IAS मुख्य परीक्षा 2017: सामान्य अध्ययन 2 पेपर III

IAS मुख्य परीक्षा 2017 की सामान्य अध्ययन 2 की परीक्षा 31 अक्टूबर, 2017 को आयोजित की गई थी। इस लेख में हमने IAS मुख्य परीक्षा 2017 के सामान्य अध्ययन 2 का प्रश्न-पत्र प्रदान किया है जिसका अध्ययन सिविल सेवा परीक्षा 2018 की तैयारी के संदर्भ में बहुत फायदेमंद है।

Created On: Nov 1, 2017 18:10 IST
Modified On: Nov 2, 2017 14:15 IST
IAS Mains Exam 2017 General Studies 2 Paper III
IAS Mains Exam 2017 General Studies 2 Paper III

IAS मुख्य परीक्षा 2017 की सामान्य अध्ययन 2 की परीक्षा 31 अक्टूबर 2017 को आयोजित की गई थी। इस लेख में हमने IAS मुख्य परीक्षा 2017 के सामान्य अध्ययन 2 का प्रश्न-पत्र प्रदान किया है और सिविल सेवा परीक्षा 2017 में पूछे गए प्रश्नों के अध्ययन करने तथा ऐसे प्रश्नों का अभ्यास करने से सिविल सेवा परीक्षा 2018 की तैयारी के लिए फायदेमंद होगा।

IAS मुख्य परीक्षा 2017: सामान्य अध्ययन 1 पेपर II

IAS उम्मीदवारों को IAS मुख्य परीक्षा के हर विषयों का अध्ययन करना चाहिए और तदनुसार IAS परीक्षा 2018 के लिए इसी पैटर्न के आधार पर टॉपिक्स को कवर करने के लिए विशेष रणनीति बनाना चाहिए।

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा 2017: सामान्य अध्ययन 2 पेपर III

पुर्णांक: 250

समय: 3 घंटे

1. “भारत में स्थानीय स्वशासन पद्धति, शासन का प्रभावी साधन साबित नहीं हुई है| “ इस कथन का समालोचनात्मक परीक्षण कीजिए तथा स्थिति में सुधार के लिए अपने विचार प्रस्तुत कीजिए| (150 शब्द)  10

2. भारत में उच्चतर न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति के सन्दर्भ में ‘राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग अधिनियम, 2014’ पर सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का समालोचनात्मक परिक्षण कीजिए| (150 शब्द)  10

3. “लोकसभा और राज्य विधानसभाओं के एक ही समय में चुनाव, चुनाव-प्रचार की अवधि और व्यय को तो सिमित कर देंगे, परन्तु ऐसा करने से लोगों के प्रति सरकार की जबाबदेही कम हो जाएगी|” चर्चा कीजिए| (150 शब्द)  10

4. भारतीय राजनीतिक प्रक्रम को दबाव समूह किस प्रकार प्रभावित करते हैं? क्या आप इस मत से सहमत है कि हाल के वर्षों में अनौपचारिक दबाव समूहों की तुलना में ज्यादा शक्तिशाली रूप में उभरे हैं? (150 शब्द)  10

5. जनता के प्रति सरकार की जबाबदेही स्थापित करने में लोक लेखा समिति की भूमिका की विवेचना कीजिए| (150 शब्द)  10

6. “जल, सफाई एवं स्वच्छता की आवश्यकता को लक्षित करने वाली नीतियों के प्रभावी क्रियान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए लाभार्थी वर्गों की पहचान को प्रत्याशित परिणामों के साथ जोड़ना होगा|” ‘वाश’ योजना के संदर्भ में इस कथन का परीक्षण कीजिए| (150 शब्द)  10

7. क्या नि:शक्त व्यक्तियों के अधिकार अधिनियम, 2016 समाज में अभीष्ट लाभार्थियों के सशक्तिकरण और समावेशन की प्रभावी क्रियाविधि को सुनिश्चित करता है? चर्चा कीजिए| (150 शब्द)  10

8. अब तक भी भूख और गरीबी भारत में सुशासन के समक्ष सबसे बड़ी चुनौतियाँ है| मूल्यांकन कीजिए कि इन भारी समस्याओं से निपटने में क्रमिक सरकारों ने किस सीमा तक प्रगति की है| सुधार के लिए उपाय सुझाइए| (150 शब्द)  10

