. इस आर्टिकल में पढ़ें कैसे आप होमियोपैथी में अपना करियर शुरू कर सकते हैं.....

Mar 1, 2020 19:34 IST
facebook IconTwitter IconWhatsapp Icon
Careers in Homeopathy
Careers in Homeopathy

भारत सहित दुनिया के कई प्रमुख देशों में आजकल होमियोपैथी एक अति लोकप्रिय मेडिकल स्ट्रीम बन चुकी है और पूरे विश्व में करोड़ों लोग होमियोपैथी को आजकल अपनी मेडिसिन के तौर पर अपना रहे हैं. भारत में होमियोपैथी का महत्व महात्मा गांधी के इन शब्दों से समझा जा सकता है:

ट्रीटमेंट के किसी भी अन्य प्रकार की तुलना में होमियोपैथी विभिन्न रोगों के ज्यादा व्यापक प्रतिशत का ईलाज करती है और बेशक यह ज्यादा सुरक्षित होने के साथ-साथ काफ़ी किफायती है.

होमियोपैथी का परिचय

होमियोपैथी एक ऐसी वैकल्पिक चिकित्सा पद्धि है जिसे वर्ष 1796 में ‘सैमुअल हैनमैन’ ने शुरू किया था. होमियोपैथी का मौलिक सिद्धांत "ईलाज की तरह" थ्योरी पर आधारित है, जिसमें यह दावा किया गया  है कि एक ऐसा एलिमेंट है जो किसी हेल्दी व्यक्ति में बीमारी के लक्षणों का कारण बनता है. इसलिए, बीमार लोगों को वैसे ही किस्म के लक्षणों से ठीक किया जा सकता है. होमियोपैथी की सबसे खास बात यह है कि यह दवाई किसी भी व्यक्ति के ईलाज के लिए उसके शरीर की प्राकृतिक प्रणाली को एक्टिव कर देती है.

होमियोपैथी: भारत में करियर स्कोप

बीते वर्षों में, होमियोपैथी मेडिसिन्स की प्रभावशीलता कई गुना बढ़ी है जिसका श्रेय इस फील्ड में लगातार जारी रिसर्च कार्य को जाता है. इससे स्टूडेंट्स के लिए भी करियर के अवसरों में महत्वपूर्ण बढ़ोतरी हुई है.

भारत और विदेशों में इस फील्ड में जॉब्स के शानदार अवसर मौजूद हैं क्योंकि आजकल लोग ऐसी मेडिकल केयर चाहते हैं जिसके कोई साइड-इफेक्ट्स या दुष्प्रभाव नहीं हों. एक सुप्रशिक्षित और अनुभवी होमियोपैथिक प्रैक्टिशनर विभिन्न प्राइवेट और सरकारी होमियोपैथिक हॉस्पिटल्स में एक मेडिकल ऑफिसर के तौर पर भी काम कर सकता है.

होमियोपैथी में डिग्री प्राप्त करने के बाद पेशेवर अपने क्लिनिक शुरू कर सकते हैं और अपनी लाइसेंस्ड होमियोपैथी मेडिकल शॉप्स भी खोल सकते हैं. होमियोपैथी डॉक्टर्स अपनी पीएचडी की डिग्री प्राप्त करने के बाद रिसर्च कार्य से जुड़े कॉलेजों में प्रोफेसर्स और टीचर्स के तौर पर भी काम कर सकते हैं. कोई बीएचएमएस अर्थात बैचलर ऑफ़ होमियोपैथिक मेडिसिन एंड सर्जरी डिग्री होल्डर, कुछ वर्षों के कार्य-अनुभव के बाद, अपनी फार्मेसी भी खोल सकता है.

इतने अधिक करियर ऑप्शन्स के साथ जो स्टूडेंट्स होमियोपैथी को एक करियर ऑप्शन के तौर पर चुनते हैं, उनके लिए आजकल ढेरों करियर ऑप्शन्स मौजूद हैं. 

होमियोपैथी: भारत में उपलब्ध हैं ये प्रमुख कोर्सेज

होमियोपैथी में करियर शुरू करने के लिए, स्टूडेंट्स को बायोलॉजी को एक अनिवार्य विषय के तौर पर लेने के साथ साइंस स्ट्रीम में अपनी 12 वीं क्लास पास करनी होती है. अपनी 12 वीं क्लास पास करने के बाद स्टूडेंट्स होमियोपैथिक मेडिसिन में ग्रेजुएट लेवल का प्रोग्राम अर्थात बैचलर ऑफ होमियोपैथिक मेडिसिन एंड सर्जरी या बीएचएमएस चुन सकते हैं. भारत की विभिन्न यूनिवर्सिटीज से एफिलिएटेड कई होमियोपैथी इंस्टीट्यूट्स यह प्रोग्राम ऑफर करते हैं. बीएचएमएस प्रोग्राम 5 वर्ष और 6 महीने की अवधि का कोर्स है जिसमें 1 वर्ष की अनिवार्य इंटर्नशिप भी शामिल है. बीएचएमएस कोर्स के दौरान, स्टूडेंट्स को होमियोपैथी मेडिसिन के प्रिंसिपल्स उनकी प्रैक्टिकल अप्रोच के साथ सिखाये जाते हैं.   

