Search

यदि आप बैंक पीओ परीक्षा में असफ़ल हो रहे है तो इन 6 स्टेप्स को अपनाए !

यदि आप बैंक पीओ भर्ती परीक्षा में कई बार असफल हो रहे हैं; आपको इन छह चीजों पर ध्यान देना चाहिए ताकि आप इस वर्ष बैंक पीओ की नौकरी प्राप्त कर सकें।

Dec 28, 2017 13:09 IST
Failed in Bank PO Exams: Follow these 6 steps

बैंकिंग परीक्षाए देश की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षाओं में से एक है। जो उम्मीदवार सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों या किसी राष्ट्रीयकृत बैंक में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं, उन्हें आईबीपीएस या किसी अन्य बैंक भर्ती प्राधिकरण द्वारा आयोजित परीक्षाओं को पास करना होगा। आईबीपीएस विभिन्न पदों के लिए प्रोबेशनरी ऑफिसर, क्लर्क, स्पेशलिस्ट ऑफिसर्स आदि के लिए बैंक भर्ती परीक्षा आयोजित करता है। यह प्रतियोगिता बहुत बड़ी है क्योंकि पिछले कुछ सालों में बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर्स (पीओ) भर्ती परीक्षाओं में आने वाले उम्मीदवारों की संख्या में वृद्धि हुई है।

जैसा कि प्रतिस्पर्धा बहुत मुश्किल है, जाहिरा तौर पर यह स्पष्ट है कि गलतियों के लिए कोई जगह नहीं है और उम्मीदवार को बैंक परिवीक्षाधीन अधिकारियों की भर्ती परीक्षा के लिए तैयार होना चाहिए। तो, कितनी अच्छी तरह से उम्मीदवार परीक्षा में कुछ छोटी गलतियाँ करते हैं और नौकरी पाने में विफल रहते हैं।

क्या पीएसयू बैंकों में प्रोमोशन में एससी/ एसटी का कोई कोटा है?

अगर हम बैंक की भर्ती परीक्षाओं में विफल रहे हैं तो हम यहां छह चीजों की सूची में शामिल हैं।

1) गेस वर्क (अनुमान लगाने) से बचें: बैंक पीओ भर्ती परीक्षा में बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाते हैं अतः कभी-कभी उम्मीदवार जवाब गेस करने लगते हैं। बैंक पीओ भर्ती परीक्षाओं में नकारात्मक अंकन लागू होता है। प्रत्येक गलत जवाब के लिए उस प्रश्न को आवंटित 1/4 अंक दंडस्वरूप काट लिया जाएगा। यह गौर किया गया है कि गेस वर्क हमेशा नकारात्मक अंकों को बढाता है फलस्वरूप आपका फाइनल स्कोर कम हो जाता है। तो बैंक पीओ भर्ती परीक्षा में आपको सदैव अनुमान लगाने से बचना चाहिए।

2) अपने कमजोर क्षेत्रों अर्थात विषयों का विश्लेषण करें: मॉक टेस्ट आपकी तैयारी के लिए हमेशा सहायक होते हैं। लेकिन केवल मॉक टेस्ट हल करने से आपको परीक्षा में सफलता नहीं मिल सकती है। प्रत्येक मॉक टेस्ट के बाद, अपने कमजोर विषय और टॉपिक्स का विश्लेषण करें और अपनी गलतियों को सुधारें। उदाहरण स्वरूप अगर आप डाटा इंटरप्रिटेशन में कमजोर है तो उसकी प्रैक्टिस ज्यादा करे। सुनिश्चित करें कि आप अगले प्रयास में उसी गलती को दोहरा नहीं रहे हैं।

