Search

भारत में सबसे कम प्रदूषित शहरों की सूची

तेजी से हो रहे शहरीकरण और औद्योगिकीकरण के कारण भारतीय शहरों के वातावरण में गंभीर असंतुलन उत्पन्न हो गया है, जिसके कारण प्रदूषण का स्तर बढ़ रहा है. इस लेख में हम दुनिया के 1600 से अधिक शहरों में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा किए गए हालिया सर्वेक्षण के आधार पर 123 भारतीय शहरों में सबसे कम प्रदूषित शहरों की सूची दे रहे हैं.
Nov 9, 2017 12:23 IST
facebook Iconfacebook Iconfacebook Icon
least polluted cities in India
least polluted cities in India

भारत एक ऐसी भूमि है जहां प्रकृति की विभिन्न रूपों में पूजा की जाती है और पंचतत्व अर्थात वायु, जल, अग्नि, पृथ्वी और अंतरिक्ष को पवित्र माना जाता है. लेकिन तेजी से हो रहे शहरीकरण और औद्योगिकीकरण के कारण भारतीय शहरों के वातावरण में गंभीर असंतुलन उत्पन्न हो गया है, जिसके फलस्वरूप जीवन के मूलभूत पंचतत्वों को प्रदूषित किया जा रहा है.  जिस प्रकार हवा और पानी में प्रदूषण का स्तर बढ़ रहा है, उसे देखते हुए हमें तत्क्षण इसके रोकथाम के लिए आवश्यक एवं निर्णायक कदम उठाने की जरुरत है.
आज दुनिया की मुख्य चिंता बढ़ता हुआ प्रदूषण का स्तर है, जिसके बारे में संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा कई रिपोर्ट प्रस्तुत किए गए हैं. इस लेख में हम दुनिया के 1600 से अधिक शहरों में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा किए गए हालिया सर्वेक्षण के आधार पर 123 भारतीय शहरों में सबसे कम प्रदूषित शहरों की सूची दे रहे हैं.

भारत में सबसे कम प्रदूषित शहरों की सूची
1. तेजपुर, असम

Tezpur Assam
Source: www.2.bp.blogspot.com
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक असम में तेजपुर शहर भारत में सबसे कम प्रदूषित शहर है. तेजपुर में धूल के कण के साथ वार्षिक पार्टिकुलेट मैटर (Particulate matter) 10 का स्तर 11 g/m3 पाया गया था. पत्थरमथिट्टा (Pathanamthitta) शहर जो कि केरल में है को दूसरा स्थान मिला.
2. हसन, कर्नाटका

Hassan Karnataka
Source: www.superbindiatours.com
यह शहर समुद्र तल से 934 मीटर ऊपर स्थित है. होयसाला वंश के तहत अपने समृद्ध इतिहास, मंदिरों में कई चमत्कारी वास्तुशिल्प के कारण यह अधिक प्रसिद्ध है. WHO द्वारा भारत में तीसरे सबसे कम प्रदूषित शहर के रूप में हसन को स्थान दिया गया है. हसन में 10 माइक्रोन के साथ पार्टिकुलेट मैटर को 44 g/m3 तक दर्ज किया गया था.
3. कोल्लम, केरल

Kollam Kerala
Source: www.c1.staticflickr.com
केरल एक ऐसा राज्य है जिसे "भगवान के अपने देश" के रूप में जाना जाता है. कोल्लम, जो राज्य के लिए एक प्रमुख व्यापारिक शहर के रूप में कार्य करता है, अष्टमुंडी झील के तट पर स्थित एक तटीय शहर है. दुनिया के 1600 से अधिक शहरों के विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा किए गए हालिया सर्वेक्षण के अनुसार, 123 भारतीय शहरों समेत, कोल्लम को भारत में कम प्रदूषित स्थानों में चौथा स्थान दिया गया है.
4. मदुरई, तामिलनाडु

Madurai Tamilnadu
Source: www.wikimedia.org.com
'पूर्व के एथेंस' के रूप में मशहूर, मदुरई भारत के सबसे प्राचीन शहरों में से एक है. इसके अस्तित्व के बाद से इसके साथ जुड़ा इतिहास, पौराणिक कथाएँ और संस्कृति का काफी महत्व है. इस शहर को "भारत में कम से कम प्रदूषित शहरों" की सूची में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा सूचीबद्ध किया गया है. ऐसा वहा की  सरकार, स्थानीय संगठनों के साथ-साथ, स्थानीय लोगो के निरंतर प्रयास के कारण ही संभव हुआ  है.
हाल ही में इस शहर में वाहनों की संख्या में वृद्धि हुई है, और वायु प्रदूषण इसलिए थोडा बढ़ गया है. लेकिन शहर ने इससे निपटने के लिए दिलचस्प पहल की है. सड़को पर धूल कम करने के लिए, बड़ी सड़क-व्यापक मशीनें लगातार काम करती है, जो भारत के अन्य शहरों के लिए एक उत्कृष्ट उदाहरण है.