बैचलर ऑफ होमियोपैथिक मेडिसिन एंड सर्जरी (बीएचएमएस)

  • अवधि: 5 वर्ष और 6 महीने
  • योग्यता: पीसीएमबी के साथ 10 + 2 न्यूनतम 50% मार्क्स सहित पास की हो.
  • इंटर्नशिप: 1 वर्ष

पोस्टग्रेजुएशन लेवल पर, कोई भी स्टूडेंट एमडी होमियोपैथी या डॉक्टर ऑफ मेडिसिन के तहत होमियोपैथी प्रोग्राम पढ़ सकता है. इस कोर्स की अवधि 3 साल है जिसमें 1 वर्ष की रेजिडेंशियल कैंपस ट्रेनिंग भी शामिल है. एमडी होम्योपैथी प्रोग्राम का फोकस सेमिनारों, ग्रुप डिस्कशन्स, क्लिनिकल मीटिंग्स और जरनल क्लब के माध्यम से इन-सर्विस ट्रेनिंग देने पर होता है. इस कोर्स की अवधि के दौरान, स्टूडेंट्स को एक थीसिस या डेजरटेशन अवश्य सबमिट करना होता है.

होमियोपैथी में डॉक्टर ऑफ मेडिसिन (एमडी होमियोपैथी)

  • अवधि: 3 साल
  • योग्यता: बीएचएमएस डिग्री
  • इंटर्नशिप: 1 साल की रेजिडेंशियल ट्रेनिंग

भारत में एपिडेमियोलॉजिस्ट का करियर और योग्यता

 भारत में इन टॉप एंट्रेंस एग्जाम्स को पास करने के बाद करें बीएचएमएस कोर्स

राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय लेवल्स पर बीएचएमएस में एडमिशन विभिन्न एंट्रेंस एग्जाम्स के माध्यम से दिया जाता है. कुछ प्रमुख एंट्रेंस एग्जाम्स निम्नलिखित हैं:  

  • नीट/ एनईईटी (नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट या एनईईटी-यूजी)
  • टीएस ईएएमसीईटी
  • एपी ईएएमसीईटी (एपी इंजीनियरिंग एग्रीकल्चरल एंड मेडिकल कॉमन एंट्रेंस टेस्ट)
  • केईएएम (कमीशनर ऑफ़ एंट्रेंस एग्जाम, केरल)
  • पीयू सीईटी (पंजाब यूनिवर्सिटी कॉमन एंट्रेंस टेस्ट)

देश सेवा और भारत में विलेज हेल्थकेयर वर्कर का करियर स्कोप

भारत के टॉप होमियोपैथी इंस्टीट्यूट्स

कई गवर्नमेंट से मान्यताप्राप्त कॉलेज अंडरग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट लेवल पर होमियोपैथी में डिग्री कोर्सेज ऑफर करते हैं. कुछ ऐसे टॉप होमियोपैथी कॉलेज, जो क्वालिटी स्टडी फैसिलिटी, फैकल्टी और करिकुलम की गारंटी देते हैं, आपकी सहूलियत के लिए उन कॉलेजों की लिस्ट नीचे दी जा रही है:

  • नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ होमियोपैथी, कलकत्ता
  • ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज, दिल्ली
  • यूनिवर्सिटी ऑफ़ हेल्थ साइंस, विजयवाड़ा
  • आर्म्ड फोर्सेज मेडिकल कॉलेज, पुणे
  • बैंगलोर मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट, बैंगलोर
  • राजीव गांधी यूनिवर्सिटी ऑफ़ हेल्थ साइंसेज, बैंगलोर

युवाओं के लिए भारत में कंसल्टेंट का करियर भी है बेहतरीन ऑप्शन

होमियोपैथी: भारत में होमियोपैथी की फील्ड में मिलने वाला सैलरी पैकेज

बीएचएमएस डिग्री होल्डर अपने करियर के शुरू के फेज में रु. 25000/- से रु. 30000/- प्रतिमाह तक कमा सकता है. लेकिन कार्य अनुभव बढ़ने के साथ-साथ ये पेशेवर रु. 50000/- से रु.60000/- प्रतिमाह तक कमा लेते हैं. अगर ये पेशेवर समाज में अपनी अच्छी प्रतिष्ठा बना लें तो ये अपना क्लिनिक शुरू कर सकते हैं और फिर, इनकी अधिकतम कमाई की कोई निश्चित सीमा नहीं रहती है. अगर आप मेडिसिन की इस फील्ड में अपना करियर शुरू करना चाहते हैं और ट्रेडिशनल एमबीबीएस कोर्सेज के बेहतर विकल्प खोज रहे हैं तो आप इस वीडिओ में उपलब्ध सूचना पर विचार कर सकते हैं. ‘होमियोपैथी में करियर’ आपकी तलाश का शायद ऐसा उत्तर है जिसे आप खोज रहे हैं. 

जॉब, इंटरव्यू, करियर, कॉलेज, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स, एकेडेमिक और पेशेवर कोर्सेज के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और लेटेस्ट आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारी वेबसाइट www.jagranjosh.com पर विजिट कर सकते हैं.

Related Categories

Related Stories