9. “चीन अपने आर्थिक संबंधों एक सकारात्मक व्यापार अधिशेष को, एशिया में संभाव्य सैनिक शक्ति हैसियत को विकसित करने के लिए, उपकरणों के रूप में इस्तेमाल कर रहा है|” इस कथन के प्रकाश में, उसके पडोसी के रूप में भारत पर इसके प्रभाव पर चर्चा कीजिए| (150 शब्द)  10

10. संयुक्त राष्ट्र आर्थिक व सामाजिक परिषद् (इकोसाँक) के प्रमुक्ष प्रकार्य क्या हैं? इसके साथ सलंग्र विभिन्न प्रकार्यात्मक आयोगों को स्पष्ट कीजिए| (150 शब्द)  10

11. संविधान (एक सौ एक संशोधन) अधिनियम, 2016 के प्रमुख अभिलक्षणों को समझाइए| क्या आप समझते है कि यह “करों के सोपानिक प्रभाव को समाप्त करने में और माल तथा सेवाओं के लिए साझा राष्ट्रीय बाजार उपलब्ध कराने में” काफी प्रभावकारी है? (150 शब्द)  15

12. निजता के अधिकार पर उच्चतम न्यायालय के नवीनतम निर्णय के आलोक में, मौलिक अधिकारों के विस्तार का परिक्षण कीजिए| (150 शब्द)  15

13. भारतीय संविधान में संसद के दोनों सदनों का संयुक्त सत्र बुलाने का प्रावधान है| उन अवसरों को गिनाइए जब सामान्यत: यह होता है तथा उन अवसरों को भी जब यह नहीं किया जा सकता, और इसके कारण भी बताइए| (150 शब्द)  15

14. भारत में लोकतंत्र की गुणता को बढाने के लिए भारत के चुनाव आयोग ने 2016 में चुनावी सुधारों का प्रस्ताव दिया है| सुझाए गए सुधार क्या हैं और लोकतंत्र को सफल बनाने में वे किस सीमा तक महत्वपूर्ण हैं? (150 शब्द)  15

15. महिलाएँ जिन समस्याओं का सार्वजनिक एवं निजी दोनों स्थलों पर सामना कर रही हैं, क्या राष्ट्रीय महिला आयोग उनका समाधान निकालने की रणनीति बनाने में सफल रहा है? अपने उत्तर के समर्थन में तर्क प्रस्तुत कीजिए| (150 शब्द)  15

16. “ वर्तमान समय में स्वयं-सहायता समूहों का उद्भव राज्य के विकासात्मक गतिविधियों से धीरे परन्तु निरंतर पीछे हटने का संकेत है|”विकासात्मक गतिविधियों में स्वयं-सहायता समूहों की भूमिका का एवं भारत सरकार द्वारा स्वयं-सहायता समूहों को प्रोत्साहित करने के लिए किए गए उपायों का परिक्षण कीजिए| (150 शब्द)  15

17. “भारत में निर्धनता न्यूनीकरण कार्यक्रम तब तक केवल दर्शनीय वस्तु बने रहेंगे जब तक कि उन्हें राजनैतिक इच्छाशक्ति का सहारा नहीं मिलता है|” भारत में प्रमुख निर्धनता न्यूनीकरण कार्यक्रमों के निष्पादन के संदर्भ मिनी चर्चा कीजिए| (150 शब्द)  15

18. प्रारंभिक तौर पर भारत में लोक सेवाएँ तटस्थता और प्रभावशीलता के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए अभिकल्पित की गई थी, जिनका वर्तमान संदर्भ में अभाव दिखाई देता है| क्या आप इस मत से सहमत है कि लोक सेवाओं में कड़े सुधारों की आवश्यकता है? टिप्पणी कीजिए|  (150 शब्द)  15

19. भारत की ऊर्जा सुरक्षा का प्रश्न भारत की आर्थिक प्रगति का सर्वाधिक महत्वपूर्ण भाग है| पश्चिम एशियाई देशों के साथ भारत के ऊर्जा नीति सहयोग का विश्लेषण कीजिए|  (150 शब्द)  15

20. दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों की अर्थव्यवस्था एवं समाज में भारतीय प्रवासियों को एक महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है| इस संदर्भ में, दक्षिण-पूर्व एशिया में भारतीय प्रवासियों की भूमिका का मूल्यनिरूपण कीजिए|  (150 शब्द)  15

अन्य IAS मुख्य परीक्षा प्रश्नपत्र