3) सही प्रश्न का चयन करे: सही प्रश्न का चयन करना परीक्षा में और अधिक स्कोर करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण टूल में से एक है। बैंक पीओ परीक्षा सहित हर प्रतियोगी परीक्षा में   में कुछ आसान, कुछ मध्यम और कुछ बहुत कठिन प्रश्न होते हैं - जो परीक्षा उत्तीर्ण करना चाहते हैं, उन्हें आसान प्रश्नों को ढूंढना चाहिए और उन्हें पहले हल करना चाहिए । दिए गये समय में सभी प्रश्नों को हल करण संभव नहीं होता इसलिए सबसे अच्छा तरीका, सवालों की संख्या के बजाय सटीकता पर ध्यान केंद्रित करना है। इस परिदृश्य में अधिकतम अंक स्कोर करने के लिए सही प्रश्न का 'चयन' है। उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि वे विषय की विशेषज्ञता,  प्रश्न की कठिनाई के स्तर और विशेष प्रकार के प्रश्नों को सुलझाने में अपने स्वयं के कम्फर्ट के अनुसार प्रश्न का चयन करें।

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में स्पेशलिस्ट ऑफिसर्स के लिए प्रमोशन पालिसी

4) सेक्शनल कट-ऑफ क्लियर करें: बैंक पीओ परीक्षा में सेक्शनल टाइमिंग अर्थात अनुभागीय समय का मतलब है कि आपको प्रत्येक अनुभाग को हल करने का एक निश्चित समय मिलेगा। इसके साथ ही उम्मीदवारों को कुल परीक्षा में कुल कट-ऑफ के साथ अनुभागीय कट-ऑफ अर्थात सेक्शन वाइज कट-ऑफ को भी क्लियर  करना होगा। उम्मीदवारों को आईबीपीएस या किसी भी अन्य बैंक परीक्षा भर्ती प्राधिकरण द्वारा तय किए जाने वाले न्यूनतम कट-ऑफ अंकों को क्लियर करके प्रत्येक वर्ग में अर्हता प्राप्त करनी होगी। कभी-कभी ऐसा होता है कि  उम्मीदवारों कुल कट-ऑफ तो क्लियर कर लेते है, लेकिन अनुभागीय कट-ऑफ को क्लियर नहीं कर पाते  और परीक्षा में असफल हो जाते है। उदाहरण के लिए यदि आप परीक्षा में अंग्रेजी में न्यूनतम अंक प्राप्त नहीं कर पाते बल्कि अपने बाकी परीक्षा में अपने अच्छा स्कोर किया है तो भी आप परीक्षा में पास नहीं हो पायेगे। प्रश्न पत्र को हल करते समय उम्मीदवारों को इस बात का ध्यान  रखना चाहिए। यदि आप एक या दो विषयों में सहज नहीं हैं, तो कट-ऑफ क्लियर करने के लिए उन विषयों में कम से कम सभ्य अंक स्कोर करने का प्रयास करें। अन्यथा, यदि आप अन्य विषयों में उच्च स्कोर भी करते हैं, तो भी आप दौड़ से बाहर होंगे।

क्या देश में सिंगल बैंक भर्ती परीक्षा की आवश्यकता है?

5) अधीर न हो: परीक्षा के दौरान अधीर न हो। यदि परीक्षा में पेपर को हल करते समय आप अधीर हो जाते हैं, तो आप निश्चित रूप से कुछ त्रुटिया करेंगे। याद रखें, एक अधीर व्यक्ति कभी भी युद्ध में पूर्ण विजय प्राप्त नहीं कर सकता है।

6) सकारात्मक रहें: जीवन में हर परिस्थिति में सकारात्मक रहें। सकारात्मक दृष्टिकोण में एक महान शक्ति है और यह आपकी परीक्षाओं सहित जीवन के हर क्षेत्र में आपकी मदद करेगी। " Your thoughts become things!- Rhonda Byrne, The Secret” .

कभी आशा मत खोओ और  अभ्यास करते रहें। शुभकामनाएं!

केवल एक चीज है जो आपके सपने को पूरा करना असंभव बना देती है वह है ‘विफलता का डर' । अर्थात

“There is only one thing that makes a dream impossible to achieve ‘the fear of failure’.”

 बैंक परीक्षा के लिये कैलकुलेशन स्पीड बढ़ाने के 7 प्रभावी तरीके

NABARD Assistant Manager Grade ‘A’ Exam: Previous Year Question Paper