स्मोग क्या है और यह हमारे लिए कैसे हानिकारक है?
5. मल्लापुरम, केरल

Mallapuram Kerala
Source: www. keralataxis.com
मलप्पुरम का जिला प्राकृतिक सुंदरता के साथ संपन्न है. छोटे हरे भरे पहाड़ों और ताजे पानी के साथ, यह जगह अपने निवासियों और आगंतुकों के लिए एक बहुत ही स्वस्थ और प्रदूषण मुक्त वातावरण प्रदान करती है. इसलिए यह कम प्रदूषित वाले शहरों की सूची में आता हैं.
6. किन्नौर, हिमाचल प्रदेश

Kinnaur Himachal pradesh
Source: www.i.ytimg.com
भारत में साफ हवा वाले शहर के रूप में मशहूर, हिमाचल प्रदेश में किन्नौर एक निम्न श्रेणी का पर्यटक स्थल है. किन्नौर की हवा में पार्टिकुलेट कण (जो प्रदूषण का कारण बनता है) का स्तर औसतन, हमारे राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता वाले लक्ष्य से 10% कम है.
7. पुडुचेरी, तमिलनाडु  

Puducherry tamilnadu
Source: www. i1.trekearth.com
यहां पर फ्रांसीसी, तमिल, अंग्रेजी, तेलगू और मलयालम सहित कुल 5 भाषाएं बोली जाती है.एक प्रसिद्ध राष्ट्रीय समाचार पत्र द्वारा और WHO की रिपोर्ट के अनुसार हाल के दिनों में पुडुचेरी ने वायु और शोर प्रदूषण के मामले में बहुत ही मनभावन बदलाव किया है. सरकार द्वारा और कई गैर-सरकारी संगठनों के द्वारा वहां के वातावरण को अनुकूल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.
8.  गांधीनगर, गुजरात

Gandhinagar Gujarat
Source: www. iamin.in.com
गांधीनगर गुजरात की राजधानी है. यह पार्क और अपने रिट्रीटस की वजह से लोकप्रिय है. गुजरात का यह शहर हरे रंग का शहर माना जाता है न ही केवल भारत में, बल्कि अंतर्राष्ट्रीय स्थर पर भी. प्रदूषण स्तर (विशेषकर वायु प्रदूषण) को नीचे रखने के लिए गांधीनगर में लगभग 32 लाख पेड़ लगाए गए हैं. शहर में वायु की गुणवत्ता में उच्च स्थान है इसलिए  भारत में कम वायु प्रदूषण वाले शहरों की सूची में आता है.
9. गंगटोक, सिक्किम

Gangtok Sikkim
Source: www. thenational.ae.com
गंगटोक, सिक्किम की राजधानी है. इस आनंदमय शहर में भव्य हिमालय है और यह भारत के कम से कम प्रदूषित शहरों में से एक है. हिमालय और रहस्यवादी तिब्बती मठों के कारण, शहर में आश्चर्यजनक प्राकृतिक सुंदरता है जो आपको अदभूत दुनिया से दूर अराजकता से स्थानांतरित कर सकती है.सिर्फ चीन की सीमा से कुछ ही किलोमीटर दूर यह स्थित है. सरकार ने इस शहर को स्वच्छ बनाए रखने के साथ-साथ वायु और जल प्रदूषण के निम्न स्तर के लिए भी विशेष प्रयास किए हैं.
10. अगरतला, त्रिपुरा

Agartala Tripura
Source: www. outlookindia.com
अगरतला उत्तर-पूर्व में त्रिपुरा की राजधानी के रूप में स्थित है. यह शहर कार्बन डाइऑक्साइड अवशोषण करने वाले एजेंटों की अच्छी खासी उपस्थिति के कारण हरा-भरा और हरे रंग का है.  इसका प्रदूषण मुक्त हवा एक कारण है कि यह बड़े शहरों से पर्यटकों को आकर्षित करता है और कम प्रदूषित वाले शहरों की सूची में आता है.
अमेरिकी वकील रॉबर्ट ग्रीन इंगर्सोल ने एक बार कहा था, "प्रकृति में न तो कोई दंड होता है और ना ही कोई इनाम; वहाँ परिणाम होता हैं". हम भौतिकवादी अपनी भलाई के लिए इतने सारे प्रयास करते हैं, यह भी महसूस नहीं करते की हम उस सीमा तक प्रकृति को खतरे में डाल रहे हैं जहां से ये बिगड़ती ही जा रही है और हमारे लिए खराब रहने की स्थिति पैदा हो रही है. इसलिए प्रक्रति के लिए हमें मिलकर ऐसे कदम उठाने चाहिए ताकि प्रदूषण के स्तर को कम किया जा सकें.

पर्यावरण को दूषित करने वाले पार्टिकुलेटो (कणों) की सूची